रहन सहन | पॉप कल्‍चर

वेतन बढ़ते ही अमेरिकी युवा हो जाते हैं अविश्‍वासी

वाशिंगटन। अमेरिका में युवाओं के बीच किए गए एक सर्वे में पता चला है कि आय बढ़ने के साथ युवाओं में दूसरों के प्रति भरोसा और सामाजिक संस्थानों में विश्वास कम होता जाता है। आज के युवा अपने पक्षों को लेकर काफी आशावादी होते हैं, लेकिन इसके उलट दूसरे लोगों के प्रति भरोसे और बड़े संस्थानों पर विश्वास को लेकर उनकी राय नकारात्मक होती है।

Read more...

मोबाइल ने पैदा की एक नई बीमारी 'नोमोफोबिया'!

लंदन। दुनिया की तमाम बीमारियों में एक नई और भयानक बीमारी शामिल हो गई है। वह है नोमोफोबिया। यानी मोबाइल फोन खोने का डर। यदि आपको मोबाइल खोने का डर हर वक्‍त सता रहा है तो आप 'नोमोफोबिया' नामक बीमारी के शिकार हो चुके हैं।

Read more...

रात की शिफ्ट में काम करने वाली महिलाओं को हो सकता है गर्भाशय का कैंसर!

रात की पाली में काम करने वाली महिलाओं में गर्भाशय कैंसर होने का जोखिम बहुत अधिक होता है। अमरीकी अनुसंधानकर्त्ताओं का कहना है कि रात की शिफ़्ट में काम करने से महिलाओं में गर्भाशय कैंसर का काफी ख़तरा बढ़ जाता है। ऐसा हार्मोनल असंतुलन की वजह से होता है।

Read more...

फेसबुक पर बड़बोली हैं महिलाएं!

लंदन। सोशल नेटवर्किंग साइट पर अगर आपकी महिला मित्र बड़ी-बड़ी बातें कर रही है तो समझ जाइए कि वह असली तस्वीर पेश नहीं कर रही है। सर्वेक्षण में पाया गया है कि फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल साइट्स पर महिलाएं अपनी जिदंगी को आकर्षक दिखाने के लिए अक्सर बढ़ा-चढ़ाकर बोलती हैं और जिंदगी की केवल एक सुखद तस्वीर ही सामने रखना चाहती हैं।

Read more...

लिव इन रिलेशनशिप में महिलाओं के मोटी होने का खतरा!

सहजीवन (लिवइन रिलेशनशिप) में रहने वाली महिलाओं को सावधान हो जाना चाहिए। एक नए अध्ययन के अनुसार ऐसी महिलाओं के मोटे होने और उनके पुरूष साथी के पतले होने की संभावना होती है. मल्टीविटामिन दवायें बनाने वाली कंपनी सेंट्रम द्वारा ब्रिटेन में सहजीवन में रहने वाले 1,300 पुरूषों और महिलाओं पर किए गए इस अध्ययन में लगभग एक तिहाई महिलाओं ने कहा कि अपने साथी के साथ रहना शुरू करने के बाद उन्होंने ज्यादा खाना शुरू कर दिया जिसकी वजह से उनका वजन बढ़ गया. वहीं पाया गया कि एक तिहाई पुरूष ज्यादा पतले हो गए क्योंकि उन्होंने आवश्यक आहारों का सेवन कम कर दिया।

Read more...

बम फोड़ने वाले का कोई मजहब नहीं होता, ले...
बम फोड़ने वाले का कोई मजहब नहीं होता, लेकिन सजा मिलते ही उसके नाम का कलमा पढने वालों की बाढ़ आ जाती है! कमाल है!

संदीपदेव‬। और मजहब का होता तो क्‍या मीडिया वाले उसके पक्ष में इस तरह का अभियान चलाते? सुप्रीम कोर्ट का एक पूर्व जस्टिस अंग्रेजी अखबार में उसके लिए लेख लिखता? एक फिल्‍म स्‍टार दनादन [...]

प्रधानमंत्री मोदी ने इसाईयत व इस्‍लाम को...

संदीप देव। )दिल्‍ली के कैथोलिक चर्च में अपने संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने श्रेष्‍ठता दंभ से भरे धर्मावलंबियों खासकर अल्‍पसंख्‍यक इसाई व इस्‍लाम को स्‍पष्‍ट रूप से [...]

याकूब मेनन के जनाजे में शामिल हर व्‍यक्त...
याकूब मेनन के जनाजे में शामिल हर व्‍यक्ति अलगाववादी या फिर आतंक समर्थक था!

संदीपदेव‬।ल तथागत राय ने सही ट्वीट किया है कि याकूब की मैय्यत में शामिल हर व्यक्ति आतंकवादी हो सकता है। उन पर आईबी को नजर रखनी चाहिए। इतिहास गवाह है कि सन् 1937 [...]

मुझे गाली देने से पहले, अपने संगठन के मह...
मुझे गाली देने से पहले, अपने संगठन के महापुरुषों के लिखे को ही ठीक से पढ लें!

संदीप देव।को हमलावर दिखूुंगा तो केवल इसलिए कि मैं सच को जानता, समझता और उसे उसी रूप में लिखने की हिम्‍मत रखता हूं। सच किसी के हिसाब से नहीं चलता। मीडिया, कांग्रेस, [...]

Sex can become the bridge between you an...
Sex can become the bridge between you and the ultimate: OSHO

OSHO. "Sex can become the bridge between [...]

संभोग के लिए जा रही महिलाओं के मन में आख...
संभोग के लिए जा रही महिलाओं के मन में आखिर उस वक्‍त क्‍या चलता है!

एक आम महिला का सेक्स संबंधित बिहेवियर हमेशा से रहस्य के समान रहा है. यही कारण है कि उसकी सेक्स संबंधित गतिविधि को समझने के लिए कई रिसर्च किये जाते रहते हैं. खासकर साथी चुनने और सेक्स बिहेवियर [...]

मंगल मिशन से सुर्खियों में आई 'इसरो गर्ल...
मंगल मिशन से सुर्खियों में आई 'इसरो गर्ल' राजदीप ने कठिनाई में जीया है जीवन!

कोटा। कभी गांव की पगडंडियों से होते हुए स्कूल जाना पड़ता था। ढेरों दुश्वारियों का सामना करते हुए स्कूल की पढ़ाई पूरी की। मां-बाप के पास इतने पैसे नहीं थे कि टू-व्हीलर दिला सकें। लेकिन आज उनकी लाडली [...]

कविता: ओह मां !
कविता: ओह मां !

संजू मिश्रा। ओह मां !सा भी नही है। माँ के जाते वह बचपन भी नही है।
गुस्से में भी प्यार,

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles