आरुषि मर्डर केस पर बनी फिल्‍म 'तलवार' कसी हुई पटकथा के साथ एक बेहतरीन फिल्‍म

चंद्रमोहन शर्मा, नवभारत टाइम्‍स। करीब 7 साल पहले देश की राजधानी से सटे नोएडा में एक ऐसा दोहरा मर्डर केस हुआ जिसने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया। ऐसा शायद पहली बार हुआ जब देश की नंबर वन जांच एजेंसी सीबीआई ने इस केस की एक नहीं, दो बार अलग-अलग एंगल से जांच की और उसके बाद भी किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई। ताज्जुब होता है कि एक ऐसी दोहरी हत्या की गुत्थी जो सिर्फ चार लोगों के आसपास टिकी, इनमें से भी दो इस दुनिया में नहीं हैं और बाकी बचे दो पर पुलिस और खूफिया एजेंसियां बरसों बाद भी एकमत नहीं हो पाईं। शायद यही वजह रही बॉलिवुड में हर बार कुछ अलग और लीक से हटकर फिल्म बनाने में अपनी पहचान बना चुके विशाल भारद्वाज ने ऐसे संवेदनशील मसले पर फिल्म बनाने का फैसला किया।

 

इस फिल्म को शुरू करने से पहले विशाल भारद्वाज के साथ इस फिल्म का निर्देशन कर रहीं मेघना गुलजार ने इस दोहरे हत्याकांड की जांच से जुड़े हर पहलू पर गौर से काम करने पर अपनी रिसर्च टीम को लगा दिया था। ऐसे में इस टीम ने जांच रिपोर्टों का गहन अध्ययन किया तो नोएडा में जाकर इस हत्याकांड के बिखरे अलग-अलग तारों को भी अपने ढंग से जोड़ने का बाखूबी काम हुआ। स्टार्ट टु लास्ट एक पल भी फिल्म की कहानी अपने ट्रैक से जरा भी नहीं भटकती। मेघना की तारीफ करनी होगी कि उन्होंने फिल्म का ऐसा क्लाइमैक्स पेश करने की हिम्मत जुटाई जो इस दोहरे हत्याकांड पर अलग-अलग जांच सीमित द्वारा पेश की गई हो। ताज्जुब होता है कि लोकल पुलिस की जांच के बाद सीबीआई की दो टीमों ने अपनी जो फाइनल रिपोर्ट पेश की उसमें कहीं समानता नजर नहीं आती।

रिलीज से पहले ही इस फिल्म का क्रेज हर तरफ नजर आया, तभी तो इस फिल्म को 40वें टोरंटो अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल के लिए भी चुना गया। नोएडा के आरुषि मर्डर पर बनी इस फिल्म को बनाने में डायरेक्टर ने कुछ फिल्मी आजादी भी ली है। मसलन, फिल्म के किरदारों के नामों और अपार्टमेंट के नाम में बदलाव किया गया।

कहानी : नोएडा के समीर अपार्टमेंट में अपने डॉक्टर माता-पिता रमेश टंडन (रमेश काबी) और नूतन टंडन (कोंकणा सेन शर्मा) के साथ रह रहीं 14 साल की श्रुति टंडन (आयशा परवीन) की हत्या के बाद लोकल पुलिस इंस्पेक्टर धनीराम (गजराज राव) अपनी टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचता है। धनीराम इस बेहद गंभीर केस की जांच किस एंगल से कर रहा है इसका अंदाजा आप यहीं से लगा सकते हैं कि सिपाही मौके और लाश की तस्वीरे लेने के लिए आए फोटोग्राफर से अलग-अलग पोज में फोटो खिंचवाने में बिजी है। पूरी जांच में धनीराम को पता नहीं चलता कि यहीं पर एक और मर्डर टंडन परिवार के घरेलू नौकर का भी हुआ है। लोकल पुलिस आनन-फानन में केस को खत्म करने में लगी है, क्योंकि मीडिया में पुलिस की खूब किरकिरी हो रही है।

श्रुति के पापा डॉक्टर टंडन को दोषी मानकर पुलिस अरेस्ट करके जेल भेज देती है। इसके बाद सीबीआई की टीम अश्विन कुमार (इरफान खान) के नेतृत्व में केस की गहराई से परत दर परत जांच करने के बाद डॉक्टर टंडन को बेगुनाह पाती है, लेकिन एजेंसी चीफ इस रिर्पोट से सहमत नहीं है। एकबार फिर जांच शुरू होती है। इस कहानी के साथ-साथ फिल्म में अश्विन कुमार और उनकी वाइफ रीमा कुमार (तब्बू) की कहानी भी चलती है, जो शादी के कई साल गुजर जाने के बाद अब अलग रहने का फैसला कर चुके हैं।

ऐक्टिंग : डॉक्टर रमेश टंडन के रोल में नीरज काबी ने बेहतरीन ऐक्टिंग की है, एक ऐसे पिता के किरदार में जो अपनी बेटी को खो चुका है और पुलिस उसे ही हत्यारा साबित करने पर आमादा है। ऐसे पिता की बेबसी और असहज स्थिति को नीरज ने पर्दे पर जीवंत कर दिखाया है। श्रुति टंडन की मां के किरदार में कोंकणा सेन शर्मा ने एक बार फिर खुद को बेहतरीन साबित किया। सीबीआई जांच अधिकारी अश्विन कुमार के रोल में इरफान खान का जवाब नहीं। इरफान जब-जब स्क्रीन पर आए तो कहानी की रफ्तार पहले से और तेज हो गई। फिल्म में इरफान की वाइफ बनी तब्बू को फुटेज बेशक कम मिली, लेकिन अपने किरदार में वह खूब जमी हैं। अन्य कलाकारों में यूपी पुलिस के इंस्पेक्टर धनीराम के किरदार में गजराज राव का अभिनय तारीफे काबिल है।

निर्देशन : स्क्रिप्ट के साथ मेघना गुलजार ने सौ फीसदी न्याय किया है। शूटिंग शुरू करने से पहले कंप्लीट होमवर्क और टीम की फुल रिसर्च ने फिल्म को एक ऐसी बेहतरीन फिल्म बना दिया है, जो हॉल से बाहर आने के बाद भी दर्शकों को इस दोहरे हत्याकांड पर कुछ सोचने को बाध्य करती है। मेघना ने हर किरदार से बेहतरीन काम लिया तो करीब सवा दो घंटे की फिल्म की स्पीड कहीं कम नहीं होने दी।

संगीत : मेघना और विशाल इस सच्चाई को शायद पहले से जानते थे कि ऐसे सब्जेक्ट पर बनने वाली फिल्म में गानों की गुंजाइश नहीं रहती, लेकिन इन दोनों ने कहानी की गति को धीमा करे बिना गानों को उस सिचुएशन पर बैकग्राउंड में पेश किया, जहां यह गाने कहानी का हिस्सा बन जाते हैं।

क्यों देंखे: अगर अच्छी, बेहतरीन फिल्मों के शौकीन हैं तो मिस न करें। देशभर को हिला देने वाले आरुषि हत्याकांड की पृष्ठभूमि पर बनी इस फिल्म को अगर हम इस दोहरे हत्याकांड पर तैयार एक श्वेतपत्र कहा जाए तो गलत नहीं होगा।

कलाकार- इरफान खान, कोंकणा सेन शर्मा, नीरज काबी, तब्बू। निर्देशक मेघना गुलजार

Web Title: movie-review-Talvar


Keywords: तलवार मूवी रिव्यू|movie-review-Talvar|movie-masti|movie-review|

भारत के जवानों पर नहीं, पाकिस्‍तान की सर...
भारत के जवानों पर नहीं, पाकिस्‍तान की सरकार पर है कांग्रेस को भरोसा!

संदीप देव।ोगी कांग्रेस, आखिर उसका भरोसा जो टूट गया है। कांग्रेस को अपने देश के जवानों से अधिक पाकिस्‍तान पर भरोसा था, इसलिए पोरबंदर में आतंकियों के वोट ब्‍लास्‍ट की घटना पर वह [...]

एक महिला की सफल माउंटेन बाइकर बनने की कह...
एक महिला की सफल माउंटेन बाइकर बनने की कहानी

प्रियंका दुबे मेहता। एक सामान्य धारणा है कि महिलाएं अच्छे से कार नहीं चला सकतीं। बाइक चलाना उनके बस की बात नहीं है। ऐसे में महिलाओं की ड्राइविंग स्किल पर कई चुटकुले भी बने हैं। लोग महिलाओं की ड्राइविंग कौशल [...]

असहिष्णुता: आमिर खान के पूर्वज मौलाना आज...
असहिष्णुता: आमिर खान के पूर्वज मौलाना आजाद ने भी देश को शर्मसार करने में कसर नहीं छोड़ी थी!

संदीप देव।आप देश छोड़ने की बात कर रहे हैं वैसा ही कुछ हाल आपके पुरखे मौलाना आज़ाद का भी था . वो तो नेहरू ने उन्हें कांग्रेस का मुस्लिम पोस्टर बॉय बना रखा था [...]

वह महात्‍मा गांधी थे, जिन्‍होंने कस्‍तूर...
वह महात्‍मा गांधी थे, जिन्‍होंने कस्‍तूरबा का स्‍मारक बनवा कर परिवार को महिमा मंडित करने की शुरुआत की थी! ‪‎

संदीपदेव‬।ी थे, जिन्‍होंने सबसे पहले परिवारवाद की मूर्ति पूजा का चलन इस देश में शुरु किया। और यह भी बता दूं कि देश के सबसे बढिया स्‍मारक में उनकी पत्‍नी कस्‍तूरबा गांधी का स्‍मारक शामिल [...]

भेदभाव से बचने के लिए अपना धर्म छोड़ने व...
भेदभाव से बचने के लिए अपना धर्म छोड़ने वाले हिंदू आज भी मुस्लिम और ईसाई समाज में हैं दोयम दर्ज के नागरिक!

संदीप देव।रक्षण की वकालत करने वाले हिंदू समाज के दलितों को भरमाने के लिए 'दलित-मुस्लिम' भाई-भाई का नारा लगाते हैं। Narendra Mo [...]

प्रधानमंत्री के नाम पत्र: चर्च की तरह सं...
प्रधानमंत्री के नाम पत्र: चर्च की तरह संत गोपाल दास को भी सुन लीजिए!

नई दिल्‍ली।िस आयुक्‍त बस्‍सी को केवल इसलिए तलब कर लिया कि वसंत विहार के होली चाइल्ड ऑक्सीलम स्कूल में प्रिंसिपल के दफ्तर में तोड़फोड़ की घटना हुई है, लेकिन गो-वध बंदी के लिए आंदोलन [...]

स्‍त्री यौन स्‍ट्रोक: स्‍त्री का स्‍ट्रो...
स्‍त्री यौन स्‍ट्रोक: स्‍त्री का स्‍ट्रोक, पुरुष का नियंत्रण

आधी आबादी ब्‍यूरो।आसनों का वर्णन किया जाएगा, जिसमें स्‍ट्रोक तो पुरुष को लगाना पड़ता है, लेकिन सेक्‍स को पूरी तरह से स्‍त्री नियंत्रित करती है। इसमें आनंद दोनों को बराबर [...]

मोटापा, हृदय रोग, मधुमेह, उच्‍च रक्‍तचाप...
मोटापा, हृदय रोग, मधुमेह, उच्‍च रक्‍तचाप और अस्‍थमा के 90 फीसदी मामले ठीक कर रहे हैं स्‍वामी रामदेव

आधीआबादी ब्‍यूरो।ार्य बालकृष्‍ण की देखरेख में योग-आयुर्वेद का विभिन्‍न रोगों पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर देश में सबसे बड़ा अध्‍ययन चल रहा है। 'पतंजलि योगपीठ' स्थित 'योग अनुसंधान एवं [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles