आस्था

नवंबर माह की लड़कियों में अपार सहनशक्ति होती है!

नवंबर माह में जन्‍म लेने वाले व्‍यक्ति दिल के बड़े अच्‍छे व भोले होते हैं। उनके अंदर प्‍यार और दया का सागर उमड़ता रहता है, लेकिन साथ ही गुस्‍से का तूफान भी अंदर पलता है। ये जिन्‍हें प्‍यार करते हैं उनके लिए सारी दुनिया को छोड़ सकते हैं। नवंबर में जन्‍म लेने वाली लड़कियां बेहद भावुक होती हैं, लेकिन साथ ही यह व्‍यवहारकुशल भी होती हैं। यह अलग बात है कि वह अपने दिल की भावना कई बार व्‍यक्‍त नहीं कर पातीं, जिससे कई लोग इन्‍हें गलत समझ लेते हैं। ये समझती हैं कि लोग इनकी बातों को खुद समझ लेंगे, लेकिन ऐसा इस दुनिया में कहां होता है। इन्‍हें संवाद का तरीका ढूंढ़ना होगा और संवाद स्‍थापित करने की कोशिश करनी होगी, तो इनसे बेहतर कोई इंसान नहीं हो सकता।

Read more...

अक्‍टूबर में जन्‍म लेने वाले आकर्षक और प्‍यार करने वाले होते हैं

अक्‍टूबर महीने में पैदा हाने वाले लोग बेहद शांत और स्‍मार्ट होते हैं। उम्र बढ़ने के साथ इनकी सेहत और स्‍मार्टनेस बढ़ती चली जाती है। आप आकर्षक दिखने की पूरी कोशिश करते हैं, जिसमें आपको शत-प्रतिशत सफलता मिलती है। अंतरमुखी होने के कारण आपकी हर किसी से दोस्‍ती संभव नहीं। इसलिए सामने वाले की नजर में आप एक रहस्‍मयी व्‍यक्ति हो सकते हैं।

 

Read more...

अगस्‍त में जन्‍मे व्‍यक्ति को हमेशा बड़ों का सहयोग मिलता है

अगस्‍त महीने में जन्‍म लेने वाले व्‍यक्ति उदार होते हैं। वे अत्‍यंत स्‍वतंत्र भावना वाले होते हैं। इनके अंदर इच्‍छाशक्ति बेहद प्रबल होती है। यदि किसी योजना, उद्देश्‍य या पद पर ध्‍यान लगाएं तो हर बाधा के बावजूद लक्ष्‍य हासिल करते हैं। इनका हर बड़ा लक्ष्‍य अपने से बड़ों के सहयोग से पूरा होता है। लक्ष्‍य हासिल न होने की स्थिति में इन्‍हें घोर निराशा घेर लेती है।

 

Read more...

शनि को शांत करने का यह उपाय करें, शनि आपके लिए शुभ फलदायक होंगे

शनिदेव तुला राशि में उच्च का तथा मेष राशि में नीच का फल देता है। शनि जिस भाव में विद्यमान होता है वहाँ से तीसरी, सातवीं तथा दसवीं पूर्ण दृष्टि अन्य भावों पर डालता है। शनि जिस राशि में भ्रमण करता है उसकी अगली तथा पिछली राशियों को साढ़ेसाती दशा के रूप में प्रभावित करता है। मानसगरी ग्रन्थ के अनुसार शनि देव का मित्र शुक्र व बुध ग्रह है| बृहस्पति सम ग्रह है| शेष सभी ग्रह शत्रु हैं।

Read more...

जुलाई में जन्‍म लेने वाले थोड़े मूडी, थोड़े गुस्‍सैल लेकिन भरपूर प्‍यार करने वाले होते हैं

जुलाई के महीने में जन्‍म लेने वाले लोग प्रतिभा के धनी होते हैं। ये थोड़े मूडी, गुस्‍सैल लेकिन लोगों को प्‍यार व सम्‍मान देने वाले होते हैं। इनके स्‍वभाव को समझना बहुत ही मुश्किल होता है। ये कब किस बात से खुश होंगे, कब किस बात से दुखी और कब गुस्‍से से भर उठेंगे-कहना मुश्किल होता है।

Read more...

हिंदी की एक भी पुस्‍तक बेस्‍ट सेलर सूची ...

संदीपदेव‬।को इस पुस्‍तक गी-एक योद्धा'अगस्‍त को हरिद्वार में इसका लोकार्पण होना तय हुआ है। इसका प्रकाशन दुनिया में सबसे अधिक [...]

इस्‍लामी कटरता व आतंकवाद का आखिरी निशाना...
इस्‍लामी कटरता व आतंकवाद का आखिरी निशाना हिंदुस्‍तान ही है!

संदीप देव।ार इस्‍लामी आतंकवादी संगठन बोको हराम ने खतरनाक इस्‍लामी आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (IS) से हाथ मिला लिया है। बोको हराम ने इस्लामिक स्टेट समूह के प्रति अपनी औपचारिक निष्ठा जाहिर की [...]

मुझे गाली देने से पहले, अपने संगठन के मह...
मुझे गाली देने से पहले, अपने संगठन के महापुरुषों के लिखे को ही ठीक से पढ लें!

संदीप देव।को हमलावर दिखूुंगा तो केवल इसलिए कि मैं सच को जानता, समझता और उसे उसी रूप में लिखने की हिम्‍मत रखता हूं। सच किसी के हिसाब से नहीं चलता। मीडिया, कांग्रेस, [...]

बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: संघ प्...
बिहार की हार में भाजपा के खलनायक: संघ प्रमुख मोहन भागवत ने लिखी भाजपा के हार की पटकथा!

संदीप देव।ाजपा को हुए नुकसान में संघ प्रमुख मोहन भागवत के आरक्षण वाले बयान की भूमिका आज चर्चा का विषय है। लेकिन इससे कोई इनकार नहीं कर सकता है कि इस बयान के कारण पिछडी जातियों [...]

आभार आपका...
आभार आपका...

संदीप देव।तिहास पढ रहा था, सोचा आपको बताऊं। मैं सभी मित्रों से अनुरोध करूंगा कि किसी के प्रति अपनी धन्‍यता प्रकट करने के लिए आप अंग्रेजी के 'थैंक्‍यू' की जगह हिंदी के बेहद [...]

मित्र, मंत्र और मौन!...
मित्र, मंत्र और मौन!

संदीप देव। 'मित्र' वह है जिसके मन के साथ हमारा तंत्र जुड़ा हो। 'मित्रता' शुद्ध मानसिक संबंध है। हमारे जीवन में 5 तरह के संबंध विकसित होते हैं- 1) रक्‍त का संबंध [...]

भारत में ज्ञान प्राप्‍त करने और भारत में...
भारत में ज्ञान प्राप्‍त करने और भारत में ही शरीर त्‍यागने वाले ईसा मसीह की वास्‍तविकता पर ईसायत मौन!

सच चाहे किसी भी धर्म के बारे में हो, उसे स्वीकार करने में उक्त धर्म के अनुयायियों को बहुत कठिनाई होती है। आज का दौर धार्मिक कट्टरता का दौर है ऐसे में सभी अपने अपने कुएं में बंद हैं। [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles