कामसूत्र

स्‍त्री यौन स्‍ट्रोक: स्‍त्री का पावर स्‍ट्रोक

आधी आबादी ब्‍यूरो। यह बेहद मुश्किल पोजीशन है। यह वीरांगना महिलाओं का आसन है, इसलिए साधारण महिलाओं को इस आसन को न करने की सलाह दी जाती है। इस पोजीशन को वही स्त्री हैंडल कर सकती है, जो कद-काठी से मजबूत, वीरांगना जैसी व सेक्स के प्रति अधिक उत्साही हो। इस आसन में योनि का लिंग में प्रवेश आसान नहीं होता, और प्रवेश के बाद भी तीव्र घर्षण से दर्द का अहसास होता है। इस पोजीशन में स्त्रियों की स्थिति ऐसी होती है कि उनके मुंह से अपने आप सिसकारियां, चिल्‍लाहट, आह-ऊह की आवाज निकलती रहती है। संभोग समाप्‍त होने पर  उसे एक थकान भरी मस्‍ती हासिल होती है।

Read more...

स्‍त्री यौन स्‍ट्रोक: स्‍त्री का स्‍ट्रोक, पुरुष का नियंत्रण

आधी आबादी ब्‍यूरो। संभोग के इस पोजीशन में कुछ ऐसे आसनों का वर्णन किया जाएगा, जिसमें स्‍ट्रोक तो पुरुष को लगाना पड़ता है, लेकिन सेक्‍स को पूरी तरह से स्‍त्री नियंत्रित करती है। इसमें आनंद दोनों को बराबर मिलता हैा संभोग की इस कला में पुरुष को खुद के स्‍ट्रोक से अधिक अपनी महिला साथी के नियंत्रण में रहने में मजा आता है।

Read more...

सेक्स के दौरान कुछ नया और रोमांचक किया जाना महिलाओं को खूब भाता है!

सेक्‍स संबंध बनाते वक्‍त महिलाएं किसी पुरुष से क्‍या चाहती हैं, यह हमेशा से ही शोध का विषय रहा है. इस पर पहले भी काफी कुछ लिखा जा चुका है. इसी मुद्दे पर ताजातरीन रिसर्च के नतीजे सामने आए हैं. सेक्‍स से जुड़े विषय के एक्‍सपर्ट्स के अलावा 700 से ज्‍यादा महिलाओं ने खुलकर अपने विचार व्‍यक्‍त किए हैं. महिलाएं बिस्‍तर पर क्‍या चाहती हैं मर्द से, जानिए वो 12 राज...

Read more...

स्‍त्री यौन स्‍ट्रोक: विपरीत रति, नए आनंद की पहल

यह पोजीशन स्‍त्रियों के लिए सबसे आरामदायक और सरल पोजीशन है। एक तो इसमें मिशनरी आसन ( पुरुष ऊपर व स्‍त्री नीचे) की नीरसता दूर होती है, दूसरा इसमें संभोग को स्‍त्री नियंत्रित करती है, जिससे उसे भी चरम सुख मिलता। साथ ही संभोग के दौरान स्त्रियों को होने वाला दर्द भी इसमें नहीं होता। दर्द होने पर स्‍त्री स्‍ट्रोक को अपने अनुकूल संचालित कर सकती हैा

Read more...

स्‍त्री यौन स्‍ट्रोक: जब संभोग के समय ऊपर हो स्‍त्री!

कामसूत्र में आचार्य वात्‍स्‍यायन ने 'काम' को एक कला कहा है। स्‍त्री पुरुष इस कला को जितना अपने दांपत्‍य जीवन में उतारते हैं, उनका दांपत्‍य जीवन उतना ही मधुर होता चला जाता है। आधीआबादी आचार्य वात्‍स्‍यायन के कामसूत्र को आधुनिक शब्‍दावली के साथ पाठकों के समक्ष लेकर आया है। इसके लिए आधीआबादी डॉट कॉम की टीम ने सेक्‍स एक्‍सपर्ट, यूरोलॉजिस्‍ट, स्‍त्री रोग विशेषज्ञ, मनोचिकित्‍सक एवं सेक्‍स के क्षेत्र में अनुभव को आधार बनाकर काम करने वाले कई विशेषज्ञों से लगातार बातचीत की और उनके अनुभव के निचोड़ को पाठकों के समक्ष रखा है। इसका मकसद न केवल दांपत्‍य जीवन की एकरसता या उसके ऊब में फंसे पति पत्‍नी को इससे बाहर निकालना है, बल्कि उन्‍हें आनंददायक संभोग के अनुभव से खुद के काम ऊर्जा की अनुभूति भी कराना है।

Read more...

गो-वध बंदी का राष्ट्रीय कानून बने...
गो-वध बंदी का राष्ट्रीय कानून बने

रामबहादुर राय।ाल पुराना है। इसका संबंध भारत की सभ्यता से है। हमारी सभ्यता में गाय और गोवंश का स्थान बहुत ऊंचा है। जब कभी इस भावना को चोट पहुंची तो विरोध हुआ। आंदोलन हुए। गोरक्षा [...]

कांग्रेस के हर चाल को शुरू होने से पहले ...
कांग्रेस के हर चाल को शुरू होने से पहले ही बाबा रामदेव कर रहे हैं ध्‍वस्‍त!

संदीप देव।देव कांग्रेस के हर चाल को शुरू होने से पहले ही ध्‍वस्‍त करने में जुटे हुए हैं। बाबा रामदेव किसी भी तरह से कांग्रेस को जीवनदान देने के मूड में नहीं हैं। पद्म पुरस्‍कार का [...]

सरदार पटेल के नाम पर फिर से संघ पर हमला,...
सरदार पटेल के नाम पर फिर से संघ पर हमला, आखिर कब तक सच्‍चाई छुपाए जाएंगे!

संदीप देव, नई दिल्‍ली।ने वाले देश के पहले उपप्रधानमंत्री व गृहमंत्री सरदार वल्‍लभ भाई पटेल को आजाद होने के 67 साल बाद आज देश याद कर रहा है। 5 [...]

बोलने की आजादी का मतलब चुप रहने का हक भी...
बोलने की आजादी का मतलब चुप रहने का हक भी होता है: शाहरुख खान

शाहरुख खान इन दिनों अपनी फिल्म ‘फैन’ के प्रमोशन में बिजी हैं। सोमवार को यहां फिल्म के ट्रेलर लॉन्च के दौरान उन्होंने कहा कि बोलने की आजादी का मतलब चुप रहने का हक भी होता है। मीडिया ने इन्टॉलरेंस के [...]

मुझे गाली देने से पहले, अपने संगठन के मह...
मुझे गाली देने से पहले, अपने संगठन के महापुरुषों के लिखे को ही ठीक से पढ लें!

संदीप देव।को हमलावर दिखूुंगा तो केवल इसलिए कि मैं सच को जानता, समझता और उसे उसी रूप में लिखने की हिम्‍मत रखता हूं। सच किसी के हिसाब से नहीं चलता। मीडिया, कांग्रेस, [...]

Sreenivasan Jain edits embarrassing port...
Sreenivasan Jain edits embarrassing portions from Ramdev’s interview, gets exposed

Atul Asthana,  bwoyblunder We had writte [...]

आप उन्‍हें क्‍या कहेंगे, प्रबंधक, इंजीनि...
आप उन्‍हें क्‍या कहेंगे, प्रबंधक, इंजीनियर, लेखक, अनुसंधानकर्ता या फिर आयुर्वेदाचार्य...!

आचार्य बालकृष्‍ण जी के जन्‍मदिन पर विशेष। संदीप देव, पतंजलि योगपीठ से लौट कर। पतंजलि योगपीठ के भवनों को गौर से देखिए, वो आपको किसी योगी के योगमुद्रा में बैठे होने का अहसास कराता हुआ-सा प्रतीत होता [...]

लालबहादुर शास्‍त्री, छोटे कद का बड़ा आदम...
लालबहादुर शास्‍त्री, छोटे कद का बड़ा आदमी!

भारत में बहुत कम लोग ऐसे हुए हैं जिन्होंने समाज के बेहद साधारण वर्ग से अपने जीवन की शुरुआत कर देश के सबसे  पड़े पद को प्राप्त किया। चाहे रेल दुर्घटना के बाद उनका रेल मंत्री के पद से इस्तीफ़ा [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles