आभार आपका...

संदीप देव। मैं संस्‍कृत का इतिहास पढ रहा था, सोचा आपको बताऊं। मैं सभी मित्रों से अनुरोध करूंगा कि किसी के प्रति अपनी धन्‍यता प्रकट करने के लिए आप अंग्रेजी के 'थैंक्‍यू' की जगह हिंदी के बेहद ही खूबसूरत 'आभार' शब्‍द का इस्‍तेमाल करें। थैंक्‍यू कहने और सुनने में ऐसा लगता है कि जैसे एहसान उतारने की तत्‍काल कोशिश की जा रही हो। लेकिन 'आभार' हमेशा एहसान को सीने में बसाए रखने का अहसास कराती है। आभार में हमारी संस्‍कृति, हमारे संस्‍कार का बोध छिपा और सुनाई देता है।

हिंदी में इसके लिए आप 'धन्‍यवाद' का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं, लेकिन इसे बार-बार उपयोग में न लाएं। यह शब्‍द परमात्‍मा, माता-पिता, गुरु के लिए एक तरह से आरक्षित है। धन्‍यवाद अर्थात मेरे 'धन्‍य भाग्‍य'... और भाग्‍य की धन्‍यता केवल परमात्‍मा, माता-पिता और गुरु के लिए या फिर ऐसे व्‍यक्ति के लिए होना चाहिए, जिसके कारण से आपका जीवन, आपके होने का अर्थ है। जीवनदान देने वालों के लिए भी धन्‍यवाद का उपयोग ही करना चाहिए। 'धन्‍यवाद' बेहद कृतज्ञतापूर्ण शब्‍द है।

वैसे ऊर्दू का 'शुक्रिया' भी मीठा शब्‍द है। इसका अर्थ है कि शुक्र है कि आपकी मेहरबानी हुई। लेकिन इन सभी शब्‍दों में आम बोलचाल में यदि आप 'आभार' को शामिल करेंगे तो यह दिल की गहराईयों तक उतरता और अपनी संस्‍कृति का सही प्रतिनिधित्‍व करता हुआ प्रतीत होता है। आप कोशिश करके तो देखिए... । वैसे मैंने ने यूं ही कह दिया। इसलिए कोई इसे अन्‍यथा न ले...

Web title: sandeep-deo-blogs37

Keywords: आभार| शुक्रिया| धन्‍यवाद| थैंक्‍स| thank you| thanx| 

Arun Jaitley साहब अब बस भी कीजिए! मोदी स...
Arun Jaitley साहब अब बस भी कीजिए! मोदी सरकार को बदनाम करने वालों को पुरस्‍कृत करने का यह खेल क्‍यों?

संदीप देव।पमें Narendra Modi सुनामी में भी जीतने की क्षमता नहीं रही, इसलिए शायद आप हम मतदाताओं एवं अपनी ही सरकार के सम्मान से [...]

ज्योतिष पर ओशो के विचार...
ज्योतिष पर ओशो के विचार

ओशो। ज्योतिष के नाम पर सौ में से निन्यानबे धोखाधड़ी है। और वह जो सौवां आदमी है, निन्यानबे को छोड़ कर उसे समझना बहुत मुश्किल है। क्योंकि वह कभी इतना डागमेटिक नहीं हो सकता कि कह दे कि ऐसा [...]

रिपोर्टर खुश, संपादक नाराज-यही है मोदी स...
रिपोर्टर खुश, संपादक नाराज-यही है मोदी स्‍टाइल!

संदीप देव।रेंद्र मोदी ने रिपोर्टर और संपादक के बीच के अंतर को समाप्‍त कर दिया। इससे रिपोर्टर जहां खुश हैं, वहीं संपादक बेहद नाराज! सही मायने में मोदी मास्‍टर ऑफ राजनीति हैं! अब आम [...]

नवरात्र में जगाएं अपने अंदर की शक्तियां,...
नवरात्र में जगाएं अपने अंदर की शक्तियां, जानिए सप्त चक्र के बारे में

शारदीय नवरात्रि का प्रारंभ हो रहा है। हमारे पूर्वजों ने इन 9 दिनों में माता की भक्ति के साथ ही योग का विधान भी निश्चित किया है। हमारे शरीर में सात चक्र होते हैं। नवरात्रि में हर दिन एक [...]

सोशल मीडिया के नाम: ये जंग शुरू की है तु...
सोशल मीडिया के नाम: ये जंग शुरू की है तुमने, तो जंग सदा जारी रखना!

ग़र योद्धा हो तो याद रहे । दिल राष्ट्रभक्ति आबाद रहे ।।
मन में खुद्दारी रखना ।

कृष्‍ण ने अर्जुन से कहा, हे अर्जुन वृक्ष...
कृष्‍ण ने अर्जुन से कहा, हे अर्जुन वृक्षों में मैं पीपल हूं। लेकिन आखिर पीपल ही क्‍यों?

संदीप देव।: सर्ववृक्षाणां देवर्षीणां च नारद: हे अर्जुन वृक्षों में मैं पीपल हूं और देवर्षियों में नारद। कदम्‍ब के पेड़ के नीचे रास [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: 'इसे छूने के बाद रोटी नहीं खाई जाती'

शालू यादव, बीबीसी संवाददाता, दिल्ली।स्तेमाल करती हैं. कूड़ेदान में फेंके गए सैनिट्री पैड्स प्राकृतिक रूप से गलते नहीं है. तो इनका क्या होता है? [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: ‘ढाई लोटे पानी से ढाई दिन माहवारी होगी’

अदिति गुप्ता संस्थापक, मेंस्ट्रूपीडिया डॉट कॉम।ाम भी साथ ही होता था. धीरे-धीरे हम गर्लफ्रेंड और ब्वॉयफ्रेंड बने. मेरा साथी [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles