वेतन बढ़ते ही अमेरिकी युवा हो जाते हैं अविश्‍वासी

वाशिंगटन। अमेरिका में युवाओं के बीच किए गए एक सर्वे में पता चला है कि आय बढ़ने के साथ युवाओं में दूसरों के प्रति भरोसा और सामाजिक संस्थानों में विश्वास कम होता जाता है। आज के युवा अपने पक्षों को लेकर काफी आशावादी होते हैं, लेकिन इसके उलट दूसरे लोगों के प्रति भरोसे और बड़े संस्थानों पर विश्वास को लेकर उनकी राय नकारात्मक होती है।

सेन डियागो स्टेट युनिवर्सिटी के शोधकर्ता और मनोवैज्ञानिक जीन एम. ट्वेंग ने कहा कि सर्वेक्षण के रुझान से पता चलता है कि युवाओं का यह स्वभाव स्थाई पीढ़ीगत बदलाव नहीं है।

जीन के अनुसार 1970 से 2000 के दौर की तुलना में पिछले कुछ सालों से अमेरिकी नागरिक दूसरों पर कम भरोसा जताते हैं। उन्होंने कहा, कि उनका इस बात पर भी कम ही भरोसा होता है कि सरकार, मीडिया, धार्मिक संस्थान, स्कूल और बड़े निगम अच्छा काम कर रहे हैं।

जीन ने कहा कि चूंकि धनी और अधिक धनवान होता जा रहा है, गरीब और निर्धन होता जा रहा है, इसलिए अब लोग एक दूसरे पर कम भरोसा करते हैं। लोगों के मन में यह राय कायम होती जा रही है कि दूसरे लोग धोखे से या गलत तरीके से आगे बढ़ रहे हैं।

शोधकर्ताओं का कहना है कि सामाजिक भरोसे में गिरावट लोकतंत्र की ओर नकारात्मक रुझान है, जिसके तहत सरकार में कुछ लोगों के प्रतिनिधित्व को बहुत से लोगों के हित की संस्था माना जाता है।यह शोध जर्नल साइकोलॉजिकल साइंस में प्रकाशित हुआ है।

साभार: IBN Khabar

Web title: american youth lifestyle-1
Keywords: America| Research| Youth| Income| suspicion| Media| Government| american youth lifestyle| अमेरिकी युवा| युवा| युवावस्‍था| अमेरिका| अमेरिकी|

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: ‘ढाई लोटे पानी से ढाई दिन माहवारी होगी’

अदिति गुप्ता संस्थापक, मेंस्ट्रूपीडिया डॉट कॉम।ाम भी साथ ही होता था. धीरे-धीरे हम गर्लफ्रेंड और ब्वॉयफ्रेंड बने. मेरा साथी [...]

स्‍वामी रामदेव के खिलाफ कांग्रेस की हर स...
स्‍वामी रामदेव के खिलाफ कांग्रेस की हर साजिश का अब हो रहा है पर्दाफाश!

संदीप देव।ष्‍टाचार और कालाधन के खिलाफ स्‍वामी रामदेव के नेतृत्‍व में चल रहे आंदोलन को रामलीला मैदान में आधी रात को कुचलने के बाद, तत्‍कालीन यूपीए सरकार और कांग्रेस [...]

बिहार चुनाव में भाजपा के खलनायक: प्रशांत...

संदीप देव।त्री नीतीश कुमार की पहली जीवनी वरिष्‍ठ पत्रकार संकर्षण ठाकुर ने लिखी थी। संकर्षण को आप अकसर एबीपी न्‍यूज पर देखते होंगे। वो टेलीग्राफ में शायद रोविंग एडिटर हैं। संकर्षण ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दामन [...]

रक्षा क्षेत्र में विदेशी कंपनी का विरोध ...
रक्षा क्षेत्र में विदेशी कंपनी का विरोध करने वाले, पहले जान तो लें कि हथियार निर्माण में  विदेशी मदद शिवाजी ने भी ली थी!

संदीप देव।ी महाराज की जन्‍मजयंती थी। मैं आप सभी को एक सुंदर लेख का उपहार देना चाहता था, लेकिन कई कार्यों में उलझे रहने के कारण नहीं दे सका। लेकिन उस लेख का मर्म आपको समझा [...]

तो नीतीश कुमार अपने दादा के स्‍वतंत्रता ...
तो नीतीश कुमार अपने दादा के स्‍वतंत्रता सेनानी होने की कीमत वसूलता चाहते हैं बिहारी जनता से!

ंदीपदेव‬।ुख्‍यमंत्री Nitish Kumar के सिर चढ़ कर बोल रहा है! उनका कहना है कि जिन लोगों का (आरएसएस व भाजपा) देश को [...]

सेक्‍यूलर हिंदू अपने डीएनए की जांच अवश्‍...

संदीप देव। हिंदू संगठनों को सुनियोजित तरीके से बदनाम किया जाता है। सुन्नी उलेमा काउंसिल के महासचिव की अगुवाई में मुस्लिम उलेमा के एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी इंद्रेशजी से मुलाकात कर [...]

जहां सबसे अधिक बलात्‍कार, वह सबसे बड़ा प...
जहां सबसे अधिक बलात्‍कार, वह सबसे बड़ा प्रवचनकर्ता!

संदीप देव।्‍कार वाले देश अमेरिका व ब्रिटेन की मीडिया भारत सरकार पर हमलावर है, क्‍योंकि उसने दिल्‍ली बलात्‍कार पर बनी डक्‍यमेंट्री पर अपने देश में रोक लगाया है। भारत सरकार की सबसे बडी गलती यह [...]

आम जनता तक सही इतिहास पहुंचाना है तो समय...
आम जनता तक सही इतिहास पहुंचाना है तो समय बहुत कम है!

‪‎संदीपदेव‬।यूट ऑफ हेरिटेज रिसर्च एंड मैनेजमेंट के प्रोफेसर मक्‍कखन लाल जी। आधुनकि समय में मक्‍कखन जी देश के प्रतिष्ठित इतिहासकार हैं। इनकी पांच खंडों में प्रकाशित पुस्‍तक-'इंडियन हिस्‍ट्री' भारतीय इतिहास पर आधुनिक समय [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles