बिहार चुनाव में भाजपा के खलनायक: प्रशांत किशोर जैसों को यदि नहीं जोड़े रखा तो आगे बंगाल, उत्‍तरप्रदेश, पंजाब में नहीं जीत पाएगी भाजपा!

संदीप देव। बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की पहली जीवनी वरिष्‍ठ पत्रकार संकर्षण ठाकुर ने लिखी थी। संकर्षण को आप अकसर एबीपी न्‍यूज पर देखते होंगे। वो टेलीग्राफ में शायद रोविंग एडिटर हैं। संकर्षण ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दामन छोड़कर नीतीश का दामन थामने वाले प्रशांत किशोर के पीछे की वह कहानी लिखी है, जिसे आप निश्चित रूप से जानना चाहेंगे कि आखिर अमेरिका से यहां आकर 2011 में गुजरात विधानसभा और 2014 में लोकसभा चुनाव में मोदी के लिए सोशल मीडिया कैंपेन संभालने वाले प्रशांत ने नीतीश का मीडिया मैनेजमेंट क्‍यों संभाला।

 

संकर्षण के अनुसार, लोकसभा चुनाव में जीत के बाद अमितशाह व प्रशांत में तनाव बढ गया था। एक दिन अमितशाह ने उन्‍हें बहुत जलील किया और वह दिल्‍ली से पटना के लिए निकल गए। टाइम्‍स ऑफ इंडिया में दिए अपने बयान में भी प्रशांत ने कहा है कि वह नरेंद्र मोदी को कभी नहीं छोड़ते, लेकिन उनके आसपास के लोगों ने उन्‍हें ऐसा करने के लिए मजबूर कर दिया।

संकर्षण ने नीतीश के लिए प्रशांत के काम करने के तरीके पर भी लिखा है, जिसे पढकर भी एक पाठक के तौर पर आपका फायदा ही होगा। वैसे देखा जाए तो प्रशांत किशोर अकेले नहीं हैं, बल्कि अरुण शौरी, रामजेठमलानी, डॉ सुब्रहमनियन स्‍वामी, चेतन भगत- आदि जिन्‍होंने भी चुनाव से पूर्व नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए अपने-अपने तरीके से प्रयास किया था, आज उनके आसपास के लोगों द्वारा मिले असम्‍मान के कारण मोदी से अलग होते जा रहे हैं।

आखिर गांधीनगर में मोदी के निजी आवास के ऊपरी मंजिल पर रहकर उनके पूरे प्रचार को चार साल तक संभालने वाले व्‍यक्ति को सम्‍मान नहीं मिलेगा तो वह और क्‍या करेगा। चाणक्‍य ने अपने अपमान का बदला लेने के लिए ही मगध के शासक धनानंद के विरुद्ध चंद्रगुप्‍त मौर्य को तैयार किया था। आज फिर से मगध की धरती से ही वह कहानी दुहराई गयी और वहीं से प्रशांत ने अमितशाह से अपने अपमान का बदला लिया। इसी मगध की धरती ने नीतीश कुमार के अहंकार को भी चकनाचूर किया था, जब उसने लोकसभा में नीतीश नहीं, नरेंद्र मोदी को 40 में से 31 सीट दिलायी थी। अहंकार को मगध की धरती चकनाचूर करती रही है। यह यहां का इतिहास रहा है।

व्‍यक्ति भूखा तो रह जाता है, लेकिन अपमान सहन नहीं कर सकता। प्रधानमंत्री मोदी को यह समझना चाहिए। यदि प्रशांत किशोर नीतीश कुमार को उस माइक्रो लेबल का मैनेजमेंट नहीं देते तो वो शायद आज ऐसा नतीजा देखने को नहीं भी मिल सकता था। सोचिए, मोदी के आसपास के लोगों ने अपने अहंकार में आखिर किसका नुकसान किया। जिस सुब्रहमनियन स्‍वामी पर मोदी जी ने जेटली को तरजीह दे रखा है, कल को उनके हटते ही जितना बड़ा नुकसान होगा, उसका अंदाजा शायद अभी तक मोदी को नहीं है। समय रहते चेतने वाला ही वास्‍तव में जिंदा इंसान है। ‪‬

पढि़ए संकर्षण की जुबानी, प्रशांत किशोर की कहानी:
http://www.telegraphindia.com/1151109/jsp/nation/story_52204.jsp#.VkGWBdKrQ1h

#‎SandeepDeo‬ ‪#‎BiharElection

Web Title: sandeep deo blog on ‬‎BiharElection 2015-3

महिलाओं में दिल की बीमारियां रह जाती हैं...
महिलाओं में दिल की बीमारियां रह जाती हैं अनदेखी : WHO

कोलकाता। से एक दिन पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने सोमवार को कहा कि भारतीय महिलाओं में दिल की बीमारियां अनदेखी रह जाती हैं और उनका इलाज नहीं होता।

धर्म मनुष्‍य को इंसान बनाता है, न कि रोब...
धर्म मनुष्‍य को इंसान बनाता है, न कि रोबोट!

संदीप देव।‍यों है, खासकर इस्‍लाम में, क्‍योंकि उसके अनुयायी इस्‍लाम और पैगंबर मोहम्‍मद के अलावा किसी को श्रेष्‍ठ नहीं मानते और यही उन्‍हें हिंसा के लिए प्रेरित करता है। हर धर्म का मार्ग आखिर [...]

बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: विकास ...

संदीप देव।ें जीत के बाद जब वार्ड क्लाइव ने कलकत्ता में प्रवेश किया तो जनता तमाशाई बनी अपने घरों से न केवल झांक रही थी, बल्कि उसका स्वागत भी कर रही थी! क्लाइव लिखता [...]

बाल विवाह बलात्‍कार से भी बदतर है...
बाल विवाह बलात्‍कार से भी बदतर है

नयी दिल्ली: दिल्‍ली के अदालत ने बाल विवाह को बलात्कार से भी बदतर बुराई बताता है. अदालत ने कहा इसे समाज से पूरी तरह समाप्त होना चाहिए. कार्ट ने कम उम्र में बच्ची का विवाह करने वालों [...]

अपने कर्मचारियों को कार और घर बांटने वाल...
अपने कर्मचारियों को कार और घर बांटने वाले सावजी ने 169 रुपए से शुरू की थी नौकरी!

नई दिल्ली। अपने कर्मचारियों को दिवाली के मौके पर बोनस के तौर पर कार, गहने और घर जैसे उपहार देने वाली कंपनी हरिकृष्णा एक्सपोर्ट्स और उसके मालिक सव्जी ढोलकिया की कहानी बेहद दिलचस्प है।1978 में [...]

असावधानी में बनाया गया शारीरिक संबंध कई ...
असावधानी में बनाया गया शारीरिक संबंध कई तरह से आपको कर सकता है परेशान!

नई दिल्ली।ेट पर जाना आम बात है लेकिन इस दौरान उन्हें अपने पार्टनर के साथ थोड़ी सावधानी बरतने की जरूरत होती है। डेटिंग के दौरान ज्यादातर युवा शारीरिक रूप से एक-दूसरे के नजदीक आ [...]

एक जीवन में दो जन्‍मों की सजा पाने वाले ...
एक जीवन में दो जन्‍मों की सजा पाने वाले एक मात्र क्रांतिकारी वीर सावरकर!

संदीप देव। हाप्रयाण दिवस है। 26 फरवरी 1966 को वह इस दुनिया से प्रस्‍थान कर गए। लेकिन इससे केवल 56 वर्ष व दो दिन पहले 24 [...]

राष्‍ट्रीय नायक नरेंद्र मोदी की राष्‍ट्र...
राष्‍ट्रीय नायक नरेंद्र मोदी की राष्‍ट्रनीति!

संदीप देव । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सत्‍तासीन हुए एक महीना हो चुका है। बहुत कुछ 'मोदी सरकार' का विजन और रोड मैप स्‍पष्‍ट हो चुका है और अभी बहुत कुछ स्‍पष्‍ट होना बांकी है। लेकिन एक बात [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles