ओशो वाणी

अपने शरीर को जानो, क्‍योंकि शरीर प्राचीन है: ओशो

ओशो। शरीर को भलीभांति काम करना चाहिए, अच्छी तरह से। यह एक कला है, यह तप नहीं है। तुम्हें उसके साथ लड़ना नहीं है, तुम्हें उसे केवल समझना है। शरीर इतना बुद्धिमान है ... तुम्हारे मस्तिष्क से बुद्धिमान, ध्यान रहे, क्योंकि शरीर मस्तिष्क से ज्यादा समय जीया है। मस्तिष्क बिल्कुल नया आया है, महज एक बच्चा है।

Read more...

Sex can become the bridge between you and the ultimate: OSHO

OSHO. "Sex can become the bridge between you and the ultimate. What is sex? It is just a meeting of two deep energies. What is sex'? Just two persons meeting at the maximum point -- not only holding hands, not only hugging each other's bodies, but penetrating into each other's energy realm. Why should you hate sex?

Read more...

मैं किसी तरह की स्तुति में भरोसा नहीं करता: ओशो

ओशो। तुम मेरी प्रंशसा मत करो। तुम मेरी प्रशंसा से कुछ भी नहीं पा सकते हो। मुझे धोखा देना असंभव है। मैं किसी तरह की स्तुति में भरोसा नहीं करता। तुम जैसे हो, मुझे स्वीकार हो। मगर यह ‘खोटे’ वगैरह होने का अहंकार मत घोषित करो। ये तरकीबें नहीं। खोटे हो, तो ठीक। क्या हर्जा? कौन खोटा नहीं है? मगर खोटे की घोषणा करके तुम इस भ्रांति में न पड़ो कि तुम दूसरो से विशिष्ट हुए जा रहे हो। वही मोह भीतर छिपा है।

Read more...

ज्योतिष पर ओशो के विचार

ओशो। ज्योतिष के नाम पर सौ में से निन्यानबे धोखाधड़ी है। और वह जो सौवां आदमी है, निन्यानबे को छोड़ कर उसे समझना बहुत मुश्किल है। क्योंकि वह कभी इतना डागमेटिक नहीं हो सकता कि कह दे कि ऐसा होगा ही। क्योंकि वह जानता है कि ज्योतिष बहुत बड़ी घटना है। इतनी बड़ी घटना है कि आदमी बहुत झिझक कर ही वहां पैर रख सकता है। जब मैं ज्योतिष के संबंध में कुछ कह रहा हूं तो मेरा प्रयोजन है कि मैं उस पूरे-पूरे विज्ञान को आपको बहुत तरफ से उसके दर्शन करा दूं उस महल के। मैं इस बात की चर्चा कर रहा हूं कि कुछ आपके जीवन में अनिवार्य है। और वह अनिवार्य आपके जीवन में और जगत के जीवन में संयुक्त और लयबद्ध है, अलग-अलग नहीं है। उसमें पूरा जगत भागीदार है। उसमें आप अकेले नहीं हैं।

 

Read more...

पाइथागोरस, ईसा मसीह और मूसा, सभी ने भारत से लिया है ज्ञान: ओशो

ओशो। जब भी कोई सत्‍य के लिए प्‍यासा होता है, अनायास ही वह भारत में उत्‍सुक हो उठता है। अचानक पूरब की यात्रा पर निकल पड़ता है। और यह केवल आज की ही बात नहीं है। यह उतनी ही प्राचीन बात है, जितने पुराने प्रमाण और उल्‍लेख मौजूद हैं। आज से 2500 वर्ष पूर्व, सत्‍य की खोज में पाइथागोरस भारत आया था। ईसा मसीह भी भारत आए थे।

Read more...

Aurangzeb‬ द्वारा काशी विश्‍वनाथ मंदिर त...
Aurangzeb‬ द्वारा काशी विश्‍वनाथ मंदिर तोड़े जाने को सबसे पहले सही एक कांग्रेसी नेता ने ही ठहराया था, जिसके बाद झूठ प्रचलित हुआ!

दीपदेव‬।औरंगजेब द्वारा काशी विश्‍वनाथ मंदिर तोड़े जाने को सही ठहराने की शुरुआत महात्‍मा गांधी के बेहद खास कांग्रेसी पटटाभिसीतारमैया ने एक पुस्‍तक 'द फ़ेदर्स एण्ड द स्टोन्स’ लिखकर की थी। यह वही पटटाभि थे, [...]

केजरीवाल की ध्‍यान बटोरने वाली पोलिटिक्‍...
केजरीवाल की ध्‍यान बटोरने वाली पोलिटिक्‍स और न्‍यूज चैनलों के तमाशे की भेंट चढ़ गया गजेंद्र!

संदीप देव‬।वासी गजेंद्र की मौत भी दब जाएगी। टीवी कैमरे के दम पर खड़ी हुई एक तमाशा पार्टी और उसे तमाशा बनाकर पेश करने वाली मीडिया, दोनों इस साजिश में शामिल हैं। मैंने जब [...]

आधुनिक भारत में मुस्लिम कटटरता की शुरुआत...
आधुनिक भारत में मुस्लिम कटटरता की शुरुआत और गांधी-नेहरू

संदीप देव।ुस्लिम कटटरता और कठमुल्‍लापन को बढ़ावा देने में जिन दो महापुरुषों ने प्रारंभिक योगदान दिया और जिसकी परिणति पाकिस्‍तान निर्माण के रूप में सामने आया, उनका नाम महात्‍मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू था! [...]

AN OPEN LETTER TO THE PRIME MINISTER Nar...
AN OPEN LETTER TO THE PRIME MINISTER NarendraModi about ‪‎BiharElections ‬

Francois Gautier. Dear Mr Prime Minister [...]

वेद में आदर्श स्त्री शिक्षा का वर्णन...
वेद में आदर्श स्त्री शिक्षा का वर्णन

डा. अशोक आर्य। जिन शिक्षाओं को आवश्यक माना है , उनमें पाक शिक्षा प्रमुख है | वास्तव में स्त्री शिक्षा के वैदिक आधार में पाक शिक्षा को अत्यावश्यक माना गया है | [...]

पापा मेरी बलि न दो, मैं बीज हूं!...
पापा मेरी बलि न दो, मैं बीज हूं!

संजू मिश्रा।ैं बीज हूं,
हरियाली तीज हूं ।

यह शुद्ध रूप से वैचारिक लड़ाई है, ‪‎Beef...

संदीप देव। े वाले मीडियाकर्मी और निकृष्‍ट अरविंद केजरीवाल एंड गिरोह को दादारी गांव के ग्रामीणों ने गांव में प्रवेश नहीं करने दिया। यही सभ्‍य और लोकतांत्रिक तरीका है। हमें भी बहिष्‍कार का तरीका ही अपनाना चाहिए। मीडिया [...]

वह महात्‍मा गांधी थे, जिन्‍होंने कस्‍तूर...
वह महात्‍मा गांधी थे, जिन्‍होंने कस्‍तूरबा का स्‍मारक बनवा कर परिवार को महिमा मंडित करने की शुरुआत की थी! ‪‎

संदीपदेव‬।ी थे, जिन्‍होंने सबसे पहले परिवारवाद की मूर्ति पूजा का चलन इस देश में शुरु किया। और यह भी बता दूं कि देश के सबसे बढिया स्‍मारक में उनकी पत्‍नी कस्‍तूरबा गांधी का स्‍मारक शामिल [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles