पत्रकार-दलाल-नौकरशाह-कारपोरेट गठजोड़ पिछले 10 वर्षों से लूट रहा है देश को!

संदीप देव। पेट्रोलियम मंत्रालय में पिछले कई वर्षों से जिस तरह जासूसी का खेल चल रहा था, उसका पर्दाफाश यह दर्शाता है कि मीडिया-दलाल-नौकरशाह-कंपनियों का नेक्‍सस किस तरह गहराई तक देश को घुन की तरह खा रहा था। भारत के नियंत्रक महालेखा परीक्षक ने कई बार सवाल उठाया, लेकिन यूपीए सरकार तो इनकी खुले तौर पर मदद कर रही थी।

दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल जैसों ने झूठ की बुनियाद पर अपनी राजनीति चमकाने के लिए जिस मोदी सरकार को रिलायंस का एजेंट बताया था, वही मोदी सरकार इन सारे नेक्‍सस को खोलने में जुटी हुई दिखती है। पहले मुकेश अंबानी के रिलायंस कंपनी पर 600 करोड़ का जुर्माना और अब पेट्रोलियम मंत्रालय में उनके जासूसों का पर्दाफाश मोदी सरकार ने ही किया है। यूपीए सरकार के समय तो इसके बारे में सोचा भी नहीं जा सकता था, उल्‍टा रिलायंस कंपनी के फेवर में जयपाल रेडडी को पेट्रोलियम मंत्री पद से हटाने का मामला सामने आया था।

अमीरों का विरोध करने जैसे रोबिनहुड की कृत्रिम छवि गढने वाले अरविंद केजरीवाल ने तो अनिल अंबानी की बिजली कंपनी बीएसईएस को सब्सिडी के जरिए 300 करोड़ का फायदा पहुंचा कर कारपोरेट दलाली का खुला खेल भी खेला, 1 लाख 63 हजार करोड़ के जमीन घोटाले में लाभान्वित हुई जीएमआर कंपनी से 'पर्सन ऑफ द ईयर' का पुरस्‍कार भी लिया और अपनी ईमानदारी का जमकर ढोल भी पीटा। केजरीवाल को पता है कि भारत पाखंडियों का देश है। यहां 'करो कुछ और दिखाओ कुछ' की संस्‍कृति है, इसलिए जनता को इसी तरीके से मूर्ख बनाया जा सकता है।

जिस तरह से कारपोरेट से संबंध और शूट पहनने जैसे छिछले मामले को लेकर मोदी सरकार को बदनाम करने का खेल चल रहा है, उसका कारण भी स्‍पष्‍ट है। पेट्रोलियम जासूसी प्रकरण में एक पत्रकार भी गिरफतार हुआ है, 2जी घोटाले में बड़े-बड़े संपादक, पत्रकारों की दलाली खुलकर सामने आ चुकी है, कोलगेट में मीडिया कंपनियां कोयला खदान अपने नाम कराने में सफल हो चुकी हैं, कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स घोटाले में मीडिया कंपनियों का नाम सामने आ चुका है। कारपोरेट-मीडिया की यही बिरादरी फिर से यूपीए सरकार की वापसी चाहती है ताकि 10 साल से दलाली का जो खेल चल रहा था और पिछले 9 महीने से जो रुक गया है, वह फिर से जारी हो सके।

आज स्थिति यह है कि मोदी सरकार में पत्रकार मंत्रालय तक पहुंच नहीं पा रहे हैं। मेरे कई वरिष्‍ठ पत्रकार मित्र हैं जो बताते हैं कि संदीप खबर निकालना तक मुश्किल हो गया है। मंत्रालय में एंट्री तक बंद है। पेट्रोलियम जासूसी में पत्रकारों की संलिप्‍तता दिखाती है कि पत्रकार किस कदर घिनौना होता जा रहा है। यदि यह पत्रकार खबर लिखने के लिए दस्‍तावेज चुराता तो समझ में भी आ सकता था, लेकिन यह तो कंपनी के दलालों के साथ पकड़ा गया है।

तात्‍पर्य यह कि पत्रकार खुलेआम कारपोरेट कंपनियों के लिए दलाली कर रहे हैं, जिस पर मोदी सरकार के बाद से लगाम लगना शुरू हो गया है। इसके बदले मीडिया, कारपारेट, रोबिन हुड अरविंद केजरीवाल, मेधा पाटकर, ग्रीनपीस जैसे कारपोरेट के पक्ष में खेल खेलने वाले एनजीओ ब्रिगेड और कांग्रेस पार्टी इस सरकार को हर हाल में बदनाम करने में जुटी हैं ताकि ईमानदार सरकार बदनाम हो जाए और बेईमानों की सत्‍ता फिर से वापस आ जाए। ताकि बेईमानी का खुला खेल अनवरत जारी रहे।

आखिर जनता को कैसे समझाया जाए, क्‍योंकि यहां तो वही चलता है जो पाखंड है...। इन्‍हीं पाखंडियों के कारण तो महात्‍मा गांधी को दक्षिण अफ्रीका से आने के बाद सूट-पैंट छोड़कर अधनंगा फकीर का भेष धारण करना पड़ा था और केवल तीन लोगों की मौजूदगी वाले फर्स्‍ट क्‍लास के रेलवे डिब्‍बे के बाहर थर्ड क्‍लास लिखवा कर देश भ्रमण करना पड़ा था...

Web title: sandeep-deo-blogs34

Keywords: पेट्रोलियम जासूसी| Petroleum document leak

पेट्रोलियम जासूसी पूरे मामले की जानकारी:

http://khabar.ndtv.com/news/business/espionage-case-5-senior-officials-of-energy-companies-arrested-741218

http://www.jansatta.com/national/information-theft-finance-foreign-ministry-sebi-alert-budget-speech-leak/17833/

http://abpnews.abplive.in/ind/2015/02/21/article507735.ece/Petroleum-document-leak-12-people-arrested

हमारी शिक्षा से भारतीय जीवन पद्धति गायब ...
हमारी शिक्षा से भारतीय जीवन पद्धति गायब है: वेंकैया नायडु

आधी आबादी ब्‍यूरो।े कहा कि देश को आजाद हुए 67 साल हो चुके हैं, लेकिन आज तक इस देश में सही शिक्षा पॉलिसी का अभाव है। शिक्षा का लक्ष्‍य चरित्र निर्माण होना [...]

डॉ कलाम के राष्‍ट्रपति बनने का वामपंथियो...
डॉ कलाम के राष्‍ट्रपति बनने का वामपंथियों ने विरोध किया था और आज उनकी मृत्‍यु के बाद उनके प्रति घृणा भरे पोस्‍ट भी वामपंथी ही लिख रहे हैं!

संदीप देव।. कलाम ने राष्‍ट्रपति पद के लिए नामांकन किया था तो उनका एक मात्र विरोध देश के वामपंथी पार्टियों ने किया था। आज जब डॉ. कलाम हमारे बीच [...]

ज्यादा सोने वाली महिलाएं ज्यादा करती हैं...
ज्यादा सोने वाली महिलाएं ज्यादा करती हैं सेक्स

न्यूयॉर्क। एक स्टडी में महिलाओं की सेक्स लाइफ को लेकर दिलचस्प खुलासा किया गया है। इसमें दावा किया गया है कि जो महिलाएं ज्यादा सोती हैं, वह ज्यादा सेक्स करती हैं । स्टडी में पाया गया कि एक घंटे [...]

श्‍यामा प्रसाद मुकर्जी को कश्‍मीर जाने स...
श्‍यामा प्रसाद मुकर्जी को कश्‍मीर जाने से रोकते हुए सुचेता कृपलानी ने कहा था, वहां न जाएं, पंडित नेहरू आपकी हत्‍या करवा देंगे। क्‍या सचमुच सुचेता सहीं थी? ‪ ‎

संदीपदेव‬।यामाप्रसाद मुकर्जी का जन्‍म हुआ और 23 जून 1953 को संदिग्‍ध परिस्‍थति में उनकी कश्‍मीर में मौत! श्‍यामा प्रसाद मुकर्जी जब कश्‍मीर में [...]

गांधी जी और शास्‍त्री जी में कुछ समानता,...
गांधी जी और शास्‍त्री जी में कुछ समानता, लेकिन ढेर सारी असमानता!

‪संदीपदेव‬।ालबहादुर शास्‍त्री- दोनों की जयंती है। दोनों में कुछ बातें समान थीं, जैसे- दोनों बेहद सादगी से जीते थे और दोनों स्‍वयं के प्रति ईमानदार थे। दोनों में एक और बात कॉमन [...]

धर्म नहीं, राष्‍ट्र है व्‍यक्ति की सही प...
धर्म नहीं, राष्‍ट्र है व्‍यक्ति की सही पहचान!

संदीप देव।ं (सिर्फ कटटर लिख रहा हूं, इसलिए उदार मुस्लिम इससे खुद को न जोडें) से कहना चाहता हूं कि जहां से इस्‍लाम निकला था, वह देश ही जब धर्म से अधिक राष्‍ट्र [...]

गो-वध बंदी का राष्ट्रीय कानून बने...
गो-वध बंदी का राष्ट्रीय कानून बने

रामबहादुर राय।ाल पुराना है। इसका संबंध भारत की सभ्यता से है। हमारी सभ्यता में गाय और गोवंश का स्थान बहुत ऊंचा है। जब कभी इस भावना को चोट पहुंची तो विरोध हुआ। आंदोलन हुए। गोरक्षा [...]

अब आप सीधे अपनी गाड़ी से जा सकेंगे कैलाश...
अब आप सीधे अपनी गाड़ी से जा सकेंगे कैलाश मानसरोवर!

कैलाश मानसरोवर की तीर्थयात्रा करने की इच्छा रखने वाले श्रद्धालुओं और सैलानियों को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने एक बड़ा तोहफा दिया है. चीन इस यात्रा के लिए सिक्किम के नाथुला दर्रे से नया रास्ता खोलने पर सहमत [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles