दुनिया की सबसे वैज्ञानिक लिपि है देवनागरी लिपि

‪संदीपदेव‬। दुनिया की सबसे वैज्ञानिक लिपि है देवनागरी लिपि। देखिए, देवनागरी का पहला अक्षर है 'अ' अर्थात 'अज्ञान' और देवनागरी का आखिरी अक्षर है 'ज्ञ' अर्थात 'ज्ञान'। देवनागरी मतलब- 'अज्ञान से ज्ञान की यात्रा'। जब एक बच्‍चा 'अ' सीखता है, उस समय वह एकदम से निरक्षर होता है और जब वह 'ज्ञ' सीख लेता है तो वह हिंदी भाषा में लिखना-पढ़ना जान जाता है। यही है एक भाषा का मूल उदृेश्‍य, जो देवनागरी लिपि की बनावट तक में दृष्टिगोचर होता है।

 

देवनागरी की दूसरी विशेषता, यह दुनिया की एक मात्र लिपि है, जो संसार के हर शब्‍द को उसके उच्‍चारण के अनुरूप हुबहू लिख सकती है। इसकी तीसरी विशेषता है, यह ध्‍वन्‍यार्थक अर्थात ध्‍वनि प्रधान लिपि है। जिससे न केवल आपका उच्‍चरण दोष समाप्‍त होता है, बल्कि बोलने में स्‍पष्‍टता आती है और मस्तिष्‍क सहित चेहरे के ऊपरी हिस्‍से के सभी नसें उच्‍चारण के साथ गतिशील रहती हैं। आप सही उच्‍चारण करें और उसे साक्षीभाव से देखें, आप अपनी नसों की सक्रियता को महसूस कर सकते हैं!

मैं अपने सोशल मीडिया के उन सभी साथियों से यह आग्रह करना चाहता हूं, जो रोमन लिपि में हिंदी लिखते हैं। मोबाइल पर मैं भी लिखता हूं और सच मानिए मुझे भी देवनागरी में लिखने में बड़ी कठिनाई आती थी, लेकिन मैंने उस कठिनाई को अभ्‍यास से पार किया है। यदि आप अपनी लिपि में नहीं लिखेंगे तो ब्रि‍टेन या अमेरिका से तो कोई आएगा नहीं जो आपकी भाषा को बचाए? अपनी भाषा को बचाने के लिए आपको ही आगे आना होगा!

इसलिए प्रार्थना है कि राहुल गांधी और चेतन भगत न बनें। या तो पूरा अंग्रेज बन जाएं या फिर पूरी तरह अपनी मातृभाषा का होकर रहें। अधकचरे व्‍यक्तित्‍व को विकसित न करें। आप भी अधकचरे और आपकी आने वाली पीढ़ी भी अधकचरी- फिर समाज, देश व मातृभूमि का ऋण कैसे उतारेंगे आप? राहुल का व्‍यक्तित्‍व देखिए और चेतन भगत को पढ़ कर देखिए, दोनों मूढ़मति प्रतीत होते हैं! उनके मशहूर होने पर न जाइए, चंगेज खान तो आज तक मशहूर है!

Web title: sandeep deo blog on Devanagari lipi-1

आप यदि हिंदू धर्म के बारे में नहीं बताएं...

संदीप देव। प्रगति मैदान में लगे पुस्‍तक मेले में जरूर जाएं। हर बार से कहीं अधिक इस बार वहां इस्‍लामिक पुस्‍तकों के प्रकाशक आए हैं। कुछ तो आपको वेद और कुरान में साम्‍यता दर्शाने की ऐसी [...]

श्‍यामा प्रसाद मुकर्जी को कश्‍मीर जाने स...
श्‍यामा प्रसाद मुकर्जी को कश्‍मीर जाने से रोकते हुए सुचेता कृपलानी ने कहा था, वहां न जाएं, पंडित नेहरू आपकी हत्‍या करवा देंगे। क्‍या सचमुच सुचेता सहीं थी? ‪ ‎

संदीपदेव‬।यामाप्रसाद मुकर्जी का जन्‍म हुआ और 23 जून 1953 को संदिग्‍ध परिस्‍थति में उनकी कश्‍मीर में मौत! श्‍यामा प्रसाद मुकर्जी जब कश्‍मीर में [...]

हिंदी की एक भी पुस्‍तक बेस्‍ट सेलर सूची ...

संदीपदेव‬।को इस पुस्‍तक गी-एक योद्धा'अगस्‍त को हरिद्वार में इसका लोकार्पण होना तय हुआ है। इसका प्रकाशन दुनिया में सबसे अधिक [...]

पढ़ना मत! अपनी मूर्खता को पकड़े रखना- कश...
पढ़ना मत! अपनी मूर्खता को पकड़े रखना- कश्‍मीरी पंडित के पूर्वजों ने मूर्खता की थी, उनकी अगली पीढ़ी गाजर-मूली की तरह काट दी गयी, भगा दी गयी! ‎

संदीपदेव‬।िचित्र बात है, वह अपने इतिहास से सबक लेने को तैयार ही नहीं है! और ऐसा नहीं कि यह आज की बात हो, यह हमारे पूर्वजों से चली आ रही मूढ़ता है, जिसका [...]

भगवा अग्नि और सूरज की तरह खुद को जलाकर द...
भगवा अग्नि और सूरज की तरह खुद को जलाकर दूसरों के जीवन में रौशनी बिखेरने का प्रतीक है!

संदीप देव।हर भारतीय जीवन का आधार मान लें तो तिरंगे में तो भगवा रंग भी है। भगवा रंग अग्नि का रंग है, भगवा रंग सूरज की किरणों का रंग है-यही कारण है कि [...]

सुप्रीम कोर्ट के बड़े बेंच के निर्णय से ज...
सुप्रीम कोर्ट के बड़े बेंच के निर्णय से जस्टिस कुरियन की निष्‍पक्षता संदेह के घेरे में! ‎

संदीपदेव‬।ं सुप्रीम कोर्ट के बड़े बेंच ने साफ कर दिया कि क्‍यूरेटिव पेटिशन पर दोबारा सुनवाई नहीं होगी। सुप्रीम कोर्ट ने याकूब मेनन की फांसी की सजा को बरकरार रखा है। सर्वोच्च अदालत ने याकूब मेनन [...]

प्रधानमंत्री मोदी ने इसाईयत व इस्‍लाम को...

संदीप देव। )दिल्‍ली के कैथोलिक चर्च में अपने संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने श्रेष्‍ठता दंभ से भरे धर्मावलंबियों खासकर अल्‍पसंख्‍यक इसाई व इस्‍लाम को स्‍पष्‍ट रूप से [...]

पहली ही कोशिश में मंगल तक पहुंचने वाला प...
पहली ही कोशिश में मंगल तक पहुंचने वाला पहला देश बना भारत

बेंगलुरु। अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में भारत ने नायाब उपलब्धि हासिल की है। भारतीय अनुसंधान संस्थान (इसरो) का मार्स ऑर्बिटर मिशन यानी मंगलयान सुबह 8 बजे करीब मंगल की कक्षा में प्रवेश कर गया। यह उपलब्धि हासिल [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles