डॉ कलाम के राष्‍ट्रपति बनने का वामपंथियों ने विरोध किया था और आज उनकी मृत्‍यु के बाद उनके प्रति घृणा भरे पोस्‍ट भी वामपंथी ही लिख रहे हैं!

संदीप देव। सन 2002 में जब डॉ. कलाम ने राष्‍ट्रपति पद के लिए नामांकन किया था तो उनका एक मात्र विरोध देश के वामपंथी पार्टियों ने किया था। आज जब डॉ. कलाम हमारे बीच नहीं हैं, तो उसी वामपंथी विचारधारा के कुछ सेक्यूलर प्रजाति के एनजीओनुमा कीड़े, उनके प्रति घृणा का इजहार सोशल मीडिया पर कर रहे हैं।

दरअसल डॉ. कलाम ने भारत राष्‍ट्र को मिसाइल और परमाणु शक्ति से लैस कर मजबूत बनाया और वामपंथियों को यह कभी से पसंद नहीं था। चीनी आक्रमणकारियों का बाहें फैलाकर स्‍वागत करने वाले वामपंथियों का पूरा विरोध 'राष्‍ट्र- राज्‍य' की अवधारणा से रहा है। वह पूरी दुनिया को लाल झंडे में लपेटना चाहते हैं और हर देश में डॉ. कलाम जैसे वैज्ञानिक वामपंथियों के मंशूबों पर पानी फेरते रहे हैं।

खुद को बहुत बड़ा दलित चिंतक कहने वाले और पूर्व में इंडिया टुडे के कार्यकारी संपादक रह चुके दिलीप मंडल ने अपने फेसबुक पर अपनी कुंठा निकाला, '' आप कहेंगे तो मैं यह भी मान लूंगा कि एपीजे अब्‍दुल कलाम ने मिसाइल, सेटेलाइट, रेलगाड़ी व हवाई जहाज का आविष्‍कार किया था। लेकिन यह तो मत कहिए कि उन्‍होंने वैज्ञानिक व तार्किक चिंतन को बढ़ावा दिया।''
उसने आगे लिखा, '' और लगे हाथों यह भी4तल4 बता दीजिए कि किसी आदमी के न रहने के बाद उसके कामकाज की समीक्षा करने का शुभ मुहूर्त कब होता है।''

फेसबुक पर वामपंथी कुमार सुंदरम लिखता है, "ओडीशा में वेदांता को मंज़ूरी देना. देश के लिए बेहद हानिकारक रिवर लिकिंग परियोजना, परमाणु बम जैसे विनाशकारी हथियारों को बढ़ावा देना, गुजरात दंगों पर चुप्पी साधना, हेडगेवार और संघ के दूसरे नेताओं के आगे सर झुकाना. अपने आकाओं के लिए डॉ. कलाम का बलिदान उन्हें महान बनाता है. श्रद्धांजलि.''

इसी तरह एक अन्‍य वामपंथी ललित शुक्ला ने लिखा है, "डॉ. कलाम को मेरी श्रद्धांजलि. आप मेरे लिए कभी प्रेरणा स्त्रोत नहीं रहे. परमाणु हथियार, परमाणु ऊर्जा, रिवर लिकिंग परियोजना और ओडीशा में वेदांता पर आपने हामी भरी. मैं गुजरात दंगों पर भी आपको चुप्पी को कभी बर्दाश्त नहीं कर पाया. आप भारतीय फ़ासीवादियों के पोस्टर बॉय रहे हो. हालांकि मैं आपकी सरलता को सलाम करता हूं."

कुछ ऐसा ही हाल कांग्रेसियों का भी है। सन् 2004 में इसी वामपंथी पार्टियों की ताकत के बल पर सोनिया गांधी सत्‍ता में आयी थी। लेकिन कहा जाता है कि सोनिया के विदेशी मूल पर डॉ. सुब्रहमनियम स्‍वामी ने सवाल उठा दिया, जिसके कारण डॉ. कलाम ने इस पर मशविरा के लिए कुछ वक्‍त मांगा और सोनिया इससे खफा हो गयीं। कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी ने इसका बदला सन् 2007 में लिया और डॉ. कलाम को दूसरी बार राष्‍ट्रपति बनने से रोक दिया। और न केवल रोका, बल्कि कांग्रेसियों ने डॉ. कलाम को अपमानित करने की कोशिश भी की थी। आज जर्नादन द्विवेदी जैसे कांग्रेसी को शब्दों  को चबा-चबा कर डॉ. कलाम के लिए श्रद्धांजलि के शब्द बोलता देखकर लगा कि ये लोग कितने पाखंडी और दोगले हैं!

डॉ कलाम से मिलने की मेरी इच्‍छा जो अधूरी रह गयी!
मैंने अपनी आगामी पुस्‍तक 'स्‍वामी रामदेव: एक योगी-एक योद्धा' में डॉ. एपीजे अब्‍दुल कलाम के साथ भारत को सशक्‍त बनाने के लिए बाबा रामदेव व आचार्य बालकृष्‍ण की चर्चा करती तस्‍वीर लगायी थी, तब कभी सोचा भी नहीं था कि डॉ. कलाम इतनी जल्‍दी हमारे बीच से चले जाएंगे।

सोचा था, यह पुस्‍तक प्रकाशित होते ही, मैं डॉ. कलाम के पास जाकर उन्‍हें पुस्‍तक की एक प्रति भेंट करूंगा, लेकिन यह सपना, सपना ही रह गया। जीवन में मुझे बार-बार झटका लगा है, सोचता कुछ हूं और होता कुछ और है। इसी बिंदु पर लगता है कि नियति के आगे इंसान मजबूर है। अस्तित्‍व आपके लिए कुछ और सोचता है, भले ही आप अपने लिए कुछ भी सोचते रहें- होगा वही जो अस्तित्‍व चाहता है।


यह है वो फोटो जो मेरी पुस्‍तक का हिस्‍सा है। मेरे जीवन में यह एक ऐसी याद बनकर रह गया है, जो पुस्‍तक को गौरवान्वित तो करेगा, लेकिन कहीं न कहीं चुभता भी रहेगा कि डॉ. कलाम को मैं यह पुस्‍तक भेंट नहीं कर सका.....!

Web Title: Sandeep deo blog on apj abdul kalam-1

Keywords: एपीजे अब्दुल कलाम| वैज्ञानिक| राष्ट्रपति| अध्यापक|ट्विटर| फेसबुक| पोस्ट| सोशल मीडिया| कमेंट|

गौ हत्‍या पर मृत्‍युदंड, केवल महाराजा रण...
गौ हत्‍या पर मृत्‍युदंड, केवल महाराजा रणजीत सिंह और बहादुरशाह जफर ने किया था प्रावधान

संदीप देव।ञान से यह बता सकते हैं कि इस देश में कौन-कौन से वो शासक रहे हैं, जिन्‍होंने गौ-हत्‍या के लिए मृत्‍युदंड का विधान अपने राज्‍य में किया था। मीर कासिम से पहले [...]

AN OPEN LETTER TO THE PRIME MINISTER Nar...
AN OPEN LETTER TO THE PRIME MINISTER NarendraModi about ‪‎BiharElections ‬

Francois Gautier. Dear Mr Prime Minister [...]

दोहरा चरित्र अपनाने में हिंदू संसार में ...

संदीप देव।े आप को सेक्‍यूलर साबित करने के लिए दोहरा चरित्र अपनाने में संसार में सबसे अव्‍वल हैं। जबकि दूसरी तरफ कुछ ऐसे हिंदू हैं, जो अपने धर्म के लिए व धर्म के अनुरूप काम [...]

देश तोड़ने वालों को सरदार पटेल की तरह फट...
देश तोड़ने वालों को सरदार पटेल की तरह फटकारिए, न कि धर्मनिरपेक्षतावाद का राग अलापिए!

संदीप देव।करते हुए तथाकथित धर्मनिरपेक्षतावादी, बुद्धिजीवी, वामपंथी, कांग्रेसी प्रवक्‍ता, मुस्लिम नेता व मौलाना लगातार यह कहते रहते हैं कि भारत के मुसलमान भी राष्‍ट्रवादी हैं। लेकिन भारत विभाजन व देश की आजादी [...]

कानून के फंदे से हर बार निकलने में सफल र...
कानून के फंदे से हर बार निकलने में सफल रही तीस्‍ता सीतलवाड़!

संदीप देव।, तीस्‍ता सीतलवाड़ की भविष्‍य में होने वाली गिरफतारी न जाने कितने मीडिया हाउस, पत्रकारों, एनजीओकर्मी, वामपंथी बुद्धिजीवी, न्‍यायपालिका के कुछ धुरंधर और विदेशी फंडिंग देने वाले सरगनाओं के [...]

हिंदू धर्म का इस्‍लामीकरण न करें...! ...
हिंदू धर्म का इस्‍लामीकरण न करें...!

संदीप देव। देश नहीं है, लेकिन जिस तरह की धर्मांधता का व्‍यवहार खुद को हिंदूवादी कहने वाले कुछ लोग, संगठन या समूह आजकल कर रहे हैं, उन्‍हें स्‍पष्‍ट ज्ञान होना चाहिए कि वह मूल [...]

सेलेना गोमेज ने कमर के नीचे गुदवाया ॐ टै...
सेलेना गोमेज ने कमर के नीचे गुदवाया ॐ टैटू!

अमेरिकन सिंगर, ऐक्ट्रेस और फैशन डिजाइनर सेलेना गोमेज इस बार अपने टैटू से खबरों में हैं. सेलेना गोमेज ने अपनी वेस्ट के नीचे एक पवित्र ओम शब्द का टैटू बनवाया है. सेलेना गोमेज के इस टैटू ने [...]

1966 का वह गो-हत्‍या बंदी आंदोलन, जिसमें...
1966 का वह गो-हत्‍या बंदी आंदोलन, जिसमें हजारों साधुओं को इंदिरा सरकार ने गोलियों से भुनवा दिया था! आंखों देखा वर्णन!

संदीप देव।दान और राष्ट्रीय ध्वज में मौजूद 'भगवा' रंग से पता नहीं कांग्रेस को क्‍या एलर्जी है कि वह आजाद भारत में संतों के हर आंदोलन को कुचलती रही है। आजाद भारत में [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles