भारत में कम हुआ HIV का प्रकोप, एड्स से होने वाली मौतों में 41 फीसदी की कमी

भाषा, नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि भारत वर्ष 2000 और 2014 के बीच एचआईवी संक्रमण के नए मामलों में 20 प्रतिशत से ज्यादा की कमी लाकर इस वायरस के प्रकोप को नियंत्रित करने में सफल रहा है। संयुक्त राष्ट्र द्वारा इस संबंध में जारी की गई एक रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2030 तक एड्स की महामारी को खत्म करने की दिशा में अग्रसर है।
इस रिपोर्ट का शीषर्क ‘किस तरह एड्स ने सबकुछ बदल दिया- सहस्त्राब्दी, विकास, लक्ष्य 6-15 वर्ष, एड्स पर प्रतिक्रिया से उम्मीद के 15 सबक’ है।

 

इस रिपोर्ट में कहा गया कि एचआईवी के प्रसार को रोकने के लिए जो लक्ष्य सहस्त्राब्दी विकास लक्ष्यों (मिलेनियम डेवलपमेंट गोल्स) के तहत निर्धारित किए गए थे, विश्व ने उनसे कहीं आगे के लक्ष्य हासिल किए हैं।
रिपोर्ट में कहा गया कि एचआईवी के नए संक्रमणों में 35 प्रतिशत की और एड्स से जुड़ी मौतों में 41 प्रतिशत की कमी आई है। वहीं एचआईवी के प्रति वैश्विक प्रतिक्रिया के चलते वर्ष 2000 के बाद से अब नए संक्रमण के 3 करोड़ और एड्स से जुड़ी मौतों के लगभग 80 लाख मामलों पर रोक लगाई जा सकी।

Web title: new hiv infections down by 20 per cent in india says un

Keywords: aids|India|New HIV Infections|UN

Beefban: जिसे ये अपने भोजन का अधिकार बता...
Beefban: जिसे ये अपने भोजन का अधिकार बता रहे हैं, वह किसी प्राणी के जीवन का अधिकार भी है?

संदीप देव।ै कि भारत में दंगे की शुरुआत किस कारण से हुई थी? भारत में दंगे की शुरुआत ही गो हत्‍या के मुददे पर शुरू हुई। दिल्‍ली सल्‍तनत से लेकर देश की आजादी तक हिंदू- [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: सैनिटरी पैड बनाती थीं, अब पाथती हैं उपले

सीटू तिवारी पटना से, बीबीसी हिन्दी डॉटकॉम के लिए।के बाद उससे जुड़ी महिलाएँ बेरोज़गार हो गई हैं. लेकिन काम बंद [...]

औरंगजेब ने हैदराबाद का नाम बदलकर 'दारुल ...
औरंगजेब ने हैदराबाद का नाम बदलकर 'दारुल जिहाद' रखा था

संदीपदेव‬।वैसी सबसे अधिक ‪#‎Aurangzeb‬ के लिए चिल्‍ला रहा है। आप जानते हैं क्‍यों? वास्‍तव में औरंगजेब ने जब हैदराबाद को जीता था तो उसने इस [...]

आखिर कौन हैं 'भंगी', 'मेहतर', 'दलित' और ...
आखिर कौन हैं 'भंगी', 'मेहतर', 'दलित' और 'वाल्‍मीकि'?

संदीप देव।ों ने जिन 'भंगी' और 'मेहतर' जाति को अस्‍पृश्‍य करार दिया, जिनका हाथ का छुआ तक आज भी बहुत सारे हिंदू नहीं खाते, जानते हैं वो हमारे आपसे कहीं बहादुर [...]

बेहतर sex-life के लिए आजमाएं इन घरेलू न...
बेहतर sex-life  के लिए आजमाएं इन घरेलू नुस्‍खों को

पुरुषों में कमजोरी की समस्या आजकल आम है। नपुंसकता, स्वप्नदोष, धातु दोष आदि ऐसी समस्याएं हैं जो वैवाहिक जीवन को बहुत अधिक प्रभावित करती हैं। असंयमित खान-पान या शरीर में पोषक तत्वों के कारण या अन्य गलत [...]

बचपन से ही बोल्‍ड ख्‍यालात की थी कंगना र...
बचपन से ही बोल्‍ड ख्‍यालात की थी कंगना रनौत

कंगना रनौत भले ही फिल्मफेयर और नैशनल अवॉर्ड जीतने के बाद बॉलिवुड की क्वीन बन गई हों, लेकिन उनके लिए मायानगरी का सफर जरा-भी आसान नहीं रहा है। अपने ख्वाब को पूरा करने के लिए कंगना को बहुत [...]

स्‍त्री यौन स्‍ट्रोक: स्‍त्री का पावर स्...
स्‍त्री यौन स्‍ट्रोक: स्‍त्री का पावर स्‍ट्रोक

आधी आबादी ब्‍यूरो।ीरांगना महिलाओं का आसन है, इसलिए साधारण महिलाओं को इस आसन को न करने की सलाह दी जाती है। इस पोजीशन को वही स्त्री हैंडल कर सकती है, जो [...]

हाशिमपुरा ने मुसलमानों को सोचने का अवसर ...

संदीप देव। मामले में अदालत का फैसला आया। पीडि़तों को इंसाफ नहीं मिला। लेकिन लाख टके का सवाल यह है कि खुद को धर्मनिरपेक्षता के झंडबदार के रूप में खुद को पेश करने वाली कांग्रेस और उसी कांग्रेस [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles