निर्देशन के क्षेत्र में फिर से वापसी करेंगे आदित्य चोपड़ा

बॉलीवुड के जानेमाने फिल्मकार आदित्य चोपड़ा सात साल बाद फिल्म निर्देशन के क्षेत्र में वापसी करने जा रहे है. आदित्य ने वर्ष 2008 में प्रदर्शित फिल्म 'रब ने बना दी जोड़ी' का निर्देशन किया था .इसके बाद आदित्य सात साल बाद फिल्म 'बेफिक्रे' के निर्देशन से वापसी कर रहे हैं. आदित्य ने पिता दिवंगत फिल्मकार यश चोपड़ा की 83वीं जयंती पर फिल्म का नाम बताया. आदित्य ने इसे अपने करियर की सबसे रिस्की फिल्म करार दिया है.

 

आदित्य ने ई-लेटर के जरिए इस फिल्म का ऐलान किया. आदित्य ने लिखा ,‘अपने पिता के आशीर्वाद से मैं उनकी 83वीं जयंती पर सात साल बाद अपने अगले प्रोजेक्ट का ऐलान कर रहा हूं.

उन्होंने यह भी बताया कि उनके पिता हमेशा यश राज फिल्म्स की बड़ी फिल्मों का निर्देशन चाहते थे और यह नई फिल्म वैसी नहीं है.वह यह फिल्म इसलिए बनाना चाहते हैं, क्योंकि वह खुद को बोझ मुक्त करना चाहते हैं.

Web Title: aditya-chopra-again-in-direction-with-his-befikre-movie

Keywords: entertainment news in hindi| bollywod news in hindi| yash Raj Films upcoming-movies

अपने शरीर को जानो, क्‍योंकि शरीर प्राचीन...
अपने शरीर को जानो, क्‍योंकि शरीर प्राचीन है: ओशो

ओशो। भलीभांति काम करना चाहिए, अच्छी तरह से। यह एक कला है, यह तप नहीं है। तुम्हें उसके साथ लड़ना नहीं है, तुम्हें उसे केवल समझना है। शरीर इतना बुद्धिमान है ... [...]

क्‍वांटिको में प्रियंका चोपड़ा का बोल्‍ड...
क्‍वांटिको में प्रियंका चोपड़ा का बोल्‍ड हॉलिवुड अवतार

अमेरिकी टीवी शो ‘क्वांटिको’ के एक नए प्रोमो में अदाकारा प्रियंका चोपड़ा एक बार फिर बोल्ड अंदाज में दिखी है। इस बार उनका लुक इस टीवी सीरियल में बिल्कुल अलग दिख रहा है और फिल्म में अभिनेता की भूमिका निभा [...]

योग गुरु से बिजनस टाइकून बने बाबा रामदेव...
योग गुरु से बिजनस टाइकून बने बाबा रामदेव, 2000 करोड़ का FMCG कारोबार

नई दिल्ली। भले ही योग और एफएमसीजी का संयोजन एक-दूसरे से एकदम उलट हो (योग आंतरिक शांति के लिए और एफएमसीजी बाहरी सौंदर्य के लिए) लेकिन बाबा रामदेव ने इन दोनों ही क्षेत्रों में एकदम सटीक ' [...]

भारत-चीन युद्ध: नेहरू ने देश को छला, भार...
भारत-चीन युद्ध: नेहरू ने देश को छला, भारतीय महिलाओं के आभूषण हड़पे और कम्‍युनिस्‍टों ने कहा, चीन ने नहीं, बल्कि भारत ने चीन की जमीन छीनी है!

संदीप देव‬रेसियों के खून में जो गद्दारी दिखती है, देश में उसका सबसे बेहतरीन उदाहरण सन 1962 में हुआ भारत-चीन युद्ध था, जिसमें नेहरू ने देश को छला और भारत [...]

मदर टेरेसा के साथ काम कर चुके हैं केजरीव...

संदीप देव।ेरेसा विवाद में दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल जिस तरह से मदर टेरेसा के पक्ष में कूद पड़े हैं। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मदर टेरेसा पवित्र आत्‍मा थीं, उन्‍हें राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक प्रमुख [...]

महिला दिवस की औपचारिकताएं छोडि़ए, पहले उ...
महिला दिवस की औपचारिकताएं छोडि़ए, पहले उन्‍हें न्‍याय दिलाने के लिए कदम उठाइए!

संदीप देव। करने वाला इंसान हूं और हर हाल में कानून का पालन करता हूं। लेकिन जिस तरह से नागालैंड के दीमापुर में घटनाएं हुई वह कानून नहीं, समाज के अंदर का सवाल है। फास्‍ट [...]

यदि नानाजी नहीं होते तो जयप्रकाश नारायण ...
यदि नानाजी नहीं होते तो जयप्रकाश नारायण नहीं बचते: नरेंद्र मोदी

आधीआबादी ब्‍यूरो, नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आपातकाल के दौरान यदि नानाजी देशमुख नहीं होते तो जयप्रकाश नारायण जिंदा नहीं बचते। पटना में लाठीचार्ज के दौरान लाठी जयप्रकाश जी के सिर पर लगी थी, लेकिन [...]

आयुर्वेद के हिसाब से आपके स्‍वास्‍थ्‍य क...
आयुर्वेद के हिसाब से आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए क्या करे क्या न करें  का विधान!

* दूध और कटहल का कभी भी एक साथ सेवन नहीं करना चाहिये ।
ड़कर) दूध और सभी [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles