मित्र, मंत्र और मौन!

संदीप देव। 'मित्र' वह है जिसके मन के साथ हमारा तंत्र जुड़ा हो। 'मित्रता' शुद्ध मानसिक संबंध है। हमारे जीवन में 5 तरह के संबंध विकसित होते हैं- 1) रक्‍त का संबंध 2) मन का संबंध 3) हृदय का संबंध 4) अध्‍यात्मिक संबंध 5) अ-संबंध। रक्‍त के संबंध में हमारे माता-पिता और बंधु-बांधव आते हैं, मन का संबंध  मित्रता का संबंध है और हां शत्रुता के संबंध की शुरुआत भी मन से ही होता है। हृदय का संबंध प्रेम का संबंध हैा प्रेमी-प्रेमिका के बीच के रिश्‍ते का अंकुर हृदय में फूटता है, लेकिन यहां यह भी बता दूं कि प्रेम और प्‍यार में भी फर्क हैा प्रेम अर्थात परम होने की अवस्‍था का 'भान'(सिर्फ भान कह रहा हूं, परम होने की अवस्‍था नहीं) और प्‍यार मतलब 'प्‍यारा यार' । प्रिय और यार शब्‍द से संयुक्‍त होकर बना है 'प्‍यार'। वर्तमान समय में प्रेम का रिश्‍ता नगण्‍य हो गया है और केवल प्‍यार का रिश्‍ता बचा है, जिसकी जड़ में वासना निहित होती हैा वैसे प्रेम और प्‍यार को अगले किसी पोस्‍ट में विस्‍तार से समझाऊंगा।

 

हां तो, चौथा रिश्‍ता आध्‍यात्‍म का रिश्‍ता होता है और यह सीध आत्‍मा से जुड़ा हैा उच्‍चारण करो आप समझ जाओगे कि अध्‍यात्‍म में 'आत्‍मा' छुपा हैा वैसे तो आप गुरु-शिष्‍य के बीच के रिश्‍ते को आध्‍यात्मिक रिश्‍ता कहते हैं, लेकिन जिस के साथ भी आपकी आत्‍मा जुड़ जाए, वही रिश्‍ता आध्‍यात्मिक रिश्‍ता हो जाता हैा  लेकिन आध्‍यात्मिक रिश्‍ता भी दो के बीच होता है, परंतु जब इस रिश्‍ते से दो भी मिट जाता है तो उस रिश्‍ते का कोई नाम नहीं रह जाता। वह एक तरह से अ-संबंध हैा भारतीय मनीषियों ने ही इसे ही परम अवस्‍था कहा है, जहां सब छूट जाए । परमात्‍मा, प्रकृति, अस्तित्‍व के साथ एकाकार होना ही संबंध से परे होना है ।

अ-संबंध मतलब, न केवल सभी तरह के सांसारिक रिश्‍तों से मुक्ति, बल्कि स्‍वयं से भी मुक्‍त हो कर परम अस्तित्‍व में विलीन हो जाना। जैसे फूल की सुगंध अस्तित्‍व में विलीन हो जाती है, उसी तरह मानव भी अस्तित्‍व में समा जाता हैा यही रिश्‍ता परम रिश्‍ता है।

तो मैं कह रहा था कि 'मित्र' मन का रिश्‍ता है और आप देखिए हमारे प्रार्थना को 'मंत्र' नाम दिया गया हैा 'मंत्र' भी हमारे मन को अस्तित्‍व से एकाकार कर देता है यदि हम लयबद्ध रहे तो यह मंत्र हमारे हृदय पर आघात करते हुए हमारी आत्‍मा पर चोट करता है और आखिर में सिर्फ मौन रह जाता है । 'मित्र', 'मंत्र' और 'मौन' यह तीन 'एकाकार' होने की सीढ़ी है, जो लगातार निम्‍न से उच्‍च होता चला जाता है । मित्रता मानसिक होते हुए भी स्‍थूल है, मंत्र मानसिक होते हुए भी ध्‍यात्मिक है और मौन स्‍वयं अस्तित्‍व हो जाना हैा

Web title: sakshi bhav sandeep.2

Keywords: मित्र| मित्रता| मैत्री| मन| मंत्र| प्रेम| प्‍यार| प्रार्थना| परमेश्‍वर| परमात्‍मा| फूलों की सुगंध| अस्तित्‍व| मौन| एकाकार| संदीप देव| अध्‍यात्‍म| अध्यात्म जगत| धर्म

बॉयफ्रेंड विराट कोहली के अलावा भी अनुष्‍...
बॉयफ्रेंड विराट कोहली के अलावा भी अनुष्‍का की खुशी के हैं कई राज

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस अनुष्का शर्मा 2015 को लेकर बेहद उत्साहित हैं क्योंकि अगले साल जनवरी में उनकी पहली प्रोडक्शन फिल्म 'एनएच 10' का ट्रेलर लॉन्च किया जाएगा।

आज विज्ञान ओम की शक्ति को पहचान रहा है ज...
आज विज्ञान ओम की शक्ति को पहचान रहा है जबकि हमारे ऋषि-मुनी, योगी तो पहले ही इस तथ्य को जान चुके थे!

आधी आबादी ब्‍यूरो। कहा गया है। यह तथ्य भी उल्लेखित है कि तेजस तत्व के अधिष्ठाता भगवान भास्कर की तेज ऊर्जा के संग निकलने वाली ध्वनि में ओम स्वर उच्चरित होता है। [...]

याकूब मेनन के जनाजे में शामिल हर व्‍यक्त...
याकूब मेनन के जनाजे में शामिल हर व्‍यक्ति अलगाववादी या फिर आतंक समर्थक था!

संदीपदेव‬।ल तथागत राय ने सही ट्वीट किया है कि याकूब की मैय्यत में शामिल हर व्यक्ति आतंकवादी हो सकता है। उन पर आईबी को नजर रखनी चाहिए। इतिहास गवाह है कि सन् 1937 [...]

औरंगजेब ने हैदराबाद का नाम बदलकर 'दारुल ...
औरंगजेब ने हैदराबाद का नाम बदलकर 'दारुल जिहाद' रखा था

संदीपदेव‬।वैसी सबसे अधिक ‪#‎Aurangzeb‬ के लिए चिल्‍ला रहा है। आप जानते हैं क्‍यों? वास्‍तव में औरंगजेब ने जब हैदराबाद को जीता था तो उसने इस [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: यहां होता है पहली माहवारी पर जश्न

सुशीला सिंह, बीबीसी संवाददाता।ी हो रही है. अनोखी इस मायने में कि असम की परंपरा के अनुसार यहां दुल्हन तो होती है लेकिन दूल्हा एक केले का पौधा [...]

रक्षा क्षेत्र में विदेशी कंपनी का विरोध ...
रक्षा क्षेत्र में विदेशी कंपनी का विरोध करने वाले, पहले जान तो लें कि हथियार निर्माण में  विदेशी मदद शिवाजी ने भी ली थी!

संदीप देव।ी महाराज की जन्‍मजयंती थी। मैं आप सभी को एक सुंदर लेख का उपहार देना चाहता था, लेकिन कई कार्यों में उलझे रहने के कारण नहीं दे सका। लेकिन उस लेख का मर्म आपको समझा [...]

यह जम्‍मू-कश्‍मीर के बंटवारे की पटकथा तो...
यह जम्‍मू-कश्‍मीर के बंटवारे की पटकथा तो नहीं!

संदीप देव।ं भाजपा-पीडीपी के बीच गठबंधन का बहुत ज्‍यादा विरोध भी हो रहा है और समर्थन भी। मुझे लगता है मौका दिया जाना चाहिए, क्‍योंकि आप दिल्‍ली में बैठकर विरोध तो कर रहे हैं लेकिन [...]

पत्रकार-दलाल-नौकरशाह-कारपोरेट गठजोड़ पिछ...

संदीप देव।लय में पिछले कई वर्षों से जिस तरह जासूसी का खेल चल रहा था, उसका पर्दाफाश यह दर्शाता है कि मीडिया-दलाल-नौकरशाह-कंपनियों का नेक्‍सस किस तरह गहराई तक देश को घुन की तरह खा [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles