साहित्‍य अकादमी पुरस्‍कार लौटाए जाने के पीछे की राष्‍ट्रीय-अंतरराष्‍ट्रीय साजिश!

संदीप देव। साहित्‍य अकादमी पुरस्‍कार लौटाने का यह जो खेल चल रहा है, आप लोग इसे हल्‍के में न लें। PMO India मोदी सरकार पर किए गए इस वार में पर्दे के पीछे कांग्रेस पार्टी-अंतरराष्‍ट्रीय एनजीओ-मीडया का बड़ा नेक्‍सस काम कर रहा है। मुझे जो जानकारी मिली है, उसके अनुसार, मोदी सरकार ने खुफिया विभाग से इसकी जांच कराई है और प्रारंभिक जांच में यह पता चला है कि है, देश में चल रहे इस कोलाहल में अमेरिका-सउदीअरब-पाकिस्‍तान तक शामिल हैं। बकायदा इसके लिए एक अंतरराष्‍ट्रीय पीआर एजेंसी हायर किया गया है।

 

पुरस्‍कार लौटाने का खेल तब शुरू हुआ जब कांग्रेस के कुछ बड़े नेता, जेएनयू के कुछ प्रोफेसर और कुछ अंग्रेजी पत्रकार साहित्‍य अकादमी के पुरस्‍कार लौटाऊ साहित्‍यकारों से मिले और उन्‍हें इसके लिए राजी करने का प्रयास किया और अखलाक मामले को मुददा बनाकर पुरस्‍कार लौटाने को कहा। पहले इसके विरोध में होने वाली प्रतिक्रिया के भय से कई साहित्‍यकार तैयार नहीं थे, जिसके बाद नेहरू की भतीजी नयनतारा सहगल को आगे किया गया। इसके बाद वो साहित्‍यकार तैयार हुए, जिनके एनजीओ को विदेशी संस्‍थाओं से दान मिल रहा था, जो मोदी सरकार द्वारा जांच के दायरे में हैं और जिनकी बाहर से होने वाली फंडिंग पूरी तरह से रोक दी गयी है।

अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर 150 से अधिक साहित्‍यकारों व पत्रकारों को इस पर लेख लिख कर भारत को असहिष्‍णु देश साबित करने के लिए अमेरिका-सउदी अरब-पाकिस्‍तान के पक्ष में एक बड़ी अंतरराष्‍ट्रीय फंडिंग एजेंसी ने एक अंतरराष्‍ट्रीय पीआर एजेंसी को हायर किया है, जिस पर करोड़ों रुपए खर्च किए गए हैं। संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ में भारत की दावेदारी को रोकने लिए अमेरिकी, सउदी अरब व पाकिस्‍तान मिलकर काम कर रहे हैं। इसके लिए भारत को मानवाधिकार पर घेरने और उसे असहिष्‍णु देश साबित करने की रूपरेखा तैयार की गई है।

इसके लिए पहले अमेरिका ने अपनी धार्मिक रिपोर्ट जारी कर भारत को एक असहिष्‍णु देश के रूप में प्रोजेक्‍ट किया और उसमें गिन-गिन कर भाजपा के नेताओं व उनके वक्‍तव्‍यों को शामिल किया गया। इस समय सउदी अरब का राजपरिवार संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ के मानवाधिकार आयोग का अध्‍यक्ष है और पाकिस्‍तान के हित में वह शीघ्र ही भारत को मानवाधिकार उल्‍लंघन के कटघरे में खड़ा करने वाला है। यह रिपोर्ट भी मोदी सरकार के पास है।

जांच में यह भी पता चला है कि उस अंतरराष्‍ट्रीय पीआर एजेंसी ने बड़े पैमाने पर भारत के पत्रकारों, मीडिया हाउसों व साहित्‍यकारों को फंडिंग की है और इस पूरे मामले को बिहार चुनाव के आखिर तक जिंदा रखने को कहा गया है। गोटी यह है कि यदि भाजपा बिहार में हार गयी तो उसके बाद उसे बड़े पैमाने पर अल्‍पसंख्‍यकों के अधिकारों का उल्‍लंघन करने वाली सरकार के रूप में अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर प्रोजेक्‍ट किया जाएगा। संभवत: इससे मोदी सरकार हमेशा के लिए बैकफुट पर आ जाएगी, जिसके बाद गो-वध निषेध जैसे हिंदुत्‍व के सारे मुददों को ताक पर रख दिया जाएगा। अमेरिका खुद डरा हुआ है कि वहां क्रिश्‍चनिटि खतरे में है और बड़ी संख्‍या में लोगों का रुझान हिंदू धर्म की ओर बढ़ रहा है।

यदि भाजपा बिहार में जीत गयी तो राष्‍ट्रीय-अंतरराष्‍ट्रीय साजिशकर्ता मिलकर देश में बड़े पैमाने पर सांप्रदायिक हिंसा को अंजाम दे सकते हैं और मोदी सरकार को पांच साल तक सांप्रदायिकता में ही उलझाए रख सकते हैं। मोदी सरकार पूरी तरह से चौकन्‍नी है और वह स्थिति का आकलन कर रही है। संभवत: बिहार चुनाव के बाद बड़े पैमाने पर जांच शुरू हो, जिसे रोकने के लिए भी देश में कोहराम मचाए जाने की सूचना है।

इसलिए सभी भारतवासियों से हाथ जोड़ कर अपील है कि विदेशी साजिश का हिस्‍सा न बनें और सांप्रदायिक सौहार्द्र बनाए रखने में मदद करें। यह देश आपका है, प्‍लीज अमेरिका-सउदी अरब-पाकिस्‍तान के हित में अपने देश को बदनाम न करें। आप हिंदू हों, मुसलमान हों, इसाई हों- लेकिन आपकी पहचान तभी तक है जब तक कि आपके पासपोर्ट पर 'इंडियन' या 'भारतीय' लिखा है- इसे कभी न भूलें। ‪#‎संदीपदेव‬ ‪#‎sandeepdeo‬ ‪#‎BiharElection‬

Web Title: Deep-rooted Conspiracy Behind Indian writers return awards

Keywords: With Return of Prize, India's Literary Stars Protest Rising Intolerance| Why India's writers are returning their literary prizes

 

अंतरराष्‍ट्रीय मीडिया द्वारा भारत सरकार को घेरने के कुछ उदाहरण:


washingtonpost.com

https://www.washingtonpost.com/news/worldviews/wp/2015/10/12/indian-writers-protest-rising-intolerance-by-returning-prestigious-national-awards/

The guardian

http://www.theguardian.com/books/2015/oct/14/indian-writers-return-awards-in-protest-against-climate-of-intolerance

ibtimes.co.uk

http://www.ibtimes.co.uk/india-41-writers-return-countrys-highest-literary-awards-protest-rising-intolerance-1523939

THE ASSOCIATED PRESS

http://www.680news.com/2015/10/14/dozens-return-indias-highest-literary-award-to-protest-growing-climate-of-intolerance/

QUARTZ
http://qz.com/524798/indian-authors-are-returning-the-countrys-most-prestigious-literary-award-in-protest/

The globe and mail
http://www.theglobeandmail.com/news/world/dozens-return-indias-highest-literary-award-to-protest-growing-climate-of-intolerance/article26795974/

BBC
http://www.bbc.com/news/world-asia-india-34513311

Aljazeera
http://video.aljazeera.com/channels/eng/videos/indian-authors-protest-against-right-wing-attacks/4563028407001;jsessionid=F13F883214D96F726F156206457EB7C1

Daily motion
http://www.dailymotion.com/video/x3a1gjt

ooyuz
http://www.ooyuz.com/geturl?aid=8736504

 

आईआईटी में ग्रामीण विकास पर कोई भारतीय स...
आईआईटी में ग्रामीण विकास पर कोई भारतीय संत नहीं बोल सकता! आखिर किस मानसिक दिवालिएपन से गुजर रहे हैं वामपंथी पत्रकार?

आधीआबादी ब्‍यूरो, नई दिल्‍ली।क्रम में बाबा रामदेव को अतिथि क्‍या बना लिया, वामपंथी पत्रकारों के मानसिक दिवालिएपन का दर्शन होना शुरू हो गया। आईआईटी में विषय था, 'ग्रामीण [...]

हमारी शिक्षा से भारतीय जीवन पद्धति गायब ...
हमारी शिक्षा से भारतीय जीवन पद्धति गायब है: वेंकैया नायडु

आधी आबादी ब्‍यूरो।े कहा कि देश को आजाद हुए 67 साल हो चुके हैं, लेकिन आज तक इस देश में सही शिक्षा पॉलिसी का अभाव है। शिक्षा का लक्ष्‍य चरित्र निर्माण होना [...]

बोलने की आजादी का मतलब चुप रहने का हक भी...
बोलने की आजादी का मतलब चुप रहने का हक भी होता है: शाहरुख खान

शाहरुख खान इन दिनों अपनी फिल्म ‘फैन’ के प्रमोशन में बिजी हैं। सोमवार को यहां फिल्म के ट्रेलर लॉन्च के दौरान उन्होंने कहा कि बोलने की आजादी का मतलब चुप रहने का हक भी होता है। मीडिया ने इन्टॉलरेंस के [...]

बाबा रामदेव के विरोधियों को नरेंद्र मोदी...
बाबा रामदेव के विरोधियों को नरेंद्र मोदी का तमाचा!

संदीप देव, नई दिल्‍ली। ्वारा विश्‍व मानव समाज को दी गई 'योग' विद्या को आधुनिक समय में बाबा रामदेव ने अंतरराष्‍ट्रीय पहचान दिलाई है, इसमें शायद ही किसी को शक [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: 'इसे छूने के बाद रोटी नहीं खाई जाती'

शालू यादव, बीबीसी संवाददाता, दिल्ली।स्तेमाल करती हैं. कूड़ेदान में फेंके गए सैनिट्री पैड्स प्राकृतिक रूप से गलते नहीं है. तो इनका क्या होता है? [...]

आम जनता तक सही इतिहास पहुंचाना है तो समय...
आम जनता तक सही इतिहास पहुंचाना है तो समय बहुत कम है!

‪‎संदीपदेव‬।यूट ऑफ हेरिटेज रिसर्च एंड मैनेजमेंट के प्रोफेसर मक्‍कखन लाल जी। आधुनकि समय में मक्‍कखन जी देश के प्रतिष्ठित इतिहासकार हैं। इनकी पांच खंडों में प्रकाशित पुस्‍तक-'इंडियन हिस्‍ट्री' भारतीय इतिहास पर आधुनिक समय [...]

मनीष तिवारी, बाबा रामदेव झंडू बाम के माल...
मनीष तिवारी, बाबा रामदेव झंडू बाम के मालिक नहीं, योग के प्रणेता हैं!

संदीप देव।ामदेव सहित श्री श्री रवि शंकर, लालकृष्ण आडवाणी और अमिताभ बच्चन को पद्म विभूषण से सम्मानित करेगी। बाबा रामदेव का नाम आते ही, कांग्रेस, जनतादल यू, राष्‍ट्रवादी कांग्रेस जैसी घोटाले, [...]

किताबों में ही दफन रह गया, नेहरू खानदान ...
किताबों में ही दफन रह गया, नेहरू खानदान का काला इतिहास!

14 नवंबर, नेहरू जयंती पर विशेष। दिनेश चंद्र मिश्र। जम्मू-कश्मीर में आए महीनों हो गए थे, एक बात अक्सर दिमाग में खटकती थी कि अभी तक नेहरू के खानदान का कोई क्यों नहीं मिला, [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles