रहन सहन | पॉप कल्‍चर

वेतन बढ़ते ही अमेरिकी युवा हो जाते हैं अविश्‍वासी

वाशिंगटन। अमेरिका में युवाओं के बीच किए गए एक सर्वे में पता चला है कि आय बढ़ने के साथ युवाओं में दूसरों के प्रति भरोसा और सामाजिक संस्थानों में विश्वास कम होता जाता है। आज के युवा अपने पक्षों को लेकर काफी आशावादी होते हैं, लेकिन इसके उलट दूसरे लोगों के प्रति भरोसे और बड़े संस्थानों पर विश्वास को लेकर उनकी राय नकारात्मक होती है।

Read more...

मोबाइल ने पैदा की एक नई बीमारी 'नोमोफोबिया'!

लंदन। दुनिया की तमाम बीमारियों में एक नई और भयानक बीमारी शामिल हो गई है। वह है नोमोफोबिया। यानी मोबाइल फोन खोने का डर। यदि आपको मोबाइल खोने का डर हर वक्‍त सता रहा है तो आप 'नोमोफोबिया' नामक बीमारी के शिकार हो चुके हैं।

Read more...

रात की शिफ्ट में काम करने वाली महिलाओं को हो सकता है गर्भाशय का कैंसर!

रात की पाली में काम करने वाली महिलाओं में गर्भाशय कैंसर होने का जोखिम बहुत अधिक होता है। अमरीकी अनुसंधानकर्त्ताओं का कहना है कि रात की शिफ़्ट में काम करने से महिलाओं में गर्भाशय कैंसर का काफी ख़तरा बढ़ जाता है। ऐसा हार्मोनल असंतुलन की वजह से होता है।

Read more...

फेसबुक पर बड़बोली हैं महिलाएं!

लंदन। सोशल नेटवर्किंग साइट पर अगर आपकी महिला मित्र बड़ी-बड़ी बातें कर रही है तो समझ जाइए कि वह असली तस्वीर पेश नहीं कर रही है। सर्वेक्षण में पाया गया है कि फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल साइट्स पर महिलाएं अपनी जिदंगी को आकर्षक दिखाने के लिए अक्सर बढ़ा-चढ़ाकर बोलती हैं और जिंदगी की केवल एक सुखद तस्वीर ही सामने रखना चाहती हैं।

Read more...

लिव इन रिलेशनशिप में महिलाओं के मोटी होने का खतरा!

सहजीवन (लिवइन रिलेशनशिप) में रहने वाली महिलाओं को सावधान हो जाना चाहिए। एक नए अध्ययन के अनुसार ऐसी महिलाओं के मोटे होने और उनके पुरूष साथी के पतले होने की संभावना होती है. मल्टीविटामिन दवायें बनाने वाली कंपनी सेंट्रम द्वारा ब्रिटेन में सहजीवन में रहने वाले 1,300 पुरूषों और महिलाओं पर किए गए इस अध्ययन में लगभग एक तिहाई महिलाओं ने कहा कि अपने साथी के साथ रहना शुरू करने के बाद उन्होंने ज्यादा खाना शुरू कर दिया जिसकी वजह से उनका वजन बढ़ गया. वहीं पाया गया कि एक तिहाई पुरूष ज्यादा पतले हो गए क्योंकि उन्होंने आवश्यक आहारों का सेवन कम कर दिया।

Read more...

South Asia: UNODC initiates: 32 बिलियन ...
South Asia:  UNODC initiates: 32 बिलियन डॉलर का बिजनस है मानव व्‍यापार

New delhi. A $32 billion business annual [...]

आप उन्‍हें क्‍या कहेंगे, प्रबंधक, इंजीनि...
आप उन्‍हें क्‍या कहेंगे, प्रबंधक, इंजीनियर, लेखक, अनुसंधानकर्ता या फिर आयुर्वेदाचार्य...!

आचार्य बालकृष्‍ण जी के जन्‍मदिन पर विशेष। संदीप देव, पतंजलि योगपीठ से लौट कर। पतंजलि योगपीठ के भवनों को गौर से देखिए, वो आपको किसी योगी के योगमुद्रा में बैठे होने का अहसास कराता हुआ-सा प्रतीत होता [...]

जोगेंद्रनाथ मंडल के इतिहास से सबक लो सेक...
जोगेंद्रनाथ मंडल के इतिहास से सबक लो सेक्‍यूलरवादियों...!

संदीप देव।ेक्‍यूलरों के समान ही भारत विभाजन के समय एक सेक्‍यूलर नेता था, जोगेंद्रनाथ मंडल। नीतीश कुमार, लालू यादव और मुलायम सिंह यादव की तरह वह भी अनुसूचित जाति का नेता था। नीतीश-लालू- [...]

देश तोड़ने वालों को सरदार पटेल की तरह फट...
देश तोड़ने वालों को सरदार पटेल की तरह फटकारिए, न कि धर्मनिरपेक्षतावाद का राग अलापिए!

संदीप देव।करते हुए तथाकथित धर्मनिरपेक्षतावादी, बुद्धिजीवी, वामपंथी, कांग्रेसी प्रवक्‍ता, मुस्लिम नेता व मौलाना लगातार यह कहते रहते हैं कि भारत के मुसलमान भी राष्‍ट्रवादी हैं। लेकिन भारत विभाजन व देश की आजादी [...]

गुमान में न रहें, यह आआपा के पक्ष में सक...
गुमान में न रहें, यह आआपा के पक्ष में सकारात्‍मक नहीं, भाजपा को हराने के लिए नकारात्‍मक वोट था

संदीप देव।और भाजपा की हार में बहुत सारे लोग दिल्‍ली की जनता की मुफतखोरी को दोष दे रहे हैं। मत भूलिए कि इसी जनता ने पिछली बार भाजपा को नंबर एक की पार्टी और लोकसभा [...]

भारत के जवानों पर नहीं, पाकिस्‍तान की सर...
भारत के जवानों पर नहीं, पाकिस्‍तान की सरकार पर है कांग्रेस को भरोसा!

संदीप देव।ोगी कांग्रेस, आखिर उसका भरोसा जो टूट गया है। कांग्रेस को अपने देश के जवानों से अधिक पाकिस्‍तान पर भरोसा था, इसलिए पोरबंदर में आतंकियों के वोट ब्‍लास्‍ट की घटना पर वह [...]

रक्षा क्षेत्र में विदेशी कंपनी का विरोध ...
रक्षा क्षेत्र में विदेशी कंपनी का विरोध करने वाले, पहले जान तो लें कि हथियार निर्माण में  विदेशी मदद शिवाजी ने भी ली थी!

संदीप देव।ी महाराज की जन्‍मजयंती थी। मैं आप सभी को एक सुंदर लेख का उपहार देना चाहता था, लेकिन कई कार्यों में उलझे रहने के कारण नहीं दे सका। लेकिन उस लेख का मर्म आपको समझा [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles