असावधानी में बनाया गया शारीरिक संबंध कई तरह से आपको कर सकता है परेशान!

नई दिल्ली। आज कल युवाओं का डेट पर जाना आम बात है लेकिन इस दौरान उन्हें अपने पार्टनर के साथ थोड़ी सावधानी बरतने की जरूरत होती है। डेटिंग के दौरान ज्यादातर युवा शारीरिक रूप से एक-दूसरे के नजदीक आ जाते हैं। केवल मौज-मस्ती के लिए बनाया गया संबंध आगे चलकर उनके लिए मुसीबतें बन सकता है। यदि युवा बिना गर्भनिरोधी उपायों के अपनाए बगैर सेक्स करते हैं तो उन्हें इन छह जोखिमभरी बातों का सामना करना पड़ सकता है।

 

अवांछित गर्भधारण

यदि आप गर्भनिरोधी उपायों को अपनाए बगैर सेक्स करते हैं तो गर्भधारण की प्रबल संभावना बनी रहती है। गर्भपात के जरिए गर्भ से छुटकारा पाया जा सकता है। बार-बार गर्भपात कराए जाने से आपको आगे चलकर शारीरिक जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है।

बच्चे
लड़का और लड़की यदि लापरवाही और अगंभीरता के साथ किए गए सेक्स के साथ आगे बढ़ना चाहते हैं तो उन्हें बच्चे के लिए तैयार रहना चाहिए। नवजात बच्चों की दिनचर्या बड़े लोगों की दिनचर्या से अलग होती है। बच्चे की जरूरतें और जिम्मेदारियां आपको उठानी पड़ेंगी। यदि आप इन सारी चीजों से बचना चाहते हैं तो गर्भनिरोधक उपायों को अपनाना चाहिए।

संक्रमण
असुरक्षित सेक्स करने से संक्रमण होने का खतरा बना रहता है। बहुत सारे लोग होमो और गे होते हैं। वे असुरक्षित सेक्स करने के आदी होते हैं। इनके साथ सेक्स करने पर एसटीडी (सेक्सुअली ट्रांसमीटेड डीजिज) होने का खतरा बना रहता है।

एचआईवी/एड्स
एचआईवी/एड्स पीड़ित व्यक्तियों के साथ सेक्स करने पर आपको भी यह रोग हो सकता है। इसलिए एचआईवी/एड्स पीड़ित व्यक्तियों के साथ सेक्स करते समय सावधानी बरतने की जरूरत होती है।

डेटिंग/सेक्स लाइफ पर असर
यदि आप एसटीडी बीमारियों से पीड़ित हो जाते हैं अथवा आपको एड्स हो जाता है तो आप आगे अपने जीवन में डेटिंग के सुख से वंचित हो जाएंगे। आपकी सेक्स लाइफ मुश्किल में पड़ सकती है।

तनाव
यदि आपने अपने पार्टनर के साथ किसी रात असुरक्षित सेक्स किया है तो आप शांत नहीं रह पाएंगे। यह ख्याल आपको बार-बार आएगा कि कहीं आप प्रेंग्नेंट तो नहीं हो जाएंगी।

Courtesy: ज़ी मीडिया ब्‍यूरो

Web Title: dangerous-things-that-can-happen-if-you-have-unprotected-sex

पहली ही कोशिश में मंगल तक पहुंचने वाला प...
पहली ही कोशिश में मंगल तक पहुंचने वाला पहला देश बना भारत

बेंगलुरु। अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में भारत ने नायाब उपलब्धि हासिल की है। भारतीय अनुसंधान संस्थान (इसरो) का मार्स ऑर्बिटर मिशन यानी मंगलयान सुबह 8 बजे करीब मंगल की कक्षा में प्रवेश कर गया। यह उपलब्धि हासिल [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: यहां होता है पहली माहवारी पर जश्न

सुशीला सिंह, बीबीसी संवाददाता।ी हो रही है. अनोखी इस मायने में कि असम की परंपरा के अनुसार यहां दुल्हन तो होती है लेकिन दूल्हा एक केले का पौधा [...]

आधुनिक भारत में मुस्लिम कटटरता की शुरुआत...
आधुनिक भारत में मुस्लिम कटटरता की शुरुआत और गांधी-नेहरू

संदीप देव।ुस्लिम कटटरता और कठमुल्‍लापन को बढ़ावा देने में जिन दो महापुरुषों ने प्रारंभिक योगदान दिया और जिसकी परिणति पाकिस्‍तान निर्माण के रूप में सामने आया, उनका नाम महात्‍मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू था! [...]

वंदेमातरम और जन गण मन का इतिहास: सच्‍चाई...
वंदेमातरम और जन गण मन का इतिहास: सच्‍चाई, सोच और साजिश

संदीप देव।न वायसराय लॉर्ड कर्जन ने हिंदू-मुसलमान जनसंख्‍या को आधार बनाकर बंगाल का विभाजन कर दिया। पूर्वी बंगाल मुस्लिम बहुल और पश्चिम बंगाल हिंदू बहुल। इतिहास में इसे बंग-भंग के नाम [...]

सेक्‍यूलर हिंदू अपने डीएनए की जांच अवश्‍...

संदीप देव। हिंदू संगठनों को सुनियोजित तरीके से बदनाम किया जाता है। सुन्नी उलेमा काउंसिल के महासचिव की अगुवाई में मुस्लिम उलेमा के एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी इंद्रेशजी से मुलाकात कर [...]

यह जम्‍मू-कश्‍मीर के बंटवारे की पटकथा तो...
यह जम्‍मू-कश्‍मीर के बंटवारे की पटकथा तो नहीं!

संदीप देव।ं भाजपा-पीडीपी के बीच गठबंधन का बहुत ज्‍यादा विरोध भी हो रहा है और समर्थन भी। मुझे लगता है मौका दिया जाना चाहिए, क्‍योंकि आप दिल्‍ली में बैठकर विरोध तो कर रहे हैं लेकिन [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: 'इसे छूने के बाद रोटी नहीं खाई जाती'

शालू यादव, बीबीसी संवाददाता, दिल्ली।स्तेमाल करती हैं. कूड़ेदान में फेंके गए सैनिट्री पैड्स प्राकृतिक रूप से गलते नहीं है. तो इनका क्या होता है? [...]

धर्म के नाम पर इतना पाखंड ठीक नहीं है वै...
धर्म के नाम पर इतना पाखंड ठीक नहीं है वैदिक जी ! ‪

संदीप देव।रे होते हैं और सचमुच उसके अंदर कितना पाखंड भरा होता है, यह आप उसके पूरे आचरण और व्‍यवहार के आधार पर जान सकते हैं। वरिष्‍ठ पत्रकार वेदप्रताप वैदिक, फ्रांस के अखबार शार्ली [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles