पुस्‍तक

औरंगजेब‬: भारत विभाजन पर पहला हस्‍ताक्षर!

‪‎संदीप देव‬। राणा सफ़वी इतिहासकार हैं। उन्‍होंने गुलाम वंश की शासक रजिया सुल्‍तान पर बीबीसी हिंदी के लिए एक रिपोर्ट लिखी है। रजिया या उनके पिता इल्‍तुतमिश आदि सभी के लिए कितने सम्‍मान से उन्‍होंने लिखा है। 'आप' का बोध, बहुवचन के 'हैं' का बोध। दूसरी तरफ 11 वीं कक्षा के 'मध्‍यकालीन भारत' का इतिहास पढि़ए औरंगजेब वाले अध्‍याय में वामपंथी इतिहासकार प्रो सतीश चंद्र एवं अनुवादक बिमल प्रसाद, मधु त्रिवेदी और जमालुद्दीन ने गुरु तेगबहाुदर से लेकर छत्रपति शिवाजी महाराज और गुरु गोविंद सिंह- सभी के लिए तू-तड़ाक वाले लहजे का प्रयोग किया है। भारत के गौरव को लौटाने वाले महापुरुषों के प्रति वामपंथी नफरत इतनी अधिक रही है कि न केवल तथ्‍यों में, बल्कि भाषा में भी वह क्षुद्रता से बाज नहीं आते हैं।

Read more...

हिंदी की एक भी पुस्‍तक बेस्‍ट सेलर सूची में नहीं है, क्‍या हम आप मिलकर इस भाषा को दुनिया के बाजार की बेस्‍ट सेलर भाषा बना सकते हैं? ‎

संदीपदेव‬। पहले यह बताइए कि आपको इस पुस्‍तक 'स्‍वामी रामदेव: एक योगी-एक योद्धा' की कवर कैसी लगी? 4 अगस्‍त को हरिद्वार में इसका लोकार्पण होना तय हुआ है। इसका प्रकाशन दुनिया में सबसे अधिक बेस्‍ट सेलिंग पुस्‍तक देने वाली वर्ल्‍ड की टॉप थ्री प्रकाशकों में शामिल 'ब्‍लूम्‍सबेरी' करने जा रहा है। प्रकाशित होते ही आपके इस मित्र की पुस्‍तक दो कीर्तिमान बना लेगी, जो हिंदी भाषा के रचनाकारों, पाठकों, हिंदी के पुस्‍तक बाजार और स्‍वयं हिंदी भाषा के विकास के लिहाज से महत्‍वपूर्ण है। अपनी भाषा को आगे ले जाने में आप सभी का सहयोग अपेक्षित है ताकि हिंदी पुस्‍तक का बाजार आगे बढ़े। दुनिया के 100 बेस्‍ट सेलर बुक में छोटी सी जर्मन, पुर्तगीज, बुल्‍गेरियन जैसी भाषा की पुस्‍तक तो है, लेकिन 56 करोड़ लोगों द्वारा बोली जाने वाली हिंदी की एक भी पुस्‍तक नहीं है। यह बेहद तकलीफदेह स्थिति है।

Read more...

चर्च के साम्राज्यवाद का खुलासा करती पुस्तक 'ऊँटेश्वरी माता का महंत'

आधीआबादी ब्‍यूरो। मदर टैरेसा पर उठा विवाद अभी थमा भी नही है कि एक ईसाई संगठन से जुड़े कैथोलिक विश्वासी पी.बी.लोमियों की हाल ही में आई पुस्तक 'ऊँटेश्वरी माता का महंत' ने ईसाई समाज के अंदर चर्च की कार्यशैली पर कई गंभीर सवाल उठा दिये है। 'ऊँटेश्वरी माता का महंत' र्शीषक से लिखी गई यह पुस्तक एक येसु समाजी (सोसाइटी ऑफ जीजस) कैथोलिक पादरी (फादर एंथोनी फर्नांडेज) जिन्होंने अपने जीवन के 38 वर्ष कैथोलिक चर्च की भेड़शलाओं का विस्तार करने में लगा दिए, चर्च की धर्मांतरण संबधी नीतियों का परत दर परत खुलासा करती है और साथ ही चर्च नेतृत्व का फरमान न मानने वाले पादरियों और ननों की दुर्दशा को बड़ी ही बेबाकी से उजागर करती है।

Read more...

हिंदुत्‍व के पुनर्जारण के लिए जन्‍मगत जाति का खात्‍मा जरूरी: डॉ सुब्रहमनियन स्‍वामी

आधी आबादी ब्‍यूरो। राष्‍ट्रीय पुनर्जागरण के साथ-साथ हिंदुत्‍व का पुनर्जागरण बहुत जरूरती है। डॉ सुब्रहमनियन स्‍वामी ने 'हिंदुत्‍व एवं राष्‍ट्रीय पुनरुत्‍थान' नामक एक जबरदस्‍त किताब लिखी है और आज के समय हर हिंदू को 24 घंटे इस पुस्‍तक को अपने पास रखना ही चाहिए, पढ़ना चाहिए और किसी को भी उपहार में केवल यही पुस्‍तक देना चाहिए। भारत व हिंदुत्‍व की पूरी यात्रा, संकट और समाधान आपको केवल 256 पेज में समझ में आ जाएगी। प्रभात प्रकाशन से है, प्‍लीज हर हिंदू इसे खरीदे यदि वास्‍तव में आगे बढने की दिशा चाहता है।

Read more...

हमारी शिक्षा से भारतीय जीवन पद्धति गायब है: वेंकैया नायडु

आधी आबादी ब्‍यूरो। केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडु ने कहा कि देश को आजाद हुए 67 साल हो चुके हैं, लेकिन आज तक इस देश में सही शिक्षा पॉलिसी का अभाव है। शिक्षा का लक्ष्‍य चरित्र निर्माण होना चाहिए, लेकिन सच तो यह है कि हमारी शिक्षा से भारतीय जीवन पद्धति का ही पूर्णत: अभाव है, फिर चरित्र निर्माण कैसे हो। वेंकैया नायडु प्रसिद्ध शिक्षा शास्‍त्री एवं शिक्षा बचाओ आंदोलन समिति के संस्‍थापक दीनानाथ बत्रा की पुस्‍तक 'भारतीय शिक्षा का स्‍वरूप' के लोकार्पण अवसर पर बोल रहे थे। इस पुस्‍तक को प्रभात प्रकाशन ने प्रकाशित किया है।

Read more...

विधानसभा चुनाव: हर राज्‍य के हिसाब से अ...
 विधानसभा चुनाव: हर राज्‍य के हिसाब से अलग-अलग चाल चल रहे हैं मोदी और अमित शाह

संदीपी देव,नई दिल्‍ली।‍यो में होने वाले आगामी चुनाव की तैयारी सरकारी कार्यक्रमों के जरिए कर दी है। जम्‍मू-कश्‍मीर, हरियाणा, महाराष्‍ट्र और झारखंड में आचार संहिता लागू होने से पहले ही [...]

आज भी पुरुष नारी शरीर के स्‍तन पर ही होत...
आज भी पुरुष नारी शरीर के स्‍तन पर ही होता है सबसे पहले मोहित!

सेक्‍स और इससे जुड़ी हर बात हमेशा से ही लोगों का ध्‍यान अपनी ओर खींचती रही है. इस विषय पर लगातार रिसर्च भी होते रहते हैं. अब इंडिया टुडे सेक्‍स सर्वे 2013 की रिपोर्ट [...]

हिंदुत्‍व व राष्‍ट्रवाद की पैरोकार पार्ट...
हिंदुत्‍व व राष्‍ट्रवाद की पैरोकार पार्टी 'जनसंघ' के सहयोग से हुआ था अल्‍पसंख्‍यक आयोग का गठन!

संदीप देव।्य होगा कि इस देश में अल्‍पसंख्‍यकों, खासकर मुस्लिमों के तुष्टिकरण की बुनियाद पर खड़ी कांग्रेस ने अल्‍पसंख्‍यक आयोग का  गठन नहीं किया था। बल्कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी व कांग्रेस पार्टी की हार के [...]

मसीह, मोहम्‍मद और मार्क्‍सवादियों का दर्...
मसीह, मोहम्‍मद और मार्क्‍सवादियों का दर्द!

संदीप देव। मार्क्‍सवादियों का दर्द क्‍या है, इसे कुछ ऐसे समझिए! मसीहवादियों ने पूरे यूरोप को रौंद दिया। प्राचीन यूनान सभ्‍यता आज कहीं नहीं है, उसे वर्तमान रूप में आप ग्रीस नाम से [...]

नरेंद्र मोदी के खिलाफ हर साजिश की कहानी-...
नरेंद्र मोदी के खिलाफ हर साजिश की कहानी-तथ्‍यों की जुबानी!

आधीआबादी ब्‍यूरो, नईदिल्‍ली। गुजरात के मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी नि:संदेह आजादी के बाद से देश के सबसे विवादास्पद नेता रहे हैं। साल 2002 में हुए गुजरात [...]

दिल्‍ली में जिसने पूर्वांचल के वजूद को प...
दिल्‍ली में जिसने पूर्वांचल के वजूद को पहचाना, उसकी ही नैया पार लगी!

संदीप देव । मैकिंसे ग्लोबल इंस्टीटयूट के एक सर्वे के मुताबिक उत्‍तप्रदेश, बिहार व झारखंड के 126 जिले देश में सर्वाधिक पिछड़े हैं। दिल्‍ली में रहने वाले इन प्रदेशों के लोगों की स्थिति भी कमोबेश ऐसी [...]

समाजवादियों की अवसरवादिता को राममनोहर लो...
समाजवादियों की अवसरवादिता को राममनोहर लोहिया ने पहले ही पहचान लिया था! ‪ ‪‎

संदीपदेव‬।ेश की जनता को गुमराह करने वाले मुलायम-लालू-नीतीश- कम्‍यूनिस्‍ट भले ही राममनोहर लोहिया का नाम ले-ले कर राजनीति करते रहे हों, लेकिन समाजवादियों की अवसरवादिता और इनके व्‍यक्तित्‍व में बसी [...]

बिहार चुनाव में भाजपा के खलनायक: प्रशांत...

संदीप देव।त्री नीतीश कुमार की पहली जीवनी वरिष्‍ठ पत्रकार संकर्षण ठाकुर ने लिखी थी। संकर्षण को आप अकसर एबीपी न्‍यूज पर देखते होंगे। वो टेलीग्राफ में शायद रोविंग एडिटर हैं। संकर्षण ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दामन [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles