अंतरंग

फेसबुक पर पनपे प्रेम ने उसे देश का गद्दार बना दिया!

नई दिल्ली/लखनऊ। ‘इश्क ने गालिब निकम्मा कर दिया वर्ना आदमी हम भी काम के थे’ कुछ ऐसा ही हुआ है सेना के जवान सुनीत कुमार के साथ. फौजी से आइएसआइ एजेंट बनने की कहानी नाटकों से भी ज्यादा नाटकीय है. सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक से शुरू हुई अनजाने में एक प्रेम कहानी देश के लिए गद्दारी तक पहुंच गई. यूपी पुलिस की एसटीएफ ने उसे लखनऊ से गिरफ्तार किया है.

Read more...

पुरुष ही नहीं, महिलाएं भी होती हैं स्‍वप्‍नदोष की शिकार!

स्वप्नदोष का नाम सुनते ही शर्मिंदा हो जाने वाले पुरुष अब राहत की सांस ले सकते हैं. इस बीमारी के बारे में माना जाता रहा है कि यह सिर्फ पुरुषों को ही होता है. लेकिन अध्‍ययनों से पता चला है कि महिलाओं को भी स्वप्नदोष होता है. स्वप्नदोष में दरअसल नींद में 'रंगीन' सपनों के माध्यम से ऑर्गेज्‍म का अनुभव होता है और वीर्यपात होता है.

Read more...

स्‍त्री यौन स्‍ट्रोक: स्‍त्री का स्‍ट्रोक, पुरुष का नियंत्रण

आधी आबादी ब्‍यूरो। संभोग के इस पोजीशन में कुछ ऐसे आसनों का वर्णन किया जाएगा, जिसमें स्‍ट्रोक तो पुरुष को लगाना पड़ता है, लेकिन सेक्‍स को पूरी तरह से स्‍त्री नियंत्रित करती है। इसमें आनंद दोनों को बराबर मिलता हैा संभोग की इस कला में पुरुष को खुद के स्‍ट्रोक से अधिक अपनी महिला साथी के नियंत्रण में रहने में मजा आता है।

Read more...

संभोग के दौरान जल्‍दी हांफ जाता हूं

सवाल : जब मैं अपनी पत्नी के साथ सहवास करता हूं, तो बहुत जल्दी क्लाइमैक्स पर पहुंच जाता हूं और हांफने भी लगता हूं। क्या किसी बीमारी की वजह से ऐसा होता है?

Read more...

In Tantra the worship of the Divine Goddess Shakti

Shaktism is probably the oldest form of Hinduism. Goddess worship in India dates back at least 20,000 years. In the Son Valley of Northern India a rectangular platform was found with natural circles installed in the centre dating back to this time. It is the Shrine of Kalika Mai (Mother Kali). Another one found in the same area is the Kerai Ki Devi shrine dating roughly between 8000 to 200 BCE and reflects an extraordinary continuity of Mother Goddess worship.

Read more...

सुभाषचंद्र बोस के आगे गांधी का व्‍यक्त्व...
सुभाषचंद्र बोस के आगे गांधी का व्‍यक्त्वि फीका पड़ गया था तो नेहरू क्‍या चीज थे... उस वक्‍त का जरा अखबार पलट कर तो देखिए!

संदीप देव‬।त्र Anuj Dhar ने सुभाषचंद्र बोस की मृत्‍यु के रहस्‍य से पर्दा उठाने के लिए जितना काम किया है, उसका कोई जोड़ वर्तमान में तो नहीं [...]

पापा मेरी बलि न दो, मैं बीज हूं!...
पापा मेरी बलि न दो, मैं बीज हूं!

संजू मिश्रा।ैं बीज हूं,
हरियाली तीज हूं ।

जेहादियों और कांग्रेसियों ने मिलकर जिंदा...
जेहादियों और कांग्रेसियों ने मिलकर जिंदा जलाया था 59 राम भक्तों को!

संदीप देव।ी गोधरा की उस हृदयविदारक घटना को कैसे भूल सकता है, जिसमें 59 हिंदुओं को जिंदा जला कर मार दिया गया था? मरने वाले इन हिंदुओं में 25 महिलाएं, [...]

बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: बिहार ...
बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: बिहार से अनजान व जमीन से कटे नेताओं ने चुनाव केा बना दिया था इवेंट मैनेजमेंट!

संदीप देव।प से भाजपा का समर्थक हूं, लेकिन जिस तरह से भाजपा व संघ समर्थक बिहारियों का अपमान कर रहे हैं, वह मुझे बर्दाश्त नहीं है। इन्हीं बिहारियों ने जब लोकसभा चुनाव-20 [...]

वैदिक हाफिज भाई भाई! ...
वैदिक हाफिज भाई भाई!

सुधीर मौर्य। काश वैदिक जी ने जिस हिम्मत के साथ भारत के प्रधानमंत्री रहते नरसिम्हा राव जी के साथ ताश खेलते थे उसी हिम्मत के साथ हाफ़िज़ से विरोध दर्ज़ करते भारत के मुंबई में उसके द्वारा करवाये गए आतंकवादी [...]

स्ट्रेस मॅनेजमेंट का फंडा...
स्ट्रेस मॅनेजमेंट का फंडा

एक मनोवैज्ञानिक स्ट्रेस मॅनेजमेंट के बारे में, अपने छात्रों से मुखातिब था। उसने पानी से भरा एक ग्लास उठाया। सभी ने समझा की अब "आधा खाली या आधा भरा है", यही पुछा और समझाया जाएगा! मगर [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: यहां होता है पहली माहवारी पर जश्न

सुशीला सिंह, बीबीसी संवाददाता।ी हो रही है. अनोखी इस मायने में कि असम की परंपरा के अनुसार यहां दुल्हन तो होती है लेकिन दूल्हा एक केले का पौधा [...]

दिल्‍ली के चुनाव में अरविंद केजरीवाल का ...
दिल्‍ली के चुनाव में अरविंद केजरीवाल का स्‍यापा!

संदीप देव।कि अन्ना आंदोलन के बाद उत्तराखंड के तत्कालीन भाजपा मुख्यमंत्री भुवनचंद खंडूरी ने नवंबर 2011 में अन्ना-अरविंद के जनलोकपाल को हूबहू अपने विधानसभा में पारित कर मजबूत लोकायुक्त कानून [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles