योग गुरु से बिजनस टाइकून बने बाबा रामदेव, 2000 करोड़ का FMCG कारोबार

नई दिल्ली। भले ही योग और एफएमसीजी का संयोजन एक-दूसरे से एकदम उलट हो (योग आंतरिक शांति के लिए और एफएमसीजी बाहरी सौंदर्य के लिए) लेकिन बाबा रामदेव ने इन दोनों ही क्षेत्रों में एकदम सटीक 'आसन' लगाया है। 'आसान, योग' से दुनिया भर में लोकप्रिय हुए रामदेव को उनके डेली यूज एफएमसीजी प्रॉडक्ट्स जिनमें साबुन से लेकर मस्टर्ड तेल और कॉर्नफ्लैक्स तक के दम पर इस इंडस्ट्री में भी अपनी धाक जमा दी है।

बाबा रामदेव का ब्रैंड बहुत तेजी के साथ बढ़ा है। इंडस्ट्री के सूत्रों के मुताबिक एफएमसीजी प्रॉडक्ट्स बनाने वाली कंपनी पतंजलि आयुर्वेद का वित्त वर्ष 2014 में टर्नओवर 1,200 करोड़ रुपये रहा , जो इसके पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 850 करोड़ रुपये अधिक है। पिट्टी ग्रुप के सीईओ आदित्य पिट्टी के मुताबिक इस वित्त वर्ष में पतंजलि आयुर्वेद का टर्नओवर 2,000 करोड़ रुपये हो जाने का अनुमान है जो 2014 की तुलना में 67 फीसदी की बढ़ोतरी दिखाता है।

पिट्टी पतंजलि के जनरल ट्रेड बिजनस का मुंबई डिस्ट्रीब्यूटर और इसके मॉडर्न ट्रेड बिजनस का अखिल भारतीय डिस्ट्रीब्यूटर है।

वर्तमान में पतंजलि की पहुंच पर्सनल और फूड प्रॉडक्ट्स की सभी कैटिगरीज में है, जिनमें साबुन, शैंपू, डेंटल केयर, बाम, स्किन क्रीम्स, बिस्किट्स, घी, जूस, शहद, आटा, सरसो तेल, मसाला, चीनी और कई अन्य चीजें शामिल हैं। अगर पतंजलि के इस साल के 2,000 करोड़ रुपये के अनुमान को आधार बनाएं तो बाबा रामदेव का एफएमसीजी बिजनस इमामी ग्रुप (1,700 करोड़) से ज्यादा और मैरिको (करीब 4000 करोड़) के आधे के बराबर हो जाएगा।

यह तब है जबकि पतंजलि के प्रॉडक्ट्स की कीमतें इसके प्रतिस्पर्धियों की तुलना में कम है। साथ ही कंपनी ऐडवर्टाइजमेंट्स पर बहुत ही कम पैसे खर्च करती है। इसकी तुलना में बड़ी एफएमसीजी कंपनियां अपने सेल का 20-30 फीसदी हिस्सा ऐडवर्टाइजमेंट्स पर खर्च करती है।

कंजयूमर्स के बीच पतंजलि ब्रैंड की बढ़ती पहुंच और लोकप्रियता ने इसे कॉर्पोरेट्स बोर्डरूम्स में चर्चा का विषय बना दिया है। यह 2007 में इसकी शुरुआत से बिल्कुल उलट स्थिति है। तब की एफएमसीजी कंपनियां ने इस पर ध्यान ही नहीं दिया था। बड़े शहरों में फ्रेंचाइजी से शुरुआत के बाद इसके प्रॉडक्ट्स की बढ़ती मांग से बाबा रामदेव को एफएमसीजी क्षेत्र में मौजूद अवसर का अहसास हो गया था और उन्होंने इस क्षेत्र में अपनी पकड़ बनानी शुरू कर दी थी।

फ्रेंचाइजी मॉडल तेजी से आगे बढ़ा। 2012 में पतंजलि के 150-200 आउटलेट्स थे जिनकी संख्या अब 4000 तक पहुंच चुकी है। फ्रेंचाइजी रूट की शुरुआती सफलता ने पतंजलि आयुर्वेद को अपने एफएमसीजी रेंज को ओपन मार्केट में उपलब्ध कराने के लिए प्रोत्साहित किया।

इससे कंपनी के डिस्ट्रीब्यूटर्स के लिए रास्ते खुले जिन्हें अब जनरल ट्रेड में प्रॉडक्ट्स को किराना स्टोर्स को बेचने की अनुमति मिल गई। इस तरह से योग गुरु ने अब वही रास्ता अपनाया है जो एफएमसीजी कंपनियां अपनाती हैं।

जनरल ट्रेड के बाद अब पतंजलि के मॉडर्न ट्रेड सेगमेंट में प्रवेश करने का समय था। इसके लिए बाबा रामदेव ने एक अनोखा तरीका अपनाया और रिलायंस रिटेल में एक्सलूसिव कियोस्क लगाने का करार किया, यह अधिकार किसी और कंपनी को नहीं मिला था। पिट्टी ने कहा, 'हमने शुरुआत में यह योजना (पतंजलि प्रॉडक्ट्स बेचने की) मुंबई के 5 रिलायंस रिटेल स्टोर्स में शुरू की और फिर इसे शहर के 45 स्टोर्स में शुरू किया गया।' उन्होंने कहा कि वर्तमान में पतंजलि के प्रॉडक्ट्स पूरे भारत में 400 स्टोर्स में बेचे जाते हैं और इसकी योजना 2015 के अंत तक इसे 1000 स्टोर्स में बेचने की है।

अब मुंबई में बिग बाजार, हाइपर सिटी और स्टार बाजार के भी कुछ स्टोर्स पतंजलि के प्रॉडक्ट्स की स्टॉकिंग कर रहे हैं। मॉडर्न रिटेल में कंपनी की ग्रोथ 5 स्टोर्स से 5 लाख रुपये प्रति महीने से बढ़कर अब 5 करोड़ रुपये तक पहुंच गई है, जोकि 20 फीसदी की सलाना वृद्धि को दर्शाती है। पिट्टी ने कहा, 'वर्तमान में पतंजलि के सेल में मॉडर्न रिटेल का योगदान महज 3 फीसदी है जोकि 30 एसकेयू (स्टॉक कीपिंग यूनिट्स) से आता है। जिसे बढ़ाकर 500 करोड़ रुपये सलाना करने का लक्ष्य है।'

पतंजलि ग्रुप का अगला लक्ष्य ऑनलाइन है। इसके लिए ग्रुप ने हाल ही में ई-कॉमर्स साइट बिग बास्केट पर रिटेलिंग शुरू की है। पिट्टी ने कहा, 'हम अब ऐमजॉन से बात कर रहे हैं जिसने फूड ऐंड ग्रॉसरी गुर्मे कैटिगरी शुरू की है।'

साभार: पार्थ सिन्हा/नम्रता सिंह, नवभारत टाइम्‍स/ टाइम्‍स ऑफ इंडिया

Web title: Ramdev expands empire beyond yoga to FMCG

Keywords: Yoga| patanjali| Marico| fmcg| emami| Baba Ramdev| Ayurveda| Amazon| Aditya Pittie| योग गुरु| बाबा रामदेव| एफएमसीजी

कभी स्‍वामी रामदेव पर हमला कर चुके वामपं...
कभी स्‍वामी रामदेव पर हमला कर चुके वामपंथी व कांग्रेसी उनकी जेड श्रेणी सुरक्षा से हैं असहज!

संदीप देव। गृहमंत्रालय ने जिस दिन जेड श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराई, उस दिन वामपंथी मीडिया मातम मना रहा था। सबसे अधिक दुखी पूर्व वित्‍त मंत्री पी.चिदंबरम के 5000 करोड़ रुपए [...]

लगभग 400 वर्ष पुराना है मदर्स डे का इतिह...
लगभग 400 वर्ष पुराना है मदर्स डे का इतिहास

मदर्स डे दुनिया भर में मनाया जाता है। भारत में मदर्स डे मई माह के दूसरे रविवार को मनाते हैं। मदर्स डे का इतिहास लगभग 400 वर्ष पुराना है। प्राचीन ग्रीक और रोमन इतिहास में मदर्स डे [...]

समलैंगिकों में एचआईवी फैलने की आशंका सबस...
समलैंगिकों में एचआईवी फैलने की आशंका सबसे अधिक!

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सभी स्वस्थ समलैंगिक पुरुषों से अपील की है कि वो एड्स से जुड़ी एंटीरेट्रोवायरल दवाएं लें ताकि एड्स को बढ़ने से रोका जा सके. संगठन का कहना है कि ऐसा करने से अगले दस वर्षों [...]

गांधी जी और शास्‍त्री जी में कुछ समानता,...
गांधी जी और शास्‍त्री जी में कुछ समानता, लेकिन ढेर सारी असमानता!

‪संदीपदेव‬।ालबहादुर शास्‍त्री- दोनों की जयंती है। दोनों में कुछ बातें समान थीं, जैसे- दोनों बेहद सादगी से जीते थे और दोनों स्‍वयं के प्रति ईमानदार थे। दोनों में एक और बात कॉमन [...]

याकूब मेनन के जनाजे में शामिल हर व्‍यक्त...
याकूब मेनन के जनाजे में शामिल हर व्‍यक्ति अलगाववादी या फिर आतंक समर्थक था!

संदीपदेव‬।ल तथागत राय ने सही ट्वीट किया है कि याकूब की मैय्यत में शामिल हर व्यक्ति आतंकवादी हो सकता है। उन पर आईबी को नजर रखनी चाहिए। इतिहास गवाह है कि सन् 1937 [...]

माओवादी खरीद रहे हैं अरबों के हथियार, चर...
माओवादी खरीद रहे हैं अरबों के हथियार, चर्च धर्मांतरण के लिए खर्च कर रहे हैं रक्षा बजट बराबर रकम

संदीप देव। पिछले दो-तीन दिन से काफी सारे लोगों से मिला हूं। सबका यही कहना है कि आपमें सामाजिक व कानूनी शोध करने की क्षमता है, जो नरेंद्र मोदी पर लिखी आपकी पुस्‍तक '' साजिश की [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: औरतों की माहवारीः कब तक जारी रहेगी शर्म?

रूपा झा, बीबीसी संवाददाता। ं से नही गुज़रने दूंगी जिससे मैं गुज़रती रही हूं." 32 साल की मंजू बलूनी की आवाज़ में एलान करने जैसी दृढ़ता [...]

मसीह, मोहम्‍मद और मार्क्‍सवादियों का दर्...
मसीह, मोहम्‍मद और मार्क्‍सवादियों का दर्द!

संदीप देव। मार्क्‍सवादियों का दर्द क्‍या है, इसे कुछ ऐसे समझिए! मसीहवादियों ने पूरे यूरोप को रौंद दिया। प्राचीन यूनान सभ्‍यता आज कहीं नहीं है, उसे वर्तमान रूप में आप ग्रीस नाम से [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles