शारीरिक संबंध नहीं बनाने पर बहन ने उजाड़ दिया भाई का घर!

समलैंगिक रिश्तों की जिद का स्याह पहलू सामने आया है, जिसने एक बसी बसाई गृहस्थी में तूफान खड़ा कर दिया। नजदीकी रिश्ते तक बेतुकी चाहत की आग में झुलस गए। समलैंगिक रिश्ते न बनाने पर तलाकशुदा महिला ने अपनी भाभी को इतना प्रताड़ित किया, उसे घर छोड़ना पड़ा।

शुरुआत में पीड़ित किसी से कुछ कह न सकी। आखिर में इंसाफ के लिए उसने जब दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया तो पूरा मामला खुला। हाईप्रोफाइल परिवार के इस मामले को अब पुलिस बातचीत से सुलझाने में जुटी है।

बरेली के सिविल लाइंस में रहने वाले विकास विभाग के अफसर ने वर्ष 2011 में अपनी बेटी की शादी हरिद्वार निवासी दिल्ली में कार्यरत इंजीनियर से की। शादी के बाद इंजीनियर बीवी के साथ दिल्ली में रहने लगे। इंजीनियर की बहन भी दिल्ली में एक कंपनी में इंजीनियर हैं, जो अपनी एक सहेली के साथ रहती है। वह भी पेशे से इंजीनियर है। दोनों सहेलियों का अपने पति से तलाक हो चुका है, जिसकी वजह उनका समलैंगिक होना था।

आरोप है कि दिल्ली में महिला इंजीनियर का अपने भाई के घर आना-जाना लगा रहता था। इसी बीच न जाने कब वह अपनी भाभी की तरफ आकर्षित हो गई। उससे नजदीकी बनाने की कोशिश में जुट गई। भाभी ने जब उसके ऑफर को ठुकराया तो महिला इंजीनियर गुस्से से भर गई। बदला लेने पर उतारू हो गई। साजिश के तहत उसने अपने भाई को भाभी के खिलाफ भड़काना शुरू कर दिया।

यहां तक भाभी के चाल-चलन को लेकर भी वह भाई से शिकायत करने लगी। बात इतना आगे बढ़ गई कि महिला इंजीनियर के भाई ने अपनी पत्नी को घर से निकाल दिया। हारकर विवाहिता बरेली लौटी और कोतवाली में दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज करा दिया। जांच में जो बातें सामने आईं वह बेहद चौंकाने वाली थीं। अब डीआइजी आरकेएस राठौर ने डीएसपी मुकुल द्विवेदी को जांच सौंप दी है। कहा है कि विवाहिता का घर फिर से बस जाए।

Web title: homosexual sister spoils family of brother

Keywords: Family | Homosexual relations | high profile families | Gay | Homosexuality | homosexual sister spoils family of brother | सरकार समलैंगिक संबंधों पर फिलहाल नहीं लाएगी अध्यादेश| फिर अपराध हो गया समलैंगिक संबंध| धारा 377 पर सोनिया ने दिया बयान, जताई नाराजगी| समलैंगिक सहेलियों ने ये क्‍या किया?| समलैंगिक संबंधों के बीच आई युवती, काटा दोस्त का गुप्तांग

साभार:  http://naidunia.jagran.com/national/homosexual-relations-spoiled-family-364850#sthash.nUw0auTu.dpuf

'स्‍वराज हमारा जन्‍मसिद्ध अधिकार है' का ...
'स्‍वराज हमारा जन्‍मसिद्ध अधिकार है' का नारा देने वाले तिलक को देश ने पहली बार सन् 1964 में याद किया!

संदीपदेव‬।ोस ने अपनी पुस्‍तक 'द इंडियन स्‍ट्रगल' में लिखा है, ''भारतीय राजनीति में सिर्फ तिलक गांधी के प्रतिद्वंद्वी हो सकते थे। उनकी मत्‍यु ने गांधी का काम बहुत आसान कर दिया।'' [...]

मदर टेरेसा का धर्मांतरण से कितना है नाता...

By एबीपी न्यूज, नई दिल्ली।मदर टेरेसा की पहचान गरीबों के लिए काम करने वाले मसीहा की जैसी है लेकिन इस बार चर्चा है उनकी सेवा के पीछे [...]

अपनी छोटी बहन अक्षरा को लेकर श्रुति हासन...
अपनी छोटी बहन अक्षरा को लेकर श्रुति हासन है बेहद पजेसिव!

अभिनेत्री श्रुति हासन का कहना है कि वह अपनी छोटी बहन अक्षरा को लेकर प्रोटेक्टिव हैं. अक्षरा ने फिल्म 'शमिताभ' से बॉलीवुड में अपने करियर की शुरुआत की थी. उन्होंने बताया, 'मैं अक्षरा को लेकर [...]

एनसीईआरटी की पुस्‍तकों में ‪Aurangzeb‬ क...
एनसीईआरटी की पुस्‍तकों में ‪Aurangzeb‬ को धर्मनिरपेक्ष साबित करने के लिए भरे झूठ पर एक नजर डालिए!

‪संदीपदेव‬।यत आप तक पहुंचाने की कोशिश कर रहा हूं तो कुछ लोग हैं जो यह सवाल उठा रहे हैं कि आप औरंगजेब के पीछे क्‍यों पड़े हैं? अब ऐसे मूढ़मतियों को क्‍या जवाब दिया जाए? [...]

द्वितीय विश्‍व युद्ध में ब्रिटिश जहां मह...
द्वितीय विश्‍व युद्ध में ब्रिटिश जहां महात्‍मा गांधी के मित्र थे, वहीं सुभाष चंद्रबोस के लिए दुश्‍मन!

संदीप देव।दूसरे के फटे में टांग अड़ाना। जब द्वितीय विश्‍व युद्ध शुरु हुआ तो गांधी जी के नेतृत्‍व में कांग्रेस ब्रिटिश शासन को बार-बार मदद देने का प्रस्‍ताव दे रही थी, जबकि ब्रिटिश [...]

पत्रकार-दलाल-नौकरशाह-कारपोरेट गठजोड़ पिछ...

संदीप देव।लय में पिछले कई वर्षों से जिस तरह जासूसी का खेल चल रहा था, उसका पर्दाफाश यह दर्शाता है कि मीडिया-दलाल-नौकरशाह-कंपनियों का नेक्‍सस किस तरह गहराई तक देश को घुन की तरह खा [...]

अब युवतियों को नहीं चाहिए कुंवारा पति!...
अब युवतियों को नहीं चाहिए कुंवारा पति!

बदलाव की बयार से भारतीय समाज अब अछूता नहीं रह गया है. खासकर सेक्स को लेकर देश के युवक-युवतियों के खयाल एकदम बदले-बदले नजर आ रहे हैं. हाल ही में एक सर्वे के दौरान यह बात [...]

मुगल सल्‍तनत के आखिरी वारिशों का हश्र या...

संदीपदेव‬।ासन करने वाले मुगल साम्राज्‍य के शासक भी बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की तरह अहंकार से भरे थे, उन्‍हें सत्‍ता का गुमान था, लालू यादव के 'भूराबाल [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles