मैंने इरोम शर्मिला को नहीं देखा!

मैंने इरोम को नहीं देखा। मैंने देखी है एक तस्वीर। उलझे बाल और नाक में पाइप। फूली हुई आंखें, लेकिन चेहरे पर एक अजीबोगरीब दृढ़ता मानो हिमालय टकराए तो चूर-चूर हो जाए। एक और तस्वीर जो जेहन में बार-बार उभरती है, जब कभी उत्तर पूर्व के बारे में सोचता हूं तो कई निर्वस्त्र औरतें विरोध करतीं नजर आती हैं। वे सुरक्षा बलों के अत्याचारों का विरोध कर रही थीं। कोई औरत किसी मुद्दे के लिए अपने कपड़े उतार दे, ऐसा न पहले देखा था और न ही सुना था।

अखबारों की रद्दी में कहीं दब गई है वह तस्वीर भी वैसे ही, जैसे राजनीतिक आरोप- प्रत्यारोप में दब जाते हैं असल मुद्दे। असल लोग, आम आदमी और उसका असल विरोध। रह जाते हैं बयान। पश्चाताप और इधर-उधर बिखरे कुछ पन्ने जो हर साल पढ़े जाते हैं, याद किए जाते हैं, इन पर ब्लॉग लिखे जाते हैं और कोई टटपुंजिया नारा दिया जाता है कि इरोम तुम संघर्ष करो। इरोम के साथ संघर्ष करने की जरूरत किसी को नहीं है। इरोम अकेले काफी हैं। 12 साल से वह लगातार संघर्ष कर रही है। सरकार कहती है कि वह शर्मिदा है।

एक इंटरव्यू में पूर्व गृह सचिव जीके पिल्लै ने यही कहा था कि इरोम की भूख हड़ताल सरकार के लिए शर्मिदगी का कारण है। बात सही है। शर्मिदा सरकारें कदम नहीं उठातीं। अपनी शर्मिदगी के बोझ में लोगों को मरने के लिए छोड़ देती हैं। इरोम शर्मिला ने 12 साल पहले आज के ही दिन यह संघर्ष शुरू किया था। हो सकता है कि 2024 में भी कोई लिखे कि ठीक 24 साल पहले इरोम ने इसी दिन संघर्ष शुरू किया था। मैं इरोम जैसे लोगों से डरता हूं। उनकी दृढ़ प्रतिज्ञा और हिम्मत से डरता हूं। पता नहीं हमारी सरकार क्यों नहीं डरती है।

सरकार को शर्मिदा होने की बजाय उनसे डरना चाहिए। कहीं देश के और लोग भी इरोम शर्मिला न हो जाएं। लिखते-लिखते याद आया अतुल्य भारत (इन्क्रेडिबल इंडिया) के प्रचार में पूर्वोत्तर छाया रहता है, लेकिन पता नहीं इस अतुल्य भारत में इरोम की जगह है या नहीं।

साभार: बीबीसी ब्लॉग में सुशील झा

सेक्‍यूलर हिंदू अपने डीएनए की जांच अवश्‍...

संदीप देव। हिंदू संगठनों को सुनियोजित तरीके से बदनाम किया जाता है। सुन्नी उलेमा काउंसिल के महासचिव की अगुवाई में मुस्लिम उलेमा के एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी इंद्रेशजी से मुलाकात कर [...]

नवरात्र में जगाएं अपने अंदर की शक्तियां,...
नवरात्र में जगाएं अपने अंदर की शक्तियां, जानिए सप्त चक्र के बारे में

शारदीय नवरात्रि का प्रारंभ हो रहा है। हमारे पूर्वजों ने इन 9 दिनों में माता की भक्ति के साथ ही योग का विधान भी निश्चित किया है। हमारे शरीर में सात चक्र होते हैं। नवरात्रि में हर दिन एक [...]

मुगल सल्‍तनत के आखिरी वारिशों का हश्र या...

संदीपदेव‬।ासन करने वाले मुगल साम्राज्‍य के शासक भी बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की तरह अहंकार से भरे थे, उन्‍हें सत्‍ता का गुमान था, लालू यादव के 'भूराबाल [...]

भारत की सेक्‍यूलर प्रजाति!...
भारत की सेक्‍यूलर प्रजाति!

संदीप देव।े लिए सेक्‍यूलर नामक प्रजाति सबसे अधिक जिम्‍मेवार है! अमेरिका की एक बहुत बड़ी वेबसाइट है, जो चर्च मिशनरी को सपोर्ट करता है, नाम है

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: यहां होता है पहली माहवारी पर जश्न

सुशीला सिंह, बीबीसी संवाददाता।ी हो रही है. अनोखी इस मायने में कि असम की परंपरा के अनुसार यहां दुल्हन तो होती है लेकिन दूल्हा एक केले का पौधा [...]

Sreenivasan Jain edits embarrassing port...
Sreenivasan Jain edits embarrassing portions from Ramdev’s interview, gets exposed

Atul Asthana,  bwoyblunder We had writte [...]

दक्षिण भारत की पहली 'टेस्ट ट्यूब बेबी' न...
दक्षिण भारत की पहली 'टेस्ट ट्यूब बेबी' ने मां बन कर रचा इतिहास!

चेन्‍नई। 24 साल पहले जिस कमला रत्नम को दक्ष‍िण भारत की पहली 'टेस्ट ट्यूब बेबी' बनने का सौभाग्य मिला था, वह अब खुद मां बन गई हैं. ऐसा भारत में पहली बार हुआ है. [...]

महिला दिवस की औपचारिकताएं छोडि़ए, पहले उ...
महिला दिवस की औपचारिकताएं छोडि़ए, पहले उन्‍हें न्‍याय दिलाने के लिए कदम उठाइए!

संदीप देव। करने वाला इंसान हूं और हर हाल में कानून का पालन करता हूं। लेकिन जिस तरह से नागालैंड के दीमापुर में घटनाएं हुई वह कानून नहीं, समाज के अंदर का सवाल है। फास्‍ट [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles