भाषा | साहित्‍य | रचना

दुनिया की सबसे वैज्ञानिक लिपि है देवनागरी लिपि

‪संदीपदेव‬। दुनिया की सबसे वैज्ञानिक लिपि है देवनागरी लिपि। देखिए, देवनागरी का पहला अक्षर है 'अ' अर्थात 'अज्ञान' और देवनागरी का आखिरी अक्षर है 'ज्ञ' अर्थात 'ज्ञान'। देवनागरी मतलब- 'अज्ञान से ज्ञान की यात्रा'। जब एक बच्‍चा 'अ' सीखता है, उस समय वह एकदम से निरक्षर होता है और जब वह 'ज्ञ' सीख लेता है तो वह हिंदी भाषा में लिखना-पढ़ना जान जाता है। यही है एक भाषा का मूल उदृेश्‍य, जो देवनागरी लिपि की बनावट तक में दृष्टिगोचर होता है।

Read more...

पापा मेरी बलि न दो, मैं बीज हूं!

संजू मिश्रा। पापा मेरी बलि न दो, मैं बीज हूं,
सावन के झूले और हरियाली तीज हूं ।

Read more...

कविता: ओह मां !

संजू मिश्रा। ओह मां !

आज माँ नहीं है,
कोई माँ जैसा भी नही है।

माँ के जाते वह बचपन भी नही है।
बची है तो
बचपन की यादें
दिल की मुरादे
प्यार से गुस्सा, गुस्से में भी प्यार,
स्नेह का स्पर्श , वह मीठा सा दुलार।

Read more...

आभार आपका...

संदीप देव। मैं संस्‍कृत का इतिहास पढ रहा था, सोचा आपको बताऊं। मैं सभी मित्रों से अनुरोध करूंगा कि किसी के प्रति अपनी धन्‍यता प्रकट करने के लिए आप अंग्रेजी के 'थैंक्‍यू' की जगह हिंदी के बेहद ही खूबसूरत 'आभार' शब्‍द का इस्‍तेमाल करें। थैंक्‍यू कहने और सुनने में ऐसा लगता है कि जैसे एहसान उतारने की तत्‍काल कोशिश की जा रही हो। लेकिन 'आभार' हमेशा एहसान को सीने में बसाए रखने का अहसास कराती है। आभार में हमारी संस्‍कृति, हमारे संस्‍कार का बोध छिपा और सुनाई देता है।

Read more...

सोशल मीडिया के नाम: ये जंग शुरू की है तुमने, तो जंग सदा जारी रखना!

ग़र योद्धा हो तो याद रहे । दिल राष्ट्रभक्ति आबाद रहे ।।
ना भारत माँ की बेटों से, अब कोई भी फ़रियाद रहे ।।

चेहरे पर झलके स्वाभिमान, और मन में खुद्दारी रखना ।
ये जंग शुरू की है तुमने, तो जंग सदा जारी रखना।।

Read more...

डॉ कलाम के राष्‍ट्रपति बनने का वामपंथियो...
डॉ कलाम के राष्‍ट्रपति बनने का वामपंथियों ने विरोध किया था और आज उनकी मृत्‍यु के बाद उनके प्रति घृणा भरे पोस्‍ट भी वामपंथी ही लिख रहे हैं!

संदीप देव।. कलाम ने राष्‍ट्रपति पद के लिए नामांकन किया था तो उनका एक मात्र विरोध देश के वामपंथी पार्टियों ने किया था। आज जब डॉ. कलाम हमारे बीच [...]

कामुकता से भरे उस अतिथि से मैंने इस तरह ...
कामुकता से भरे उस अतिथि से मैंने इस तरह पाया छुटकारा!

मणिका मोहिनी। मित्रों, रोज़ रेप की घटनाएं सुनने में आ रही हैं. इस सन्दर्भ में अपने निजी जीवन से जुडी एक घटना आप लोगों के साथ बांटना चाहती हूँ कि मैंने कैसे असामान्य परिस्थिति उत्पन्न होने पर प्रत्युत्पन्नमति [...]

मोदी रूपी 'घी' वामपंथी नस्‍ल की प्रजाति ...
मोदी रूपी 'घी' वामपंथी नस्‍ल की प्रजाति को न कभी हजम हुआ और न आगे होगा!

संदीप देव। वरिष्‍ठ पत्रकार मधु किश्‍वर ने 'मोदी मुस्लिम एण्ड मीडिया: वॉयस फ्रॉम नरेन्द्र मोदी'ज गुजरात।'' किताब का लोकार्पण 2 अप्रैल को अकबर रोड स्थित राम जेठमलानी के घर के कैंपस में संपन्‍न किया। [...]

होली हिंदुस्‍तान की गहरी प्रज्ञा से उपजा...
होली हिंदुस्‍तान की गहरी प्रज्ञा से उपजा हुआ त्‍यौहार है

अमृत साधना।गहरी प्रज्ञा से उपजा हुआ त्योहार है। उसमें पुराण कथा एक आवरण है, जिसमें लपेटकर मनोविज्ञान की घुट्टी पिलाई गई है। सभ्य मनुष्य के मन पर नैतिकता का इतना बोझ होता है कि उसका [...]

अब पति-पत्‍नी के साथ घर में ही रह सकेगी ...
अब पति-पत्‍नी के साथ घर में ही रह सकेगी ‘वो’ भी!

खंडवा। लोक अदालत से आए एक अनोखे फैसले के अनुसार ‘पति और पत्नी’ के साथ अब ‘वो’ भी घर में रह सकेगी. लोक अदालत के शनिवार को आए इस फैसले के तहत धार्मिक नगरी ओंकारेश्वर के मांधाता निवासी पति [...]

गुमान में न रहें, यह आआपा के पक्ष में सक...
गुमान में न रहें, यह आआपा के पक्ष में सकारात्‍मक नहीं, भाजपा को हराने के लिए नकारात्‍मक वोट था

संदीप देव।और भाजपा की हार में बहुत सारे लोग दिल्‍ली की जनता की मुफतखोरी को दोष दे रहे हैं। मत भूलिए कि इसी जनता ने पिछली बार भाजपा को नंबर एक की पार्टी और लोकसभा [...]

‘सुपारी पत्रकार’, जिनके कई स्टिंग कानून ...
‘सुपारी पत्रकार’, जिनके कई स्टिंग कानून के समक्ष हो चुके हैं धारा शाई!

संदीप देव। एक बार फिर चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी के पक्ष में ‘सुपारी पत्रकार’ सक्रिय हो चुके हैं! देश में जब-जब महत्वपूर्ण चुनाव हुए हैं, तब-तब भाजपा को सांप्रदायकि साबित करने के लिए ‘सुपारी पत्रकारिता’ [...]

वैदिक हाफिज भाई भाई! ...
वैदिक हाफिज भाई भाई!

सुधीर मौर्य। काश वैदिक जी ने जिस हिम्मत के साथ भारत के प्रधानमंत्री रहते नरसिम्हा राव जी के साथ ताश खेलते थे उसी हिम्मत के साथ हाफ़िज़ से विरोध दर्ज़ करते भारत के मुंबई में उसके द्वारा करवाये गए आतंकवादी [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles