भारत में कम हुआ HIV का प्रकोप, एड्स से होने वाली मौतों में 41 फीसदी की कमी

भाषा, नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि भारत वर्ष 2000 और 2014 के बीच एचआईवी संक्रमण के नए मामलों में 20 प्रतिशत से ज्यादा की कमी लाकर इस वायरस के प्रकोप को नियंत्रित करने में सफल रहा है। संयुक्त राष्ट्र द्वारा इस संबंध में जारी की गई एक रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2030 तक एड्स की महामारी को खत्म करने की दिशा में अग्रसर है।
इस रिपोर्ट का शीषर्क ‘किस तरह एड्स ने सबकुछ बदल दिया- सहस्त्राब्दी, विकास, लक्ष्य 6-15 वर्ष, एड्स पर प्रतिक्रिया से उम्मीद के 15 सबक’ है।

 

इस रिपोर्ट में कहा गया कि एचआईवी के प्रसार को रोकने के लिए जो लक्ष्य सहस्त्राब्दी विकास लक्ष्यों (मिलेनियम डेवलपमेंट गोल्स) के तहत निर्धारित किए गए थे, विश्व ने उनसे कहीं आगे के लक्ष्य हासिल किए हैं।
रिपोर्ट में कहा गया कि एचआईवी के नए संक्रमणों में 35 प्रतिशत की और एड्स से जुड़ी मौतों में 41 प्रतिशत की कमी आई है। वहीं एचआईवी के प्रति वैश्विक प्रतिक्रिया के चलते वर्ष 2000 के बाद से अब नए संक्रमण के 3 करोड़ और एड्स से जुड़ी मौतों के लगभग 80 लाख मामलों पर रोक लगाई जा सकी।

Web title: new hiv infections down by 20 per cent in india says un

Keywords: aids|India|New HIV Infections|UN

पाइथागोरस, ईसा मसीह और मूसा, सभी ने भारत...
पाइथागोरस, ईसा मसीह और मूसा, सभी ने भारत से लिया है ज्ञान: ओशो

ओशो। जब भी कोई सत्‍य के लिए प्‍यासा होता है, अनायास ही वह भारत में उत्‍सुक हो उठता है। अचानक पूरब की यात्रा पर निकल पड़ता है। और यह केवल आज की ही बात नहीं है। यह उतनी ही [...]

औरंगजेब‬: भारत विभाजन पर पहला हस्‍ताक्षर...
औरंगजेब‬: भारत विभाजन पर पहला हस्‍ताक्षर!

‪‎संदीप देव‬।ं। उन्‍होंने गुलाम वंश की शासक रजिया सुल्‍तान पर बीबीसी हिंदी के लिए एक रिपोर्ट लिखी है। रजिया या उनके पिता इल्‍तुतमिश आदि सभी के लिए कितने सम्‍मान से उन्‍होंने लिखा है। 'आप' [...]

महिलाओं को कभी नहीं मिल सकती है पूरी खुश...
महिलाओं को कभी नहीं मिल सकती है पूरी खुशी: इंदिरा नूयी

न्यूयॉर्क। विश्व की सबसे शक्तिशाली महिलाओं में शुमार पेप्सीको की भारतीय मूल की मुख्य कार्यकारी इंदिरा नूयी ने स्वीकार किया कि ऑफिस के काम और घर के जीवन के बीच संतुलन बिठाना मुश्किल हो गया है और महिलाओं को सब [...]

मसीह, मोहम्‍मद और मार्क्‍सवादियों का दर्...
मसीह, मोहम्‍मद और मार्क्‍सवादियों का दर्द!

संदीप देव। मार्क्‍सवादियों का दर्द क्‍या है, इसे कुछ ऐसे समझिए! मसीहवादियों ने पूरे यूरोप को रौंद दिया। प्राचीन यूनान सभ्‍यता आज कहीं नहीं है, उसे वर्तमान रूप में आप ग्रीस नाम से [...]

महिला दिवस की औपचारिकताएं छोडि़ए, पहले उ...
महिला दिवस की औपचारिकताएं छोडि़ए, पहले उन्‍हें न्‍याय दिलाने के लिए कदम उठाइए!

संदीप देव। करने वाला इंसान हूं और हर हाल में कानून का पालन करता हूं। लेकिन जिस तरह से नागालैंड के दीमापुर में घटनाएं हुई वह कानून नहीं, समाज के अंदर का सवाल है। फास्‍ट [...]

आजाद भारत का इतिहास राजनैतिक हत्‍याओं का...
आजाद भारत का इतिहास राजनैतिक हत्‍याओं का इतिहास है, जिसमें सभी दल शामिल हैं!

संदीप देव।ना पढ़ता जा रहा हूं, मेरी तकलीफ उतना ही बढ़ती जा रही है। मैंने आप सभी को '' अपना वास्‍तविक इतिहास जानो'' मुहिम का हिस्‍सा बनाना चाहा था, लेकिन [...]

याकूब मेनन के जनाजे में शामिल हर व्‍यक्त...
याकूब मेनन के जनाजे में शामिल हर व्‍यक्ति अलगाववादी या फिर आतंक समर्थक था!

संदीपदेव‬।ल तथागत राय ने सही ट्वीट किया है कि याकूब की मैय्यत में शामिल हर व्यक्ति आतंकवादी हो सकता है। उन पर आईबी को नजर रखनी चाहिए। इतिहास गवाह है कि सन् 1937 [...]

मुझे गाली देने से पहले, अपने संगठन के मह...
मुझे गाली देने से पहले, अपने संगठन के महापुरुषों के लिखे को ही ठीक से पढ लें!

संदीप देव।को हमलावर दिखूुंगा तो केवल इसलिए कि मैं सच को जानता, समझता और उसे उसी रूप में लिखने की हिम्‍मत रखता हूं। सच किसी के हिसाब से नहीं चलता। मीडिया, कांग्रेस, [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles