अनुयायी नहीं, आलोचक बनें क्‍योंकि तटस्‍थता सिर्फ एक भ्रम है

संदीप देव। मेरा अपने सोशल मीडिया के मित्रों से अनुरोध है कि आप किसी के कार्यकर्ता/ अनुयायी की तरह बर्ताव न करें, बल्कि स्‍वतंत्र विचार रखें, जिसमें तथ्‍य भी हों और तर्क भी। मैं जो भी बात रखता हूं तथ्‍य और तर्क के साथ रखता हूं। इसलिए कभी एक तथ्‍य एक के पक्ष में जाता दिखता है तो कभी दूसरा तथ्‍य दूसरे के पक्ष में।

तर्क और तथ्‍य तटस्‍थ नहीं रहते। जब गीता जैसा ज्ञान देने वाले भगवान श्रीकृष्‍ण आपको तटस्‍थ नहीं दिख सकते तो आप ही बताइए, कोई तथ्‍य और तर्क किस तरह से तटस्‍थ दिख सकता है। सूर्य की रौशनी मरुस्‍थल के मनुष्‍य को बेचैन करती है और ठंढ़क वाले स्‍थल के मानव तन-मन को सुकून देती है। किरण तो वही है, लेकिन उसका प्रभाव दो अलग स्‍थान के लोगों पर दो अलग तरह से दृष्टिगोचर होता है। अत: उसकी तटस्‍थता भी कहां रह जाती है। तटस्‍थता सिर्फ एक भ्रम है।

जीवन विरोधाभासों से भरा है। सुबह की किरण जीवन में रोशनी लाती है तो उसी दिन शाम को ढलता सूर्य रात के गहरे अंधेरे भी ले आती है। जन्‍म लेते ही मौत की यात्रा शुरू हो जाती है। इसलिए यह मत सोचें कि कल मैंने जो कहा वह एक विचार/ व्‍यक्ति / पार्टी को फायदा पहुंचा रहा था और आज जो कह रहा हूं वह दूसरी विचारधारा/ व्‍यक्ति/ पार्टी को।

ऐसा केवल किसी पार्टी, संस्‍था या विचारधारा के अनुयायी या कार्यकर्ता ही सोच सकते हैं, स्‍वतंत्र विचारक नहीं। तथ्‍य और तर्क रखिए, क्‍योंकि निष्‍पक्ष तथ्‍य, प्राणवान तर्क और स्‍वस्‍थ्‍य आलोचना के बिना न मानवता का विकास हो सकता है, न प्रकृति का, न राष्‍ट्र का, न समाज का और न ही लोकतंत्र का। अपने अंदर एक आलोचक दृष्टि विकसित कीजिए, अनुयायी सदृश्‍य भेड़ दृष्टि के लिए दिमाग की जरूरत नहीं होती है।

ईश्‍वर ने मनुष्‍य को दिमाग और काम करने के लिए हाथ दिया जबकि जानवर से यही दो चीज छीन लिया, भले ही उसे ताकत बहुत दी हो। इसलिए अपने दिमाग का उपयोग करें और हाथ से कम करें, अनुयायी नहीं, आलोचक बनें...

Web title: sandeep-deo-blogs29

Keywords: ईश्‍वर| तर्क| तथ्‍य| सोशल मीडिया|

केजरीवाल की ध्‍यान बटोरने वाली पोलिटिक्‍...
केजरीवाल की ध्‍यान बटोरने वाली पोलिटिक्‍स और न्‍यूज चैनलों के तमाशे की भेंट चढ़ गया गजेंद्र!

संदीप देव‬।वासी गजेंद्र की मौत भी दब जाएगी। टीवी कैमरे के दम पर खड़ी हुई एक तमाशा पार्टी और उसे तमाशा बनाकर पेश करने वाली मीडिया, दोनों इस साजिश में शामिल हैं। मैंने जब [...]

पूरी दुनिया में इस्‍लामी मजहब का वह आतंक...
पूरी दुनिया में इस्‍लामी मजहब का वह आतंक, जो आपकी आंख खोल देंगी!

नई दिल्‍ली। India पत्रिका और नवोदय टाइमस अखबार में वरिष्‍ठ पत्रकार विनीत नारायण का एक लेख प्रकाशित हुआ है। समाजशास्‍त्री डॉ. पीटर [...]

यह शुद्ध रूप से वैचारिक लड़ाई है, ‪‎Beef...

संदीप देव। े वाले मीडियाकर्मी और निकृष्‍ट अरविंद केजरीवाल एंड गिरोह को दादारी गांव के ग्रामीणों ने गांव में प्रवेश नहीं करने दिया। यही सभ्‍य और लोकतांत्रिक तरीका है। हमें भी बहिष्‍कार का तरीका ही अपनाना चाहिए। मीडिया [...]

एक केंद्रीय मंत्री के रूप में सुब्रहमनिय...
एक केंद्रीय मंत्री के रूप में सुब्रहमनियन स्‍वामी का वह बहादुरीभरा फैसला!

संदीप देव।े मैसेज कर यह पूछा है कि Dr.Subramanian swamy को मोदी सरकार में मंत्री क्‍यों नहीं [...]

यह जम्‍मू-कश्‍मीर के बंटवारे की पटकथा तो...
यह जम्‍मू-कश्‍मीर के बंटवारे की पटकथा तो नहीं!

संदीप देव।ं भाजपा-पीडीपी के बीच गठबंधन का बहुत ज्‍यादा विरोध भी हो रहा है और समर्थन भी। मुझे लगता है मौका दिया जाना चाहिए, क्‍योंकि आप दिल्‍ली में बैठकर विरोध तो कर रहे हैं लेकिन [...]

धर्म नहीं, राष्‍ट्र है व्‍यक्ति की सही प...
धर्म नहीं, राष्‍ट्र है व्‍यक्ति की सही पहचान!

संदीप देव।ं (सिर्फ कटटर लिख रहा हूं, इसलिए उदार मुस्लिम इससे खुद को न जोडें) से कहना चाहता हूं कि जहां से इस्‍लाम निकला था, वह देश ही जब धर्म से अधिक राष्‍ट्र [...]

जोगेंद्रनाथ मंडल के इतिहास से सबक लो सेक...
जोगेंद्रनाथ मंडल के इतिहास से सबक लो सेक्‍यूलरवादियों...!

संदीप देव।ेक्‍यूलरों के समान ही भारत विभाजन के समय एक सेक्‍यूलर नेता था, जोगेंद्रनाथ मंडल। नीतीश कुमार, लालू यादव और मुलायम सिंह यादव की तरह वह भी अनुसूचित जाति का नेता था। नीतीश-लालू- [...]

Arun Jaitley साहब अब बस भी कीजिए! मोदी स...
Arun Jaitley साहब अब बस भी कीजिए! मोदी सरकार को बदनाम करने वालों को पुरस्‍कृत करने का यह खेल क्‍यों?

संदीप देव।पमें Narendra Modi सुनामी में भी जीतने की क्षमता नहीं रही, इसलिए शायद आप हम मतदाताओं एवं अपनी ही सरकार के सम्मान से [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles