गुरु तेगबहादुर की हत्‍या से भी ‪#‎Aurangzeb‬ को बरी करते हैं वामपंथी इतिहास लेखक!

संदीपदेव‬। वामपंथी कितने कुत्सित और झूठे होते हैं, इसे देखना हो तो एनसीईआरटी की कक्षा- 11 के मध्‍यकालीन भारत का इतिहास पढ़ लीजिए। छत्रपति शिवाजी से लेकर गुरु तेगबहादुर तक के लिए एक वचन 'तुम' का प्रयोग वामपंथी इतिहासकारों ने किया है, जो भारत के गौरव को स्‍थापित करने वाले शासकों से इनकी नफरत को दर्शाता है। वहीं, औरंगजेब की कटटरता पर पर्दा डालने का इनका प्रयास पूरी पुस्‍तक में बिखरा पड़ा है। कुछ उदाहरण देखिए:

1) 1675 ई में गुरु तेगबहादुर और उसके (देखिए यहां एक धार्मिक पंथ के गुरु के लिए 'उसके' शब्‍द का प्रयोग है) पांच अनुयायियों को गिरफ्तार कर मौत के घाट उतार दिया गया। इसके कारण स्‍पष्‍ट नहीं है (औरंगजेब की कटटरता को छुपाने का प्रयास, जबकि गुरु को मारे जाने का स्‍पष्‍ट दस्‍तावेजी प्रमाण उपलब्‍ध हैं)। कुछ फारसी विवरणों के अनुसार गुरू ने हाफिज आदम नामक एक पठान से मिलकर पंजाब में अशांति पैदा कर दी थी। ( गुरु तेगबहादुर की हत्‍या से औरंगजेब को बचाने के लिए, लेकिन कुछ फारसी विवरणों- अर्थात बिना तथ्‍यों के गप के आधार पर गुरु को अशांति का जनक स्‍थापित करने का प्रयास किया गया है।)

2) गैर मुसलमानों पर सामूहिक अत्‍याचार की कहानियां अतिरंजित मालूम होती हैं(यदुनाथ सरकार ने एक एक मंदिर और फरमान का जिक्र अपने शोध में किया है, लेकिन वामपंथी इतिहासकारों ने इतिहास नहीं, यहां औरंगजेब को धर्मनिरपेक्ष साबित करने के लिए अपना विचार थोपा है)

3) यह बाद संदिग्‍ध है कि गुरु (गोविंद सिंह) के दो बेटों के साथ वह नृशंस व्‍यवहार(हत्‍या) वजीर खां ने औरंगजेब के कहने पर किया। मालूम होता है कि औरंगजेब गुरु का विनाश नहीं चाहता था। (क्‍या इतिहास लेखन में बिना तथ्‍य के 'संदिग्‍ध है', 'मालूम होता है'- जैसे शब्‍द चल सकते हैं।)

वामपंथी लेखन को देखकर कि लगता है कि किस तरह से इतिहास में तथ्‍यों से परे जाकर अपने विचार घुसेड़े गए हैं और हमारे बच्‍चों के मन-मस्तिष्‍क पर कब्‍जा किया गया है। तभी स्‍कूल जाते ही कमर से सरकते जींस को ठीक करते हुए ये तथाकथित आधुनिक युवा कहते मिलते हैं- 'या आइ एम ए सेक्‍युलर इंडियन'। नरक मचाया है, वामपंथियों ने देश के इतिहास लेखन में।
औरंगजेब पर पत्रिका लाकर आप लोगों तक सच पहुंचाने की मैं जितनी कोशिश करता जा रहा हूं, मैं दुखी होता जा रहा है। औरंगजेब का काल नृशंस इतिहास का दौर था। दुख उसकी नृशंसता से उतना नहीं, जितना कि देश के तथाकथित सेक्‍यूलरों व वामपंथियों के भांडपन से लबरेज लेखन से है!

#‎SandeepDeo‬ ‪#‎TheTrueIndianHistory‬ ‪#‎संदीप_देव‬

Web Title: sandeep deo blog on aurangzeb-8

छोटे कपड़े पहनकर आइटम सांग करना मुझे पसं...
छोटे कपड़े पहनकर आइटम सांग करना मुझे पसंद नहीं: राधिक आप्‍टे

बॉलीवुड फिल्म हंटर में मुख्‍य भूमिका अदा करने वाली खूबसूरत अदाकार  राधिका आप्‍टे का कहना है कि वो कभी ऐसे आइटम सांग नहीं करेंगी जो महिलाओं की छवि खराब करे.

लगभग 400 वर्ष पुराना है मदर्स डे का इतिह...
लगभग 400 वर्ष पुराना है मदर्स डे का इतिहास

मदर्स डे दुनिया भर में मनाया जाता है। भारत में मदर्स डे मई माह के दूसरे रविवार को मनाते हैं। मदर्स डे का इतिहास लगभग 400 वर्ष पुराना है। प्राचीन ग्रीक और रोमन इतिहास में मदर्स डे [...]

भगवा अग्नि और सूरज की तरह खुद को जलाकर द...
भगवा अग्नि और सूरज की तरह खुद को जलाकर दूसरों के जीवन में रौशनी बिखेरने का प्रतीक है!

संदीप देव।हर भारतीय जीवन का आधार मान लें तो तिरंगे में तो भगवा रंग भी है। भगवा रंग अग्नि का रंग है, भगवा रंग सूरज की किरणों का रंग है-यही कारण है कि [...]

स्ट्रेस मॅनेजमेंट का फंडा...
स्ट्रेस मॅनेजमेंट का फंडा

एक मनोवैज्ञानिक स्ट्रेस मॅनेजमेंट के बारे में, अपने छात्रों से मुखातिब था। उसने पानी से भरा एक ग्लास उठाया। सभी ने समझा की अब "आधा खाली या आधा भरा है", यही पुछा और समझाया जाएगा! मगर [...]

दिल्‍ली के चुनाव में पूर्वांचली मतदाता ह...
दिल्‍ली के चुनाव में पूर्वांचली मतदाता होंगे सबसे निर्णायक

संदीप देव।नाव में आम आदमी पार्टी ने दिल्‍ली में पूर्वांचलियों की ताकत को समझा था और जितने पूर्वांचलियों को अरविंद की पार्टी ने टिकट दिया था, उनमें से ज्‍यादातर जीतने में सफल रहे थे। भाजपा ने [...]

बिहार चुनाव में भाजपा के खलनायक: भाजपा क...
बिहार चुनाव में भाजपा के खलनायक: भाजपा के खिलाफ प्रोपोगंडा वार को समाप्‍त करने की जगह हवा दे रहे हैं अरुण जेटली!

‪‎प देव‬।ही लिखा था, बिहार चुनाव खत्म असहिष्णुता की नौटंकी खत्म! अब कहाँ कोई पुरस्कार लौटा रहा है? किस टीवी चैनल पर बहस चल रहा है? कौन-से अखबार के पन्ने रंगे जा [...]

तो कौन-सी गलत बात कह दी बाबा रामदेव ने, ...
तो कौन-सी गलत बात कह दी बाबा रामदेव ने, राजदीप सरदेसाई और तीस्‍ता सीतलवाड़ जैसों को क्‍या बिना लॉबिंग के पद्म पुरस्‍कार मिला था?

संदीप देव, नई दिल्‍ली। हमलावर है। पद्म पुरस्‍कारों को लेकर जो बात सत्‍ता के गलियारे से लेकर देश की जनता तक जानती है, उसे यदि स्‍वामी रामदेव ने कह दिया [...]

किताबों में ही दफन रह गया, नेहरू खानदान ...
किताबों में ही दफन रह गया, नेहरू खानदान का काला इतिहास!

14 नवंबर, नेहरू जयंती पर विशेष। दिनेश चंद्र मिश्र। जम्मू-कश्मीर में आए महीनों हो गए थे, एक बात अक्सर दिमाग में खटकती थी कि अभी तक नेहरू के खानदान का कोई क्यों नहीं मिला, [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles