महिलाएं सीखें सिलाई, बने आत्‍मनिर्भर

आधीआबादी ब्‍यूरो। महिलाओं को आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए वैसे तो रोजगार के भरपूर अवसर हैं,  लेकिन सिलाई एक ऐसी कला है जो महिलाएं अपने घर पर रहकर भी कर सकती हैं। इससे अच्‍छी आमदनी के साथ-साथ घर-परिवार की देखभाल और उनका साथ भी लगातार बना रहता है। यही कारण है कि महिलाओं में सिलाई सीखने की लगन सबसे अधिक देखी गई है। भारत में रोजगार के क्षेत्र में महिलाएं सर्वाधिक सिलाई-बु‍नाई-कढ़ाई के क्षेत्र से ही जुड़ी हुई हैं। सिलाई सिखने से पहले हमे यह जानना बेहद आवयशक हैं कि सिलाई  कितने तरह का होता है।


1 कच्ची सिलाई
2 तुरपाई

कच्ची सिलाई तीन प्रकार की होती हैं।
* कच्चा टांका  कपड़े के दो भागों को जाड़ने के लिए या दो किनारों की सुन्दरता बठ़ाने के लिए किया जाता है। ये भी दो प्रकार का होता है बड़ा कच्चा और छोटा कच्चा ।
* टेढ़ा कच्चा यह अपने नाम के अनुरुप तिरछे आकार में किया जाता है। अधिकतर जेबों के मुंह पर ,बैल्ट की लाइनिंग को दबाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।
* थै्रड मार्का  जिन कपड़ो पर फिरकी मार्का का प्रयोग नही किया जा सकता उसकी एक तह का निशान दूसरी तह पर लगाने के लिए इासका प्रयोग किया जाता है।

तुरपाई भी कई प्रकार की होती है
* बखिया का टाकां:  बखिया दो प्रकार की होती है हाथ एवं मशीन की बखिया। पहले जब मशीन का अविष्कार नही हुआ था तो हाथ की बखिया का प्रचलन था । लेकिन जब से  मशीन का अविष्कार हुआ है तब से हाथ की बखिया का इसतेमाल उन जगहो पर किया जाता है जहां मशीन का इसतेमाल नही हो सकता या फिर छोटी मोटी मरम्मत करने के लिए किया जाता है।
विधि: हाथ की बखिया लगाते समय टांक बायी ओर से लगाते हुए दायी ओर को जाती है । बखिया करते समय एक बार में सुई पर एक ही टांका लिया जाता है। जहां पहले सुई निकाली गई थी वही के अंतिम छोड़ से दूसरा टांका उठाया जाता है ।

* तुरपाई का टांका  जिन वस्त्रों के किनारो पर मशीन का बखिया शोभायमान नही होता है वहां पर तुरपाई का प्रयोग किया जाता है जैसे कि फ्राक के धेरे ,गला , बाजू के किनारे आदि। यह कई प्रकार के होते है । स्लिम हेम ,नैरो हेम, अन्धी तुरपाई।

* चाम्पे का टांका  इसका प्रयोग साड़ी के फॉल लगाने में किया जाता है ।
विधि: यह टांका भी बखिया के टांके के समान लेते है। किन्तू उल्टी ओर बड़ा टांका तथा सीधी ओर छोटा सा टांका लिया जाता है।

* सारजु का टांका  किनारों की तारों को रोकने के लिए इस टांके का प्रयोग किया जाता है।
विधि: जिस किनारे पर यह करना हो उस स्थान पर तिरछे टांके लेकर यह बनाया जाता हैं ।
* गोल तुरपाई  गोलाई मे कटा हुआ भाग सदा ही नीचे से ज्यादा तथा उपर से कम से कम होता चला जाता है अतः उसको मोड़ने में परेशानी होती है

Web Title: Cutting & Tailoring - Courses online1

Keywords: सिलाई| बुनाई| कढ़ाई| महिला सशक्तिकरण| महिलाओं के लिए रोजगार| सीखें सिलाई| सिलाई सीखें| Sewing Lessons|  Cutting Basics| Sewing Classes for Beginners to Advanced Sewists| stitching courses| Cutting & Tailoring - Courses



साहित्‍य अकादमी पुरस्‍कार लौटाए जाने के ...
साहित्‍य अकादमी पुरस्‍कार लौटाए जाने के पीछे की राष्‍ट्रीय-अंतरराष्‍ट्रीय साजिश!

संदीप देव।ुरस्‍कार लौटाने का यह जो खेल चल रहा है, आप लोग इसे हल्‍के में न लें। PMO India मोदी सरकार पर किए गए इस वार में पर्दे [...]

अब युवतियों को नहीं चाहिए कुंवारा पति!...
अब युवतियों को नहीं चाहिए कुंवारा पति!

बदलाव की बयार से भारतीय समाज अब अछूता नहीं रह गया है. खासकर सेक्स को लेकर देश के युवक-युवतियों के खयाल एकदम बदले-बदले नजर आ रहे हैं. हाल ही में एक सर्वे के दौरान यह बात [...]

प्रधानमंत्री मोदी ने इसाईयत व इस्‍लाम को...

संदीप देव। )दिल्‍ली के कैथोलिक चर्च में अपने संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने श्रेष्‍ठता दंभ से भरे धर्मावलंबियों खासकर अल्‍पसंख्‍यक इसाई व इस्‍लाम को स्‍पष्‍ट रूप से [...]

रिपोर्टर खुश, संपादक नाराज-यही है मोदी स...
रिपोर्टर खुश, संपादक नाराज-यही है मोदी स्‍टाइल!

संदीप देव।रेंद्र मोदी ने रिपोर्टर और संपादक के बीच के अंतर को समाप्‍त कर दिया। इससे रिपोर्टर जहां खुश हैं, वहीं संपादक बेहद नाराज! सही मायने में मोदी मास्‍टर ऑफ राजनीति हैं! अब आम [...]

बाल विवाह बलात्‍कार से भी बदतर है...
बाल विवाह बलात्‍कार से भी बदतर है

नयी दिल्ली: दिल्‍ली के अदालत ने बाल विवाह को बलात्कार से भी बदतर बुराई बताता है. अदालत ने कहा इसे समाज से पूरी तरह समाप्त होना चाहिए. कार्ट ने कम उम्र में बच्ची का विवाह करने वालों [...]

वह महात्‍मा गांधी थे, जिन्‍होंने कस्‍तूर...
वह महात्‍मा गांधी थे, जिन्‍होंने कस्‍तूरबा का स्‍मारक बनवा कर परिवार को महिमा मंडित करने की शुरुआत की थी! ‪‎

संदीपदेव‬।ी थे, जिन्‍होंने सबसे पहले परिवारवाद की मूर्ति पूजा का चलन इस देश में शुरु किया। और यह भी बता दूं कि देश के सबसे बढिया स्‍मारक में उनकी पत्‍नी कस्‍तूरबा गांधी का स्‍मारक शामिल [...]

आप प्रतिक्रिया मत दीजिए, बल्कि मसीह-मोहम...

संदीप देव।ने इतिहास अभियान को लेकर मैं जो कुछ लिख रहा हूं, उसमें कुछ वामपंथी-सेक्‍यूलर-इस्‍लामी जमात घुसकर उसे संदर्भ से काटकर लोगों को भटकाने की लगातार कोशिश कर रहे हैं। ओशो ने [...]

गांधी जी और शास्‍त्री जी में कुछ समानता,...
गांधी जी और शास्‍त्री जी में कुछ समानता, लेकिन ढेर सारी असमानता!

‪संदीपदेव‬।ालबहादुर शास्‍त्री- दोनों की जयंती है। दोनों में कुछ बातें समान थीं, जैसे- दोनों बेहद सादगी से जीते थे और दोनों स्‍वयं के प्रति ईमानदार थे। दोनों में एक और बात कॉमन [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles