शिक्षा

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली। मोहन गार्डन स्थित कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किए गए 'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ' अभियान महिलाओं एवं बाल विकास मंत्रालय ,स्वास्थ्य मंत्रालय, परिवार कल्याण मंत्रालय एवं मानव संसाधन विकास की संयुक्त पहल है। इसके अंतर्गत बालिकाओं को संरक्षण और सशक्त करने के लिए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश समाज में दिया गया है।  

Read more...

स्‍वामी रामदेव का अगला लक्ष्य, देश में पुन: वैदिक शिक्षा की स्थापना करना है

संदीप देव। 5 जनवरी 2009 को भ्रष्टाचार से मुक्ति, काला धन की वापसी, स्वदेशी को सम्मान और संपूर्ण व्यवस्था परिवर्तन को लेकर स्वामी रामदेव ने ‘भारत स्वाभिमान’ आंदोलन की शुरुआत की थी। भारत स्वाभिमान आंदोलन का मूल दर्शन ‘अध्यात्मिक न्यायवाद’ पर आधारित है। अर्थात समाज के आखिरी छोर पर स्थित व्यक्ति की संपूर्ण भौतिक एवं अध्यात्मिक उन्नति ही भारत स्वाभिमान आंदोलन का अंतिम लक्ष्य है।

Read more...

नालंदा विश्‍विद्यालय में सात विषयों की होगी पढ़ाई

नालंदा अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालय की मूल भावना प्राचीन महाविहार की तर्ज पर होगी। तत्कालीन महाविहार में बौद्ध धर्म के महायान और हीनयान सम्प्रदायों के धार्मिक ग्रंथों के अलावा हेतुविद्या (न्याय), शब्द विद्या (व्याकरण), चिकित्सा विद्या और वेदों की पढ़ाई होती थी। नए विश्वविद्यालय में सात विषयों की पढ़ाई होगी।

Read more...

ममता, सृजन और संयम का गुण आपको बना सकता है नर्सरी टीचर

बच्चों की दुनिया को समझना कोई खेल नहीं है। आमतौर पर लोगों को लगता है कि बच्चों को सम्भालना, उन्हें पढ़ाना सिखाना आसान काम होता है। लेकिन उनके मूड को समझकर उनके साथ चलना इतना आसान नहीं है। विशेष तौर पर घर से नए नए स्कूल जाने वाले बच्चों को अगर स्कूल में उनके घर जैसा प्यार और अपनापन न मिले तो वह पलभर भी वहां नहीं टिकेंगे। लेकिन इस काम को बेहद अपनेपन से अंजाम देती हैं 'नर्सरी टीचर्स'। नर्सरी टीचर वो होती हैं जो स्‍कूल में बच्‍चों को मां की कमी महसूस नहीं होने देतीं । यदि आपमें मां की ममता, सृजनात्‍मकता और संयम का गुण है तो आप एक बेहतरीन नर्सरी टीचर गुण रखती हैं और इस क्षेत्र में अपना करियर बना सकती हैं।

Read more...

विदेशी भाषा, सीखने के रोमांच के साथ करियर का बेहतरीन विकल्‍प

विदेशी भाषा के बलबूते पर भी आप अपने करियर को अलग मोड़ दे सकते हैं । विदेशी भाषा सीखने का चलन आजकल जोरों पर हैं और बात अगर इसको सीखकर भविष्य की करें तो एमएनसी कम्पनी से लेकर एम्बेसी, अनुवादक, होटल, लैंग्वेज एक्सपर्ट आदि के रूप में कार्यरत हो सकते हैं।

12वीं के बाद Foreign language courses कर आप अपने करियर को बुलन्दियों पर पहुंचा सकते हैं । आजकल इस कोर्स का चलन जोरों पर है । ऐसे बहुत से छात्र हैं जो 12वीं के बाद इसी में डिग्री लेने की सोचते हैं या फिर स्नातक के साथ-साथ भी आप इसे पार्ट टाइम में सीख सकते हैं।

Read more...

भारत में कम हुआ HIV का प्रकोप, एड्स से ह...
भारत में कम हुआ HIV का प्रकोप, एड्स से होने वाली मौतों में 41 फीसदी की कमी

भाषा, नई दिल्ली। कि भारत वर्ष 2000 और 2014 के बीच एचआईवी संक्रमण के नए मामलों में 20 प्रतिशत से ज्यादा की कमी लाकर [...]

नंदा की जिंदगी का आखिरी राज! ...
नंदा की जिंदगी का आखिरी राज!

बॉलीवुड में अपनी खुबसूरती और बेहतरीन अदाकारी के चलते काफी मशहूर अभिनेत्री नंदा की किरदारों को और उनकी रील लाइफ के बारे में तो लगभग हर किसी को पता है। पर उनके निजी जीवन को लेकर आज तक लोग अनभिज्ञ [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: औरतों की माहवारीः कब तक जारी रहेगी शर्म?

रूपा झा, बीबीसी संवाददाता। ं से नही गुज़रने दूंगी जिससे मैं गुज़रती रही हूं." 32 साल की मंजू बलूनी की आवाज़ में एलान करने जैसी दृढ़ता [...]

बांग्लादेश में पत्नी को पीटना है जायज!...
बांग्लादेश में पत्नी को पीटना है जायज!

ढाका। पिछले कुछ दशकों में हुए महिला सशक्तिकरण के लिए भले ही बांग्लादेश की तारीफ की जा रही हो लेकिन देश के ज्यादातर पुरुषों का मानना है कि पत्नी को पीटना जायज है.संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या निधि (यूएनएफपीए) [...]

नकली इतिहासकारों के सहारे गाँधी-नेहरु का...
नकली इतिहासकारों के सहारे गाँधी-नेहरु का बखान करती सरकार?

ए. सूर्यप्रकाश। मोदी को इतिहास के ज्ञान की आवश्यकता जरूर होगी , किंतु उनसे भी अधिक जरूरत है कांग्रेस नेताओं को। चूंकि सरकार के शीर्ष पायदान पर बचे रहने के लिए चापलूसी एक पूर्व शर्त है, इसलिए [...]

मेरे लिए पंडित मदनमोहन मालवीय और अटलबिहा...
मेरे लिए पंडित मदनमोहन मालवीय और अटलबिहारी वाजपेयी का अर्थ!

संदीप देव। खुशी का दिन है। पंडित मदनमोहन मालवीय जी को भारतरत्‍न मिलना गर्व की बात तो है ही, मुझे इसका गर्व ज्‍यादा है कि जिस काशी हिंदू विश्‍वविद्यालय की उन्‍होंने स्‍थापना की, मैं [...]

लड़की ने पूछा कहां मिलेगा कंडोम, पुरुष श...
लड़की ने पूछा कहां मिलेगा कंडोम, पुरुष शरमा कर भाग खड़े हुए!

मुंबई। असुरक्षित यौन संबंधों के कारण एचआईवी होने का खतरा रहता है. सरकार और विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन अवेयरनेस प्रोग्राम के लिए हर साल करोड़ों रुपये खर्च करते हैं. टीवी पर अनचाहे गर्भ और एचआईवी से सुरक्ष‍ित रहने के [...]

औरंगजेब ने हैदराबाद का नाम बदलकर 'दारुल ...
औरंगजेब ने हैदराबाद का नाम बदलकर 'दारुल जिहाद' रखा था

संदीपदेव‬।वैसी सबसे अधिक ‪#‎Aurangzeb‬ के लिए चिल्‍ला रहा है। आप जानते हैं क्‍यों? वास्‍तव में औरंगजेब ने जब हैदराबाद को जीता था तो उसने इस [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles