अध्यात्म

नवंबर माह की लड़कियों में अपार सहनशक्ति होती है!

नवंबर माह में जन्‍म लेने वाले व्‍यक्ति दिल के बड़े अच्‍छे व भोले होते हैं। उनके अंदर प्‍यार और दया का सागर उमड़ता रहता है, लेकिन साथ ही गुस्‍से का तूफान भी अंदर पलता है। ये जिन्‍हें प्‍यार करते हैं उनके लिए सारी दुनिया को छोड़ सकते हैं। नवंबर में जन्‍म लेने वाली लड़कियां बेहद भावुक होती हैं, लेकिन साथ ही यह व्‍यवहारकुशल भी होती हैं। यह अलग बात है कि वह अपने दिल की भावना कई बार व्‍यक्‍त नहीं कर पातीं, जिससे कई लोग इन्‍हें गलत समझ लेते हैं। ये समझती हैं कि लोग इनकी बातों को खुद समझ लेंगे, लेकिन ऐसा इस दुनिया में कहां होता है। इन्‍हें संवाद का तरीका ढूंढ़ना होगा और संवाद स्‍थापित करने की कोशिश करनी होगी, तो इनसे बेहतर कोई इंसान नहीं हो सकता।

Read more...

भारत में ज्ञान प्राप्‍त करने और भारत में ही शरीर त्‍यागने वाले ईसा मसीह की वास्‍तविकता पर ईसायत मौन!

सच चाहे किसी भी धर्म के बारे में हो, उसे स्वीकार करने में उक्त धर्म के अनुयायियों को बहुत कठिनाई होती है। आज का दौर धार्मिक कट्टरता का दौर है ऐसे में सभी अपने अपने कुएं में बंद हैं। कोई भी सच को जानना नहीं चाहता, क्योंकि इससे उसके जीवन के अब तक बनाए गए आधार गिरते हैं। वह खुद को असहाय महसूस करते हैं और इस तरह उनमें दूसरे धर्म के अनुयायियों के प्रति नफरत का जन्म होता है। क्योंकि बचपन से जो अब तक उन्होंने सीखा, वह कैसे गलत हो सकता है? सच में वही व्यक्ति धार्मिक है, जो किसी धर्म से बंधा नहीं होकर सत्य से बंधा है। जिसमें विचार करने और समझने की क्षमता है वहीं मनुष्यों में श्रेष्ठ है।

Read more...

होली हिंदुस्‍तान की गहरी प्रज्ञा से उपजा हुआ त्‍यौहार है

अमृत साधना। होली हिंदुस्तान की गहरी प्रज्ञा से उपजा हुआ त्योहार है। उसमें पुराण कथा एक आवरण है, जिसमें लपेटकर मनोविज्ञान की घुट्टी पिलाई गई है। सभ्य मनुष्य के मन पर नैतिकता का इतना बोझ होता है कि उसका रेचन करना जरूरी है, अन्यथा वह पागल हो जाएगा। इसी को ध्यान में रखते हुए होली के नाम पर रेचन की सहूलियत दी गई है। पुराणों में इसके बारे में जो कहानी है, उसकी कई गहरी परतें हैं।

Read more...

अपने शरीर को जानो, क्‍योंकि शरीर प्राचीन है: ओशो

ओशो। शरीर को भलीभांति काम करना चाहिए, अच्छी तरह से। यह एक कला है, यह तप नहीं है। तुम्हें उसके साथ लड़ना नहीं है, तुम्हें उसे केवल समझना है। शरीर इतना बुद्धिमान है ... तुम्हारे मस्तिष्क से बुद्धिमान, ध्यान रहे, क्योंकि शरीर मस्तिष्क से ज्यादा समय जीया है। मस्तिष्क बिल्कुल नया आया है, महज एक बच्चा है।

Read more...

कृष्‍ण ने अर्जुन से कहा, हे अर्जुन वृक्षों में मैं पीपल हूं। लेकिन आखिर पीपल ही क्‍यों?

संदीप देव। अश्‍वत्‍थ: सर्ववृक्षाणां देवर्षीणां च नारद: । भगवान श्रीकृष्‍ण ने गीता के 10 वें अध्‍याय में कहा है, हे अर्जुन वृक्षों में मैं पीपल हूं और देवर्षियों में नारद। कदम्‍ब के पेड़ के नीचे रास रचाने वाले श्रीकृष्‍ण ने खुद की उपमा आखिर पीपल से ही क्‍यों दी?
मैं भी सोचता था! मुझे इस सदी की सबसे बड़ी औपन्‍यासिक कृति देने वाले आदरणीय मनु शर्मा जी (उम्र 88 वर्ष) के सान्निध्‍य में काफी समय तक बनारस में रहने का अवसर प्राप्‍त हुआ। प्रभात प्रकाशन के लिए मैंने उनकी जीवनी लिखी है, जिसके संपादन का कार्य अभी चल रहा है। मनु शर्मा जी ने भगवान श्रीकृष्‍ण की आत्‍मकथा आठ खंडों में और करीब 3000 पृष्‍ठों में लिखी है, जो आधुनिक साहित्‍य में सबसे बड़ी कृति है। उन्‍होंने मुझे समझाया कि आखिर भगवान श्रीकृष्‍ण ने खुद को पीपल ही क्‍यों कहा:

Read more...

Subcategories

अनुयायी नहीं, आलोचक बनें क्‍योंकि तटस्‍थ...

संदीप देव।डिया के मित्रों से अनुरोध है कि आप किसी के कार्यकर्ता/ अनुयायी की तरह बर्ताव न करें, बल्कि स्‍वतंत्र विचार रखें, जिसमें तथ्‍य भी हों और तर्क भी। मैं जो भी बात [...]

पहली ही कोशिश में मंगल तक पहुंचने वाला प...
पहली ही कोशिश में मंगल तक पहुंचने वाला पहला देश बना भारत

बेंगलुरु। अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में भारत ने नायाब उपलब्धि हासिल की है। भारतीय अनुसंधान संस्थान (इसरो) का मार्स ऑर्बिटर मिशन यानी मंगलयान सुबह 8 बजे करीब मंगल की कक्षा में प्रवेश कर गया। यह उपलब्धि हासिल [...]

युवाओं में सेक्‍सटिंग की लत, बेहद खतरनाक...
युवाओं में सेक्‍सटिंग की लत, बेहद खतरनाक!

अमेरिका में किये गये एक शोध के मुताबिक अगर किशोर सेक्सटिंग से ज्यादा जुड़े रहते हैं, तो आम नाबालिगों के मुकाबले उनमें सेक्स के प्रति सक्रियता छह गुना अधिक होगी. पुराने शोध में ऐसा पाया गया गया है [...]

असावधानी में बनाया गया शारीरिक संबंध कई ...
असावधानी में बनाया गया शारीरिक संबंध कई तरह से आपको कर सकता है परेशान!

नई दिल्ली।ेट पर जाना आम बात है लेकिन इस दौरान उन्हें अपने पार्टनर के साथ थोड़ी सावधानी बरतने की जरूरत होती है। डेटिंग के दौरान ज्यादातर युवा शारीरिक रूप से एक-दूसरे के नजदीक आ [...]

मोहम्‍मद अली जिन्‍ना और 16 साल की रती क...
 मोहम्‍मद अली जिन्‍ना और 16 साल की रती की प्रेम कहानी

रेहान फ़ज़ल बीबीसी संवाददाता, दिल्ली। पेतित ने मुंबई की गर्मी से बचने के लिए उन्हें दार्जिलिंग आने की दावत दी. वहीं जिन्ना [...]

शादी से पहले सेक्‍स आम बात है और शादी का...
शादी से पहले सेक्‍स आम बात है और शादी का वादा कर सेक्‍स करना बलात्‍कार नहीं है: अदालत

मुंबई। भारत बदल रहा है और ऐसा ही कुछ बॉम्बे हाई कोर्ट भी मानती है. हाई कोर्ट ने कहा है कि शादी का वादा कर संबंध बनाने का हर मामला बलात्कार नहीं होता, कोर्ट ने तो यह भी [...]

आपका परफ्यूम और डियोडेरेंट आपके शुक्राणु...
आपका परफ्यूम और डियोडेरेंट आपके शुक्राणुओं की गति को कर सकता है कम!

लंदन। एड में डियोडेरेंट के प्रचार में पुरुषों पर लड़कियों को मरते, कूदते दिखाया जाता है, लेकिन सच्‍चाई बिल्‍कुल इसके उलट है। आपका तेज परफ्यूम और डियाटेरेंट आपके शुक्राणुओं की गतिशीलता को कम कर सकता है, [...]

औरंगजेब के दरबारी ने औरंगजेब को इतना लज्...
औरंगजेब के दरबारी ने औरंगजेब को इतना लज्जित किया कि वह मंदिर तोड़ कर मस्जिद बनाना भूल गया! ‪

संदीप देव। औरंगजेब सबसे बड़ा मूर्ति भंजक था। हिंदुओं के मंदिर को तोड़कर उस पर मस्जिद का निर्माण कराने की उसे सनक सवार हो गई थी। पहले पहल तो वह मंदिर तोड़ कर उसे छोड़ देता था, [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles