विचार विमर्श

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। मैं एक मुस्लिम महिला हूं और पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल की उम्र में डाक्टरी की पढ़ाई करने के लिए मैं भारत लौट आयी थी। पढ़ाई खत्म होने के बाद जहां मेरे ज्यादातर साथी अच्छे भविष्य के सपने के साथ बाहर चले गये मैंने भारत में ही रहने का निश्चय किया। आज तक मैंने एक बार भी कभी यह महसूस नहीं किया कि एक मुसलमान होने के कारण हमें कोई दिक्कत हुई हो। मुझे अपने देश से प्रेम था और मैंने भारत में ही रहने का निश्चय किया।

Read more...

गो-वध बंदी का राष्ट्रीय कानून बने

रामबहादुर राय। गोरक्षा का सवाल सैकड़ों साल पुराना है। इसका संबंध भारत की सभ्यता से है। हमारी सभ्यता में गाय और गोवंश का स्थान बहुत ऊंचा है। जब कभी इस भावना को चोट पहुंची तो विरोध हुआ। आंदोलन हुए। गोरक्षा के लिए बलिदान और अपने जान की बाजी लगा देने वालों की कभी कमी नहीं रही। इस बारे में बहुत कुछ इतिहास के पन्नों में बिखरा हुआ है। गांधी धारा के विचारक और इतिहासकार धर्मपाल ने इस बारे में अध्ययन कर कुछ ऐसे तथ्य खोजे जो अज्ञात थे।

Read more...

वैदिक की जुबानी हाफिज सईद से मुलाकात और साक्षात्‍कार की पूरी कहानी

डॉ वेद प्रदाप वैदिक। हाफिज सईद से मेरी मुलाकात अचानक तय हुई। दो जुलाई की दोपहर को मैं भारत आनेवाला था। एक जुलाई की शाम को कुछ पत्रकार मुझसे बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आप भारत-विरोधी आतंकवाद का मुद्दा इतनी जोर से उठा रहे हैं तो आप कभी हाफिज सईद से मिले? मैंने कहा नहीं। उनमें से लगभग सबके पास हाफिज सईद के नंबर थे। उनमें से किसी ने फोन मिलाया और मुलाकात तय हो गई। सुबह 7 बजे इसलिए तय हुई कि मुझे लाहौर हवाई अड्डे पर 10-11 बजे के बीच पहुंचना था। मैंने कह दिया था कि अगर मुलाकात देर से तय हुई तो मैं नहीं मिल सकूंगा।

Read more...

हर रोज हजारों बलात्कार इज्जत की चादर में लपेट कर दफना दिए जाते हैं!

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'। हमारे देश में स्त्रियों के साथ बलात्कार तो रोज होते हैं, एकाध नहीं हजारों की संख्या में किये जाते हैं, लेकिन कुछ एक बलात्कार की घटनाएं किन्हीं अपरिहार्य कारणों और हालातों में सार्वजनिक हो जाती हैं। जिनके मीडिया के मार्फ़त सामने आ जाने पर औरतों, मर्दोँ और मीडिया द्वारा वहशी बलात्कारी मर्दों को गाली देने और सरकार को कोसने का सिलसिला शुरू हो जाता है। लेकिन हमारा अनुभव साक्षी है की इन बातों से न तो कुछ हासिल हुआ, न हो रहा और न होगा। क्योंकि हम इस रोग को ठीक करने के बारे में  ईमानदारी से विचार ही नहीं करना चाहते!

Read more...

वैदिक हाफिज भाई भाई!

सुधीर मौर्य। काश वैदिक जी ने जिस हिम्मत के साथ भारत के प्रधानमंत्री रहते नरसिम्हा राव जी के साथ ताश खेलते थे उसी हिम्मत के साथ हाफ़िज़ से विरोध दर्ज़ करते भारत के मुंबई में उसके द्वारा करवाये गए आतंकवादी हमले का। के वैदिक जी को हाफिज के घर पे नाश्ता करते हुए उसके द्वारा मुंबई में फैलाये गए सैकड़ो निरपराध लोगो का खून बिलकुल याद नहीं अाया। क्या संदीप उन्नीकृष्णन के बलिदान का कोई महत्व नहीं वैदिक जी की नज़र में।

Read more...

पढ़ना मत! अपनी मूर्खता को पकड़े रखना- कश...
पढ़ना मत! अपनी मूर्खता को पकड़े रखना- कश्‍मीरी पंडित के पूर्वजों ने मूर्खता की थी, उनकी अगली पीढ़ी गाजर-मूली की तरह काट दी गयी, भगा दी गयी! ‎

संदीपदेव‬।िचित्र बात है, वह अपने इतिहास से सबक लेने को तैयार ही नहीं है! और ऐसा नहीं कि यह आज की बात हो, यह हमारे पूर्वजों से चली आ रही मूढ़ता है, जिसका [...]

क्‍या आप जानते हैं कि आपकी पत्‍नी या गर्...
क्‍या आप जानते हैं कि आपकी पत्‍नी या गर्लफ्रेंड आपके साथ सेक्‍स क्‍यों करती है

महिलाएं पुरुषों के साथ सेक्स सिर्फ इसलिए करती हैं ताकि उनकी शादीशुदा जिंदगी में शांति बनी रहे , या वह बिना वजह के सिरदर्द से बचना चाहती हैं। महिलाओं की लिस्ट में रोमैंस और पेशन की जगह काफी पीछे [...]

शारीरिक संबंध नहीं बनाने पर बहन ने उजाड़...
शारीरिक संबंध नहीं बनाने पर बहन ने उजाड़ दिया भाई का घर!

समलैंगिक रिश्तों की जिद का स्याह पहलू सामने आया है, जिसने एक बसी बसाई गृहस्थी में तूफान खड़ा कर दिया। नजदीकी रिश्ते तक बेतुकी चाहत की आग में झुलस गए। समलैंगिक रिश्ते न बनाने पर तलाकशुदा महिला ने अपनी [...]

शादी से पहले सेक्‍स आम बात है और शादी का...
शादी से पहले सेक्‍स आम बात है और शादी का वादा कर सेक्‍स करना बलात्‍कार नहीं है: अदालत

मुंबई। भारत बदल रहा है और ऐसा ही कुछ बॉम्बे हाई कोर्ट भी मानती है. हाई कोर्ट ने कहा है कि शादी का वादा कर संबंध बनाने का हर मामला बलात्कार नहीं होता, कोर्ट ने तो यह भी [...]

बम फोड़ने वाले का कोई मजहब नहीं होता, ले...
बम फोड़ने वाले का कोई मजहब नहीं होता, लेकिन सजा मिलते ही उसके नाम का कलमा पढने वालों की बाढ़ आ जाती है! कमाल है!

संदीपदेव‬। और मजहब का होता तो क्‍या मीडिया वाले उसके पक्ष में इस तरह का अभियान चलाते? सुप्रीम कोर्ट का एक पूर्व जस्टिस अंग्रेजी अखबार में उसके लिए लेख लिखता? एक फिल्‍म स्‍टार दनादन [...]

यदि नानाजी नहीं होते तो जयप्रकाश नारायण ...
यदि नानाजी नहीं होते तो जयप्रकाश नारायण नहीं बचते: नरेंद्र मोदी

आधीआबादी ब्‍यूरो, नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आपातकाल के दौरान यदि नानाजी देशमुख नहीं होते तो जयप्रकाश नारायण जिंदा नहीं बचते। पटना में लाठीचार्ज के दौरान लाठी जयप्रकाश जी के सिर पर लगी थी, लेकिन [...]

असावधानी में बनाया गया शारीरिक संबंध कई ...
असावधानी में बनाया गया शारीरिक संबंध कई तरह से आपको कर सकता है परेशान!

नई दिल्ली।ेट पर जाना आम बात है लेकिन इस दौरान उन्हें अपने पार्टनर के साथ थोड़ी सावधानी बरतने की जरूरत होती है। डेटिंग के दौरान ज्यादातर युवा शारीरिक रूप से एक-दूसरे के नजदीक आ [...]

आखिर कौन हैं 'भंगी', 'मेहतर', 'दलित' और ...
आखिर कौन हैं 'भंगी', 'मेहतर', 'दलित' और 'वाल्‍मीकि'?

संदीप देव।ों ने जिन 'भंगी' और 'मेहतर' जाति को अस्‍पृश्‍य करार दिया, जिनका हाथ का छुआ तक आज भी बहुत सारे हिंदू नहीं खाते, जानते हैं वो हमारे आपसे कहीं बहादुर [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles