साज सज्जा

पालतू जानवरों का स्थान ले रही हैं मछलियां

आजकल लोगों ने कुत्ते-बिल्ली और तोता-मैना जैसे परंपरागत व पसंदीदा पालतू जानवरों के स्थान पर मछलियों को पालना शुरू कर दिया है। यही कारण है कि अब घरों, दफ्तरों, विद्यालयों, अस्पतालों और होटलों आदि में मछलियों को रखने के लिए एक्‍वेरियम का चलन तेजी से बढ़ने लगा है।

Read more...

सुभाषचंद्र बोस के आगे गांधी का व्‍यक्त्व...
सुभाषचंद्र बोस के आगे गांधी का व्‍यक्त्वि फीका पड़ गया था तो नेहरू क्‍या चीज थे... उस वक्‍त का जरा अखबार पलट कर तो देखिए!

संदीप देव‬।त्र Anuj Dhar ने सुभाषचंद्र बोस की मृत्‍यु के रहस्‍य से पर्दा उठाने के लिए जितना काम किया है, उसका कोई जोड़ वर्तमान में तो नहीं [...]

पुरुष ही नहीं, महिलाएं भी होती हैं स्‍वप...
पुरुष ही नहीं, महिलाएं भी होती हैं स्‍वप्‍नदोष की शिकार!

स्वप्नदोष का नाम सुनते ही शर्मिंदा हो जाने वाले पुरुष अब राहत की सांस ले सकते हैं. इस बीमारी के बारे में माना जाता रहा है कि यह सिर्फ पुरुषों को ही होता है. लेकिन अध्‍ययनों से पता [...]

वह महात्‍मा गांधी थे, जिन्‍होंने कस्‍तूर...
वह महात्‍मा गांधी थे, जिन्‍होंने कस्‍तूरबा का स्‍मारक बनवा कर परिवार को महिमा मंडित करने की शुरुआत की थी! ‪‎

संदीपदेव‬।ी थे, जिन्‍होंने सबसे पहले परिवारवाद की मूर्ति पूजा का चलन इस देश में शुरु किया। और यह भी बता दूं कि देश के सबसे बढिया स्‍मारक में उनकी पत्‍नी कस्‍तूरबा गांधी का स्‍मारक शामिल [...]

अब युवतियों को नहीं चाहिए कुंवारा पति!...
अब युवतियों को नहीं चाहिए कुंवारा पति!

बदलाव की बयार से भारतीय समाज अब अछूता नहीं रह गया है. खासकर सेक्स को लेकर देश के युवक-युवतियों के खयाल एकदम बदले-बदले नजर आ रहे हैं. हाल ही में एक सर्वे के दौरान यह बात [...]

भारत में ज्ञान प्राप्‍त करने और भारत में...
भारत में ज्ञान प्राप्‍त करने और भारत में ही शरीर त्‍यागने वाले ईसा मसीह की वास्‍तविकता पर ईसायत मौन!

सच चाहे किसी भी धर्म के बारे में हो, उसे स्वीकार करने में उक्त धर्म के अनुयायियों को बहुत कठिनाई होती है। आज का दौर धार्मिक कट्टरता का दौर है ऐसे में सभी अपने अपने कुएं में बंद हैं। [...]

वेतन बढ़ते ही अमेरिकी युवा हो जाते हैं अ...
वेतन बढ़ते ही अमेरिकी युवा हो जाते हैं अविश्‍वासी

वाशिंगटन। अमेरिका में युवाओं के बीच किए गए एक सर्वे में पता चला है कि आय बढ़ने के साथ युवाओं में दूसरों के प्रति भरोसा और सामाजिक संस्थानों में विश्वास कम होता जाता है। आज के युवा अपने पक्षों को [...]

1966 का वह गो-हत्‍या बंदी आंदोलन, जिसमें...
1966 का वह गो-हत्‍या बंदी आंदोलन, जिसमें हजारों साधुओं को इंदिरा सरकार ने गोलियों से भुनवा दिया था! आंखों देखा वर्णन!

संदीप देव।दान और राष्ट्रीय ध्वज में मौजूद 'भगवा' रंग से पता नहीं कांग्रेस को क्‍या एलर्जी है कि वह आजाद भारत में संतों के हर आंदोलन को कुचलती रही है। आजाद भारत में [...]

यह जम्‍मू-कश्‍मीर के बंटवारे की पटकथा तो...
यह जम्‍मू-कश्‍मीर के बंटवारे की पटकथा तो नहीं!

संदीप देव।ं भाजपा-पीडीपी के बीच गठबंधन का बहुत ज्‍यादा विरोध भी हो रहा है और समर्थन भी। मुझे लगता है मौका दिया जाना चाहिए, क्‍योंकि आप दिल्‍ली में बैठकर विरोध तो कर रहे हैं लेकिन [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles