धर्म | दर्शन

कृष्‍ण ने अर्जुन से कहा, हे अर्जुन वृक्षों में मैं पीपल हूं। लेकिन आखिर पीपल ही क्‍यों?

संदीप देव। अश्‍वत्‍थ: सर्ववृक्षाणां देवर्षीणां च नारद: । भगवान श्रीकृष्‍ण ने गीता के 10 वें अध्‍याय में कहा है, हे अर्जुन वृक्षों में मैं पीपल हूं और देवर्षियों में नारद। कदम्‍ब के पेड़ के नीचे रास रचाने वाले श्रीकृष्‍ण ने खुद की उपमा आखिर पीपल से ही क्‍यों दी?
मैं भी सोचता था! मुझे इस सदी की सबसे बड़ी औपन्‍यासिक कृति देने वाले आदरणीय मनु शर्मा जी (उम्र 88 वर्ष) के सान्निध्‍य में काफी समय तक बनारस में रहने का अवसर प्राप्‍त हुआ। प्रभात प्रकाशन के लिए मैंने उनकी जीवनी लिखी है, जिसके संपादन का कार्य अभी चल रहा है। मनु शर्मा जी ने भगवान श्रीकृष्‍ण की आत्‍मकथा आठ खंडों में और करीब 3000 पृष्‍ठों में लिखी है, जो आधुनिक साहित्‍य में सबसे बड़ी कृति है। उन्‍होंने मुझे समझाया कि आखिर भगवान श्रीकृष्‍ण ने खुद को पीपल ही क्‍यों कहा:

Read more...

शंख, शंखनाथ और उसका महत्‍व

हिंदू मान्यता के अनुसार समुद्र मंथन के समय प्राप्त चौदह रत्नों में से एक शंख की उत्पत्ति छठे स्थान पर हुई। शंख में भी वही अद्भुत गुण मौजूद हैं, जो अन्य तेरह रत्नों में हैं। दक्षिणावर्ती शंख के अद्भुत गुणों के कारण ही भगवान विष्णु ने उसे अपने हस्तकमल में धारण किया हुआ है।

Read more...

शिव का तीसरा नेत्र ज्ञान पुंज है, जो अज्ञान का नाश करता है

रामचरित मानस के अनुसार तारका नाम का एक असुर हुआ उसने सभी देवताओं को हराकर तीनों लोकों को जीत लिया। वह अमर था। इसीलिए देवता उसका कुछ नहीं बिगाड़ सकते थे। आखिर में सभी देवता उसके आतंक से परेशान होकर ब्रह्माजी के पास पहुंचे। तब ब्रह्माजी ने देवताओं को बताया कि इस असुर का संहार सिर्फ शिव पुत्र के द्वारा ही हो सकता है। तब सभी देवता चिंतित हो गए क्योंकि सती के देह त्याग के बाद से शिव समाधि में बैठे थे। तब ब्रह्माजी बोले कि सती ने देह त्याग के बाद हिमाचल के यहां जन्म लिया है।

Read more...

आस्था का अद्भुत मेला महाकुंभ

राजेंद्र सिंह। महाकुंभ शुरू हो गया है। अपने उसी गौरवशाली इतिहास को समेटे। जाति, धर्म, अमीरी-गरीबी और यहां तक कि राष्ट्र की सरहदें तक यहां खत्म हो जाती हैं। साधु-संत-राज-समाज-देसी-विदेशी, जो भी आता है आस्था के इस महापर्व में डूब जाता है। कुंभ पहुंचकर लगता है जैसे हम कभी भिन्न थे ही नहीं। दुनिया में पानी का इतना बड़ा मेला मैंने कहीं नहीं देखा। यह परंपरा हजारों बरस से बदस्तूर जारी है। कभी-कभी इसे लेकर मन में कई सवाल उठते हैं। जिज्ञासा होती है कि क्या यह एक पवित्र स्नान मात्र की आस्था है या इसकी पृष्ठभूमि में कुछ और भी प्रयोजन थे?

Read more...

शिव लिंग की उत्‍पत्ति और महिमा

शिवलिंग भगवान शंकर का प्रतीक है। शिव का अर्थ है - 'कल्याणकारी'। लिंग का अर्थ है - 'सृजन'। सर्जनहार के रूप में उत्पादक शक्ति के चिन्ह के रूप में लिंग की पूजा होती है। स्कंद पुराण में लिंग का अर्थ लय लगाया गया है। लय ( प्रलय) के समय अग्नि में सब भस्म हो कर शिवलिंग में समा जाता है और सृष्टि के आदि में लिंग से सब प्रकट होता है। लिंग के मूल में ब्रह्मा, मध्य में विष्णु और ऊपर प्रणवाख्य महादेव स्थित हैं।

Read more...

अपने शरीर को जानो, क्‍योंकि शरीर प्राचीन...
अपने शरीर को जानो, क्‍योंकि शरीर प्राचीन है: ओशो

ओशो। भलीभांति काम करना चाहिए, अच्छी तरह से। यह एक कला है, यह तप नहीं है। तुम्हें उसके साथ लड़ना नहीं है, तुम्हें उसे केवल समझना है। शरीर इतना बुद्धिमान है ... [...]

सुभाषचंद्र बोस के खिलाफ गांधी के लिए सरद...
सुभाषचंद्र बोस के खिलाफ गांधी के लिए सरदार पटेल का चक्रव्‍यूह!

संदीप देव। आज सुभाषचंद्र बोस की जयंती है। उनकी संदेहास्‍पद मौत, उनके जीवित होने की बात पर तो हमेशा चर्चा होती रही है। आज मैं आपलोगों को एक ऐसा तथ्‍य बताऊंगा, जिसे आजाद भारत के बेहद कम लोग [...]

चुनाव अयोग के आदेशों की अवहेलना कर इंदिर...
चुनाव अयोग के आदेशों की अवहेलना कर इंदिरा गांधी ने 5 हजार मुसलमानों का नरसंहार क्‍या सहिष्‍णुता स्‍थापित करने के उददेश्‍य से कराया था?

संदीप देव।व में 'महाठगबंधन' प्रतिदिन भाजपा की शिकायत चुनाव आयोग से कर रहा है, तो दूसरी ओर मैडम सोनिया के नेतृत्‍व में समूची विपक्षी पार्टियां, पत्रकार, साहित्‍यकार, फिल्‍मकार, वामपंथी [...]

बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: विकास ...

संदीप देव।ें जीत के बाद जब वार्ड क्लाइव ने कलकत्ता में प्रवेश किया तो जनता तमाशाई बनी अपने घरों से न केवल झांक रही थी, बल्कि उसका स्वागत भी कर रही थी! क्लाइव लिखता [...]

धर्म मनुष्‍य को इंसान बनाता है, न कि रोब...
धर्म मनुष्‍य को इंसान बनाता है, न कि रोबोट!

संदीप देव।‍यों है, खासकर इस्‍लाम में, क्‍योंकि उसके अनुयायी इस्‍लाम और पैगंबर मोहम्‍मद के अलावा किसी को श्रेष्‍ठ नहीं मानते और यही उन्‍हें हिंसा के लिए प्रेरित करता है। हर धर्म का मार्ग आखिर [...]

Sreenivasan Jain edits embarrassing port...
Sreenivasan Jain edits embarrassing portions from Ramdev’s interview, gets exposed

Atul Asthana,  bwoyblunder We had writte [...]

चर्च के साम्राज्यवाद का खुलासा करती पुस्...
चर्च के साम्राज्यवाद का खुलासा करती पुस्तक  'ऊँटेश्वरी माता का महंत'

आधीआबादी ब्‍यूरो। भी नही है कि एक ईसाई संगठन से जुड़े कैथोलिक विश्वासी पी.बी.लोमियों की हाल ही में आई पुस्तक 'ऊँटेश्वरी माता का महंत' ने ईसाई समाज के अंदर [...]

भारत-चीन युद्ध: नेहरू ने देश को छला, भार...
भारत-चीन युद्ध: नेहरू ने देश को छला, भारतीय महिलाओं के आभूषण हड़पे और कम्‍युनिस्‍टों ने कहा, चीन ने नहीं, बल्कि भारत ने चीन की जमीन छीनी है!

संदीप देव‬रेसियों के खून में जो गद्दारी दिखती है, देश में उसका सबसे बेहतरीन उदाहरण सन 1962 में हुआ भारत-चीन युद्ध था, जिसमें नेहरू ने देश को छला और भारत [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles