सूझबूझ

Hike को अपनाएं, WhatsApp और WeChat को buy-buy कहें!

आधीआबादी ने टवीटर, व्‍हाटस्‍एप पर एक अभियान चलाया है और बहुत सारे लोग उससे जुड़ भी रहे हैं। मेरे फेसबुक के दोस्‍त भी उससे जुडें तो खुशी होगी। 15 अगस्‍त को लाल किले की प्राचीर से PMO India ने 'मेड इन इंडिया' का नारा दिया। हम आज से ही इसकी शुरुआत क्‍यों न करें, अमेरिकन WhatsApp की जगह एक भारतीय एप Hike को अपना कर। Hike भारत का अपना पहला सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म है। चाइना ने अपने यहां WhatsApp को ठुकरा कर WeChat को अपनाया है। तो बताइए आप यह पहल कब से कर रहे हैं?

Read more...

सावधान! साइबर हमले की जद में ई-भुगतान

नई दिल्ली। तू डाल-डाल तो मैं पात-पात। कुछ यही कहानी है सूचना प्रौद्योगिकी और साइबर अपराधियों की। कंप्यूटर और इंटरनेट की शुरुआत से ही इसके विकासकर्ताओं को साइबर अपराधियों से जूझने के लिए लगातार नए-नए सुरक्षाचक्र बनाने पड़ रहे हैं। अब मोबाइल और सोशल मीडिया भी साइबर अपराधियों की जद में आ गए हैं।

Read more...

बैंक का कर्ज नहीं चुका पा रहे हैं तो जानिए अपने अधिकार

आशुतोष वर्माऐसा कुछ लोगों के साथ होता है कि वह कर्ज लेने के बाद एक स्तर पर उसे चुकाने में असमर्थ महसूस करते हैं। ऐसे में उन्‍हें लगता है कि बैंक उनकी संपत्ति और उनके जीवन की शांति दोनों को जब्त कर देगा। लेकिन लोगों को यह नहीं पता कि ऐसा होने पर एक कर्जधारक होने के नाते उनके पास क्या अधिकार हैं।

द बैंकिंग कोड एंड स्डैंडर्ड बोर्ड ऑफ इंडिया (BCABI) एक स्वतंत्र संगठन है जिसने साल 2009 में बैंकों के लिए आचार संहिता के साथ-साथ देय राशि वसूलने के लिए दिशा-निर्देशों को तैयार किया है। यहां हम उन कुछ प्रमुख शर्तों पर बात करेंगे जो आपको अपने अधिकार जानने में मददगार साबित होंगे।

Read more...

महंगाई नहीं रुकेगी, आपको दिखानी होगी समझदारी

महंगाई लगातार बढ़ती जा रही हैा पेट्रोल, डीजल, एलपीजी गैस, केरोसिन के दाम सरकार ने बढ़ा दिए हैं। इनका प्रत्‍यक्ष प्रभाव तो घरों के बजट पर पड़ ही रहा है, लेकिन अप्रत्‍यक्ष रूप से सब्‍जी, दूध, खाने-पीने की चीजें सभी कुछ का दाम बढ़ चुका हैा गृहणियों के घर चलाना मुश्किल हो रहा है। निश्चित आमदनी में सारे खर्चे निपटाना मुश्किल तो है लेकिन नामुमकिन नहीं। बात सिर्फ इतनी है कि आपको समझदारी से काम लेना है। हम ये तो नहीं कहेंगे कि आप कंजूस बन जाएं, लेकिन ध्यान रखें कि कंजूसी और किफायत में फर्क होता है। महंगाई से लड़ने के लिए किफायत का नुस्खा अपनाया जा सकता है। 

Read more...

घर लेने से पहले कर लें जांच पड़ताल

मौजूदा समय में घर खरीदना एक बड़ी चुनौती है। ये सौदा इसलिए चुनौती बन जाता है क्योंकि रियल एस्टेट माकेट पूरी तरह से पेशेवर और पारदर्शी नहीं है। कीमतों से लेकर जरूरी कागजातों तक में हेराफेरी की आशंका बनी रहती है। ऐसे में कोई भी घर खरीदने से पहले थोड़ा सा सा होमवर्क बडी मुश्किल से बचा सकता है।

Read more...

Sreenivasan Jain edits embarrassing port...
Sreenivasan Jain edits embarrassing portions from Ramdev’s interview, gets exposed

Atul Asthana,  bwoyblunder We had writte [...]

गो-वध बंदी का राष्ट्रीय कानून बने...
गो-वध बंदी का राष्ट्रीय कानून बने

रामबहादुर राय।ाल पुराना है। इसका संबंध भारत की सभ्यता से है। हमारी सभ्यता में गाय और गोवंश का स्थान बहुत ऊंचा है। जब कभी इस भावना को चोट पहुंची तो विरोध हुआ। आंदोलन हुए। गोरक्षा [...]

होली हिंदुस्‍तान की गहरी प्रज्ञा से उपजा...
होली हिंदुस्‍तान की गहरी प्रज्ञा से उपजा हुआ त्‍यौहार है

अमृत साधना।गहरी प्रज्ञा से उपजा हुआ त्योहार है। उसमें पुराण कथा एक आवरण है, जिसमें लपेटकर मनोविज्ञान की घुट्टी पिलाई गई है। सभ्य मनुष्य के मन पर नैतिकता का इतना बोझ होता है कि उसका [...]

बचपन से ही बोल्‍ड ख्‍यालात की थी कंगना र...
बचपन से ही बोल्‍ड ख्‍यालात की थी कंगना रनौत

कंगना रनौत भले ही फिल्मफेयर और नैशनल अवॉर्ड जीतने के बाद बॉलिवुड की क्वीन बन गई हों, लेकिन उनके लिए मायानगरी का सफर जरा-भी आसान नहीं रहा है। अपने ख्वाब को पूरा करने के लिए कंगना को बहुत [...]

यह इतिहास है और यह क्रूर है! यह न मेरा ह...

संदीप देव। जातिवाद पर ऐतिहासिक तथ्‍यों के जरिए मैंने कुछ रोशनी डालने की कोशिश की है, लेकिन कुछ तथाकथित दलितवादी और सवर्ण जाति की ऊंची नाक वाले लोगों को यह पसंद नहीं आ रहा है। [...]

आप उन्‍हें क्‍या कहेंगे, प्रबंधक, इंजीनि...
आप उन्‍हें क्‍या कहेंगे, प्रबंधक, इंजीनियर, लेखक, अनुसंधानकर्ता या फिर आयुर्वेदाचार्य...!

आचार्य बालकृष्‍ण जी के जन्‍मदिन पर विशेष। संदीप देव, पतंजलि योगपीठ से लौट कर। पतंजलि योगपीठ के भवनों को गौर से देखिए, वो आपको किसी योगी के योगमुद्रा में बैठे होने का अहसास कराता हुआ-सा प्रतीत होता [...]

गुरु तेगबहादुर की हत्‍या से भी ‪#‎Aurang...
गुरु तेगबहादुर की हत्‍या से भी ‪#‎Aurangzeb‬ को बरी करते हैं वामपंथी इतिहास लेखक!

संदीपदेव‬।ित और झूठे होते हैं, इसे देखना हो तो एनसीईआरटी की कक्षा- 11 के मध्‍यकालीन भारत का इतिहास पढ़ लीजिए। छत्रपति शिवाजी से लेकर गुरु तेगबहादुर तक के लिए एक वचन 'तुम' [...]

जहां सबसे अधिक बलात्‍कार, वह सबसे बड़ा प...
जहां सबसे अधिक बलात्‍कार, वह सबसे बड़ा प्रवचनकर्ता!

संदीप देव।्‍कार वाले देश अमेरिका व ब्रिटेन की मीडिया भारत सरकार पर हमलावर है, क्‍योंकि उसने दिल्‍ली बलात्‍कार पर बनी डक्‍यमेंट्री पर अपने देश में रोक लगाया है। भारत सरकार की सबसे बडी गलती यह [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles