औरंगजेब‬: भारत विभाजन पर पहला हस्‍ताक्षर!

‪‎संदीप देव‬। राणा सफ़वी इतिहासकार हैं। उन्‍होंने गुलाम वंश की शासक रजिया सुल्‍तान पर बीबीसी हिंदी के लिए एक रिपोर्ट लिखी है। रजिया या उनके पिता इल्‍तुतमिश आदि सभी के लिए कितने सम्‍मान से उन्‍होंने लिखा है। 'आप' का बोध, बहुवचन के 'हैं' का बोध। दूसरी तरफ 11 वीं कक्षा के 'मध्‍यकालीन भारत' का इतिहास पढि़ए औरंगजेब वाले अध्‍याय में वामपंथी इतिहासकार प्रो सतीश चंद्र एवं अनुवादक बिमल प्रसाद, मधु त्रिवेदी और जमालुद्दीन ने गुरु तेगबहाुदर से लेकर छत्रपति शिवाजी महाराज और गुरु गोविंद सिंह- सभी के लिए तू-तड़ाक वाले लहजे का प्रयोग किया है। भारत के गौरव को लौटाने वाले महापुरुषों के प्रति वामपंथी नफरत इतनी अधिक रही है कि न केवल तथ्‍यों में, बल्कि भाषा में भी वह क्षुद्रता से बाज नहीं आते हैं।

'‎Aurangzeb‬ : भारत विभाजन पर पहला हस्‍ताक्षर' विशेषांक से हम-आप निकृष्‍ट मानसिकता से वामपंथियों द्वारा लिखे गए भारतीय इतिहास की परतें उघाड़ने की शुरुआत करने जा रहे हैं। पत्रिका का नाम 'द्वारका एक्‍सप्रेस' रखा गया है। जिस तरह श्रीकृष्‍ण की 'द्वारका' नगरी समुद्र में डूबी है, उसी तरह इन घटिया मानसिकता के वामपंथियों ने हमारे गौरवशाली इतिहास को भी डुबाने का प्रयास किसा है। 'द्वारका' मेरे लिए प्रतीक है- डूबे हुए इतिहास की खोज का और यही हमारा पंचलाइन भी है- ' दबे हुए इतिहास की खोज'।

पत्रिका छपने के लिए प्रेस में कल ही गयी है। शुरू में 10 हजारा कॉपियां प्रकाशित होने गयी हैं। धीरे-धीरे राष्‍ट्रवादी साथियों की मांग पर यह और प्रकाशित होती चली जाएंगी। आप लोगों का सहयोग यदि बराबर मिला तो यह भारत की अपनी तरह की पहली विशुद्ध 'इतिहास आधारित पत्रिका' होगी, जिसमें ओरिजनल इतिहासकारों के लिखे को आप तक हुबहू पहुंचाने का प्रयास किया जाएगा ताकि जो सच लिखा तो गया है, लेकिन नेहरूवादी-वामपंथी साजिशों के कारण हमारे टेक्‍सटबुक का हिस्‍सा नहीं बना, उसे आप और आपके बच्‍चों तक सरल हिंदी भाषा में पहुंचाई जा सके। हर तीन महीने पर प्रकाशित होने वाली इस पत्रिका की एक प्रति की कीमत 30 रुपए रखी गयी है और केवल इसे डाक से भेजने की व्‍यवस्‍था ही उपलब्‍ध है।

पत्रिका का कवर आपके सामने है। औरंगजेब ने जिस तरह से इस्‍लामी राज्‍य स्‍थापित करना चाहा था, वह तस्‍वीर में परिलक्षित हो रहा है। उनके एक हाथ में कुरान और दूसरे में तलवार है। सामने उसकी मंदिर तोड़ने की 'जिहादी' नीति का गवाह काशी का ज्ञानवापी मस्जिद है। और अंदर वह सारा तथ्‍य है, जिसे इरफान हबीब, रामचंद्र गुहा, टाइम्‍स ऑफ इंडिया, एबीपी न्‍यूज, इंडियन एक्‍सप्रेस आदि झुठलाने का प्रयास कर रहे हैं। भारत का पहला दस्‍तावेजी विभाजन औरंगजेब ने ही किया था, इसलिए शीर्षक -'Aurengzeb‬ : भारत विभाजन पर पहला हस्‍ताक्षर' रखा है।

 

Web title: sandeep deo blog on aurangzeb-9

SandeepDeo|‬ ‪‎संदीप देव।‬ Sandeep Kumar Deo| ‎TheTrueIndianHistory‬| औरंगजेब एक क्रूर मुगल बादशाह

मदर टेरेसा के साथ काम कर चुके हैं केजरीव...

संदीप देव।ेरेसा विवाद में दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल जिस तरह से मदर टेरेसा के पक्ष में कूद पड़े हैं। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मदर टेरेसा पवित्र आत्‍मा थीं, उन्‍हें राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक प्रमुख [...]

हाशिमपुरा ने मुसलमानों को सोचने का अवसर ...

संदीप देव। मामले में अदालत का फैसला आया। पीडि़तों को इंसाफ नहीं मिला। लेकिन लाख टके का सवाल यह है कि खुद को धर्मनिरपेक्षता के झंडबदार के रूप में खुद को पेश करने वाली कांग्रेस और उसी कांग्रेस [...]

द्वितीय विश्‍व युद्ध में ब्रिटिश जहां मह...
द्वितीय विश्‍व युद्ध में ब्रिटिश जहां महात्‍मा गांधी के मित्र थे, वहीं सुभाष चंद्रबोस के लिए दुश्‍मन!

संदीप देव।दूसरे के फटे में टांग अड़ाना। जब द्वितीय विश्‍व युद्ध शुरु हुआ तो गांधी जी के नेतृत्‍व में कांग्रेस ब्रिटिश शासन को बार-बार मदद देने का प्रस्‍ताव दे रही थी, जबकि ब्रिटिश [...]

अब युवतियों को नहीं चाहिए कुंवारा पति!...
अब युवतियों को नहीं चाहिए कुंवारा पति!

बदलाव की बयार से भारतीय समाज अब अछूता नहीं रह गया है. खासकर सेक्स को लेकर देश के युवक-युवतियों के खयाल एकदम बदले-बदले नजर आ रहे हैं. हाल ही में एक सर्वे के दौरान यह बात [...]

किताबों में ही दफन रह गया, नेहरू खानदान ...
किताबों में ही दफन रह गया, नेहरू खानदान का काला इतिहास!

14 नवंबर, नेहरू जयंती पर विशेष। दिनेश चंद्र मिश्र। जम्मू-कश्मीर में आए महीनों हो गए थे, एक बात अक्सर दिमाग में खटकती थी कि अभी तक नेहरू के खानदान का कोई क्यों नहीं मिला, [...]

लालबहादुर शास्‍त्री, छोटे कद का बड़ा आदम...
लालबहादुर शास्‍त्री, छोटे कद का बड़ा आदमी!

भारत में बहुत कम लोग ऐसे हुए हैं जिन्होंने समाज के बेहद साधारण वर्ग से अपने जीवन की शुरुआत कर देश के सबसे  पड़े पद को प्राप्त किया। चाहे रेल दुर्घटना के बाद उनका रेल मंत्री के पद से इस्तीफ़ा [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: यहां होता है पहली माहवारी पर जश्न

सुशीला सिंह, बीबीसी संवाददाता।ी हो रही है. अनोखी इस मायने में कि असम की परंपरा के अनुसार यहां दुल्हन तो होती है लेकिन दूल्हा एक केले का पौधा [...]

बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: बिहार ...
बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: बिहार से अनजान व जमीन से कटे नेताओं ने चुनाव केा बना दिया था इवेंट मैनेजमेंट!

संदीप देव।प से भाजपा का समर्थक हूं, लेकिन जिस तरह से भाजपा व संघ समर्थक बिहारियों का अपमान कर रहे हैं, वह मुझे बर्दाश्त नहीं है। इन्हीं बिहारियों ने जब लोकसभा चुनाव-20 [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles