मदर टेरेसा का धर्मांतरण से कितना है नाता?

By एबीपी न्यूज, नई दिल्ली। मदर टेरेसा एक बार फिर चर्चा में हैं. मदर टेरेसा की पहचान गरीबों के लिए काम करने वाले मसीहा की जैसी है लेकिन इस बार चर्चा है उनकी सेवा के पीछे छिपे हुए मकसद के लिए जिसे आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत ने धर्मांतरण कहा है. तो क्या है मदर टेरेसा का पूरा सच?

एक आम भारतीय के जहन में मदर टेरेसा की ये तस्वीर उस बेमिसाल सेवा का प्रतीक है जिसने दीन-दुखियारों के दुख को अपना दुख बना लिया. हर उस शख्स को गले लगा लिया जिसे दुनिया ने ठुकरा दिया करती है. 1910 में युगोस्लाविया में जन्मी मदर टेरेसा 1929 में भारत आकर कोलकाता में बस गई थीं. साल 1950 में उन्होंने मिशनरीज ऑफ चैरिटी की स्थापना की और इसके जरिए उन्होंने गरीबों और कुष्ठ रोगियों की जो सेवा की उसकी मिसाल बहुत कम मिलती है. साल 1979 में उन्हें शांति का नोबल पुरस्कार मिला. 73 साल की उम्र तक बिना रुके बिना थके वो गरीबों और कुष्ठ रोगियों के बीच प्यार लुटाती रहीं और साल 1997 में उनका देहांत हो गया.

मदर टेरेसा की ये कहानी उनकी मत्यु के 18 बरस बाद हम आपको क्यों सुना रहे हैं? इसकी भी वजह है. वजह है आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत का बयान. राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सर संघ चालक यानी मुखिया हैं मोहन भागवत और उनका बयान आते ही आरएसएस के समर्थक और बीजेपी – शिवसेना जैसी राजनीतिक पार्टियां उनके समर्थन में उतर आई हैं.

 

मोहन भागवत ने क्या कहा था-

गैर सरकारी संगठन ‘अपना घर’ की ओर से आयोजित समारोह में भागवत ने कहा, ‘‘मदर टेरेसा की सेवा अच्छी रही होगी. परंतु इसमें एक उद्देश्य हुआ करता था कि जिसकी सेवा की जा रही है उसका ईसाई धर्म में धर्मांतरण किया जाए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘सवाल सिर्फ धर्मांतरण का नहीं है लेकिन अगर यह (धर्मांतरण) सेवा के नाम पर किया जाता है तो सेवा का मूल्य खत्म हो जाता है.’’

 
भागवत ने कहा, ‘‘परंतु यहां (एनजीओ) उद्देश्य विशुद्ध रूप से गरीबों और असहाय लोगों की सेवा करना है.’’ सरसंघचालक यहां से करीब आठ किलोमीटर दूर बजहेरा गांव में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. गांव में उन्होंने ‘महिला सदन’ और ‘शिशु बाल गृह’ का उद्घाटन किया.

 
आरएसएस का पक्ष-
आरएसएस का हालांकि कहना है कि उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया गया. संगठन के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कहा गया है, "मीडिया गलत तरीके से रिपोर्ट दे रहा है.  भरतपुर में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के पूर्व महानिदेशक ने कहा था कि मदर टेरेसा ने उद्देश्य के साथ सेवा की थी. इसके जवाब में भागवत ने कहा था कि जैसा कि डॉ. एम. वैद्य ने कहा है कि मदर टेरेसा के सेवा का उद्देश्य था, लेकिन हम बदले में किसी चीज की अपेक्षा किए बगैर सेवा करते हैं."

 
दूसरी तरफ है मदर टेरेसा जैसी शख्सियत पर भागवत के बयान का तीखा विरोध – बहस शुरू हो चुकी है. कांग्रेस, सपा, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कड़ा विरोध दर्ज कराया है. अरविंद केजरीवाल ने आज ट्वीट करके कहा, 'मैंने कुछ महीने कोलकाता स्थित निर्मल हृदय आश्रम में मदर टेरेसा के साथ काम किया है. वह महान इंसान थीं, उन्हें बख्श दिया जाए.'

 

हस के बीच हैं मदर टेरेसा. आखिर मदर टेरेसा का मकसद क्या था – सेवा या धर्मांतरण.

मदर टेरेसा की ईसाई धर्म में आस्था बेहद गहरी थी. जीसस क्राइस्ट के लिए उनका समर्पण ही उन्हें ईसाई मिशनरी बनाकर भारत ले आया था. कोलकाता के कालीघाट इलाके से शुरु हुआ ये सेवा का सफर मदर टेरेसा के लिए लाया बेशुमार शोहरत. उनका गरीबों से ये प्रेम दुनिया के सामने तब आया जब 1969 में इंग्लैंड के खबरिया चैनल बीबीसी ने उनके इस काम को अपने कैमरे में कैद कर दुनिया के सामने पहुंचा दिया.

 
मदर टेरेसा को जो शोहरत मिली वो जल्द ही विवादों में भी आ गई. साल 1989 में बड़ा सवाल उठाया कोलकाता में उनके साथ 9 साल काम करने वाली सुजैन शील्ड ने सुजैन ने लिखा कि मदर को इस बात की बेहद चिंता थी कि हम खुद को गरीब बनाए रखें. पैसे खर्च करने से गरीबी खत्म हो सकती है. उनका मानना था इससे हमारी पवित्रता बनी रहेगी और पीड़ा झेलने से जीसस जल्दी मिलेगा. यहां तक कि वह जिनकी सेवा करती थीं उन्हें पुराने इंजेक्शन की सुई खराब हो जाने से दर्द होता था लेकिन वह नए इंजेक्शन भी नहीं खरीदने देती थीं.

 
मदर टेरेसा ऐसा क्यों चाहती थीं?  इसका जवाब 1989 में मदर टेरेसा ने खुद टाइम मैगजीन को दिए एक इंटरव्यू में दिया था.

सवाल – भगवान ने आपको सबसे बड़ा तोहफा क्या दिया है?

मदर टेरेसा – गरीब लोग

सवाल – (चौंकते हुए) वो तोहफा कैसे हो सकते हैं?

मदर टेरेसा –उनके सहारे 24 घंटे जीसस के पास रहा जा सकता है.

 
मदर टेरेसा ने इसी इंटरव्यू में धर्मांतरण पर भी अपना रुख साफ किया था

 
सवाल – भारत में आपकी सबसे बड़ी उम्मीद क्या है?

जवाब – सब तक जीसस को पहुंचाना.

सवाल – आपके दोस्तों का मानना है कि आपने भारत जैसे हिंदू देश में ज्यादा धर्मांतरण ना करके उन्हें निराश किया है?

जवाब – मिशनरी ऐसा नहीं सोचते. वे सिर्फ जीसस के शब्दों पर भरोसा करते हैं. संख्या का इसके कोई लेना देना नहीं है. लोग लगातार सेवा करने और खाना खिलाने आ रहे हैं. जाइए और देखिए. हमें कल का पता नहीं लेकिन क्राइस्ट के दरवाजे खुले हैं. हो सकता है ज्यादा बड़ा धर्मांतरण ना हुआ हो लेकिन हम अभी नहीं जान सकते कि आत्मा पर क्या असर हो रहा है.

 

सवाल – क्या उन लोगों को जीसस से प्यार करना चाहिए?

जवाब – सामान्य तौर पर अगर उन्हें शांति चाहिए, उन्हें खुशी चाहिए तो उन्हें जीसस को तलाशने दीजिए. अगर लोग हमारे प्यार से बेहतर हिंदू बनें, बेहतर मुसलमान बनें, बेहतर बौद्ध बनें तो इसका मतलब है उनमें कुछ और जन्म ले रहा है. वो ऊपरवाले के पास जा रहे हैं. जब वो उसके और करीब जाएंगे तो वो उसे चुन लेंगे.

 

क्या यही वजह है कि अब आरएसएस के समर्थक और बीजेपी दोनों मदर टेरेसा की सेवा को धर्मांतरण से जोड़ कर देख रहे हैं.

 
मीनाक्षी लेखी ने कहा कि मदर टेरेसा अपने बारे बेहतर जानती थीं, उनकी बायोग्राफी लिखने वाले नवीन चावला खुद स्वीकार कर रहे हैं कि मदर टेरेसा ने खुद कहा था कि मैं कोई सोशल वर्कर नहीं हूं. मेरा काम जीसस की बातों को लोगों तक पहुंचाना है.

 
मीनाक्षी जिस पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त नवीन चावला का जिक्र कर रही हैं मदर टेरेसा के अच्छे दोस्त थे और उन्होंने मदर टेरेसा की जीवनी लिखी है. इसके मुताबिक उन्होंने नवीन चावला से पूछा था.

 
नवीन चावला - क्या आप धर्मांतरण करवाती हैं?

मदर टेरेसा – बिल्कुल. मैं धर्मांतरण करवाती हूं. मैं बेहतर हिंदू बनाती हूं या बेहतर मुसलमान या बेहतर इसाई. एक बार आपको आपका भगवान मिल गया तो आप तय कर सकते हैं किसे पूजना है.

 
ये वही बात थी जो वो टाइम मैगजीन से पहले भी कह चुकी थीं. 90 के दशक में भगवान में भरोसा ना रखने वाले क्रिस्टोफर हिचिन्स ने भी मदर टेरेसा पर गंभीर आरोप लगाते हुए एक डाक्यूमेंट्री बनाई जिसकी आज भी चर्चा होती है. इसी डाक्यूमेंट्री में एक सीनियर पत्रकार ने भी कहा कि उनका मकसद धर्म था ना कि सेवा.

 
भारत में भी मदर टेरेसा के मकसद को लेकर कई बार सवाल उठते रहे हैं.

हालांकि मदर टेरेसा के साथ काम करने वाली सुनीता कुमार उनके मकसद पर देश और दुनिया में बार बार उठने वाले सवालों को गलत ठहराती हैं. मदर टेरेसा ने भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई को धर्म की आजादी का कानून बनाते वक्त भी एक खत लिख कर इसका विरोध किया था.

 
एम एस चितकारा की किताब के मुताबिक मदर टेरेसा ने तत्कालीन प्रधानमंत्री को 1978 में एक खुला खत लिखा था और इसकी प्रतियां सांसदों में बांटी थीं. खत का रिश्ता धार्मिक स्वतंत्रता के कानून से था. मदर टेरेसा इसके विरोध में थीं क्योंकि इससे धर्मांतरण की प्रक्रिया खतरे में पड़ सकती थी.

 
मदर टेरेसा की जिंदगी पर उठे से सवाल पिछले 20 साल से बार बार सामने आते रहे हैं. इल्जाम ये भी लगा कि वो अपने मरीजों की देखभाल इसलिए नहीं करती थीं ताकि वो भगवान को याद करते रहें.

 
ये बेहद खूबसूरत है कि कोई भी बिना सेंट पीटर के स्पेशल टिकट के नहीं मर सकता. हम इसे सेंट पीटर का बपतिस्मा टिकट कहते हैं. हम लोगों से पूछते हैं क्या तुम्हें अपने पापों को माफ करने वाला आशीर्वाद और भगवान चाहिेए. उन्होंने कभी मना नहीं किया. कालीघाट में 29 हजार लोगों की मौत हुई है.

मदर टेरेसा

कैलिफोर्निया, 1992

 

मदर टेरेसा धोखेबाज़ और कट्टर थीं: तसलीमा नसरीन
विवादित और चर्चित लेखिका तस्लीमा नसरीन ने मदर टेरेसा को लेकर आरएसएस प्रमुख मोहन भगवत के दिए बयान का समर्थन करते हुए मदर टेरेसा पर गंभीर आरोप लगाए हैं. तस्लीमा नसरीन ने ट्वीट करके मदर टेरेसा को मूर्ख बताते हुए कहा कि वह गरीबों की नहीं ग़रीबी की हमदर्द थीं.

तसलीमा नसरीन ने ट्वीट किया, "मदर टेरेसा धोखेबाज़ और कट्टर थीं. वह ग़रीबी और दुख को आध्यात्मिक करार देती थीं. उन्हें ग़रीबों से नहीं ग़रीबी से हमदर्दी थी."


Web title: who was mother teresa

Main Link: http://abpnews.abplive.in/ind/2015/02/25/article510902.ece/mother-teresa

आधी आबादी संपादक टिप्‍पणी:
संघ प्रमुख मोहन भागवत ने मदर टेरेसा द्वारा धर्मांतरण कराए जाने की बात क्‍या कह दी, तथाकथित सेक्‍यूलर जमात को जैसे सामूहिक दस्‍त लग गया। भाई मदर टेरेसा ने जब स्‍वयं ही 'टाइम्‍स' मैग्‍जीन में दिए साक्षात्‍कार के दौरान यह माना है कि वह धर्मांतरण कराती थीं तो आपको भागवत जी के बयान पर क्‍यों आपत्ति है। कैथोलिक इसाईयत की भारत में सबसे बड़ी संरक्षक सोनिया गांधी के महान मानस सपूत पूर्व चुनाव आयुक्‍त नवीन चावला ने मदर टेरेसा पर लिखी जीवनी में यह साफ तौर पर कहा है कि मदर टेरेसा कोई सामाजिक कार्यकर्ता नहीं, बल्कि जीजस की संदेशवाहक थी और धर्मांतरण कराती थीं तो वेटिकन के चमचों आज तुम्‍हें अचानक से पेट में दर्द क्‍यों हो रहा है।

अमेरिकी राष्‍ट्रपति से लेकर पूरी पश्चिमी मीडिया, भारत के चर्च और तथाकथित सेक्‍यूलर जमात जिस तरह से मोदी सरकार के आने के बाद, इसायत खतरे में है को लेकर दुष्‍प्रचार कर रही है उससे इस आशंका को बल मिलता है कि यह पूरी जमात वर्तमान सरकार पर दबाव बनाने की राजनीति कर रही है ताकि सरकार गो हत्‍या बंदी और धर्मांतरण विरोधी काननू संसद के पटल पर न रख सके।

तथ्‍य पर गौर कीजिए, गो मांस का सबसे बड़ा निर्यातक भारत और सबसे बड़ा आयातक यूरोप अर्थात जीजस के अनुयायी देश ही हैं। उसी तरह धर्मांतरण के कारोबार में पुरी दुनिया में सबसे अधिक कैथोलिक चर्च ही लगा है, जिसकी भारत में मदर टेरेसा प्रतिनिि‍धत्‍व कर चुकी हैं। भारत के पूर्वोत्‍तर के आदिवासी समुदाय को कैथोलिक इसायत पूरी तरह से मिटाता जा रहा है, लेकिन आदिवासियों के पक्ष में बोलने वालों का जैसे अकाल पड़ गया हो। दूसरी तरफ वेटिकन के पैसे व सुविधाओं के कारण कौए की तरह कांव..कांव करने वालों की पूरी फौज जुटी पड़ी है।

मदर टेरेसा क्‍या थीं, ये मेरे मित्र सुरेश चिपलूणकर ने कई साल पूर्व अपने एक ब्‍लॉग में लिखा था, जिसका लिंक आपको मैं यहां दे रहा हूं, उसे पढि़ए और फालतू में सेक्‍यूलरिज्‍म की नौटंकी बंद कीजिए। यदि आपके रक्‍त में इसाई रक्‍त मिला है तो खुलकर इसे स्‍वीकारिए। 'सेक्‍यूलर क्रॉस' के जरिए अपने दोगलेपन को ढंकने का प्रयास मत कीजिए।

http://blog.sureshchiplunkar.com/2007/12/mother-teresa-crafted-saint.html

Keywords: arvind kejriwal| Mohan Bhagwat| RSS| Mother Teresa| मदर टेरेसा| कौन थी मदर टेरेसा| मदर टेरेसा और धर्मांतरण| धर्मांतरण का कारोबार| मोहन भागवत| आरएसएस| अरविंद केजरीवाल| केजरीवाल| केजरीवाल का मदर टेरेसा से संबंध| मदर टेरेसा का जीवन परिचय





ब्‍लैक मनी पर अपनी सरकार की और कितनी फजी...
ब्‍लैक मनी पर अपनी सरकार की और कितनी फजीहत कराएंगे माननीय वित्‍त मंत्री जी!

संदीप देव।भाजपा को अच्‍छी तरह से नुकसान पहुंचा दिया तो आज काले धन की सूची मीडिया में लीक करवा रहे हैं। पहले कह रहे थे सूची जारी नहीं कर सकते, क्‍योंकि देशों के आपसी [...]

स्‍त्री यौन स्‍ट्रोक: स्‍त्री का पावर स्...
स्‍त्री यौन स्‍ट्रोक: स्‍त्री का पावर स्‍ट्रोक

आधी आबादी ब्‍यूरो।ीरांगना महिलाओं का आसन है, इसलिए साधारण महिलाओं को इस आसन को न करने की सलाह दी जाती है। इस पोजीशन को वही स्त्री हैंडल कर सकती है, जो [...]

डॉ कलाम के राष्‍ट्रपति बनने का वामपंथियो...
डॉ कलाम के राष्‍ट्रपति बनने का वामपंथियों ने विरोध किया था और आज उनकी मृत्‍यु के बाद उनके प्रति घृणा भरे पोस्‍ट भी वामपंथी ही लिख रहे हैं!

संदीप देव।. कलाम ने राष्‍ट्रपति पद के लिए नामांकन किया था तो उनका एक मात्र विरोध देश के वामपंथी पार्टियों ने किया था। आज जब डॉ. कलाम हमारे बीच [...]

अब रिमोर्ट से कंट्रोल करें अपने गर्भनिरो...
अब रिमोर्ट से कंट्रोल करें अपने गर्भनिरोधक को!

नर्इ दिल्‍ली। अमेरिका के मैसाचुसेट्स यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक कंप्यूटर चिप आधारित गर्भनिरोधक विकसित किया है, जिसे रिमोट कंट्रोल से ऑपरेट किया जा सकेगा। यह लगातार 16 साल तक काम कर सकता है। खास बात यह है [...]

कृष्‍ण ने अर्जुन से कहा, हे अर्जुन वृक्ष...
कृष्‍ण ने अर्जुन से कहा, हे अर्जुन वृक्षों में मैं पीपल हूं। लेकिन आखिर पीपल ही क्‍यों?

संदीप देव।: सर्ववृक्षाणां देवर्षीणां च नारद: हे अर्जुन वृक्षों में मैं पीपल हूं और देवर्षियों में नारद। कदम्‍ब के पेड़ के नीचे रास [...]

सनी लियोन करेगी 100 लड़कों के साथ डेट! ...
सनी लियोन करेगी 100 लड़कों के साथ डेट!

मुंबई।ंपनी कॉन्टेस्ट के ग्रैंड फिनाले में 100 लकी लड़कों को सनी लियोन के साथ डेटिंग का मौका मिला। दरअसल ग्रीस एंड ब्राजील नाम के एक डिओड्रेंट ब्रैंड ने तीन महीनों तक ऑनलाइन कॉन्टेस्ट चलाया [...]

मनु शर्मा व रामबहादुर राय, जिनके गले से ...
मनु शर्मा व रामबहादुर राय, जिनके गले से लगकर सम्‍मानित हुआ 'पद्मश्री'

संदीप देव। खुशी का दिन है। मेरे दो-दो आदर्श व आदरणीय साहित्‍यकार-पत्रकार को आज पद्म पुरस्‍कार मिल रहा है। इनमें एक हैं मनु शर्मा और दूसरे हैं रामबहादुर राय। सच पूछिए तो ये दोनों [...]

आप प्रतिक्रिया मत दीजिए, बल्कि मसीह-मोहम...

संदीप देव।ने इतिहास अभियान को लेकर मैं जो कुछ लिख रहा हूं, उसमें कुछ वामपंथी-सेक्‍यूलर-इस्‍लामी जमात घुसकर उसे संदर्भ से काटकर लोगों को भटकाने की लगातार कोशिश कर रहे हैं। ओशो ने [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles