आज विज्ञान ओम की शक्ति को पहचान रहा है जबकि हमारे ऋषि-मुनी, योगी तो पहले ही इस तथ्य को जान चुके थे!

आधी आबादी ब्‍यूरो। वेदों में ओम (ऊॅ) को शब्दब्रह्म कहा गया है। यह तथ्य भी उल्लेखित है कि तेजस तत्व के अधिष्ठाता भगवान भास्कर की तेज ऊर्जा के संग निकलने वाली ध्वनि में ओम स्वर उच्चरित होता है। अब विज्ञान ने भी इसकी पुष्टि कर दी है कि सूर्य से ध्वनि निकलती है और इस ध्वनि में ओम उच्चारण सुनाई देता है।

 

भौतिकी विभाग (आइआइटी बीएचयू) के प्रो. बीएन द्विवेदी बताते हैं कि यूरोपियन स्पेस एजेंसी और नेशनल एयरोनाटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) की संयुक्त प्रयोगशाला सोलर हिलियोस्फेरिक आब्जर्वेटरी (सोहो) ने संयुक्त रूप से धरती से 15 लाख किलोमीटर दूर से उपकरणों के सहारे सूर्य से निकलने वाली ध्वनि पकड़ी। इसके लिए उपयोग में लाई गई माइकल्सन डापलर इमेजर विधि। सोहो प्रयोगशाला से जुड़े प्रो. द्विवेदी बताते हैं कि यह बड़ी उपलब्धि है। महीनों के विश्लेषण से यह निष्कर्ष निकला कि यह ध्वनि ओम के उच्चारण की तरह ही है, जो भारतीय वैदिक मनीषा का आधार है।

प्रो. द्विवेदी यह भी जोड़ते हैं कि भले ही विज्ञान अपनी पुष्टि करता रहे लेकिन भारतीय वैदिक ज्ञान तो विज्ञान के इन तथ्यों को पहले ही जानता रहा है। हालांकि बदलते दौर में अपनी वैदिक ज्ञान धारा को नवीन आयाम देने की जरूरत है जिसमें विज्ञान की भूमिका हो सकती है।

इसी क्रम में संस्कृत विद्या धर्मविज्ञान संकाय (बीएचयू) के पूर्व अध्यक्ष प्रो. हृदय रंजन शर्मा भी कहते हैं कि आज विज्ञान ओम की शक्ति को पहचान रहा है जबकि हमारे ऋषि-मुनी, योगी तो पहले ही इस तथ्य को जान चुके थे। वेदों में ओमकार को ही नित्य कहा गया है।

बताते हैं कि सूर्य से निकलने वाली ध्वनि चार प्रकार की है। बैखरी नामक ध्वनि सुनी जा सकती है। इसके अतिरिक्त सूक्ष्म ध्वनियां भी निकलती हैं जिन्हें वेदों में मध्यमा, पश्यंती और परा कहा गया है। ये सभी ध्वनियां ब्रह्मांड में गूंजती हैं। इन ध्वनियों को योगियों ने सुना है और इसके प्रमाण भी हैं।

Web Title: The Power of Om-1 

Keywords: वैदिक ज्ञान| विज्ञान| ओम| भारतीय वैदिक ज्ञान|TheTrue Indian History|The Power of Om



किस ऑफ लव वालों पहले लव का अर्थ समझ लो, ...
किस ऑफ लव वालों पहले लव का अर्थ समझ लो, फिर सड़क पर रतिक्रिया करना!

संदीप देव।ी संस्‍कृति की समझ नहीं रखते, वह दूसरे देश की संस्‍कृति को समझेंगे, यह मानना भी निरी मूर्खता है। हां, वो दूसरे देश की संस्‍कृति की अंध नकल जरूर कर सकते [...]

सेक्‍यूलर हिंदू अपने डीएनए की जांच अवश्‍...

संदीप देव। हिंदू संगठनों को सुनियोजित तरीके से बदनाम किया जाता है। सुन्नी उलेमा काउंसिल के महासचिव की अगुवाई में मुस्लिम उलेमा के एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी इंद्रेशजी से मुलाकात कर [...]

पत्रकार-दलाल-नौकरशाह-कारपोरेट गठजोड़ पिछ...

संदीप देव।लय में पिछले कई वर्षों से जिस तरह जासूसी का खेल चल रहा था, उसका पर्दाफाश यह दर्शाता है कि मीडिया-दलाल-नौकरशाह-कंपनियों का नेक्‍सस किस तरह गहराई तक देश को घुन की तरह खा [...]

छोटे कपड़े पहनकर आइटम सांग करना मुझे पसं...
छोटे कपड़े पहनकर आइटम सांग करना मुझे पसंद नहीं: राधिक आप्‍टे

बॉलीवुड फिल्म हंटर में मुख्‍य भूमिका अदा करने वाली खूबसूरत अदाकार  राधिका आप्‍टे का कहना है कि वो कभी ऐसे आइटम सांग नहीं करेंगी जो महिलाओं की छवि खराब करे.

दुनिया की सबसे वैज्ञानिक लिपि है देवनागर...
दुनिया की सबसे वैज्ञानिक लिपि है देवनागरी लिपि

‪संदीपदेव‬।निक लिपि है देवनागरी लिपि। देखिए, देवनागरी का पहला अक्षर है 'अ' अर्थात 'अज्ञान' और देवनागरी का आखिरी अक्षर है 'ज्ञ' अर्थात 'ज्ञान'। देवनागरी मतलब- ' [...]

बाल विवाह बलात्‍कार से भी बदतर है...
बाल विवाह बलात्‍कार से भी बदतर है

नयी दिल्ली: दिल्‍ली के अदालत ने बाल विवाह को बलात्कार से भी बदतर बुराई बताता है. अदालत ने कहा इसे समाज से पूरी तरह समाप्त होना चाहिए. कार्ट ने कम उम्र में बच्ची का विवाह करने वालों [...]

एक शौचालय ने बदल दी महिलाओं की जिंदगी!...
एक शौचालय ने बदल दी महिलाओं की जिंदगी!

संदीप देव, हिरमथला गांव, मेवात, हरियाणा।ंट' यानी 'स्‍वच्‍छता अभियान जनांदोलन' की शुरुआत की थी, लेकिन 'सुलभ इंटरनेशनल' देश की [...]

आम जनता तक सही इतिहास पहुंचाना है तो समय...
आम जनता तक सही इतिहास पहुंचाना है तो समय बहुत कम है!

‪‎संदीपदेव‬।यूट ऑफ हेरिटेज रिसर्च एंड मैनेजमेंट के प्रोफेसर मक्‍कखन लाल जी। आधुनकि समय में मक्‍कखन जी देश के प्रतिष्ठित इतिहासकार हैं। इनकी पांच खंडों में प्रकाशित पुस्‍तक-'इंडियन हिस्‍ट्री' भारतीय इतिहास पर आधुनिक समय [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles