वेतन बढ़ते ही अमेरिकी युवा हो जाते हैं अविश्‍वासी

वाशिंगटन। अमेरिका में युवाओं के बीच किए गए एक सर्वे में पता चला है कि आय बढ़ने के साथ युवाओं में दूसरों के प्रति भरोसा और सामाजिक संस्थानों में विश्वास कम होता जाता है। आज के युवा अपने पक्षों को लेकर काफी आशावादी होते हैं, लेकिन इसके उलट दूसरे लोगों के प्रति भरोसे और बड़े संस्थानों पर विश्वास को लेकर उनकी राय नकारात्मक होती है।

सेन डियागो स्टेट युनिवर्सिटी के शोधकर्ता और मनोवैज्ञानिक जीन एम. ट्वेंग ने कहा कि सर्वेक्षण के रुझान से पता चलता है कि युवाओं का यह स्वभाव स्थाई पीढ़ीगत बदलाव नहीं है।

जीन के अनुसार 1970 से 2000 के दौर की तुलना में पिछले कुछ सालों से अमेरिकी नागरिक दूसरों पर कम भरोसा जताते हैं। उन्होंने कहा, कि उनका इस बात पर भी कम ही भरोसा होता है कि सरकार, मीडिया, धार्मिक संस्थान, स्कूल और बड़े निगम अच्छा काम कर रहे हैं।

जीन ने कहा कि चूंकि धनी और अधिक धनवान होता जा रहा है, गरीब और निर्धन होता जा रहा है, इसलिए अब लोग एक दूसरे पर कम भरोसा करते हैं। लोगों के मन में यह राय कायम होती जा रही है कि दूसरे लोग धोखे से या गलत तरीके से आगे बढ़ रहे हैं।

शोधकर्ताओं का कहना है कि सामाजिक भरोसे में गिरावट लोकतंत्र की ओर नकारात्मक रुझान है, जिसके तहत सरकार में कुछ लोगों के प्रतिनिधित्व को बहुत से लोगों के हित की संस्था माना जाता है।यह शोध जर्नल साइकोलॉजिकल साइंस में प्रकाशित हुआ है।

साभार: IBN Khabar

Web title: american youth lifestyle-1
Keywords: America| Research| Youth| Income| suspicion| Media| Government| american youth lifestyle| अमेरिकी युवा| युवा| युवावस्‍था| अमेरिका| अमेरिकी|

ज्योतिष पर ओशो के विचार...
ज्योतिष पर ओशो के विचार

ओशो। ज्योतिष के नाम पर सौ में से निन्यानबे धोखाधड़ी है। और वह जो सौवां आदमी है, निन्यानबे को छोड़ कर उसे समझना बहुत मुश्किल है। क्योंकि वह कभी इतना डागमेटिक नहीं हो सकता कि कह दे कि ऐसा [...]

पद्मश्री एक सहज, सजग और सार्थक संवाद को...
पद्मश्री एक सहज, सजग और सार्थक संवाद को

के. एन. गोविंदाचार्य।जाए तो पत्रकारिता का चेहरा इस बार ज्यादा सहज, सजग और सार्थक संवाद करता हुआ दिख रहा है। यह सच है कि व्यक्ति पुरस्कार से बड़ा या छोटा [...]

देश तोड़ने वालों को सरदार पटेल की तरह फट...
देश तोड़ने वालों को सरदार पटेल की तरह फटकारिए, न कि धर्मनिरपेक्षतावाद का राग अलापिए!

संदीप देव।करते हुए तथाकथित धर्मनिरपेक्षतावादी, बुद्धिजीवी, वामपंथी, कांग्रेसी प्रवक्‍ता, मुस्लिम नेता व मौलाना लगातार यह कहते रहते हैं कि भारत के मुसलमान भी राष्‍ट्रवादी हैं। लेकिन भारत विभाजन व देश की आजादी [...]

South Asia: UNODC initiates: 32 बिलियन ...
South Asia:  UNODC initiates: 32 बिलियन डॉलर का बिजनस है मानव व्‍यापार

New delhi. A $32 billion business annual [...]

वह महात्‍मा गांधी थे, जिन्‍होंने कस्‍तूर...
वह महात्‍मा गांधी थे, जिन्‍होंने कस्‍तूरबा का स्‍मारक बनवा कर परिवार को महिमा मंडित करने की शुरुआत की थी! ‪‎

संदीपदेव‬।ी थे, जिन्‍होंने सबसे पहले परिवारवाद की मूर्ति पूजा का चलन इस देश में शुरु किया। और यह भी बता दूं कि देश के सबसे बढिया स्‍मारक में उनकी पत्‍नी कस्‍तूरबा गांधी का स्‍मारक शामिल [...]

बम फोड़ने वाले का कोई मजहब नहीं होता, ले...
बम फोड़ने वाले का कोई मजहब नहीं होता, लेकिन सजा मिलते ही उसके नाम का कलमा पढने वालों की बाढ़ आ जाती है! कमाल है!

संदीपदेव‬। और मजहब का होता तो क्‍या मीडिया वाले उसके पक्ष में इस तरह का अभियान चलाते? सुप्रीम कोर्ट का एक पूर्व जस्टिस अंग्रेजी अखबार में उसके लिए लेख लिखता? एक फिल्‍म स्‍टार दनादन [...]

तो नीतीश कुमार अपने दादा के स्‍वतंत्रता ...
तो नीतीश कुमार अपने दादा के स्‍वतंत्रता सेनानी होने की कीमत वसूलता चाहते हैं बिहारी जनता से!

ंदीपदेव‬।ुख्‍यमंत्री Nitish Kumar के सिर चढ़ कर बोल रहा है! उनका कहना है कि जिन लोगों का (आरएसएस व भाजपा) देश को [...]

रक्षा क्षेत्र में विदेशी कंपनी का विरोध ...
रक्षा क्षेत्र में विदेशी कंपनी का विरोध करने वाले, पहले जान तो लें कि हथियार निर्माण में  विदेशी मदद शिवाजी ने भी ली थी!

संदीप देव।ी महाराज की जन्‍मजयंती थी। मैं आप सभी को एक सुंदर लेख का उपहार देना चाहता था, लेकिन कई कार्यों में उलझे रहने के कारण नहीं दे सका। लेकिन उस लेख का मर्म आपको समझा [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles