सूझबूझ

Hike को अपनाएं, WhatsApp और WeChat को buy-buy कहें!

आधीआबादी ने टवीटर, व्‍हाटस्‍एप पर एक अभियान चलाया है और बहुत सारे लोग उससे जुड़ भी रहे हैं। मेरे फेसबुक के दोस्‍त भी उससे जुडें तो खुशी होगी। 15 अगस्‍त को लाल किले की प्राचीर से PMO India ने 'मेड इन इंडिया' का नारा दिया। हम आज से ही इसकी शुरुआत क्‍यों न करें, अमेरिकन WhatsApp की जगह एक भारतीय एप Hike को अपना कर। Hike भारत का अपना पहला सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म है। चाइना ने अपने यहां WhatsApp को ठुकरा कर WeChat को अपनाया है। तो बताइए आप यह पहल कब से कर रहे हैं?

Read more...

सावधान! साइबर हमले की जद में ई-भुगतान

नई दिल्ली। तू डाल-डाल तो मैं पात-पात। कुछ यही कहानी है सूचना प्रौद्योगिकी और साइबर अपराधियों की। कंप्यूटर और इंटरनेट की शुरुआत से ही इसके विकासकर्ताओं को साइबर अपराधियों से जूझने के लिए लगातार नए-नए सुरक्षाचक्र बनाने पड़ रहे हैं। अब मोबाइल और सोशल मीडिया भी साइबर अपराधियों की जद में आ गए हैं।

Read more...

बैंक का कर्ज नहीं चुका पा रहे हैं तो जानिए अपने अधिकार

आशुतोष वर्माऐसा कुछ लोगों के साथ होता है कि वह कर्ज लेने के बाद एक स्तर पर उसे चुकाने में असमर्थ महसूस करते हैं। ऐसे में उन्‍हें लगता है कि बैंक उनकी संपत्ति और उनके जीवन की शांति दोनों को जब्त कर देगा। लेकिन लोगों को यह नहीं पता कि ऐसा होने पर एक कर्जधारक होने के नाते उनके पास क्या अधिकार हैं।

द बैंकिंग कोड एंड स्डैंडर्ड बोर्ड ऑफ इंडिया (BCABI) एक स्वतंत्र संगठन है जिसने साल 2009 में बैंकों के लिए आचार संहिता के साथ-साथ देय राशि वसूलने के लिए दिशा-निर्देशों को तैयार किया है। यहां हम उन कुछ प्रमुख शर्तों पर बात करेंगे जो आपको अपने अधिकार जानने में मददगार साबित होंगे।

Read more...

महंगाई नहीं रुकेगी, आपको दिखानी होगी समझदारी

महंगाई लगातार बढ़ती जा रही हैा पेट्रोल, डीजल, एलपीजी गैस, केरोसिन के दाम सरकार ने बढ़ा दिए हैं। इनका प्रत्‍यक्ष प्रभाव तो घरों के बजट पर पड़ ही रहा है, लेकिन अप्रत्‍यक्ष रूप से सब्‍जी, दूध, खाने-पीने की चीजें सभी कुछ का दाम बढ़ चुका हैा गृहणियों के घर चलाना मुश्किल हो रहा है। निश्चित आमदनी में सारे खर्चे निपटाना मुश्किल तो है लेकिन नामुमकिन नहीं। बात सिर्फ इतनी है कि आपको समझदारी से काम लेना है। हम ये तो नहीं कहेंगे कि आप कंजूस बन जाएं, लेकिन ध्यान रखें कि कंजूसी और किफायत में फर्क होता है। महंगाई से लड़ने के लिए किफायत का नुस्खा अपनाया जा सकता है। 

Read more...

घर लेने से पहले कर लें जांच पड़ताल

मौजूदा समय में घर खरीदना एक बड़ी चुनौती है। ये सौदा इसलिए चुनौती बन जाता है क्योंकि रियल एस्टेट माकेट पूरी तरह से पेशेवर और पारदर्शी नहीं है। कीमतों से लेकर जरूरी कागजातों तक में हेराफेरी की आशंका बनी रहती है। ऐसे में कोई भी घर खरीदने से पहले थोड़ा सा सा होमवर्क बडी मुश्किल से बचा सकता है।

Read more...

यदि नानाजी नहीं होते तो जयप्रकाश नारायण ...
यदि नानाजी नहीं होते तो जयप्रकाश नारायण नहीं बचते: नरेंद्र मोदी

आधीआबादी ब्‍यूरो, नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आपातकाल के दौरान यदि नानाजी देशमुख नहीं होते तो जयप्रकाश नारायण जिंदा नहीं बचते। पटना में लाठीचार्ज के दौरान लाठी जयप्रकाश जी के सिर पर लगी थी, लेकिन [...]

चंवरवंश के क्षत्रिए जिन्‍हें सिकंदर लोदी...
चंवरवंश के क्षत्रिए जिन्‍हें सिकंदर लोदी ने 'चमार' बनाया और हमारे-आपके हिंदू पुरखों ने उन्‍हें अछूत बना कर इस्‍लामी बर्बरता का हाथ मजबूत किया!

संदीप देव।मार' जाति से संबोधित करते हैं, उनके साथ छूआछूत का व्‍यवहार करते हैं, दरअसल वह वीर चंवरवंश के क्षत्रिए हैं। 'हिंदू चर्ममारी जाति: एक स्‍वर्णिम गौरवशाली राजवंशीय इतिहास' [...]

बेहद मिलनसार और देश पर सबकुछ न्‍यौछावर क...
बेहद मिलनसार और देश पर सबकुछ न्‍यौछावर करने वाले संत हैं बाबा रामदेव

संदीप देव, पतंजलि योगपीठ से लौटकर। 4 जून 2011 को योग ऋषि बाबा रामदेव जी ने जब दिल्‍ली के रामलीला मैदान से  भ्रष्‍टाचार और काले धन के खिलाफ आंदोलन की शुरुआत की थी तो [...]

मसीह, मोहम्‍मद और मार्क्‍सवादियों का दर्...
मसीह, मोहम्‍मद और मार्क्‍सवादियों का दर्द!

संदीप देव। मार्क्‍सवादियों का दर्द क्‍या है, इसे कुछ ऐसे समझिए! मसीहवादियों ने पूरे यूरोप को रौंद दिया। प्राचीन यूनान सभ्‍यता आज कहीं नहीं है, उसे वर्तमान रूप में आप ग्रीस नाम से [...]

भारत एक धर्मभीरू देश है जो कट्टरता को भी...
भारत एक धर्मभीरू देश है जो कट्टरता को भी जायज ठहराता है!

संदीप देव। पत्रकारों व कार्टूनिस्‍टों की हत्‍या के बाद दुनिया भर के पत्रकारों और बुद्धिजीवियों ने जहां इस्‍लामी कटटरता को अपनी कलम से जबरदस्‍त जवाब दिया है, वहीं भारत दुनिया का अकेला मुल्‍क है जहां एक [...]

मोदी के प्रधानमंत्री बनने से वामपंथी बुद...
मोदी के प्रधानमंत्री बनने से वामपंथी बुद्धिजीवियों में घबराहट

संदीप देव। वामपंथी इतिहासकार और विदेशी फंड पर पलने वाली रोमिला थापर को चिंता सता रही है कि नरेंद्र मोदी सरकार इतिहास की पुस्‍तकों में फेरबदल करवाएगी। जब वामपंथियों ने पूरे इतिहास में झूठ और अर्धसत्‍य भरा है तो सही [...]

ब्‍लैक मनी पर अपनी सरकार की और कितनी फजी...
ब्‍लैक मनी पर अपनी सरकार की और कितनी फजीहत कराएंगे माननीय वित्‍त मंत्री जी!

संदीप देव।भाजपा को अच्‍छी तरह से नुकसान पहुंचा दिया तो आज काले धन की सूची मीडिया में लीक करवा रहे हैं। पहले कह रहे थे सूची जारी नहीं कर सकते, क्‍योंकि देशों के आपसी [...]

धर्मांतरण रोकने के लिए जिन्‍होंने शस्‍त्...
धर्मांतरण रोकने के लिए जिन्‍होंने शस्‍त्र उठाया, सूअर पाला, हिंदुओं ने उन्‍हें ही अछूत बना डाला!

संदीप देव।ठता हूं तो काफी तकलीफों से घिर जाता हूं। आखिर किस तरह से अंग्रेज व वामपंथी-कांग्रेसी इतिहासकारों ने हमारे गर्व को कुचला है और हमें अपने ही भाईयों से जुदा कर दिया है, [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles