नई जानकारी | शोध

दिमाग तेज करना है तो सीखें दो भाषा!

आईएएनएस। वाशिंगटन। अगर आप अपना दिमाग तेज करना चाहते हैं, तो दो भाषाएं सीखें क्योंकि एक नए शोध में यह बात सामने आई है कि दो भाषा सीखने वालों का दिमाग अन्य की तुलना में तेज होता है। ऐसा मस्तिष्क के कार्यकारी नियंत्रण क्षेत्र में ग्रे मैटर के अधिक जमाव के कारण होता है। इससे पहले माना जाता था कि दो भाषा सीखने से बच्चों में भाषा के विकास में विलंब होता है, क्योंकि इसके लिए उन्हें दो शब्दावलियों को विकसित करना पड़ता है। शोध के लिए शोधकर्ताओं ने अमेरिकन साइन लैंग्वेज (एएसएल) व स्पोकन इंग्लिश के द्विभाषियों तथा एक भाषा के जानकारों के ग्रे मैटर के बीच तुलना की।

Read more...

आज विज्ञान ओम की शक्ति को पहचान रहा है जबकि हमारे ऋषि-मुनी, योगी तो पहले ही इस तथ्य को जान चुके थे!

आधी आबादी ब्‍यूरो। वेदों में ओम (ऊॅ) को शब्दब्रह्म कहा गया है। यह तथ्य भी उल्लेखित है कि तेजस तत्व के अधिष्ठाता भगवान भास्कर की तेज ऊर्जा के संग निकलने वाली ध्वनि में ओम स्वर उच्चरित होता है। अब विज्ञान ने भी इसकी पुष्टि कर दी है कि सूर्य से ध्वनि निकलती है और इस ध्वनि में ओम उच्चारण सुनाई देता है।

Read more...

पहली ही कोशिश में मंगल तक पहुंचने वाला पहला देश बना भारत

बेंगलुरु। अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में भारत ने नायाब उपलब्धि हासिल की है। भारतीय अनुसंधान संस्थान (इसरो) का मार्स ऑर्बिटर मिशन यानी मंगलयान सुबह 8 बजे करीब मंगल की कक्षा में प्रवेश कर गया। यह उपलब्धि हासिल करने के बाद भारत दुनिया में पहला ऐसा देश बन गया, जिसने अपने पहले ही प्रयास में यह सफलता हासिल की है। एशिया से कोई भी देश यह सफलता हासिल नहीं कर सका है। चीन और जापान के अब तक प्रयास विफल रहे हैं, जबकि अमेरिका को मंगल तक पहुंचने के लिए सात प्रयास करने पड़े थे। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा और मावेन की टीम ने भारतीय यान के मंगल की कक्षा में सफलतापूर्वक पहुंचने के लिए इसरो को बधाई दी है। गौरतलब है कि 450 करोड़ रुपये की लागत वाला एमओएम बहुत कम खर्च वाला मिशन है। नासा के मंगल यान मावेन की लागत का यह दसवां हिस्सा है।

Read more...

मोबाइल से केवल कॉल नहीं होता, मुसीबत में मददगार भी साबित होता है यह

मोबाइल केवल बात करने के लिए ही नहीं होता... और न ही यह केवल गेम खेलने या ट्वीट करने के लिए ही होता है...। यह केवल फेसबुक पर पोस्‍ट करने, चैटिंग करने या ई मेल चेक करने के भी नहीं होता, बल्कि यह कई बार गहरी मुसीबत से भी बचाता है। यह मुसीबत केवल किसी को फोन कॉल करने भर से खत्‍म होने वाला नहीं होता, जिसके लिए फोन कर लिया, बल्कि ऐसा होता है जो किसी मित्र की सहायता से ही दूर हो सकता है। तो सच्‍चे अर्थों में आज मोबाइल आपका सबसे बड़ा दोस्‍त, सबसे बड़ा हमदम साबित हो सकता है। बस इसके बारे में थोड़ी-सी और जानकारी जुटा लीजिए, जो यहां आपको दी जा रही है।

Read more...

एड्स से बचाएगा गाय का दूध!

गाय के दूध को बहुत पौष्टिक होता है. भारत में सदियों से इसके फायदों की बात की जाती रही है. यहां तो नवजात बच्चों को भी गाय का दूध पिलाया जाता है। अब पता चला है कि यह एचआईवी वायरस से भी निपट सकता है.गाय के दूध पर यह रिसर्च ऑस्ट्रेलिया में की गई है. रिसर्च के नतीजे आने के बाद कहा गया है कि गाय के दूध से एचआईवी वायरस पर असर करने वाली क्रीम या जेल बनाया जा सकता है.

Read more...

तो कौन-सी गलत बात कह दी बाबा रामदेव ने, ...
तो कौन-सी गलत बात कह दी बाबा रामदेव ने, राजदीप सरदेसाई और तीस्‍ता सीतलवाड़ जैसों को क्‍या बिना लॉबिंग के पद्म पुरस्‍कार मिला था?

संदीप देव, नई दिल्‍ली। हमलावर है। पद्म पुरस्‍कारों को लेकर जो बात सत्‍ता के गलियारे से लेकर देश की जनता तक जानती है, उसे यदि स्‍वामी रामदेव ने कह दिया [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: सैनिटरी पैड बनाती थीं, अब पाथती हैं उपले

सीटू तिवारी पटना से, बीबीसी हिन्दी डॉटकॉम के लिए।के बाद उससे जुड़ी महिलाएँ बेरोज़गार हो गई हैं. लेकिन काम बंद [...]

पति-पत्‍नी एक-दूसरे को नग्‍न देखकर आखिर ...
पति-पत्‍नी एक-दूसरे को नग्‍न देखकर आखिर क्‍या सोचते और महसूस करते हैं!

क्या आपने सेाचा है कि आपके पार्टनर को उस समय कैसा महसूस हुआ होगा जब आपने पहली बार उनके सामने कपड़े उतारे होंगे. महिला और पुरुष दोनों की ही अपने-अपने पार्टनर के बारे में कई फैंटसीज होती हैं. [...]

आखिर कौन हैं 'भंगी', 'मेहतर', 'दलित' और ...
आखिर कौन हैं 'भंगी', 'मेहतर', 'दलित' और 'वाल्‍मीकि'?

संदीप देव।ों ने जिन 'भंगी' और 'मेहतर' जाति को अस्‍पृश्‍य करार दिया, जिनका हाथ का छुआ तक आज भी बहुत सारे हिंदू नहीं खाते, जानते हैं वो हमारे आपसे कहीं बहादुर [...]

नरेंद्र मोदी ज्‍यादा 'आम' हैं या अरविंद ...
नरेंद्र मोदी ज्‍यादा 'आम' हैं या अरविंद केजरीवाल, आप खुद पढकर बताएं!

संदीप देव। नरेंद्र मोदी का पूरा नाम नरेंद्र दामोदरदास मोदी है। 17 सितंबर 1950 को उनका जन्म वाडनगर के एक छोटे से कस्बे में हुआ था। पिता दामोदर दास और मां हीराबेन की छह [...]

सुप्रीम कोर्ट के बड़े बेंच के निर्णय से ज...
सुप्रीम कोर्ट के बड़े बेंच के निर्णय से जस्टिस कुरियन की निष्‍पक्षता संदेह के घेरे में! ‎

संदीपदेव‬।ं सुप्रीम कोर्ट के बड़े बेंच ने साफ कर दिया कि क्‍यूरेटिव पेटिशन पर दोबारा सुनवाई नहीं होगी। सुप्रीम कोर्ट ने याकूब मेनन की फांसी की सजा को बरकरार रखा है। सर्वोच्च अदालत ने याकूब मेनन [...]

कभी स्‍वामी रामदेव पर हमला कर चुके वामपं...
कभी स्‍वामी रामदेव पर हमला कर चुके वामपंथी व कांग्रेसी उनकी जेड श्रेणी सुरक्षा से हैं असहज!

संदीप देव। गृहमंत्रालय ने जिस दिन जेड श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराई, उस दिन वामपंथी मीडिया मातम मना रहा था। सबसे अधिक दुखी पूर्व वित्‍त मंत्री पी.चिदंबरम के 5000 करोड़ रुपए [...]

आईआईटी में ग्रामीण विकास पर कोई भारतीय स...
आईआईटी में ग्रामीण विकास पर कोई भारतीय संत नहीं बोल सकता! आखिर किस मानसिक दिवालिएपन से गुजर रहे हैं वामपंथी पत्रकार?

आधीआबादी ब्‍यूरो, नई दिल्‍ली।क्रम में बाबा रामदेव को अतिथि क्‍या बना लिया, वामपंथी पत्रकारों के मानसिक दिवालिएपन का दर्शन होना शुरू हो गया। आईआईटी में विषय था, 'ग्रामीण [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles