विश्व में नंबर एक रैंकिंग हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल

साइना नेहवाल दुनिया की नंबर वन रैंकिंग हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी बन गई। उन्‍होंने यह खितान स्पेन की कैरोलिना मारिन को इंडिया ओपन सुपर सीरिज के सेमीफाइनल में हरा कर हासिल किया। नेहवाल ने इंडिया ओपन सुपर सीरीज बैडमिंटन टूर्नामेंट में चैंपियन बनने का अपना ख्वाब भी रविवार को खिताबी मुकाबले में थाईलैंड की रत्चानोक इंतानोन को लगातार गेमों में 21-16, 21-14 से हराकर पूरा कर लिया।

 

पंजाब केसरी अखबार के मुताबिक, साइना ने अपने करियार की शुरुआत जूडो से की थी और उन्होंने इसकी पांच-छह महीने की ट्रेनिंग भी ली थी। इसके बाद एक कोच के कहने पर साइना के पिता डॉ. हरवीर सिंह ने उनके हाथों में बैडमिंटन रैकेट थमा दिया था। तब से लेकर आज तक साइना ने इस खेल में खुद को बेहतर से और बेहतर साबित करके दिखाया।

साइना के पिता के मुताबिक जब वो हैदराबाद में शिफ्ट हुए तो साइना को यहां की भाषा तेलुगू नहीं आ रही थी, इस पर उन्होंने सोचा साइना भाषा न सीख सके लेकिन कम से कम यहां के लोगों के हाव-भाव को सीख जाए। बस इसी मकसद से उन्होंने साइना को जूडो खेल में डाल दिया।

बैडमिंटन के खेल में साइना ने थोड़े समय में ही अंडर-10 आयुवर्ग की राज्यस्तरीय चैंपिययनशिप जीत ली। इसके बाद 11 साल की उम्र में उसे एक फेलोशिप मिल गई। 2006 में कॉमनवेल्थ खेल में भी उन्हें जाने का मौका मिल गया और उन्होंने इस खेल में कांस्य पदक हासिल किया।

साइना के पिता ने कहा कि उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा था कि वह वर्ल्ड की नंबर एक खिलाड़ी बनेगी। सिंह ने कहा कि वह तो साइना को मैडिकल स्ट्रीम दिलाना चाहते थे क्योंकि साइना की बड़ी बहन को भी उन्होंने फार्मासिस्ट का कोर्स कराया था। मगर जब उन्होंने देखा कि वह बैडमिंटन में बढ़िया प्रदर्शन कर रही है तो उन्होंने अपना इरादा बदल लिया।

ज्ञात हो कि वर्ष 2012 में लंदन ओलंपिक में महिला एकल स्पर्धा में साइना ने कांस्य पदक विजेता रही थी। बैडमिंटन मे ऐसा करने वाली साइना भारत की पहली खिलाङी हैं। साइना बीजींग ओलंपिक 2008 में भी क्वार्टर फाइनल तक पहुँची थी। वह विश्व कनिष्ठ बैडमिंटन चैम्पियनशिप जीतने वाली पहली भारतीय हैं।

ओलंपिक कांस्‍य के अलावा अलावा उन्‍होंने अपने कैरियर में 14 अंतरराष्ट्रीय खिताब भी जीते हैं। हाल ही में वह आल इंग्लैंड चैम्पियनशिप फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला बनी थी। प्रकाश पादुकोण नंबर वन पुरूष खिलाड़ी रह चुके हैं, लेकिन शीर्ष रैंकिंग हासिल करने वाली साइना पहली भारतीय महिला खिलाड़ी है। था। साइना भारत सरकार द्वारा पद्म श्री और सर्वोच्च खेल पुरस्कार राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित हो चुकीं हैं।

साइना नेहवाल का जन्‍म 17 मार्च 1990 को हरियाणा के हिसार में एक जाट परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम डॉ॰ हरवीर सिंह नेहवाल और माता का नाम उषा नेहवाल है। सायना ने शुरुआती प्रशि‍क्षण हैदराबाद के लाल बहादुर स्‍टेडि‍यम में कोच नानी प्रसाद से प्राप्त कि‍या। माता-पि‍ता दोनो के बैडमिंटन खि‍लाड़ी होने के कारण सायना का बैडमिंटन की ओर रुझान देखकर पि‍ता हरवीर सिंह ने उसे पूरा सहयोग और प्रोत्‍साहन दि‍या।

Web title: saina nehwal becomes world no1 Badminton player

Keywords: player Saina Nehwal | Badminton player  saina nehwal| साइना नेहवाल| भारत की बैडमिंटन खिलाड़ी| दुनिया की नंबर वन खिलाड़ी| इंडिया ओपन सुपर सीरीज|साइना नेहवाल की जीवनी| साइना नेहवाल जीवनी