पूरी दुनिया में इस्‍लामी मजहब का वह आतंक, जो आपकी आंख खोल देंगी!

नई दिल्‍ली। हाल ही में Dialogue India पत्रिका और नवोदय टाइमस अखबार में वरिष्‍ठ पत्रकार विनीत नारायण का एक लेख प्रकाशित हुआ है। समाजशास्‍त्री डॉ. पीटर हैमंड ने दुनिया भर में मुसलमानों की प्रवृत्ति पर गहरे शोध के बाद एक पुस्‍तक लिखी है- 'स्‍लेवरी, टेररिज्‍म एंड इस्‍लाम- द हिस्‍टोरिकल रूट्स एंड कंटेम्‍परी थ्रेट'। मैं एक समाजशास्‍त्र का विद्यार्थी हूं, इसलिए कह सकता हूं कि सेक्‍यूलर नामक प्रजाति अपना पूर्वग्रह छोड़कर और मुसलमान अपनी धार्मिक भावनाओं को छोड़कर दुनिया भर के आंकड़ों पर गौर करें, देखें कि आखिर ऐसा क्‍या है कि उनकी जनसंख्‍या बढ़ते ही वह मारकाट, हिंसा और दूसरे धर्म के मानने वालों के नरसंहार पर उतर आते हैं। इस पुस्‍तक के शोध का निषकर्ष है:

* जब तक मुसलमानों की जनसंख्‍या किसी देश-प्रदेश में 2 फीसदी रहती है, वह शांतिप्रिय, कानूनपसंद अल्‍पसंख्‍यक बनकर रहते हैं, जैसे अमेरिका जहां मुसलमानों की जनसंख्‍या (0.6) फीसदी है।

* जब मुसलमानों की जनसंख्‍या 2 से 5 फीसदी होती है तक वह अपना धर्म प्रचार शुरू कर देते हैं जैसे डेनमार्क जर्मनी आदि

* जब मुसलमानों की जनसंख्‍या 5 फीसदी से ऊपर जाती है वह अन्‍य धार्मिक समूहों, सरकार व बाजार पर 'छोटी छोटी बात जैसे- हलाल' मांस दुकानों में रखने आदि का दबाव बनाने लगते हैं। जैसे फ्रांस, फिलीपीन्‍स, स्‍वीडन, स्विटजरलैंड आदि

* ज्‍यों ही मुसलमानों की जनंसख्‍या 5 से 8 फीसदी तक पहुंचती है वह अपने लिए अलग शरियत कानून की मांग करने लगते हैं। बात बात पर उनकी धार्मिक भावनाएं आहत होने लगती हैं। दरअसल उनका अंतिम लक्ष्‍य यही है कि पूरा संसार शरियत कानून पर ही चले और इसी लक्ष्‍य के लिए पूरा मुस्लिम जगह प्रयासरत है।

* जब मुसलमानों की जनसंख्‍या 10 फीसदी से अधिक हो जाती है तो वह धार्मिक आजादी आदि के नाम पर तोडफोड, दंगा फसाद, शुरू कर देते हैं। जैसे डेनमार्क, इजराइल, गुयाना आदि

* ज्‍यों ही मुसलामनों की जनसंख्‍या 20 फीसदी के पार पहुंचती है, जेहाद शुरू हो जाता है। दूसरे धर्मों के मानने वालों की हत्‍याएं शुरू हो जाती है। समान नागरिक कानून का विरोध किया जाता है, अपने लिए अलग सुविधाओं की मांग की जाने लगती है। इस्‍लामी आतंकवाद व अलगाववाद आदि की घटनाएं तेजी से होने लगती है। जैसे भारत, इथोपिया आदि

* ज्‍यों ही मुसलमान किसी देश, प्रदेश या क्षेत्र में 40 फीसदी के पास पहुंचते हैं दूसरे धर्म के मानने वालों का नरसंहार शुरू कर देते है। सामूहिक हत्‍याएं होने लगती हैं जैसे लेबानान, बोस्निया आदि

* जब मुसलमान कहीं भी 60 फीसदी से अधिक होते हैं 'जातीय सफाया' शुरू हो जाता है। दूसरे धर्मावलंबियों का पूरी तरह से सफाया या उसका इस्‍लाम में धर्मांतरण ही 'आखिल इस्‍लामी' लक्ष्‍य है। जाजिया कर लगाना, दूसरे धर्मों के पूजा स्‍थल का पूरी तरह से नाश करना आदि होने लगता है। जैसे भारत के कश्‍मीर से कश्‍मीरी पंडितों का सफाया।

* मुसलमानों के 80 फीसदी पर पहुंचते ही कोई देश सेक्‍युलर नहीं रह सकता। उसे इस्‍लामी बना दिया जाता है। 56 इस्‍लामी देशों में से एक भी मुल्‍क ऐसा नहीं है जिसका राजधर्म इस्‍लाम न हो। ऐसे राज्‍य में सत्‍ता और शासन प्रयोजित जातीय व धार्मिक सफाई अभियान शुरू हो जाता है। पैसे पाकिस्‍तान व बंग्‍लादेश से हिंदुओं का पूरी तरह से सफाया हो गया। मिस्र, गाजापटटी, ईरान, जोर्डन, मोरक्‍को, संयुक्‍त अरब अमिरात में आज खोजे से भी अन्‍य धर्मावलंबी नहीं मिलते।

भारत के सेक्‍युलर प्रजाति यह झूठ फैलाती आयी है कि भारत में इस्‍लाम तलवार नहीं सूफी आंदोलन के जोर पर फैला। वर्तमान में देखिए, सूफी आंदोलन तो कहीं नहीं दिखेगा, लेकिन तलवार का जोर आज भी हिज्‍बुल, आईएसआईएस, तालीबान, लश्‍कर के रूप में और पाकिस्‍तान, बंग्‍लादेश एवं अन्‍य मुस्लिम देशों के शासकों के रूप में हर तरफ दिखता है। इस्‍लाम वास्‍तव में कोई धर्म नहीं, एक राजनैतिक व सामाजिक विचारधारा है, जिसका आखिरी लक्ष्‍य पूरी दुनिया को शरियत कानून के अंतर्गत लाकर 'अखिल इस्‍लामी विश्‍व की स्‍थापना करना है। ‪

Web Title: Slavery, Terrorism and Islam: The Historical Roots and Contemporary Threat

#‎TheTrueIndianHistory‬ ‪#‎TheTrueIslamicHistory‬

पद्मश्री एक सहज, सजग और सार्थक संवाद को...
पद्मश्री एक सहज, सजग और सार्थक संवाद को

के. एन. गोविंदाचार्य।जाए तो पत्रकारिता का चेहरा इस बार ज्यादा सहज, सजग और सार्थक संवाद करता हुआ दिख रहा है। यह सच है कि व्यक्ति पुरस्कार से बड़ा या छोटा [...]

बॉलिवुड को उद्योग का दर्जा एनडीए ने दिया...
बॉलिवुड को उद्योग का दर्जा एनडीए ने दिया था, लेकिन फिल्‍मवालों के निशाने पर हमेशा भाजपा ही रहती है!

आधीआबादी ब्‍यूरो।्रीज वाले अधिकांश लोगों का रवैया भाजपा सरकार की आलोचना करना ही रहा है। लेकिन फिल्‍म इंडस्‍ट्रीज को पहली बार उद्योग का दर्जा एनडीए की वाजपेयी सरकार ने ही दिया था, जिसके बाद [...]

नेताजी मामले में गांधी-पटेल की संदिग्‍ध ...
नेताजी मामले में गांधी-पटेल की संदिग्‍ध भूमिका के कारण तो PMO India मोदी सरकार पशोपेश में नहीं है?

संदीपदेव‬।वित थे, उस समय से ही पंडित नेहरू ने नेताजी के परिवार की जासूसी करवानी शुरू कर दी थी। सवाल उठता है कि क्या गांधी जी को यह पता था या जवाहरलाल नेहरू गांधी जी [...]

टीवी शो में पूरी तरह न्‍यूड दिखी मॉडल, ठ...
टीवी शो में पूरी तरह न्‍यूड दिखी मॉडल, ठोंका 60 करोड़ रुपए का मुकदमा!

न्यूयॉर्क। अमेरिकी सुपरहिट रियलिटी शो 'डेटिंग नेकेड' की एक कंटेस्‍टेंट ने एक करोड़ डॉलर यानी करीब 60 करोड़ रुपए का मुकदमा ठोंका है। वीएच1 चैनल पर प्रसारित होने वाले इस शो में भाग लेने वाली [...]

केजरीवाल की ध्‍यान बटोरने वाली पोलिटिक्‍...
केजरीवाल की ध्‍यान बटोरने वाली पोलिटिक्‍स और न्‍यूज चैनलों के तमाशे की भेंट चढ़ गया गजेंद्र!

संदीप देव‬।वासी गजेंद्र की मौत भी दब जाएगी। टीवी कैमरे के दम पर खड़ी हुई एक तमाशा पार्टी और उसे तमाशा बनाकर पेश करने वाली मीडिया, दोनों इस साजिश में शामिल हैं। मैंने जब [...]

प्लेब्वॉय मैगजीन के लिए शर्लिन चोपड़ा की...
प्लेब्वॉय मैगजीन के लिए शर्लिन चोपड़ा की न्‍यूड फोटोशूट की तस्वीरें आईं सामने

दो साल पहले शर्लिन चोपड़ा के प्लेब्वॉय मैगजीन के लिए किए गए न्यूड फोटोशूट की बहुत चर्चा हुई थी. कुछ लोगों को भले ही इस फोटोशूट की खबरें याद न हो लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो बेसब्री [...]

लावा की नई पेशकश लॉन्च किया फ्लेयर Z1, क...
लावा की नई पेशकश लॉन्च किया फ्लेयर Z1, कीमत 5,699 रुपए, जानें इसके अन्य खूबियों के बारे में

भारतीय स्मार्टफोन कंपनी लावा में अपने फ्लेयर P1 और फ्लेयर F1 के लॉन्च के बाद लावा ने अपनी इसी सीरीज में एक नया स्मार्टफोन लावा फ्लेयर Z1 लॉन्च किया है। यह स्मार्टफोन एक्सक्लूजिवली ईकॉमर्स [...]

एक केंद्रीय मंत्री के रूप में सुब्रहमनिय...
एक केंद्रीय मंत्री के रूप में सुब्रहमनियन स्‍वामी का वह बहादुरीभरा फैसला!

संदीप देव।े मैसेज कर यह पूछा है कि Dr.Subramanian swamy को मोदी सरकार में मंत्री क्‍यों नहीं [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles