भाषा | साहित्‍य | रचना

दुनिया की सबसे वैज्ञानिक लिपि है देवनागरी लिपि

‪संदीपदेव‬। दुनिया की सबसे वैज्ञानिक लिपि है देवनागरी लिपि। देखिए, देवनागरी का पहला अक्षर है 'अ' अर्थात 'अज्ञान' और देवनागरी का आखिरी अक्षर है 'ज्ञ' अर्थात 'ज्ञान'। देवनागरी मतलब- 'अज्ञान से ज्ञान की यात्रा'। जब एक बच्‍चा 'अ' सीखता है, उस समय वह एकदम से निरक्षर होता है और जब वह 'ज्ञ' सीख लेता है तो वह हिंदी भाषा में लिखना-पढ़ना जान जाता है। यही है एक भाषा का मूल उदृेश्‍य, जो देवनागरी लिपि की बनावट तक में दृष्टिगोचर होता है।

Read more...

पापा मेरी बलि न दो, मैं बीज हूं!

संजू मिश्रा। पापा मेरी बलि न दो, मैं बीज हूं,
सावन के झूले और हरियाली तीज हूं ।

Read more...

कविता: ओह मां !

संजू मिश्रा। ओह मां !

आज माँ नहीं है,
कोई माँ जैसा भी नही है।

माँ के जाते वह बचपन भी नही है।
बची है तो
बचपन की यादें
दिल की मुरादे
प्यार से गुस्सा, गुस्से में भी प्यार,
स्नेह का स्पर्श , वह मीठा सा दुलार।

Read more...

आभार आपका...

संदीप देव। मैं संस्‍कृत का इतिहास पढ रहा था, सोचा आपको बताऊं। मैं सभी मित्रों से अनुरोध करूंगा कि किसी के प्रति अपनी धन्‍यता प्रकट करने के लिए आप अंग्रेजी के 'थैंक्‍यू' की जगह हिंदी के बेहद ही खूबसूरत 'आभार' शब्‍द का इस्‍तेमाल करें। थैंक्‍यू कहने और सुनने में ऐसा लगता है कि जैसे एहसान उतारने की तत्‍काल कोशिश की जा रही हो। लेकिन 'आभार' हमेशा एहसान को सीने में बसाए रखने का अहसास कराती है। आभार में हमारी संस्‍कृति, हमारे संस्‍कार का बोध छिपा और सुनाई देता है।

Read more...

सोशल मीडिया के नाम: ये जंग शुरू की है तुमने, तो जंग सदा जारी रखना!

ग़र योद्धा हो तो याद रहे । दिल राष्ट्रभक्ति आबाद रहे ।।
ना भारत माँ की बेटों से, अब कोई भी फ़रियाद रहे ।।

चेहरे पर झलके स्वाभिमान, और मन में खुद्दारी रखना ।
ये जंग शुरू की है तुमने, तो जंग सदा जारी रखना।।

Read more...