ब्राहमणों की हठधर्मिता ने पूरे पूर्वी बंगाल (बंग्‍लादेश) को मुसलमान बना डाला था!

संदीप देव। सेवानिवृत्‍त जस्टिस काटजू की मूर्खता (खुद कह चुके हैं 90 फीसदी भारतीय मूर्ख हैं, इसलिए मैं उन्‍हें 10 फीसदी में गिनने की मूर्खता नहीं करूंगा) देखिए कि वह बिना किसी तथ्‍यात्‍मक जानकारी के कह रहे हैं कि भारत के 95 फीसदी मुसलमानों ने स्‍वेच्‍छा से धर्मांतरण किया था और केवल 5 फीसदी का बलात् धर्मांतरण हुआ था। इस मूर्ख व्‍यक्ति को दिल्‍ली के शीशगंज गुरुद्वारा ले जाइए और गुरु तेगबहादुर के बलियान का इतिहास बताइए!

 

वैसे मैं आपको अरब से लेकर भारत के एक एक बडे शहर के धर्मांतरण की तथ्‍यपरक सच्‍चाई अपने इतिहास अभियान में बताता रहूंगा। और जब पत्रिका शुरू हो जाएगी तो पूरे संदर्भ ग्रंथों के साथ बताऊंगा, तब तक छिटपुट बताता चलता हूं। आज पूर्वी बंगाल अर्थात वर्तमान बंग्‍लादेश से के धर्मांतरित होने की जानकारी से शुरू करता हूं।

बंगाल के एक प्रसिद्ध राजा हुए जिनका नाम कालाचंद राय था। उनकी इस्‍लामी बर्बरता के लिए लोग उन्‍हें काला पहाड़ पुकारने लगे थे और इतिहास में वह इसी नाम से जाने जाते हैं। काला पहाड़ की बर्बरता का कारण घोर जातिवादी मानसिकता के भरे कुछ ब्राहणों की हठधर्मिता थी, जिसका बदला उसने पूरे पूर्वी बंगाल को मुसलमान बनाकर लिया।

कालाचंद राय एक बंगाली ब्राहण युवक था। पूर्वी बंगाल के उस वक्‍त के मुस्लिम शासक की बेटी से उसे प्‍यार हो गया। बादशाह की बेटी ने उससे शादी की इच्‍छा जाहिर की। वह उससे इस कदर प्‍यार करती थी कि उसने इस्‍लाम छोड़कर हिंदू विधि से उससे शादी की इच्‍छा जाहिर की। ब्राहमणों को जब पता चला कि कालाचंद राय एक मुस्लिम राजकुमारी से शादी कर उसे हिंदू बनाना चाहता है तो ब्राहमण समाज ने इसका विरोध किया। उसने युवती के हिंदू धर्म में आने का न केवल विरोध किया, बल्कि कालाचंद राय को भी जाति बहिष्‍कार की धमकी दी।

कालाचंद राय गुस्‍से से आग बबुला हो गया और उसने इस्‍लाम स्‍वीकारते हुए उस युवती से निकाह कर उसके पिता के सिंहासन का उत्‍तराधिकारी हो गया। राजा बनने से पूर्व ही उसने तलवार के बल पर ब्राहमणाों को मुसलमान बनाना शुरू किया। पूरे पूर्वी बंगाल में उसने इतना कत्‍लेआम मचाया कि लोग तलवार के डर से मुसलमान होते चले गए। इतिहास में इसका जिक्र है कि पूरे पूर्वी बंगाल को इस अकेले व्‍यक्ति ने तलवार के बल पर इस्‍लाम में धर्मांतरित कर दिया और यह केवल उन मूर्ख, जातिवादी, अहंकारी व हठधर्मी ब्राहमणों को सबक सिखाने के उददेश्‍य से किया गया था। उसकी निर्दयता के कारण इतिहास उसे काला पहाड़ के नाम से जानती है।

मूर्ख काटजू साहब पूर्वी बंगाल किसी सूफीवाद या अपने स्‍वेच्‍छा से मुसलमान नहीं बना था, बल्कि बदले में जलते एक युवक ने तलवार के जोर पर पूरी कौम को ही मुसलमान बना दिया था। स्‍वेच्‍छा से केवल काला पहाड ने इस्‍लाम अपनाया था। आप देख लीजिए, आपके फीसदी वाले में काला पहाड व 95 फीसदी वाले में पूरा पूर्वी बंगाल आता है। यदि इतिहास का ज्ञान नहीं है तो देश को मूर्ख बनाने की कोशिश न करें। देश की जनता उस 90 फीसदी वाले क्‍लब में शमिल होना नहीं चाहती, जिसके अध्‍यक्ष आप हैं।

और हां महोदय काटजू साहब, भारत विभाजन से पूर्व 1946 में पूर्वी बंगाल में डेढ करोड हिंदू थे, आज वो हिंदू कहां गए, जरा यह भी बता दीजिए? 1946 में कौन से सूफीवाद की लहर चली थी कि डेढ करोड हिंदू पूर्वी बंगाल से गायब हो गए। महोदय, जघन्‍य हत्‍या से या तो उनका नामोनिशान मिट गया, या तो मुसलमान हो गया, या कुछ भाग कर भारत में आ गए। कहां गए वो हिंदू, बताएंगे मूर्ख क्‍लब के अध्‍यक्ष श्रीमान काटजू साहब....!


काला पहाड़ के संदर्भ में पुस्‍तक संदर्भ:
1) संस्‍कृति के चार अध्‍याय: रामधारी सिंह दिनकर
2) पाकिस्‍तान का आदि और अंत: बलराज मधोक

Web title: Caste system in India-4
Keywords: जाति| जाति प्रथा| जातिगत आरक्षण| कैसे हिंदुओं को जाति में बांटा गया| खटिक जाति का इतिहास| दलित जाति का इतिहास| शूद्रों का इतिहास| शूद्र कौन| दलित कौन| आप अपनी जाति का इतिहास जानना चाहते है| अनुसूचित जाति| अनुसूचित जनजाति| जाति प्रमाणपत्र| हिंदू खटिक जाति का इतिहास| caste history in india| Caste system in India| Study reveals origin of India's caste system| The origins of the caste system in India| History of the Indian Caste System| History of the Caste System in India| muslim conversion in india

वह महात्‍मा गांधी थे, जिन्‍होंने कस्‍तूर...
वह महात्‍मा गांधी थे, जिन्‍होंने कस्‍तूरबा का स्‍मारक बनवा कर परिवार को महिमा मंडित करने की शुरुआत की थी! ‪‎

संदीपदेव‬।ी थे, जिन्‍होंने सबसे पहले परिवारवाद की मूर्ति पूजा का चलन इस देश में शुरु किया। और यह भी बता दूं कि देश के सबसे बढिया स्‍मारक में उनकी पत्‍नी कस्‍तूरबा गांधी का स्‍मारक शामिल [...]

मनु शर्मा व रामबहादुर राय, जिनके गले से ...
मनु शर्मा व रामबहादुर राय, जिनके गले से लगकर सम्‍मानित हुआ 'पद्मश्री'

संदीप देव। खुशी का दिन है। मेरे दो-दो आदर्श व आदरणीय साहित्‍यकार-पत्रकार को आज पद्म पुरस्‍कार मिल रहा है। इनमें एक हैं मनु शर्मा और दूसरे हैं रामबहादुर राय। सच पूछिए तो ये दोनों [...]

पाखंडियों के समाज में सावधान रहें प्रधान...
पाखंडियों के समाज में सावधान रहें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी!

संदीप देव।डियों का समाज रहा है। जिन लोगों ने त्‍याग का पाखंड किया, वह बड़ा और जिसने जीवन को संपूर्णता में जीया, वह खोटा साबित होता रहा है। मेरी पिछली पोस्‍ट जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

AN OPEN LETTER TO THE PRIME MINISTER Nar...
AN OPEN LETTER TO THE PRIME MINISTER NarendraModi about ‪‎BiharElections ‬

Francois Gautier. Dear Mr Prime Minister [...]

दुनिया के ऐसे क्रूर शासक, जिन्‍होने आम ज...
दुनिया के ऐसे क्रूर शासक, जिन्‍होने आम जनता को गाजर-मूली की तरह काटा!

नई दिल्‍ली। शासक और नेता रहे हैं, जिनके इशारों पर खूनों की नदियां बहा दी गईं। कुछ पुराने जमाने के शासक स्वयं ही बेहद सधे योद्धा थे, जिनकी तलवारों के सामने कोई टिक नहीं [...]

अब इस्‍लाममिक देश कतर की राजधानी दोहा मे...
अब इस्‍लाममिक देश कतर की राजधानी दोहा में मिली दुर्गा मंदिर निर्माण के लिए जमीन!

मनोज तिवारी (बीजेपी सांसद )। नमस्कार.. मनोज तिवारी का प्रणाम स्वीकार हो। मुझे पता है कि आप अपने कर्तव्यों का निर्वहन बहुत अच्छे से कर रहे हैं। मैं अपने लोकसभा के साथ साथ बिहार विजय के [...]

बॉयफ्रेंड विराट कोहली के अलावा भी अनुष्‍...
बॉयफ्रेंड विराट कोहली के अलावा भी अनुष्‍का की खुशी के हैं कई राज

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस अनुष्का शर्मा 2015 को लेकर बेहद उत्साहित हैं क्योंकि अगले साल जनवरी में उनकी पहली प्रोडक्शन फिल्म 'एनएच 10' का ट्रेलर लॉन्च किया जाएगा।

मोटापा, हृदय रोग, मधुमेह, उच्‍च रक्‍तचाप...
मोटापा, हृदय रोग, मधुमेह, उच्‍च रक्‍तचाप और अस्‍थमा के 90 फीसदी मामले ठीक कर रहे हैं स्‍वामी रामदेव

आधीआबादी ब्‍यूरो।ार्य बालकृष्‍ण की देखरेख में योग-आयुर्वेद का विभिन्‍न रोगों पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर देश में सबसे बड़ा अध्‍ययन चल रहा है। 'पतंजलि योगपीठ' स्थित 'योग अनुसंधान एवं [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles