Aurangzeb‬ के लिए बेचैन आधुनिक 'सलातीन' (हरम की संतान) !

संदीपदेव‬। वामपंथी इतिहासकारों ने मुगलों की महानता साबित करने के लिए हम सभी से यह छुपाया कि मुगलों के हरम की पैदाइश अर्थात नाजायज संतानों को कहां और किस हालत में रखा जाता था। एक-एक मुगल बादशाह के हजार से दो हजार नाजायज औलाद हरम की रखैलों से पैदा होते थे। 'हरम' से ही 'हरामी' जैसा गाली बना है अर्थात हरम की औरतों से पैदा ऐसे संतान, जिन्‍हें बादशाह अपना नाम नहीं देता था। मुगलों के ये नाजायज औलाद 'सलातीन' कहलाते थे। विलियम डैलरिंपल ने अपनी मशहूर पुस्‍तक 'द लास्‍ट मुगल' में लिखा है कि आखिरी मुगल बादशाह बहादुरशाह जफर के समय खास शाहजादों के अलावा किले में करीब दो हजार गरीब शाहजादे व शाहजादियां, जो बादशाहों के पोते, पड़पोते, नवासे या उनकी भी औलादें थीं। उन्‍हें किले की कोठरियों में गरीबी की हालत में रखा जाता था। कई तो एकदम से नग्‍न रहते थे।

यह मैं इसलिए लिख रहा हूं कि भारत पर शासन करने वाले तुर्कों, अफगानियों, मुगलों में से इतिहास में सिकंदर लोदी व मुगल औरंगजेब ही ऐसा शासक थे, जिन्‍होंने कटटर इस्‍लामी शरियत कानून को देश पर जबरदस्‍ती थोपने का प्रयास किया। गैर इस्‍लामी जनता को दोयम दर्जे का नागरिक समझा। आज जो लोग धर्मनिरपेक्षता को अपने हिसाब से परिभाषित करते रहे हैं, वह उस क्रूर कटटरपंथी, सांप्रदायिक और मजहबी शासक के पक्ष में विरोध प्रदर्शन से लेकर मोदी सरकार को घेरने तक की योजना पर काम कर रहे हैं। मुझे शक है, कहीं इनके खून में भी 'सलातीनों' का खून तो शामिल नहीं है!

दरअसल इनकी समस्‍या किसी भाजपा या मोदी सरकार से नहीं, इनकी समस्‍या हिंदुओं की जागरूकता से है। भारत विभाजन से लेकर आज तक इस्‍लामी कटटरता को पोषित करने के लिए यह हिंदुओं को सेक्‍यूलरिज्‍म रूपी धतूरे का बीज खिला रहे थे और वामपंथी बुद्धिजीवि व पत्रकार वर्ग इसमें इनके मददगार थे। लेकिन सोशल मीडिया के उभार और लोकसभा-2014 के परिणाम ने हिंदुओं को जागरूक किया है, जिसके बाद से इनके अंदर बेचैनी पनप रही है।

भारत के विभाजन का पहला दस्‍तावेज जिस शासक ने तैयार किया था, वो औरंगजेब था। यह पूरा दस्‍तावेज आपको शीघ्र ही प्रकाशित औरंगजेब विशेषांक पत्रिका में मैं आपको उपलब्‍ध कराऊंगा। अंग्रेजों के समय भारत के विभाजन का वैचारिक जनक मोहम्‍मद इकबाल का आदर्श भी औरंगजेब ही था। इसलिए भारत के और विभाजन को रोकने के लिए इस जागरूकता को अधिक से अधिक फैलाने की जरूरत है। मैं यही प्रयास कर रहा हूं।

याद रखिए, सोशल मीडिया में लाइक, शेयर और टीवी का बहस केवल एक दिन का खेल है। यह अदालत में सबूत और आपके लिए सही रिफ्रेंस भी नहीं बन सकता है। छपे हुए शब्‍दों की यह ताकत ही है, जिसके कारण वेद, उपनिषद, गीता, रामायण और महाभारत को विदेशी नष्‍ट नहीं कर सके। छपे शब्‍द की ताकत बहुत बड़ी होती है। इसे पहचानिए और इसे फैलाइए।

‪#‎SandeepDeo‬ ‪#‎TheTrueIndianHistory‬ Sandeep Kumar Deo

Web Title: sandeep deo blog on aurangzeb-3

भारत को कुछ बनने की जरूरत नहीं, भारत को ...
भारत को कुछ बनने की जरूरत नहीं, भारत को भारत ही बनना चाहिए: नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली।द्र मोदी ने अपनी अमेरिका यात्रा से पहले सीएनएन के वरिष्ठ पत्रकार फरीद जकारिया को एक्सक्लूसिव इंटरव्यू दिया। पढ़िए उस इंटरव्यू के सवालों के जवाबः-

अब रिमोर्ट से कंट्रोल करें अपने गर्भनिरो...
अब रिमोर्ट से कंट्रोल करें अपने गर्भनिरोधक को!

नर्इ दिल्‍ली। अमेरिका के मैसाचुसेट्स यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक कंप्यूटर चिप आधारित गर्भनिरोधक विकसित किया है, जिसे रिमोट कंट्रोल से ऑपरेट किया जा सकेगा। यह लगातार 16 साल तक काम कर सकता है। खास बात यह है [...]

मनु शर्मा व रामबहादुर राय, जिनके गले से ...
मनु शर्मा व रामबहादुर राय, जिनके गले से लगकर सम्‍मानित हुआ 'पद्मश्री'

संदीप देव। खुशी का दिन है। मेरे दो-दो आदर्श व आदरणीय साहित्‍यकार-पत्रकार को आज पद्म पुरस्‍कार मिल रहा है। इनमें एक हैं मनु शर्मा और दूसरे हैं रामबहादुर राय। सच पूछिए तो ये दोनों [...]

दिमाग तेज करना है तो सीखें दो भाषा!...
दिमाग तेज करना है तो सीखें दो भाषा!

आईएएनएस। वाशिंगटन।हैं, तो दो भाषाएं सीखें क्योंकि एक नए शोध में यह बात सामने आई है कि दो भाषा सीखने वालों का दिमाग अन्य की तुलना में तेज होता है। ऐसा [...]

मनीष तिवारी, बाबा रामदेव झंडू बाम के माल...
मनीष तिवारी, बाबा रामदेव झंडू बाम के मालिक नहीं, योग के प्रणेता हैं!

संदीप देव।ामदेव सहित श्री श्री रवि शंकर, लालकृष्ण आडवाणी और अमिताभ बच्चन को पद्म विभूषण से सम्मानित करेगी। बाबा रामदेव का नाम आते ही, कांग्रेस, जनतादल यू, राष्‍ट्रवादी कांग्रेस जैसी घोटाले, [...]

ब्रैंडिंग के लिए सर्वाधिक लोकप्रिय साइट ...
ब्रैंडिंग के लिए सर्वाधिक लोकप्रिय साइट बना यूट्यूब

यॉर्क।्री वाली सर्वाधिक लोकप्रिय साइट यूट्यूब को एक ताजा अध्ययन में ब्रैंडिंग वीडियो के लिए सर्वाधिक उपयुक्त जगह बताया गया है। समाचारपत्र 'वॉल स्ट्रीट जर्नल' के अनुसार, वीडियो विज्ञापन निर्माता एजेंसी 'विजिबल मेजर्स' [...]

कुरान की झूठी कसम खाने वाला ‪#‎Aurangzeb...
कुरान की झूठी कसम खाने वाला ‪#‎Aurangzeb‬, आज के कटटरपंथी मुसलमानों का है मसीहा!

संदीपदेव‬।- अल्‍लाह, कुरान, पैगंबर मोहम्‍मद, हदीस और शरियत में से प्रथम तीन पर सवाल उठाना भी गुनाहे अजीम है! औरंगजेब ने सत्‍ता के लिए कुरान की झूठी कसम खायी! लेकिन [...]

डाबर लाएगा देसी हाजमोला ड्रिंक्स...
डाबर लाएगा देसी हाजमोला ड्रिंक्स

जॉन सरकार, नई दिल्ली/टाइम्स न्यूज नेटवर्क/प्रॉडक्शन करने वाली भारतीय एफएमसीजी डाबर ने कन्यूजमर के रुझान को पहचान कर यह कदम उठाने की योजना [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles