पूरी दुनिया में इस्‍लामी मजहब का वह आतंक, जो आपकी आंख खोल देंगी!

नई दिल्‍ली। हाल ही में Dialogue India पत्रिका और नवोदय टाइमस अखबार में वरिष्‍ठ पत्रकार विनीत नारायण का एक लेख प्रकाशित हुआ है। समाजशास्‍त्री डॉ. पीटर हैमंड ने दुनिया भर में मुसलमानों की प्रवृत्ति पर गहरे शोध के बाद एक पुस्‍तक लिखी है- 'स्‍लेवरी, टेररिज्‍म एंड इस्‍लाम- द हिस्‍टोरिकल रूट्स एंड कंटेम्‍परी थ्रेट'। मैं एक समाजशास्‍त्र का विद्यार्थी हूं, इसलिए कह सकता हूं कि सेक्‍यूलर नामक प्रजाति अपना पूर्वग्रह छोड़कर और मुसलमान अपनी धार्मिक भावनाओं को छोड़कर दुनिया भर के आंकड़ों पर गौर करें, देखें कि आखिर ऐसा क्‍या है कि उनकी जनसंख्‍या बढ़ते ही वह मारकाट, हिंसा और दूसरे धर्म के मानने वालों के नरसंहार पर उतर आते हैं। इस पुस्‍तक के शोध का निषकर्ष है:

* जब तक मुसलमानों की जनसंख्‍या किसी देश-प्रदेश में 2 फीसदी रहती है, वह शांतिप्रिय, कानूनपसंद अल्‍पसंख्‍यक बनकर रहते हैं, जैसे अमेरिका जहां मुसलमानों की जनसंख्‍या (0.6) फीसदी है।

* जब मुसलमानों की जनसंख्‍या 2 से 5 फीसदी होती है तक वह अपना धर्म प्रचार शुरू कर देते हैं जैसे डेनमार्क जर्मनी आदि

* जब मुसलमानों की जनसंख्‍या 5 फीसदी से ऊपर जाती है वह अन्‍य धार्मिक समूहों, सरकार व बाजार पर 'छोटी छोटी बात जैसे- हलाल' मांस दुकानों में रखने आदि का दबाव बनाने लगते हैं। जैसे फ्रांस, फिलीपीन्‍स, स्‍वीडन, स्विटजरलैंड आदि

* ज्‍यों ही मुसलमानों की जनंसख्‍या 5 से 8 फीसदी तक पहुंचती है वह अपने लिए अलग शरियत कानून की मांग करने लगते हैं। बात बात पर उनकी धार्मिक भावनाएं आहत होने लगती हैं। दरअसल उनका अंतिम लक्ष्‍य यही है कि पूरा संसार शरियत कानून पर ही चले और इसी लक्ष्‍य के लिए पूरा मुस्लिम जगह प्रयासरत है।

* जब मुसलमानों की जनसंख्‍या 10 फीसदी से अधिक हो जाती है तो वह धार्मिक आजादी आदि के नाम पर तोडफोड, दंगा फसाद, शुरू कर देते हैं। जैसे डेनमार्क, इजराइल, गुयाना आदि

* ज्‍यों ही मुसलामनों की जनसंख्‍या 20 फीसदी के पार पहुंचती है, जेहाद शुरू हो जाता है। दूसरे धर्मों के मानने वालों की हत्‍याएं शुरू हो जाती है। समान नागरिक कानून का विरोध किया जाता है, अपने लिए अलग सुविधाओं की मांग की जाने लगती है। इस्‍लामी आतंकवाद व अलगाववाद आदि की घटनाएं तेजी से होने लगती है। जैसे भारत, इथोपिया आदि

* ज्‍यों ही मुसलमान किसी देश, प्रदेश या क्षेत्र में 40 फीसदी के पास पहुंचते हैं दूसरे धर्म के मानने वालों का नरसंहार शुरू कर देते है। सामूहिक हत्‍याएं होने लगती हैं जैसे लेबानान, बोस्निया आदि

* जब मुसलमान कहीं भी 60 फीसदी से अधिक होते हैं 'जातीय सफाया' शुरू हो जाता है। दूसरे धर्मावलंबियों का पूरी तरह से सफाया या उसका इस्‍लाम में धर्मांतरण ही 'आखिल इस्‍लामी' लक्ष्‍य है। जाजिया कर लगाना, दूसरे धर्मों के पूजा स्‍थल का पूरी तरह से नाश करना आदि होने लगता है। जैसे भारत के कश्‍मीर से कश्‍मीरी पंडितों का सफाया।

* मुसलमानों के 80 फीसदी पर पहुंचते ही कोई देश सेक्‍युलर नहीं रह सकता। उसे इस्‍लामी बना दिया जाता है। 56 इस्‍लामी देशों में से एक भी मुल्‍क ऐसा नहीं है जिसका राजधर्म इस्‍लाम न हो। ऐसे राज्‍य में सत्‍ता और शासन प्रयोजित जातीय व धार्मिक सफाई अभियान शुरू हो जाता है। पैसे पाकिस्‍तान व बंग्‍लादेश से हिंदुओं का पूरी तरह से सफाया हो गया। मिस्र, गाजापटटी, ईरान, जोर्डन, मोरक्‍को, संयुक्‍त अरब अमिरात में आज खोजे से भी अन्‍य धर्मावलंबी नहीं मिलते।

भारत के सेक्‍युलर प्रजाति यह झूठ फैलाती आयी है कि भारत में इस्‍लाम तलवार नहीं सूफी आंदोलन के जोर पर फैला। वर्तमान में देखिए, सूफी आंदोलन तो कहीं नहीं दिखेगा, लेकिन तलवार का जोर आज भी हिज्‍बुल, आईएसआईएस, तालीबान, लश्‍कर के रूप में और पाकिस्‍तान, बंग्‍लादेश एवं अन्‍य मुस्लिम देशों के शासकों के रूप में हर तरफ दिखता है। इस्‍लाम वास्‍तव में कोई धर्म नहीं, एक राजनैतिक व सामाजिक विचारधारा है, जिसका आखिरी लक्ष्‍य पूरी दुनिया को शरियत कानून के अंतर्गत लाकर 'अखिल इस्‍लामी विश्‍व की स्‍थापना करना है। ‪

Web Title: Slavery, Terrorism and Islam: The Historical Roots and Contemporary Threat

#‎TheTrueIndianHistory‬ ‪#‎TheTrueIslamicHistory‬

पाखंडियों के समाज में सावधान रहें प्रधान...
पाखंडियों के समाज में सावधान रहें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी!

संदीप देव।डियों का समाज रहा है। जिन लोगों ने त्‍याग का पाखंड किया, वह बड़ा और जिसने जीवन को संपूर्णता में जीया, वह खोटा साबित होता रहा है। मेरी पिछली पोस्‍ट जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

महिला दिवस की औपचारिकताएं छोडि़ए, पहले उ...
महिला दिवस की औपचारिकताएं छोडि़ए, पहले उन्‍हें न्‍याय दिलाने के लिए कदम उठाइए!

संदीप देव। करने वाला इंसान हूं और हर हाल में कानून का पालन करता हूं। लेकिन जिस तरह से नागालैंड के दीमापुर में घटनाएं हुई वह कानून नहीं, समाज के अंदर का सवाल है। फास्‍ट [...]

बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: बिहार ...
बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: बिहार से अनजान व जमीन से कटे नेताओं ने चुनाव केा बना दिया था इवेंट मैनेजमेंट!

संदीप देव।प से भाजपा का समर्थक हूं, लेकिन जिस तरह से भाजपा व संघ समर्थक बिहारियों का अपमान कर रहे हैं, वह मुझे बर्दाश्त नहीं है। इन्हीं बिहारियों ने जब लोकसभा चुनाव-20 [...]

आजादी के बाद फांसी के फंदे पर लटके 1414 ...
आजादी के बाद फांसी के फंदे पर लटके 1414 अपराधियों में मुसलमान केवल 72 हैं, तो फिर यह 'हाय याकूब- हाय याकूब' क्‍यों? ‎

संदीप देव‬।त्‍त जज, वकील, पत्रकार, वामपंथी बुद्धिजीवी, एनजीओकर्मी, मानवाधिकारवादी और जेहादी आतंकी याकूब मेनन के समर्थन में सड़क से लेकर मीडिया व सोशल मीडिया तक एक झूठ का प्रचार लगातार कर [...]

चुनाव अयोग के आदेशों की अवहेलना कर इंदिर...
चुनाव अयोग के आदेशों की अवहेलना कर इंदिरा गांधी ने 5 हजार मुसलमानों का नरसंहार क्‍या सहिष्‍णुता स्‍थापित करने के उददेश्‍य से कराया था?

संदीप देव।व में 'महाठगबंधन' प्रतिदिन भाजपा की शिकायत चुनाव आयोग से कर रहा है, तो दूसरी ओर मैडम सोनिया के नेतृत्‍व में समूची विपक्षी पार्टियां, पत्रकार, साहित्‍यकार, फिल्‍मकार, वामपंथी [...]

विकास रोकना और सरकारों को अस्थिर करना ही...
विकास रोकना और सरकारों को अस्थिर करना ही मुख्‍य मकसद है विदेशी फंडेड एनजीओ का

संदीप देव, नई दिल्‍ली। एनजीओ (स्वयंसेवी संगठन) पर आई खुफिया ब्यूरो की रिपोर्ट के बाद विदेशी फंड पर चलने वाली एनजीओ ने लॉबिंग शुरू कर दी है। उनकी तरफ से एक सुर में कहा जाने लगा है [...]

शादी से पहले सेक्‍स आम बात है और शादी का...
शादी से पहले सेक्‍स आम बात है और शादी का वादा कर सेक्‍स करना बलात्‍कार नहीं है: अदालत

मुंबई। भारत बदल रहा है और ऐसा ही कुछ बॉम्बे हाई कोर्ट भी मानती है. हाई कोर्ट ने कहा है कि शादी का वादा कर संबंध बनाने का हर मामला बलात्कार नहीं होता, कोर्ट ने तो यह भी [...]

नंदा की जिंदगी का आखिरी राज! ...
नंदा की जिंदगी का आखिरी राज!

बॉलीवुड में अपनी खुबसूरती और बेहतरीन अदाकारी के चलते काफी मशहूर अभिनेत्री नंदा की किरदारों को और उनकी रील लाइफ के बारे में तो लगभग हर किसी को पता है। पर उनके निजी जीवन को लेकर आज तक लोग अनभिज्ञ [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles