निर्देशन के क्षेत्र में फिर से वापसी करेंगे आदित्य चोपड़ा

बॉलीवुड के जानेमाने फिल्मकार आदित्य चोपड़ा सात साल बाद फिल्म निर्देशन के क्षेत्र में वापसी करने जा रहे है. आदित्य ने वर्ष 2008 में प्रदर्शित फिल्म 'रब ने बना दी जोड़ी' का निर्देशन किया था .इसके बाद आदित्य सात साल बाद फिल्म 'बेफिक्रे' के निर्देशन से वापसी कर रहे हैं. आदित्य ने पिता दिवंगत फिल्मकार यश चोपड़ा की 83वीं जयंती पर फिल्म का नाम बताया. आदित्य ने इसे अपने करियर की सबसे रिस्की फिल्म करार दिया है.

 

आदित्य ने ई-लेटर के जरिए इस फिल्म का ऐलान किया. आदित्य ने लिखा ,‘अपने पिता के आशीर्वाद से मैं उनकी 83वीं जयंती पर सात साल बाद अपने अगले प्रोजेक्ट का ऐलान कर रहा हूं.

उन्होंने यह भी बताया कि उनके पिता हमेशा यश राज फिल्म्स की बड़ी फिल्मों का निर्देशन चाहते थे और यह नई फिल्म वैसी नहीं है.वह यह फिल्म इसलिए बनाना चाहते हैं, क्योंकि वह खुद को बोझ मुक्त करना चाहते हैं.

Web Title: aditya-chopra-again-in-direction-with-his-befikre-movie

Keywords: entertainment news in hindi| bollywod news in hindi| yash Raj Films upcoming-movies

धर्मांतरण रोकने के लिए जिन्‍होंने शस्‍त्...
धर्मांतरण रोकने के लिए जिन्‍होंने शस्‍त्र उठाया, सूअर पाला, हिंदुओं ने उन्‍हें ही अछूत बना डाला!

संदीप देव।ठता हूं तो काफी तकलीफों से घिर जाता हूं। आखिर किस तरह से अंग्रेज व वामपंथी-कांग्रेसी इतिहासकारों ने हमारे गर्व को कुचला है और हमें अपने ही भाईयों से जुदा कर दिया है, [...]

लड़की ने पूछा कहां मिलेगा कंडोम, पुरुष श...
लड़की ने पूछा कहां मिलेगा कंडोम, पुरुष शरमा कर भाग खड़े हुए!

मुंबई। असुरक्षित यौन संबंधों के कारण एचआईवी होने का खतरा रहता है. सरकार और विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन अवेयरनेस प्रोग्राम के लिए हर साल करोड़ों रुपये खर्च करते हैं. टीवी पर अनचाहे गर्भ और एचआईवी से सुरक्ष‍ित रहने के [...]

कविता: ओह मां !
कविता: ओह मां !

संजू मिश्रा। ओह मां !सा भी नही है। माँ के जाते वह बचपन भी नही है।
गुस्से में भी प्यार,

मदर टेरेसा का धर्मांतरण से कितना है नाता...

By एबीपी न्यूज, नई दिल्ली।मदर टेरेसा की पहचान गरीबों के लिए काम करने वाले मसीहा की जैसी है लेकिन इस बार चर्चा है उनकी सेवा के पीछे [...]

महिलाओं में दिल की बीमारियां रह जाती हैं...
महिलाओं में दिल की बीमारियां रह जाती हैं अनदेखी : WHO

कोलकाता। से एक दिन पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने सोमवार को कहा कि भारतीय महिलाओं में दिल की बीमारियां अनदेखी रह जाती हैं और उनका इलाज नहीं होता।

समाजवादियों की अवसरवादिता को राममनोहर लो...
समाजवादियों की अवसरवादिता को राममनोहर लोहिया ने पहले ही पहचान लिया था! ‪ ‪‎

संदीपदेव‬।ेश की जनता को गुमराह करने वाले मुलायम-लालू-नीतीश- कम्‍यूनिस्‍ट भले ही राममनोहर लोहिया का नाम ले-ले कर राजनीति करते रहे हों, लेकिन समाजवादियों की अवसरवादिता और इनके व्‍यक्तित्‍व में बसी [...]

धर्म के नाम पर इतना पाखंड ठीक नहीं है वै...
धर्म के नाम पर इतना पाखंड ठीक नहीं है वैदिक जी ! ‪

संदीप देव।रे होते हैं और सचमुच उसके अंदर कितना पाखंड भरा होता है, यह आप उसके पूरे आचरण और व्‍यवहार के आधार पर जान सकते हैं। वरिष्‍ठ पत्रकार वेदप्रताप वैदिक, फ्रांस के अखबार शार्ली [...]

शारीरिक संबंध नहीं बनाने पर बहन ने उजाड़...
शारीरिक संबंध नहीं बनाने पर बहन ने उजाड़ दिया भाई का घर!

समलैंगिक रिश्तों की जिद का स्याह पहलू सामने आया है, जिसने एक बसी बसाई गृहस्थी में तूफान खड़ा कर दिया। नजदीकी रिश्ते तक बेतुकी चाहत की आग में झुलस गए। समलैंगिक रिश्ते न बनाने पर तलाकशुदा महिला ने अपनी [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles