अधिकार | कानून

शादी से पहले सेक्‍स आम बात है और शादी का वादा कर सेक्‍स करना बलात्‍कार नहीं है: अदालत

मुंबई। भारत बदल रहा है और ऐसा ही कुछ बॉम्बे हाई कोर्ट भी मानती है. हाई कोर्ट ने कहा है कि शादी का वादा कर संबंध बनाने का हर मामला बलात्कार नहीं होता, कोर्ट ने तो यह भी कहा है कि भारत में खासकर बड़े शहरों में अब शादी से पूर्व सेक्स कोई चौंकाने वाली बात नहीं है.

Read more...

लंबे समय तक शारीरिक संबंध बनाने से इनकार बन सकता है तलाक का आधारः सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने व्यवस्था दी है कि लंबे समय तक जीवनसाथी को सेक्स करने की अनुमति नहीं देना मानसिक क्रूरता है और यह तलाक का आधार हो सकता है।

Read more...

बाल विवाह बलात्‍कार से भी बदतर है

नयी दिल्ली: दिल्‍ली के अदालत ने बाल विवाह को बलात्कार से भी बदतर बुराई बताता है. अदालत ने कहा इसे समाज से पूरी तरह समाप्त होना चाहिए. कार्ट ने कम उम्र में बच्ची का विवाह करने वालों के विरुद्ध मामला दर्ज करने को कहा.

Read more...

दहेज विरोधी कानून का गलत इस्तेमाल हो रहा है: सुप्रीम कोर्ट

नयी दिल्ली। असंतुष्ट पत्नियों द्वारा पति और ससुरालवालों के खिलाफ दहेज विरोधी कानून के दुरुपयोग पर चिंता जताते हुए सुप्रीम कोर्ट ने व्यवस्था दी कि ऐसे मामलों में पुलिस स्वत: आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर सकती. उसे कदम की वजह बतानी होंगी, जिनकी न्यायिक समीक्षा की जायेगी.

Read more...

प्‍यार कब बन जाता है बलात्‍कार!

राजेश चौधरी, नभाटा। प्यार की राह हमेशा से मुश्किल बताई गई है लेकिन अगर उसमें धोखे की खाइयां आ जाएं तो इस सफर का अंजाम बुरा भी हो सकता है। उम्मीदों का बोझ और झूठे वादों की चुभन, प्यार करने वालों को जानी दुश्मन में तब्दील कर सकती है और यहीं एंट्री होती है कानून की। प्यार भरे रिश्तों का पंचनामा होता है और रेप शब्द रिश्तों को झकझोर देता है। पता ही नहीं चलता, कब प्यार भरे रिश्ते रेप की पथरीली राह पर चले जाते हैं।

Read more...