वेद में आदर्श स्त्री शिक्षा का वर्णन

डा. अशोक आर्य। महिलाओं के लिए वेद ने जिन शिक्षाओं को आवश्यक माना है , उनमें पाक शिक्षा प्रमुख है | वास्तव में स्त्री शिक्षा के वैदिक आधार में पाक शिक्षा को अत्यावश्यक माना गया है | एक उत्तम गृहिणी अथवा एक उत्तम माता बनने के लिए महिलाओं के लिए पाक विद्या का उत्तम अभ्यास होना ही आधार होता है | इसके बिना वह न तो सफल गृहिणी ही बन पाती है ओर न ही सफल व उत्तम माता ही बन सकती है | इसलिए इस विद्या को जानने के लिए हमें वेद की शरण में जाना पड़ता है | वेद में अनेक मन्त्र स्त्रियों की शिक्षा विशेष रूप में पाक शिक्षा पर प्रकाश डालते हैं |

 

इसके लिए आओ हम यजुर्वेद के कुछ मंत्रों का अवलोकन करें:         

सिनीवाली सुकपर्दा सुकुरीरा स्वोपाशा   |

सा तुभ्यमदिते मह्योखां दधातु हस्तयो || यजुर्वेद ११.५६ ||

    
यह चार मन्त्र यजुर्वेद में आये हैं | इन मन्त्रों में स्त्रियों की पाक विद्या सम्बन्धी शिक्षा पर विषद प्रकाश डाला गया है | इन चारों मंत्रोंमें उखा शब्द अनेक बार आया हुआ हमें मिलता है | उखा सहबद का अर्थ खोजने पर हमें ज्ञात होता है कि उखा का अर्थ है वह वास्तु जिस मेंकुछ पकाया जाताहै ,जिसे हम खाना पकाने की बटलोई के नाम से भी जनाते हैं | अत: उखा का अर्थ हुआ खाना पकाने की बटलोई | 

यजुर्वेद के ही अध्याय ११ के मन्त्र संख्या ५६ में स्वोपशा शब्द आया है | महर्षि दयानंद ने अपने वेद भाष्य में इस शब्द का अर्थ करते हुए लिखा है ''अच्छे स्वादिष्ट भोजन बनाने वाली|''  इस के आधार पर इस प्रथम मन्त्र का अर्थ इस प्रकार बनता है कि हे सत्कार करने वाली , अखंडित आनंद भोगने वाली स्त्री , जो प्रेम से युक्त है | इससे स्पष्ट है कि पाक शिक्षा में प्रवीण माताएं सदा ही सब का भोजन के द्वारा सत्कार करने वाली होती हैं | वह आगंतुक को उत्तम तथा स्वादिष्ट भोजन परोस कर उसका सत्कार करती हैं | इस सत्कार से मधुर भोजन प्राप्त कर आगंतुक तृप्त होता है और इस भोजन की कला में निपुण माता की सर्वत्र प्रशंसा किया करता है | यह भोजन बनाने वाली माता सदा अखंडित आनंद भोगती है अर्थात् उसकी पाक कला की जब प्रशंसा होती है तो वह अत्यंत आनंद का अनुभव करती है | यह माता प्रेम से युक्त होने के कारण बड़े प्रेम से भोजन बनाती और परोसती है ,जिस से अतिथि भी आनंद से विभोर हो जाता है |
        

मन्त्र आगे उपदेश कर रहा है कि हे माता ! तूं अच्छे केशों वाली होने के कारण अत्यंत श्रेष्ठ कर्म का सदा सेवन करती है | तेरे काले बाल आकर्षण का कारण होते हैं किन्तु तो भी तूं सदा अच्छे तथा उत्तम कर्म ही करती है | इस सब के साथ हे माते ! तूं सदा अच्छा , उत्तम तथा स्वादिष्ट भोजन बनाती है | यह सब बनाने के लिए तेरे हाथ दाल  बनाने की जो बटलोई को धारण करें , बटलोई को ग्रहण करें , उसके प्रयोग से तूं उत्तम खाद्य सामग्री तयार कर |
         

मन्त्र का आश्य है कि स्त्रियाँ अपने यहाँ गृह कार्य के लिए अच्छी तथा पाक विद्या में प्रवीण दासियों को पाक कार्य के लिए नियुक्त रखें | उनका गृह कार्य तथा पाक कार्य में निपुण होने के साथ ही साथ चतुर होना भी चाहिए | ताकि पाक कार्य की सब सेवा उत्तम व ठीक समय पर होती रहे | खाना खाते समय किसी अभ्यागत के सामने कोई कठिनाई न आने पावे |
         

मन्त्र में जो दासियों के रखने के लिए कहा गया है | इसका यह भाव नही है कि दासियाँ अवश्य ही रखी जावें तथा दासियाँ रखने के पश्चात घर की अन्य महिलाएं कुछ भी न करते हुए निठल्ली बैठी रहें | इसके सम्बन्ध में कहा जाता है कि पाक आदि की सेवा केवल दासियों के लिए है अन्यों के लिए नहीं , यह सोचना सर्वथा गलत है | घर की सब महिलाएं भी पाक कार्य में निपुण हों तथा आवश्यकता के अनुसार वह भी पाक कार्य करें | इस सम्बन्ध में यजुर्वेद के कुछ अन्य मंत्रों में स्पष्ट संकेत किया गया है , जिन का हम अगले लेख में वर्णन करेंगे |            
         

मन्त्र में महिलाओं के लिए पाक कला में प्रवीण होने के लिए बार बार उपदेश किया गया है | इससे स्पष्ट होता है कि पाक कला भी एक विद्या है | इस कला को सीखने के लिए महिलाओं को पाक विद्या सिखनी होगी | इस से स्पष्ट होता है कि मन्त्र यहाँ भी उपदेश करता है कि स्त्री शिक्षा के बिना स्त्री का धर्म पूर्ण नहीं होता | इसलिए स्त्रियों को भी शिक्षित होना आवश्यक है |

Web Title: Women in Vedic Culture-1

Keywords: वेद| ऋग्‍वेद| यजुर्वेद| सामवेद| अथर्ववेद| उपनिषद| वेद में स्‍त्री शिक्षा| स्‍त्री शिक्षा| Women in Vedic Culture| Status of Women in Vedic and Post-Vedic Period





राजदीप सरदेसाई पत्रकार नहीं, विशुद्ध कां...
राजदीप सरदेसाई पत्रकार नहीं, विशुद्ध कांग्रेसी दलाल है!

संदीप देव।राजदीप सरदेसाई ने भारत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिस तरह से अपमानित करने का प्रयास किया है, वह साफ तौर पर देशद्रोह की श्रेणी में आता है! यही नहीं, अमेरिका में बसे [...]

प्रधानमंत्री मोदी ने इसाईयत व इस्‍लाम को...

संदीप देव। )दिल्‍ली के कैथोलिक चर्च में अपने संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने श्रेष्‍ठता दंभ से भरे धर्मावलंबियों खासकर अल्‍पसंख्‍यक इसाई व इस्‍लाम को स्‍पष्‍ट रूप से [...]

धर्म नहीं, राष्‍ट्र है व्‍यक्ति की सही प...
धर्म नहीं, राष्‍ट्र है व्‍यक्ति की सही पहचान!

संदीप देव।ं (सिर्फ कटटर लिख रहा हूं, इसलिए उदार मुस्लिम इससे खुद को न जोडें) से कहना चाहता हूं कि जहां से इस्‍लाम निकला था, वह देश ही जब धर्म से अधिक राष्‍ट्र [...]

दुनिया के ऐसे क्रूर शासक, जिन्‍होने आम ज...
दुनिया के ऐसे क्रूर शासक, जिन्‍होने आम जनता को गाजर-मूली की तरह काटा!

नई दिल्‍ली। शासक और नेता रहे हैं, जिनके इशारों पर खूनों की नदियां बहा दी गईं। कुछ पुराने जमाने के शासक स्वयं ही बेहद सधे योद्धा थे, जिनकी तलवारों के सामने कोई टिक नहीं [...]

शशि कपूर एक फिल्‍म में तौलिया में बाथरूम...
शशि कपूर एक फिल्‍म में तौलिया में बाथरूम में जाते और दूसरी फिल्‍म में पैंट का बटन लगाते हुए बाहर निकलते!

भारत सरकार ने मशहूर फिल्म अभिनेता और निर्माता शशि कपूर को फिल्मों में उनके योगदान के लिए दादा साहब फाल्के पुरस्कार देने की घोषणा की है। शशि कपूर हिंदी सिनेमा के युगपुरुष कहे जाने वाले महान कलाकार पृथ्वीराज कपूर के [...]

वैदिक के बाद अब आसान निशाना हैं बाबा राम...
वैदिक के बाद अब आसान निशाना हैं बाबा रामदेव!

संदीप देव। वरिष्‍ठ पत्रकार वेद प्रताप वैदिक जिस दिन पाकिस्‍तान जा रहे थे, उस दिन मेरी उनसे टेलिफोन पर बात हुई थी। वह कह रहे थे, मेरे पास 2 करोड़ लोगों का डाटा है, मैं इतना [...]

अपने शरीर को जानो, क्‍योंकि शरीर प्राचीन...
अपने शरीर को जानो, क्‍योंकि शरीर प्राचीन है: ओशो

ओशो। भलीभांति काम करना चाहिए, अच्छी तरह से। यह एक कला है, यह तप नहीं है। तुम्हें उसके साथ लड़ना नहीं है, तुम्हें उसे केवल समझना है। शरीर इतना बुद्धिमान है ... [...]

देश तोड़ने वालों को सरदार पटेल की तरह फट...
देश तोड़ने वालों को सरदार पटेल की तरह फटकारिए, न कि धर्मनिरपेक्षतावाद का राग अलापिए!

संदीप देव।करते हुए तथाकथित धर्मनिरपेक्षतावादी, बुद्धिजीवी, वामपंथी, कांग्रेसी प्रवक्‍ता, मुस्लिम नेता व मौलाना लगातार यह कहते रहते हैं कि भारत के मुसलमान भी राष्‍ट्रवादी हैं। लेकिन भारत विभाजन व देश की आजादी [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles