स्‍वामी रामदेव का अगला लक्ष्य, देश में पुन: वैदिक शिक्षा की स्थापना करना है

संदीप देव। 5 जनवरी 2009 को भ्रष्टाचार से मुक्ति, काला धन की वापसी, स्वदेशी को सम्मान और संपूर्ण व्यवस्था परिवर्तन को लेकर स्वामी रामदेव ने ‘भारत स्वाभिमान’ आंदोलन की शुरुआत की थी। भारत स्वाभिमान आंदोलन का मूल दर्शन ‘अध्यात्मिक न्यायवाद’ पर आधारित है। अर्थात समाज के आखिरी छोर पर स्थित व्यक्ति की संपूर्ण भौतिक एवं अध्यात्मिक उन्नति ही भारत स्वाभिमान आंदोलन का अंतिम लक्ष्य है।

 

स्वामी रामदेव के अनुसार, ''मैंने अपनी संपूर्ण प्रतिष्ठा को दांव पर लगाकर भ्रष्ट, बेईमान व ताकतवर लोगों को चुनौती दी तो केवल इसलिए कि भारत के खो चुके पुराने वैभव को पुनः लौटा सकूं। मैंने देश के प्रति अपना कत्र्तव्य, जिम्मेवारी और राष्ट्र धर्म को मानकर ‘भारत स्वाभिमान आंदोलन’ को देश भर में फैलाया। मेरा उद्देश्य देश की नीतियों एवं कानूनों को सर्वोपयुक्त बनवाकर गरीबी, भूख, अभाव, बेरोजगारी, अशिक्षा व भ्रष्टाचार से मुक्त शक्तिशाली भारत का निर्माण करना है।''

ऐसा नहीं है कि स्वामी रामदेव ने केवल कहा ही, बल्कि ‘भारत स्वाभिमान आंदोलन’ को जन-जन तक पहुंचाने के लिए उन्होंने जिस तरह का श्रम किया, वैसा उदाहरण आजाद भारत के इतिहास में दूसरा नहीं मिलता है। ‘भारत स्वाभिमान आंदोलन‘ को खड़ा करने के लिए स्वामी रामदेव ने पूरे देश में दौरा कर जनजागरण अभियान चलाया। 5 जनवरी 2009 को ‘भारत स्वाभिमान‘ की स्थापना करने के बाद स्वामी रामदेव ने इसे आंदोलन बनाने के लिए 2 सितंबर 2010 से ‘देश मंथन‘ यात्रा का शुभारंभ गुजरात के द्वारका से किया था। उसके बाद लगातार पांच साल तक चार चरणों में संपन्न हुई इस यात्रा में स्वामी जी ने करीब 14 लाख कि.मी की यात्रा करते हुए हजारों सभाओं व शिविरों के माध्यम से लगभग 14 करोड़ लोगों के साथ प्रत्यक्ष संवाद किया।

14 लाख कि.मी की इस यात्रा के तहत स्वामी जी ने लाखों गांवों तक पहुंचकर लोगों को योग के साथ-साथ राष्ट्र धर्म की भी दीक्षा दी। स्वामी जी के मार्गदर्शन में देश के 500 से अधिक जिलों एवं 5000 से अधिक तहसीलों में भारत स्वाभिमान संगठन को खड़ा किया जा चुका है।

स्वामी रामदेव का अगला और बड़ा लक्ष्य देश की शिक्षा व्यवस्था में आ चुकी गिरावट को समाप्त कर इसके गौरवशाली अतीत को पुनः जीवित करना है। इसके लिए स्वामी रामदेव ने वैदिक व आधुनिक शिक्षा पद्धति पर आधारित 'आचार्यकुलम' को देश के हर जिला में स्थापित करने का लक्ष्य रखा है! 26 अप्रैल 2013 को पतंजलि में ‘आचार्यकुलम‘ का उद्घाटन वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था।

स्वामी रामदेव कहते हैं, ''नरेंद्र मोदी जी ने 26 अप्रैल 2013 को पतंजलि योगपीठ में जिस ‘आचार्यकुलम’ का शुभारंभ अपने हाथों से किया था, वह भारतीय संस्कृति, संस्कारों व अध्यात्मिक मूल्यों पर आधारित वैदिक शिक्षा व आधुनिक शिक्षा का ‘दिव्य संगम’ है। भोगवादी अपसंस्कृति एवं मैकाले की विदेशी शिक्षा पद्धति के स्थान पर जब तक हम उच्च नैतिक मूल्यों व अध्यात्मिकता पर आधारित आर्ष शिक्षा व संस्कार अपने बच्चों को नहीं देंगे तब तक हम देशभक्त, सदाचारी, महामेधावी एवं आदर्श नागरिकों का निर्माण नहीं कर सकते हैं। मेरा अगला लक्ष्य प्रथम चरण में देश के 500 जिला में ‘आचार्यकुलम’ का निर्माण करना है ताकि देश का बच्चा-बच्चा वैदिक व आधुनिक शिक्षा को समान रूप से ग्रहण करे।"

"भारत स्वाभिमान आंदोलन का अगला लक्ष्य ‘आचार्यकुलम’ के जरिए देश के बच्चों को दुनिया की श्रेष्ठतम शिक्षा, संस्कृति, सभ्यता व संस्कार प्रदान किए जाएंगे। इससे भारत के गौरवपूर्ण इतिहास को पुनः स्थापित करने में मदद मिलेगी।'' स्‍वामी रामदेव कहते हैं।

आचार्यकुलम के संबंध में और जानकारी हासिल करने के लिए संपर्क कर सकते हैं:

Acharyakulam
Near Patanjali Yogpeeth Phase – II,
Delhi-Haridwar National Highway, Near Bahadrabad,
Haridwar – 249405, Uttarakhand, Bharat
Tel.: +91 – 1334-273021, 273022
E-mail: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

वेबसाइट: http://acharyakulam.org/

 

बाबा रामदेव से संबंधित अन्‍य खबरें:

स्‍वामी रामदेव का अगला लक्ष्य, देश में पुन: वैदिक शिक्षा की स्थापना करना है

स्‍वामी रामदेव के खिलाफ कांग्रेस की हर साजिश का अब हो रहा है पर्दाफाश!

बाबा रामदेव के विरोधियों को नरेंद्र मोदी का तमाचा!

बाबा रामदेव ने प्रधानमंत्री मोदी के स्‍वच्‍छता अभियान को दी गति!

आप उन्‍हें क्‍या कहेंगे, प्रबंधक, इंजीनियर, लेखक, अनुसंधानकर्ता या फिर आयुर्वेदाचार्य...!

'पतंजलि फूड एवं हर्बल पार्क: 'स्‍वदेशी' को विचार से धरातल पर उतार दिया बाबा रामदेव ने!

हजारों 'अभिमन्‍यु' के जन्‍म को सफल बनाएंगे स्‍वामी रामदेव!

बेहद मिलनसार और देश पर सबकुछ न्‍यौछावर करने वाले संत हैं बाबा रामदेव

वैदिक के बाद अब आसान निशाना हैं बाबा रामदेव!


Web Title: swami ramdev mission-acharyakulam-1

Keywords: बाबा रामदेव| बाबा रामदेव के योग| बाबा रामदेव जी| बाबा रामदेव का बयान| स्‍वामी रामदेव| स्‍वामी रामदेव जी| योग गुरू स्‍वामी रामदेव| योग गुरू| योग ऋषि रामदेव| पतंजलि योगपीठ| योग प्रणायाम|आचार्यकुलम| baba ramdev| baba ramdev yoga| baba ramdev news| baba ramdev medicines| baba ramdev news in hindi| Patanjali Yogpeeth - Divya Yog Madir (Trust)| Yoga Pranayama| acharyakulam| acharya kulam patanjali yogpeeth haridwar