निवेश | बचत

शेयर बाजार को समझें, फिर करें कारोबार

पूंजी बाजार में निवेश के कई तरीके हैं। शेयर, बाण्ड्स, डिबेंचर, म्यूचुअल फण्ड, सिक्यूरिटीज अर्थात प्रतिभूतियां आदि कैपिटल मार्केट में निवेश के विभिन्न माध्यम हैं। इनमें शेयर बाजार में किया गया निवेश सर्वाधिक लोकप्रिय है, क्योंकि इसमें धन को बढ़ते देर नहीं लगती।

शेयर बाजार के अपने जोखिम भी हैं, लेकिन इसमें त्वरित ग्रोथ की वजह से लोगों की दिलचस्पी कहीं ज्यादा होती है। शेयर किसी कंपनी में आंशिक भागीदारी हासिल करने का जरिया है। आप किसी कंपनी का जितना शेयर खरीदते हैं  उस कंपनी के उतने हिस्से का हिस्सेदार बन जाते हैं।

Read more...

रिटायरमेंट की प्लानिंग कैसे करें?

महानगरी जीवन शैली के बीच इन दिनों सबसे ज्यादा परेशानी हमारे बुजूर्गों को हो रही है। पूरी जिंदगी की गाढ़ी कमाई बच्चों में लगा दिया। अपने लिए कुछ बचाया नहीं। अब बच्चे बड़े हुए तो साथ छोड़ दिया। ये घर-घर की कहानी है। ऐसे में बुढ़ाने में अगर तय रकम हर महीने मिलती रहे तो जिंदगी थोड़ी आसान हो जाती है। लेकिन जब तक इसका एहसास होता है, काफी देर हो चुकी होती है। इसलिए ये बेहद जरूरी है कि समय रहते रिटायरमेंट की प्लानिंग शुरू कर दी जाए। इसके लिए कई बातों का ख्याल रखें।

Read more...

भारत की सेक्‍यूलर प्रजाति!...
भारत की सेक्‍यूलर प्रजाति!

संदीप देव।े लिए सेक्‍यूलर नामक प्रजाति सबसे अधिक जिम्‍मेवार है! अमेरिका की एक बहुत बड़ी वेबसाइट है, जो चर्च मिशनरी को सपोर्ट करता है, नाम है

पत्रकार-दलाल-नौकरशाह-कारपोरेट गठजोड़ पिछ...

संदीप देव।लय में पिछले कई वर्षों से जिस तरह जासूसी का खेल चल रहा था, उसका पर्दाफाश यह दर्शाता है कि मीडिया-दलाल-नौकरशाह-कंपनियों का नेक्‍सस किस तरह गहराई तक देश को घुन की तरह खा [...]

हाशिमपुरा ने मुसलमानों को सोचने का अवसर ...

संदीप देव। मामले में अदालत का फैसला आया। पीडि़तों को इंसाफ नहीं मिला। लेकिन लाख टके का सवाल यह है कि खुद को धर्मनिरपेक्षता के झंडबदार के रूप में खुद को पेश करने वाली कांग्रेस और उसी कांग्रेस [...]

गुरु तेगबहादुर की हत्‍या से भी ‪#‎Aurang...
गुरु तेगबहादुर की हत्‍या से भी ‪#‎Aurangzeb‬ को बरी करते हैं वामपंथी इतिहास लेखक!

संदीपदेव‬।ित और झूठे होते हैं, इसे देखना हो तो एनसीईआरटी की कक्षा- 11 के मध्‍यकालीन भारत का इतिहास पढ़ लीजिए। छत्रपति शिवाजी से लेकर गुरु तेगबहादुर तक के लिए एक वचन 'तुम' [...]

अपनी जवानी बरकरार रखने के लिए 600 कुंवार...
अपनी जवानी बरकरार रखने के लिए 600 कुंवारी लड़कियों के खून से नहाने वाली महिला की कहानी!

हंगरी के इतिहास के पन्‍नों में दुनिया की शीर्ष एक महिला सीरियल किलर के तौर पर पहचान बनाने वाली एलिजाबेथ बाथरी की मौत के 400 साल पूरे हो चुके हैं. हंगरी के साम्राज्‍य में बाथरी परिवार [...]

कश्‍मीर से 370 को हटाने का एक बार प्रयास...
कश्‍मीर से 370 को हटाने का एक बार प्रयास वहां के मुस्लिम मुख्‍यमंत्री ही कर चुके हैं

संदीप देव। पूर्व प्रधानमंत्री (1964 to 1965) एवं मुख्‍यमंत्री (1965-71) गुलाम मोहम्‍मद सादिक अकेले शख्‍स हैं, [...]

याकूब मेनन के जनाजे में शामिल हर व्‍यक्त...
याकूब मेनन के जनाजे में शामिल हर व्‍यक्ति अलगाववादी या फिर आतंक समर्थक था!

संदीपदेव‬।ल तथागत राय ने सही ट्वीट किया है कि याकूब की मैय्यत में शामिल हर व्यक्ति आतंकवादी हो सकता है। उन पर आईबी को नजर रखनी चाहिए। इतिहास गवाह है कि सन् 1937 [...]

पापा मेरी बलि न दो, मैं बीज हूं!...
पापा मेरी बलि न दो, मैं बीज हूं!

संजू मिश्रा।ैं बीज हूं,
हरियाली तीज हूं ।

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles