आयोजन

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ: नारी तू नारायणी!

आधी आबादी ब्‍यूरो । आध्‍यात्मिक गुरू श्री आशुतोष महाराज जी के दिव्य मार्ग दर्शन में संचालित ‘दिव्य ज्योति जागृति संस्थान’ के लिंग समानता प्रकल्प ‘संतुलन’ के अंतर्गत कन्या भ्रूण हत्या की रोकथाम के लिए 27 मार्च 2016 को मुख्य अतिथि आदरणीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री जे. पी. नड्डा द्वारा सिरी फोर्ट ऑडिटोरियम में राष्ट्रस्तरीय जागरूकता अभियान 'तू है शक्ति' का शुभारंभ किया गया.

Read more...

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। दिल्ली में बचपन सुरक्षित नहीं है। शहर कंक्रीट का जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की अपेक्षाओं के बीच बचपन पिस रहा है। बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास भी नहीं हो पा रहा है। यह विचार दो दिवसीय बाल मेले में वक्ताओं ने व्यक्त किए। मेले में दो दिन बच्चों ने जमकर धमाल किया।

फाइल फोटो

Read more...

मनोज भावुक लोकभाषा भोजपुरी के समर्थ और सफल कवि हैं - नामवर सिंह

नई दिल्‍ली। जब भी भाषा पर संकट आता है, हमें लोकभाषाओं की ओर देखना पड़ता है और मनोज भावुक लोकभाषा भोजपुरी के समर्थ और सफल कवि हैं। उक्त बातें नई दिल्‍ली के हिंदी भवन स्थित अंतरराष्ट्रीय किसान परिषद द्वारा आयोजित डॉ. नामवर सिंह के 88 वें जन्मदिन पर आयोजित काव्य गोष्ठी में मनोज भावुक द्वारा 'तस्वीर जिन्दगी के' ग़ज़ल अलबम की कई ग़ज़लें तरंनुम में पेश करने पर देश के प्रख्यात साहित्यकार व समालोचक डॉ. नामवर सिंह ने कही।

Read more...

दुस्‍सासन अब बस करो, धरती का चीर हरण मत करो!

नई दिल्‍ली। ''दुस्‍सासन अब बस करो, धरती का चीरण हरण मत करो...। फिर द्वापर को दोहराने का दुस्‍साहस तुम मत करो, दुस्‍सासन अब बस करो....।'' प्रसिद्ध कत्‍थक नृत्‍यांगना शोभना नारायण ने कहा कि ''आज भी हमारे पौराणिक ग्रंथ प्रासंगिक हैं, बस उन्‍हें आज के संदर्भ में समझने की जरूरत है। द्वापर में दुस्‍सासन ने द्रौपदी का चीर हरण किया था, आज हम तथाकथित विकसित लोग अपने पर्यावरण को नष्‍ट कर इस पृथ्‍वी का चीर हरण कर रहे हैं।''

सेमिनार की संयोजक एनएसआईटी की छात्रा रवीना माथुर स्पिक मैके के निदेशक डॉ किरण सेठ के साथ

Read more...

मंगल पांडेय आजादी के वास्‍तविक सूत्रधार थे

नई दिल्‍ली। भारत के पहले स्वाधीनता संग्राम के प्रथम शहीद सेनानी मंगल पाण्डेय के 156वें बलिदान दिवस पर भोजपुरी समाज दिल्ली द्वारा दिल्ली के कांस्‍टीट्यूशन क्लब में एक श्रद्धांजलि सभा व विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया । भोजपुरी समाज के अध्यक्ष अजीत दुबे ने मंगल पाण्डेय को भारत की आजादी का वास्तविक सूत्रधार बताते हुए कहा कि मंगल पाण्डेय की शहादत ने देश में राष्ट्रीय चेतना और नवजागरण की एक नई लहर पैदा की जिसने देश की स्वतंत्रता के लिए बाद में हुए आंदोलनों को प्रेरणा और दिशा प्रदान की।

Read more...