रहन सहन | पॉप कल्‍चर

वेतन बढ़ते ही अमेरिकी युवा हो जाते हैं अविश्‍वासी

वाशिंगटन। अमेरिका में युवाओं के बीच किए गए एक सर्वे में पता चला है कि आय बढ़ने के साथ युवाओं में दूसरों के प्रति भरोसा और सामाजिक संस्थानों में विश्वास कम होता जाता है। आज के युवा अपने पक्षों को लेकर काफी आशावादी होते हैं, लेकिन इसके उलट दूसरे लोगों के प्रति भरोसे और बड़े संस्थानों पर विश्वास को लेकर उनकी राय नकारात्मक होती है।

Read more...

मोबाइल ने पैदा की एक नई बीमारी 'नोमोफोबिया'!

लंदन। दुनिया की तमाम बीमारियों में एक नई और भयानक बीमारी शामिल हो गई है। वह है नोमोफोबिया। यानी मोबाइल फोन खोने का डर। यदि आपको मोबाइल खोने का डर हर वक्‍त सता रहा है तो आप 'नोमोफोबिया' नामक बीमारी के शिकार हो चुके हैं।

Read more...

रात की शिफ्ट में काम करने वाली महिलाओं को हो सकता है गर्भाशय का कैंसर!

रात की पाली में काम करने वाली महिलाओं में गर्भाशय कैंसर होने का जोखिम बहुत अधिक होता है। अमरीकी अनुसंधानकर्त्ताओं का कहना है कि रात की शिफ़्ट में काम करने से महिलाओं में गर्भाशय कैंसर का काफी ख़तरा बढ़ जाता है। ऐसा हार्मोनल असंतुलन की वजह से होता है।

Read more...

फेसबुक पर बड़बोली हैं महिलाएं!

लंदन। सोशल नेटवर्किंग साइट पर अगर आपकी महिला मित्र बड़ी-बड़ी बातें कर रही है तो समझ जाइए कि वह असली तस्वीर पेश नहीं कर रही है। सर्वेक्षण में पाया गया है कि फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल साइट्स पर महिलाएं अपनी जिदंगी को आकर्षक दिखाने के लिए अक्सर बढ़ा-चढ़ाकर बोलती हैं और जिंदगी की केवल एक सुखद तस्वीर ही सामने रखना चाहती हैं।

Read more...

लिव इन रिलेशनशिप में महिलाओं के मोटी होने का खतरा!

सहजीवन (लिवइन रिलेशनशिप) में रहने वाली महिलाओं को सावधान हो जाना चाहिए। एक नए अध्ययन के अनुसार ऐसी महिलाओं के मोटे होने और उनके पुरूष साथी के पतले होने की संभावना होती है. मल्टीविटामिन दवायें बनाने वाली कंपनी सेंट्रम द्वारा ब्रिटेन में सहजीवन में रहने वाले 1,300 पुरूषों और महिलाओं पर किए गए इस अध्ययन में लगभग एक तिहाई महिलाओं ने कहा कि अपने साथी के साथ रहना शुरू करने के बाद उन्होंने ज्यादा खाना शुरू कर दिया जिसकी वजह से उनका वजन बढ़ गया. वहीं पाया गया कि एक तिहाई पुरूष ज्यादा पतले हो गए क्योंकि उन्होंने आवश्यक आहारों का सेवन कम कर दिया।

Read more...

कानून के फंदे से हर बार निकलने में सफल र...
कानून के फंदे से हर बार निकलने में सफल रही तीस्‍ता सीतलवाड़!

संदीप देव।, तीस्‍ता सीतलवाड़ की भविष्‍य में होने वाली गिरफतारी न जाने कितने मीडिया हाउस, पत्रकारों, एनजीओकर्मी, वामपंथी बुद्धिजीवी, न्‍यायपालिका के कुछ धुरंधर और विदेशी फंडिंग देने वाले सरगनाओं के [...]

फेसबुक पर पनपे प्रेम ने उसे देश का गद्दा...
फेसबुक पर पनपे प्रेम ने उसे देश का गद्दार बना दिया!

नई दिल्ली/लखनऊ। ‘इश्क ने गालिब निकम्मा कर दिया वर्ना आदमी हम भी काम के थे’ कुछ ऐसा ही हुआ है सेना के जवान सुनीत कुमार के साथ. फौजी से आइएसआइ एजेंट बनने की कहानी नाटकों से भी ज्यादा नाटकीय [...]

नवरात्र में जगाएं अपने अंदर की शक्तियां,...
नवरात्र में जगाएं अपने अंदर की शक्तियां, जानिए सप्त चक्र के बारे में

शारदीय नवरात्रि का प्रारंभ हो रहा है। हमारे पूर्वजों ने इन 9 दिनों में माता की भक्ति के साथ ही योग का विधान भी निश्चित किया है। हमारे शरीर में सात चक्र होते हैं। नवरात्रि में हर दिन एक [...]

बाल विवाह बलात्‍कार से भी बदतर है...
बाल विवाह बलात्‍कार से भी बदतर है

नयी दिल्ली: दिल्‍ली के अदालत ने बाल विवाह को बलात्कार से भी बदतर बुराई बताता है. अदालत ने कहा इसे समाज से पूरी तरह समाप्त होना चाहिए. कार्ट ने कम उम्र में बच्ची का विवाह करने वालों [...]

जहां सबसे अधिक बलात्‍कार, वह सबसे बड़ा प...
जहां सबसे अधिक बलात्‍कार, वह सबसे बड़ा प्रवचनकर्ता!

संदीप देव।्‍कार वाले देश अमेरिका व ब्रिटेन की मीडिया भारत सरकार पर हमलावर है, क्‍योंकि उसने दिल्‍ली बलात्‍कार पर बनी डक्‍यमेंट्री पर अपने देश में रोक लगाया है। भारत सरकार की सबसे बडी गलती यह [...]

होली हिंदुस्‍तान की गहरी प्रज्ञा से उपजा...
होली हिंदुस्‍तान की गहरी प्रज्ञा से उपजा हुआ त्‍यौहार है

अमृत साधना।गहरी प्रज्ञा से उपजा हुआ त्योहार है। उसमें पुराण कथा एक आवरण है, जिसमें लपेटकर मनोविज्ञान की घुट्टी पिलाई गई है। सभ्य मनुष्य के मन पर नैतिकता का इतना बोझ होता है कि उसका [...]

भारत में ज्ञान प्राप्‍त करने और भारत में...
भारत में ज्ञान प्राप्‍त करने और भारत में ही शरीर त्‍यागने वाले ईसा मसीह की वास्‍तविकता पर ईसायत मौन!

सच चाहे किसी भी धर्म के बारे में हो, उसे स्वीकार करने में उक्त धर्म के अनुयायियों को बहुत कठिनाई होती है। आज का दौर धार्मिक कट्टरता का दौर है ऐसे में सभी अपने अपने कुएं में बंद हैं। [...]

कृष्‍ण ने अर्जुन से कहा, हे अर्जुन वृक्ष...
कृष्‍ण ने अर्जुन से कहा, हे अर्जुन वृक्षों में मैं पीपल हूं। लेकिन आखिर पीपल ही क्‍यों?

संदीप देव।: सर्ववृक्षाणां देवर्षीणां च नारद: हे अर्जुन वृक्षों में मैं पीपल हूं और देवर्षियों में नारद। कदम्‍ब के पेड़ के नीचे रास [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles