दुनिया के ऐसे क्रूर शासक, जिन्‍होने आम जनता को गाजर-मूली की तरह काटा!

नई दिल्‍ली। दुनिया में ऐसे तमाम शासक और नेता रहे हैं, जिनके इशारों पर खूनों की नदियां बहा दी गईं। कुछ पुराने जमाने के शासक स्वयं ही बेहद सधे योद्धा थे, जिनकी तलवारों के सामने कोई टिक नहीं पाता था, तो इस लिस्ट में कुछ नए जमाने के तानाशाहों का भी नाम है, जिन्होंने अपनी सेना के माध्यम से लाखों लोगों को मौत के घाट उतरवा दिया।

 

चंगेज खान: चंगेज खान मंगोलिया का महान योद्धा था। जिसने अपनी तलवार के दम पर समूचे एशिया को जीत लिया था। वो भारत भी आया, लेकिन सिंधु नदी के तट से दिल्ली के सुल्तान इल्तुतमिश के हार मानने के बाद वापस लौट गया। चंगेज खान ने अपने जीवन भर की लड़ाईयों में लाखों लोगों को मौत के घाट उतार दिया। उसकी निर्दयता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता था कि वो जिधर से निकलता, वहां थोड़ा सा भी विरोध होने पर आस-पास के इलाकों को भी खून से लथपथ कर देता था। उसकी इसी निर्दयता के कारण पश्चिम एशिया तक के राजाओं ने उसके सामने हार मान ली। चंगेज खान का वास्तविक नाम तेमुजिन था। जिसकी अधीनता स्वीकार करने के बाद तमाम कबीलों के राजाओं ने उसे चंगेज खान(समद्रों के राजा) की उपाधि दी। चंगेज खान ने ही प्रसिद्ध मंगोल साम्राज्य की नींव डाली। जिसका पूरी दुनिया के 22फीसदी इलाके पर कब्जा था।

तैमूर लंग: तैमूर लंग बचपन से लंगड़ा था। वो किसी राजकुमार की तरह राजवंश में नहीं जन्मा था। लेकिन लड़ाकू लोगों की सेना बनाकर उसने भारत समेत दक्षिणी, पश्चिमी और मध्य एशिया पर अपनी तलवार के दम पर साम्राज्य स्थापित किया। उसका दिल्ली पर धावा सबसे मशहूर है, जब उसने दिल्ली में एक ही दिन में लाखों लोगों को मौत के घाट उतार दिया और यमुना नदी में आस-पास के इलाकों से पानी आने की वजह नालों से रक्त भरकर नदी में गिरा। तैमूर लंग का नाम सुनते ही आज भी लोगों के रोंगटे खड़े हो जाते हैं। तैमूर लंग दूसरा चंगेज खान बनना चाहता था।

कैलीगुला उर्फ रोमन गायस सीजर: रोम का शासक। इसने खुद को भगवान घोषित कर दिया। जिसने भी मानने से इनकार किया, उसे मौत के घाट उतार दिया। इस दौरान रोम का काफी विकास हुआ, लेकिन थोड़े ही समय बाद जब ये दिमागी रूप से बीमार हुआ, तो क्रूरता की हद पार कर गया। उसकी क्रूरता का आलम यह था कि वह अपराधियों को शेर के पिंजरे में छोड़ देता था। कई बार वह अपराधियों की जीभ काटकर उन्हें शेर के पिंजरे में छोड़ देता था, ताकि अपराधी चीख न सकें। महज 4 साल के शासन में इसने हजारों लोगों को मौत के घाट उतार दिया। इसपर हॉलीवुड की एक फिल्म भी बनीं, जो इसकी क्रूरता की वजह से कई देशों में अब भी बैन है।

महमूद गजनवी: महमूद गजनवी वास्तव में एक लुटेरा था। जिसने भारत देश में 18 बार कत्लेआम मचाया। इसके रास्ते में आने वाले हर इन्सान को मौत के घाट उतार दिया जाता था। ये अधिकतर धनी जगहों पर हमले करता था। जिसमें वो ज्यादा से ज्यादा धन लूट सके। इस बीच उसने हजारों मंदिरों को तोड़ा और पुजारियों का कत्लेआम किया।

अत्तिला हूण: अत्तिला हूण (406-453) या अत्तिला होश संभालने के बाद से अपनी मौत तक हूणों का राजा था। यह हूण साम्राज्य का नेता था जो जर्मनी से यूराल नदी औरडैन्यूब नदी से बाल्टिक सागर तक फैला हुआ था। इतिहासकारों ने 'भगवान का कोड़ा' (Scourge of God.) कहा। अत्तिला ने रोम को पूरी तरह से कुचल दिया था और सेन नदी के नजदीक त्राय मैदान पर रोम को बुरी तरह हराया और पूरे नगर को नष्ट कर दिया। अत्तिला हूण के खौफ ने भारत तक में हूणों के आतंक का लोहा मनवाया। अत्तिला के सैनिकों ने भारत में गुप्त वंश की जड़े मिटा दी और लगातार भारत में लूटापाट करते रहे। अत्तिला के नाम से पूरा पश्चिमी-दक्षिणी एशिया के साथ ही पूरा यूरोप कांपा करता था। दुनिया में मंगोलों के बाद हूणों को सबसे ज्यादा निर्दयी माना जाता है।

इवॉन-द टेरिबल (रूसी जार): रयूरिकोविच वंश 16वीं सदी के मध्य में रूस पर राज्य करने वाले ज़ा का नाम इवॉन था। जिसे सारी दुनिया ‘इवान द टेरिबल’ के नाम से जानती है। बहुत कम उम्र में पिता का साया उठ जाने की वजह से बचपन को अभाव में गुजारा। लेकिन बड़े होते ही सभी विरोधियों को मौत के घाट उतार दिया। इसके आतंक से कोई अछूता न रहा। इसके राज में तमाम दुर्घटनाएं हुई। मॉस्को शहर कई बार जला और बर्बाद हुआ। इसके सर अपने ही बेटे की पीटकर जान लेने का भी कलंक है। इसका एक बेटा आया के हाथों से छूटने से नदी में गिरकर मर गया। जिसके इसके पापों की वजह समझा गया।

एडोल्फ हिटलर: एक मजदूर के तौर पर हिटलर शुद्ध रक्त आर्य के सिद्धांत पर जर्मनी को दुनिया का सिरमौर बनाना चाहता था। नाजी पार्टी के नाम लाखों की हत्याओं का कलंक है। हिटलर के आदेश पर लाखों लोगों को रसायनिक हथियारों और गोलियों के दम पर मौत के घाट उतार दिया गया। हिटलर ने लाखों यहूदियों, कुर्दों का नरसंहार कराया। दुनिया को दूसरे विश्वयुद्ध में झोंकने वाले हिटलर के नाम से आज भी पूरी दुनिया खौफ खाती है। यही वजह है कि हिटलर से जुड़ी तमाम चीजों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

रोबेसपियरे: फ्रांस की क्रांति के दौरान काफी समय तक आतंक का दूसरा नाम। उसने पूरे देश में विरोधियों की सामूहिक हत्याएं करवाई। 18वीं सदी में रोबेसपियरे ने छोटे से जीवन में ही हजारों(कई आंकड़ों में लाख से ऊपर) लोगों की हत्याए कराई। खुद ही हथियारों के साथ लड़ाई के मैदान में मोर्चा संभालना और सरकारी बैठकों में हिस्सा लेने प्रिय सगल था। इसके आतंक का ही परिणाम था, कि जब इसे सत्ता से हटाया गया, तो बिना किसी मुकदमे के गुलोटिन से इसका सर धड़ से अलग कर दिया गया।

व्लैड ड्रैकुला: ड्रैकुला, भयानक चेहरा, बड़े और पैने दांतों से आदमी का खून पीने वाला शैतान। इस का नाम लेते ही बदन में डर के मारे सिहरन सी दौड़ जाती है। आपने फिल्मों में ही ड्रैकुला का नाम सुना होगा, लेकिन उसकी प्रेरणा है व्लैड ड्रैकुला। जो वेलेंसिया का राजकुमार था। हालांकि ये खून नहीं पीता था, लेकिन लोगों के खून बहते हुए देखना इसका प्रिय शगल था। ये लोगों को घोड़ों के टापुओं से कुचल देता था। और घोड़ों के पैरों को आदमी के शरीर से आर-पार कर देता था। ये व्लैड-द इंपलर उपनाम से मशहूर है। और दुनिया का सबसे बड़ा खूनी समझा जाता है। इसने वेलेंसिया की कुल आबादी के 20 फीसदी लोगों यानि एक लाख से अधिक लोगों को ऐसी यातनाएं देकर मौत के घाट उतारा, जिनके बारे में लोग आज भी जानकर सिहर जाते हैं। सन 1476 में इसकी मौत के बाद लोगों ने राहत की सांस ली।

लियोपॉर्ड द्वितीय: लियोपॉर्ड द्वितीय बेल्जियम का राजा था। इसने कांगों में लाखों लोगों को मौत के घाट उतरवा दिया। लियोपॉर्ड द्वितीय ने 1865 में अपनी मौत से पहले कांगो को फ्री स्टेट घोषित करने की कोशिश की। इसने केंद्रीय अफ्रीका के कांगों देश में 14 बार नरसंहार कराए। जिसकी वजह से ये बेहद क्रूर शासक के तौर पर जाना जाता है।

साभार: आईबीएन खबर

मूल लिंक: http://khabar.ibnlive.com/photogallery/352963.html

Web Title: Most Cruel Rulers Ever in History


प्रधानमंत्री के नाम पत्र: ओबामा द्वारा ...
प्रधानमंत्री के नाम पत्र:  ओबामा द्वारा भारत को दी गई नसीहत मुझे स्‍वीकार नहीं

नई दिल्‍ली। हिंदू धर्म को दी गई नसीहत कम से कम मुझे तो स्‍वीकार नहीं है। मैं मोदी सरकार को सलाह देना चाहता हूं कि यदि आपने धर्मांतरण विरोधी कानून, गो हत्‍या बंदी कानून और [...]

कविता: ओह मां !
कविता: ओह मां !

संजू मिश्रा। ओह मां !सा भी नही है। माँ के जाते वह बचपन भी नही है।
गुस्से में भी प्यार,

मैं शादीशुदा जिंदगी में बहुत खुश हूं: कर...
मैं शादीशुदा जिंदगी में बहुत खुश हूं: करीना कपूर

सैफ अली खान से शादी करने के बाद बॉलीवुड में करियर प्रभावित होने के सवाल पर करीना कपूर ने कहा है कि वह अन्य अभिनेत्रियों के विपरीत शादी करके खुश हैं. उनका कहना है कि वह अब भी सलमान [...]

बिहार चुनाव में भाजपा के खलनायक: भाजपा क...
बिहार चुनाव में भाजपा के खलनायक: भाजपा के खिलाफ प्रोपोगंडा वार को समाप्‍त करने की जगह हवा दे रहे हैं अरुण जेटली!

‪‎प देव‬।ही लिखा था, बिहार चुनाव खत्म असहिष्णुता की नौटंकी खत्म! अब कहाँ कोई पुरस्कार लौटा रहा है? किस टीवी चैनल पर बहस चल रहा है? कौन-से अखबार के पन्ने रंगे जा [...]

वंदेमातरम और जन गण मन का इतिहास: सच्‍चाई...
वंदेमातरम और जन गण मन का इतिहास: सच्‍चाई, सोच और साजिश

संदीप देव।न वायसराय लॉर्ड कर्जन ने हिंदू-मुसलमान जनसंख्‍या को आधार बनाकर बंगाल का विभाजन कर दिया। पूर्वी बंगाल मुस्लिम बहुल और पश्चिम बंगाल हिंदू बहुल। इतिहास में इसे बंग-भंग के नाम [...]

'स्‍वराज हमारा जन्‍मसिद्ध अधिकार है' का ...
'स्‍वराज हमारा जन्‍मसिद्ध अधिकार है' का नारा देने वाले तिलक को देश ने पहली बार सन् 1964 में याद किया!

संदीपदेव‬।ोस ने अपनी पुस्‍तक 'द इंडियन स्‍ट्रगल' में लिखा है, ''भारतीय राजनीति में सिर्फ तिलक गांधी के प्रतिद्वंद्वी हो सकते थे। उनकी मत्‍यु ने गांधी का काम बहुत आसान कर दिया।'' [...]

आईआईटी में ग्रामीण विकास पर कोई भारतीय स...
आईआईटी में ग्रामीण विकास पर कोई भारतीय संत नहीं बोल सकता! आखिर किस मानसिक दिवालिएपन से गुजर रहे हैं वामपंथी पत्रकार?

आधीआबादी ब्‍यूरो, नई दिल्‍ली।क्रम में बाबा रामदेव को अतिथि क्‍या बना लिया, वामपंथी पत्रकारों के मानसिक दिवालिएपन का दर्शन होना शुरू हो गया। आईआईटी में विषय था, 'ग्रामीण [...]

धर्म नहीं, राष्‍ट्र है व्‍यक्ति की सही प...
धर्म नहीं, राष्‍ट्र है व्‍यक्ति की सही पहचान!

संदीप देव।ं (सिर्फ कटटर लिख रहा हूं, इसलिए उदार मुस्लिम इससे खुद को न जोडें) से कहना चाहता हूं कि जहां से इस्‍लाम निकला था, वह देश ही जब धर्म से अधिक राष्‍ट्र [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles