बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: विचारधारा के 'अर्जुनों' को भूल कर चलने का खामियाजा अभी कई और बिहार के रूप में सामने आ सकता है!

संदीप देव‬। कभी मोदी के मीडिया खासकर, सोशल मीडिया स्ट्रेटजिस्ट रहे प्रशांत किशोर ने Narendra Modi को छोड़कर नीतीश का दामन थाम लिया और नीतीश की जीत में उनके मीडिया मैनेजमेंट की एक बड़ी भूमिका है। PMO India मोदी-भाजपा ने जीत के बाद प्रशांत को भुला दिया, उन्हें कहीं सेट नहीं कर पाई और उन्होंने नीतीश का दामन थाम लिया। कांग्रेस से अपनों को सेट करने का गुण 16 माह बाद भी मोदी सरकार नहीं सीख पाई! परिणाम सामने है!

 

* किसी जमाने में मोदी की पहली जीवनी लिख कर उन्हें एलिट कल्चर के ड्राइंग में पहुँचाने वाले अंग्रेजी पत्रकार नीलांजन आज मोदी से खफा हैं और पंजाब चुनाव में ‪#‎AAP‬ को लाने की तैयारी उन्होंने 'सिक्ख' पुस्तक लिखकर कर दी है!

* Madhu Purnima Kishwar ने मोदी पर लगे कम्युनल दाग धोने के लिए कितना बड़ा तथ्यगत अभियान चलाया था। 16 माह बाद भी उन्हें सम्मानित पद नहीं मिला है। अमित शाह से आजतक के एक कार्यक्रम में उन्होंने विरोध भी जताया कि मोदी को सत्ता में लाने के लिए भाजपा के कार्यकर्ताओं के अलावा बहुत सारे लोगों ने काम किया था, जिन्हें आप लोगों ने भुला दिया है! Amit Shah के पास, 'देखेंगे' -कहने के अलावा कोई जवाब नहीं था। कल भी मधु ‪#‎MaechForIndia‬ रैली में शामिल थी। लेकिन कब तक? आखिर उन्हें सम्मान क्यों नहीं मिलना चाहिए?

* बरखा दत्त ने मोदी के खिलाफ सबसे ज्यादा अभियान चलाया, लेकिन आज मोदी सरकार के मंत्रालय में उनकी सीधी एंट्री है, वहीं विचारधारा वाले विद्वान पत्रकार अरुण शौरी साइड लगा दिए गए हैं!

* सुब्रहमनियन स्वामी ने मोदी के पक्ष में सबसे ज्यादा माहौल बनाया था, लेकिन 10 वीं फेल व चुनाव हारने वाले मंत्री बने हुए हैं और स्वामी आज भी जूझ रहे हैं!

* छोटी सी दिल्ली में जीत के तुरंत बाद अरविंद केजरीवाल ने अपने समर्थक बुद्धिजीवियों को मोटी सैलरी पर बैठाने से लेकर कई तरह के फायदे दिए। आशीष खेतान, राघव आदि 1 से डेढ लाख ₹ हर माह वेतन ले रहे हैं। आशुतोष विदेश घूम रहा है। दूसरी ओर 16 माह होने के बाद भी भाजपा समर्थक पत्रकार सड़क पर हैं और कांग्रेसी पत्रकार DD news, PTI, लोकसभा, राज्यसभा चैनलों में बरकरार हैं!


* सोचिए एक प्रशांत किशोर ने विपक्ष से हाथ मिला लिया, तो बिहार में इनकी दुर्गति हो गयी, यदि हजारों निस्वार्थ राष्ट्रवादी, वैचारिक बुद्धिजीवियों की अवहेलना देखकर अपने की-बोर्ड को विराम दे दें तो मोटी सैलरी पर बैठे BJP के IT सेल वाले कांग्रेसी-वामपंथियों का कितना मुकाबला कर पाएंगे?

* कांग्रेसी बुद्धिजीवियों ने पुरस्कार लौटाने का खेल कर और कांग्रेसी पत्रकारों ने दादरी को बिहार पर थोप कर इतना तो ‪#‎BJP‬-संघ-मोदी-अमित शाह को बता ही दिया कि यदि वे अपने विचारधारा के बुद्धिजीवियों को इसी तरह इग्नोर करते रहे तो फिर 2019 में और न जाने कितने प्रशांत किशोर आपको झटका देने के लिए निकल आएंगे! समय है चेत जाओ! यह विचारधारा की लड़ाई है और इसमें विचारधारा के 'अर्जुनों' को भूल कर चलने का खामियाजा अभी, कई और बिहार के रूप में सामने आ सकता है! ‪

#‎SandeepDeo‬ ‪#‎BiharElection

Web title: sandeep deo blog on ‬‎BiharElection 2015-4

बेहद मिलनसार और देश पर सबकुछ न्‍यौछावर क...
बेहद मिलनसार और देश पर सबकुछ न्‍यौछावर करने वाले संत हैं बाबा रामदेव

संदीप देव, पतंजलि योगपीठ से लौटकर। 4 जून 2011 को योग ऋषि बाबा रामदेव जी ने जब दिल्‍ली के रामलीला मैदान से  भ्रष्‍टाचार और काले धन के खिलाफ आंदोलन की शुरुआत की थी तो [...]

अपनी छोटी बहन अक्षरा को लेकर श्रुति हासन...
अपनी छोटी बहन अक्षरा को लेकर श्रुति हासन है बेहद पजेसिव!

अभिनेत्री श्रुति हासन का कहना है कि वह अपनी छोटी बहन अक्षरा को लेकर प्रोटेक्टिव हैं. अक्षरा ने फिल्म 'शमिताभ' से बॉलीवुड में अपने करियर की शुरुआत की थी. उन्होंने बताया, 'मैं अक्षरा को लेकर [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: अगर मर्दों को मासिक धर्म होता!

सुमिरन प्रीत कौर बीबीसी संवाददाता।र बात कर पाती हैं और न ही परंपरागत भारतीय समाज में आमतौर पर ऐसे विषयों पर बात करने की इजाज़त है. [...]

एक महिला की सफल माउंटेन बाइकर बनने की कह...
एक महिला की सफल माउंटेन बाइकर बनने की कहानी

प्रियंका दुबे मेहता। एक सामान्य धारणा है कि महिलाएं अच्छे से कार नहीं चला सकतीं। बाइक चलाना उनके बस की बात नहीं है। ऐसे में महिलाओं की ड्राइविंग स्किल पर कई चुटकुले भी बने हैं। लोग महिलाओं की ड्राइविंग कौशल [...]

हिंदुओं ने ही भगवान श्रीकृष्‍ण के गीता ज...
हिंदुओं ने ही भगवान श्रीकृष्‍ण के गीता ज्ञान को नहीं समझा!

संदीप देव। मेरे पास बीसियों फोन आ चुके हैं। इसमें भाजपा नेता, पत्रकार, चुने हुए सांसद, प्रोफेशनल, बिजनसमैन, अधिकारी जैसे प्रतिष्ठित लोग शामिल हैं। सब मुझसे यही पूछ रहे हैं कि 'भाई साहब आप [...]

वैदिक हाफिज भाई भाई! ...
वैदिक हाफिज भाई भाई!

सुधीर मौर्य। काश वैदिक जी ने जिस हिम्मत के साथ भारत के प्रधानमंत्री रहते नरसिम्हा राव जी के साथ ताश खेलते थे उसी हिम्मत के साथ हाफ़िज़ से विरोध दर्ज़ करते भारत के मुंबई में उसके द्वारा करवाये गए आतंकवादी [...]

बॉलिवुड में महिलाओं को केवल सेक्‍सी तरीक...
बॉलिवुड में महिलाओं को केवल सेक्‍सी तरीके से परोसने का है चलन: यूएन

संयुक्त राष्ट्र। दुनियाभर की लोकप्रिय फिल्मों के महिला किरदारों पर संयुक्त राष्ट्र की स्टडी की मानें तो बॉलिवुड की फिल्मों में ऐक्ट्रेस को ग्लैमरस अंदाज में पेश करने की होड़ लगी है। इसके मुताबिक, भारतीय फिल्मों के कम से [...]

मोदी के खिलाफ साजिश रचाने वाले टाइम्‍स ऑ...
मोदी के खिलाफ साजिश रचाने वाले टाइम्‍स ऑफ इंडिया के संपादक ने अब सुप्रीम कोर्ट पर बोला हमला!

संदीप देव। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ पिछले 12 वर्षों से साजिश कर रहे टाइम्‍स ऑफ इंडिया के संपादक ने अब अदालत पर ही हमला बोल दिया है! पहले सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित विशेष जांच [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles