अब युवतियों को नहीं चाहिए कुंवारा पति!

बदलाव की बयार से भारतीय समाज अब अछूता नहीं रह गया है. खासकर सेक्स को लेकर देश के युवक-युवतियों के खयाल एकदम बदले-बदले नजर आ रहे हैं. हाल ही में एक सर्वे के दौरान यह बात सामने आई कि अब लड़कियों में वर्जिन यानी कुंवारे हसबेंड की चाहत कम होती जा रही है.

अलग-अलग शहरों में लड़कियों से एक सवाल किया गया. युवतियों से पूछा गया कि क्या वे वर्जिन हसबेंड चाहेंगी? इस सवाल के जो जवाब आए, वे बहुत-कुछ सोचने को मजबूर कर देते हैं.

कुछ लड़कियों ने तो साफ-साफ कहा कि वे ऐसा पति चाहती हैं, जिसके पास पहले से कोई 'अनुभव' न हो. पर कई लड़कियों के जवाब एकदम चौंकाने वाले रहे.
 किसी ने कहा कि वे वर्जिन हसबैंड के बारे में नहीं सोचती हैं, क्योंकि उन्हें अच्छी तरह मालूम है कि आज जमाना किस तरफ जा रहा है. शादी होने तक 'इंतजार करने' का सब्र हर किसी में नहीं होता, नतीजतन विवाह से पहले सेक्स बड़े शहरों में आम होता जा रहा है. लिव-इन का चलन भी दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है.

किसी ने कहा कि उन्हें इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि उनका होने वाला पति वर्जिन हो या नहीं. किसी ने बड़ी बेबाकी से यह भी कह डाला कि चाहे लड़कियां हों या लड़के, दोनों ही अपने बारे में हर तरह का फैसला खुद ले रहे हैं. ऐसे में अगर कोई वयस्क शादी से पहले अपनी मर्जी किसी से सेक्सुअल रिलेशन बनाता है, तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है. साथ ही वर्जिनिटी शादी के लिए कोई शर्त नहीं हो सकती.

एक जवाब यह भी आया कि न तो वर्जिनिटी खो चुके लड़के को वर्जिन दुल्हन की इच्छा रखनी चाहिए, न ही वर्जिनिटी खो चुकी लड़की को वर्जिन हसबेंड की चाह. कुल मिलाकर, भारतीय समाज अब उस सवाल का सामना करने की हिम्मत दिखा रहा है, जिससे एक दशक पहले तक वह नजरें चुराया करता था.

साभार: आजतक वेब
Web Title : many indian girls want experienced husband not virgin
Keyword : sex| relationship| marriage| virgin| love| survey| सेक्स| रिलेशनशिप| विवाह| वर्जिनिटी

आजादी के बाद फांसी के फंदे पर लटके 1414 ...
आजादी के बाद फांसी के फंदे पर लटके 1414 अपराधियों में मुसलमान केवल 72 हैं, तो फिर यह 'हाय याकूब- हाय याकूब' क्‍यों? ‎

संदीप देव‬।त्‍त जज, वकील, पत्रकार, वामपंथी बुद्धिजीवी, एनजीओकर्मी, मानवाधिकारवादी और जेहादी आतंकी याकूब मेनन के समर्थन में सड़क से लेकर मीडिया व सोशल मीडिया तक एक झूठ का प्रचार लगातार कर [...]

पढ़ना मत! अपनी मूर्खता को पकड़े रखना- कश...
पढ़ना मत! अपनी मूर्खता को पकड़े रखना- कश्‍मीरी पंडित के पूर्वजों ने मूर्खता की थी, उनकी अगली पीढ़ी गाजर-मूली की तरह काट दी गयी, भगा दी गयी! ‎

संदीपदेव‬।िचित्र बात है, वह अपने इतिहास से सबक लेने को तैयार ही नहीं है! और ऐसा नहीं कि यह आज की बात हो, यह हमारे पूर्वजों से चली आ रही मूढ़ता है, जिसका [...]

मदर टेरेसा के साथ काम कर चुके हैं केजरीव...

संदीप देव।ेरेसा विवाद में दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल जिस तरह से मदर टेरेसा के पक्ष में कूद पड़े हैं। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मदर टेरेसा पवित्र आत्‍मा थीं, उन्‍हें राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक प्रमुख [...]

तो नीतीश कुमार अपने दादा के स्‍वतंत्रता ...
तो नीतीश कुमार अपने दादा के स्‍वतंत्रता सेनानी होने की कीमत वसूलता चाहते हैं बिहारी जनता से!

ंदीपदेव‬।ुख्‍यमंत्री Nitish Kumar के सिर चढ़ कर बोल रहा है! उनका कहना है कि जिन लोगों का (आरएसएस व भाजपा) देश को [...]

बिहार चुनाव में भाजपा के खलनायक: भाजपा क...
बिहार चुनाव में भाजपा के खलनायक: भाजपा के खिलाफ प्रोपोगंडा वार को समाप्‍त करने की जगह हवा दे रहे हैं अरुण जेटली!

‪‎प देव‬।ही लिखा था, बिहार चुनाव खत्म असहिष्णुता की नौटंकी खत्म! अब कहाँ कोई पुरस्कार लौटा रहा है? किस टीवी चैनल पर बहस चल रहा है? कौन-से अखबार के पन्ने रंगे जा [...]

गर्भवती महिलाओं के लिए नया कोर्स, गर्भ म...
गर्भवती महिलाओं के लिए नया कोर्स, गर्भ में ही शिशुओं को दिए जाएंगे संस्‍कार!

महाभारत के पात्र अभिमन्यु ने जिस तरह गर्भ में ही चक्रव्यूह भेदने की कला सीख ली थी और पुराणों में गर्भ में ही संस्कार मिलने की बात कही गई है, उसी को आधार बनाकर भोपाल के अटल बिहारी वाजपेयी [...]

बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: विकास ...

संदीप देव।ें जीत के बाद जब वार्ड क्लाइव ने कलकत्ता में प्रवेश किया तो जनता तमाशाई बनी अपने घरों से न केवल झांक रही थी, बल्कि उसका स्वागत भी कर रही थी! क्लाइव लिखता [...]

गुमान में न रहें, यह आआपा के पक्ष में सक...
गुमान में न रहें, यह आआपा के पक्ष में सकारात्‍मक नहीं, भाजपा को हराने के लिए नकारात्‍मक वोट था

संदीप देव।और भाजपा की हार में बहुत सारे लोग दिल्‍ली की जनता की मुफतखोरी को दोष दे रहे हैं। मत भूलिए कि इसी जनता ने पिछली बार भाजपा को नंबर एक की पार्टी और लोकसभा [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles