बॉलिवुड को उद्योग का दर्जा एनडीए ने दिया था, लेकिन फिल्‍मवालों के निशाने पर हमेशा भाजपा ही रहती है!

आधीआबादी ब्‍यूरो। फिल्‍मों को लेकर फिल्‍म इंडस्‍ट्रीज वाले अधिकांश लोगों का रवैया भाजपा सरकार की आलोचना करना ही रहा है। लेकिन फिल्‍म इंडस्‍ट्रीज को पहली बार उद्योग का दर्जा एनडीए की वाजपेयी सरकार ने ही दिया था, जिसके बाद बैंकों व शेयर बाजार से कर्ज लेकर करोड़ों की लागत से फिल्‍म बनाने और करोड़ों कमाने का रास्‍ता खुला। कांग्रेस के राज में तो फिल्‍म में भी दाउद जैसे लोगों का कालाधन ही लगता था। सच पूछिए तो कांग्रस की माया ही पूरी तरह से काला धन रही है और हर उद्योग को उसने बैक डोर से ही चलाने की कोशिश की है।

 

इंडिया टीवी बेव लिखता है, "करोड़ों रुपए कमाने वाली फिल्में न केवल देश में करोड़ों लोगों के मनोरंजन का एक साधन हैं बल्कि देश की तरक्की में भी इन फिल्मों का अहम किरदार है। इतिहास के पन्ने पलटें तो पता चलेगा कि देश में बॉलीवुड को इंडस्ट्री का दर्जा वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के शासनकाल में दिया गया था। यह दर्जा किसी भी उद्योग के लिए बाजार से कर्ज उठाते वक्त अहम भूमिका निभाता है। सीधे शब्दों में समझें तो इंडस्ट्री का दर्जा मिलने के बाद कोई भी प्रोड्यूसर कानूनी तौर पर अपने वेंचर के लिए वित्तीय संस्थाओं या शेयर बाजार से पैसा जुटा सकता है। शुरुआती वर्षों में इस नवजात इंडस्ट्री को टैक्स हॉलि-डे यानी तमाम तरह के टैक्सों से मुक्ति दी गई। लेकिन बाद में 50 से 60 फीसदी तक टैक्स देकर ये इंडस्ट्री सीधे तौर पर देश की जीडीपी में सहयोग करने लगी।"

Web title: best blog on bollywood-1

भेदभाव से बचने के लिए अपना धर्म छोड़ने व...
भेदभाव से बचने के लिए अपना धर्म छोड़ने वाले हिंदू आज भी मुस्लिम और ईसाई समाज में हैं दोयम दर्ज के नागरिक!

संदीप देव।रक्षण की वकालत करने वाले हिंदू समाज के दलितों को भरमाने के लिए 'दलित-मुस्लिम' भाई-भाई का नारा लगाते हैं। Narendra Mo [...]

लीजिए पिज़्ज़ा परांठा- pizza paratha का ...
लीजिए पिज़्ज़ा परांठा- pizza paratha का मजा!

पिज़्ज़ा के टेस्ट वाला, पनीर और सब्ज़ीयों से भरा ये परांठा सबको बहुत पसंद आएगा. घर पर तैयार ये परांठा हेल्थ और टेस्ट दोनों का अच्छा पैकेज है और बच्चों को बेहद पसंद आता है.

दिल्‍ली में भाजपा की हार भीतराघात का नती...
दिल्‍ली में भाजपा की हार भीतराघात का नतीजा

संदीप देव।लिखा है कि संघ के तर्ज पर ही जनसंघ (आज की भाजपा) से लोगों को जोड़ने के लिए तीन तरह से कार्य आरंभ हुआ। पहली श्रेणी में कार्यकर्ता बनने वाले लोग, दूसरी [...]

गुरु तेगबहादुर की हत्‍या से भी ‪#‎Aurang...
गुरु तेगबहादुर की हत्‍या से भी ‪#‎Aurangzeb‬ को बरी करते हैं वामपंथी इतिहास लेखक!

संदीपदेव‬।ित और झूठे होते हैं, इसे देखना हो तो एनसीईआरटी की कक्षा- 11 के मध्‍यकालीन भारत का इतिहास पढ़ लीजिए। छत्रपति शिवाजी से लेकर गुरु तेगबहादुर तक के लिए एक वचन 'तुम' [...]

आप प्रतिक्रिया मत दीजिए, बल्कि मसीह-मोहम...

संदीप देव।ने इतिहास अभियान को लेकर मैं जो कुछ लिख रहा हूं, उसमें कुछ वामपंथी-सेक्‍यूलर-इस्‍लामी जमात घुसकर उसे संदर्भ से काटकर लोगों को भटकाने की लगातार कोशिश कर रहे हैं। ओशो ने [...]

बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: विचारध...
बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: विचारधारा के 'अर्जुनों' को भूल कर चलने का खामियाजा अभी कई और बिहार के रूप में सामने आ सकता है!

संदीप देव‬।खासकर, सोशल मीडिया स्ट्रेटजिस्ट रहे प्रशांत किशोर ने Narendra Modi को छोड़कर नीतीश का दामन थाम लिया और नीतीश की जीत [...]

जोगेंद्रनाथ मंडल के इतिहास से सबक लो सेक...
जोगेंद्रनाथ मंडल के इतिहास से सबक लो सेक्‍यूलरवादियों...!

संदीप देव।ेक्‍यूलरों के समान ही भारत विभाजन के समय एक सेक्‍यूलर नेता था, जोगेंद्रनाथ मंडल। नीतीश कुमार, लालू यादव और मुलायम सिंह यादव की तरह वह भी अनुसूचित जाति का नेता था। नीतीश-लालू- [...]

हिंदुत्‍व व राष्‍ट्रवाद की पैरोकार पार्ट...
हिंदुत्‍व व राष्‍ट्रवाद की पैरोकार पार्टी 'जनसंघ' के सहयोग से हुआ था अल्‍पसंख्‍यक आयोग का गठन!

संदीप देव।्य होगा कि इस देश में अल्‍पसंख्‍यकों, खासकर मुस्लिमों के तुष्टिकरण की बुनियाद पर खड़ी कांग्रेस ने अल्‍पसंख्‍यक आयोग का  गठन नहीं किया था। बल्कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी व कांग्रेस पार्टी की हार के [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles