गूगल मैप पर दिल्ली और दिल्‍ली में फन एंड फूड विलेज...सुपर हिट!

नई दिल्ली। भला है या बुरा है, लेकिन सच यह है कि पर्यटकों को दिल्ली बहुत भाती है। राजधानी के पर्यटन स्थल को जानने, समझने और वहां भ्रमण करने के लिए 'नेटिजन’ बेहद उत्साहित दिखते हैं। गूगल मैप के जरिए दिल्‍ली की जनता सबसे अधिक पर्यटन स्थलों और खाने पीने के ठिकाने की खोज करती है। वहीं, मुंबई और बंगलुरु की जनता दिल्ली से अलग है। मुंबई में जहां सबसे अधिक खोज रेस्तरां व बार की होती है, बंगलुरु शिक्षण संस्थानों की खोज में अव्वल है। दिल्‍ली के युवा घूमने और खाने पीने के लिए दिल्‍ली-गुड़गांव बॉर्डर पर स्थित फन एंड फूड विलेज को सबसे अधिक गूगल मैप पर ढूंढ़ते हैं।

 

दिल्ली हो या मुंबई या फिर बंगलुरु आंकड़े बताते हैं कि इन तीनों शहरों में गूगल मैप के जरिए सबसे अधिक खोज होटलों की होती है। दिल्ली में सबसे अधिक सर्च इंपीरियल होटल का होता है। वहीं मुंबई का ट्राइडेंट होटल नेटिजन का पसंदीदा खोजी स्थल है।
दिल्ली के खाने-पीने और मौज-मस्ती वाली जगहों की भी गूगल मैप पर धूम है। अगर राजधानी की बात करें तो गूगल मैप में सबसे अधिक खोज फन एंड फुड विलेज की होती है। हर 19 सेकेंड पर इसकी खोज की जाती है। वहीं करीम होटल हर 30 सेकेंड में सर्च किया जाता है। वसंत स्क्वाइर मॉल स्थित पॉकेट बार और आइस लॉन्ज भी बड़ी संख्या में सर्च किए जाते हैं। होटलों में इंपीरियल सबसे अधिक सर्च किया जाता है। दूसरा स्थान मेट्रोपोलिटन होटल का आता है। इसके बाद ताज महल, आईटीसी मोर्या और हयात रिजेंसी का स्थान आता है।

धार्मिक स्थलों में जामा मस्जिद और छतरपुर मंदिर में कड़ी टक्कर है। औसतन हर 30 सेकेंड पर ये दोनों स्थलों को सर्ज किया जाता है। इस सूची में आईटीओ स्थित मस्जिद, लक्ष्मी नारायण मंदिर और इस्कॉन मंदिर में हैं। कनॉट प्लेस का जलवा गूगल मैप पर भी बरकरार है। हर 40 सेकेंड में कनॉट प्लेस की खोज की जाती है। इसके अलावा चिड़ियाघर, रेल म्यूजियम, गांधी संग्रहालय और इंडिया गेट की खोज गूगल मैप पर बड़ी संख्या में हो रही है। वहीं मुंबई में धार्मिक स्थलों में सबसे अधिक खोज सिद्धीविनायक मंदिर की होती है।

इस बारे में गूगल इंक के जनसंपर्क अधिकारी का कहना है कि गूगल मैप का लोग बड़ी संख्या में इस्तेमाल कर रहे हैं। यह संख्या दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। गूगल मैप ने लोगों के लिए वीकेंड और छुट्टियों पर घूमने-फिरने के लिए प्लान तैयार करना आसान कर दिया है। गूगल मैप के जरिए लोग घर बैठे विभिन्न स्थलों और उसके आसपास की जानकारी प्रा’ कर सकते हैं। यहां तक कि उन स्थलों पर पहुंचने के लिए रास्ते भी मैप से आसानी से पता लगाए जा सकते हैं।

गूगल मैप पर अधिक सर्च होने वाले स्थल

मौज-मस्ती और खाने-पीने वाली जगहें
* फन एंड फूड विलेज (औसतन हर 19 सेकेंड में सर्च)
* करीम होटल (औसतन हर 30 सेकेंड में सर्च)
* पॉकेट बार, वसंत स्क्वाइर मॉल
* आइस लॉन्ज
* कैफे टर्टल

धार्मिक स्थल
* जामा मस्जिद (औसतन हर 30 सेकेंड में सर्च)
* छतरपुर मंदिर(औसतन हर 30 सेकेंड में सर्च)
* आईटीओ डीडीए मस्जिद
* लक्ष्मी नारायण मंदिर
* इस्कॉन मंदिर

पर्यटन स्थल
* कनॉट प्लेस (औसतन हर 40 सेकेंड में सर्च)
* इंडिया गेट (औसतन हर 40 सेकेंड में सर्च)
* राष्ट्रीय गांधी संग्रहालय
* चिड़ियाघर
* राष्ट्रीय रेल संग्रहालय

होटल
* दी इंपीरियल (औसतन हर 40 सेकेंड में सर्च)
* मेट्रोपोलिटन होटल एंड स्पा
* ताज महल होटल
* आईटीसी मोर्या
* हयात रिजेंसी


प्रधानमंत्री के नाम पत्र: ओबामा द्वारा ...
प्रधानमंत्री के नाम पत्र:  ओबामा द्वारा भारत को दी गई नसीहत मुझे स्‍वीकार नहीं

नई दिल्‍ली। हिंदू धर्म को दी गई नसीहत कम से कम मुझे तो स्‍वीकार नहीं है। मैं मोदी सरकार को सलाह देना चाहता हूं कि यदि आपने धर्मांतरण विरोधी कानून, गो हत्‍या बंदी कानून और [...]

'स्‍वराज हमारा जन्‍मसिद्ध अधिकार है' का ...
'स्‍वराज हमारा जन्‍मसिद्ध अधिकार है' का नारा देने वाले तिलक को देश ने पहली बार सन् 1964 में याद किया!

संदीपदेव‬।ोस ने अपनी पुस्‍तक 'द इंडियन स्‍ट्रगल' में लिखा है, ''भारतीय राजनीति में सिर्फ तिलक गांधी के प्रतिद्वंद्वी हो सकते थे। उनकी मत्‍यु ने गांधी का काम बहुत आसान कर दिया।'' [...]

क्‍या आप जानते हैं कि आपकी पत्‍नी या गर्...
क्‍या आप जानते हैं कि आपकी पत्‍नी या गर्लफ्रेंड आपके साथ सेक्‍स क्‍यों करती है

महिलाएं पुरुषों के साथ सेक्स सिर्फ इसलिए करती हैं ताकि उनकी शादीशुदा जिंदगी में शांति बनी रहे , या वह बिना वजह के सिरदर्द से बचना चाहती हैं। महिलाओं की लिस्ट में रोमैंस और पेशन की जगह काफी पीछे [...]

गो-वध बंदी का राष्ट्रीय कानून बने...
गो-वध बंदी का राष्ट्रीय कानून बने

रामबहादुर राय।ाल पुराना है। इसका संबंध भारत की सभ्यता से है। हमारी सभ्यता में गाय और गोवंश का स्थान बहुत ऊंचा है। जब कभी इस भावना को चोट पहुंची तो विरोध हुआ। आंदोलन हुए। गोरक्षा [...]

लालबहादुर शास्‍त्री, छोटे कद का बड़ा आदम...
लालबहादुर शास्‍त्री, छोटे कद का बड़ा आदमी!

भारत में बहुत कम लोग ऐसे हुए हैं जिन्होंने समाज के बेहद साधारण वर्ग से अपने जीवन की शुरुआत कर देश के सबसे  पड़े पद को प्राप्त किया। चाहे रेल दुर्घटना के बाद उनका रेल मंत्री के पद से इस्तीफ़ा [...]

अपने शरीर को जानो, क्‍योंकि शरीर प्राचीन...
अपने शरीर को जानो, क्‍योंकि शरीर प्राचीन है: ओशो

ओशो। भलीभांति काम करना चाहिए, अच्छी तरह से। यह एक कला है, यह तप नहीं है। तुम्हें उसके साथ लड़ना नहीं है, तुम्हें उसे केवल समझना है। शरीर इतना बुद्धिमान है ... [...]

महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पे...
महिलाओं की माहवारी पर बीबीसी हिंदी की पेशकश: अगर मर्दों को मासिक धर्म होता!

सुमिरन प्रीत कौर बीबीसी संवाददाता।र बात कर पाती हैं और न ही परंपरागत भारतीय समाज में आमतौर पर ऐसे विषयों पर बात करने की इजाज़त है. [...]

हिंदुत्‍व के पुनर्जारण के लिए जन्‍मगत जा...
हिंदुत्‍व के पुनर्जारण के लिए जन्‍मगत जाति का खात्‍मा जरूरी: डॉ सुब्रहमनियन स्‍वामी

आधी आबादी ब्‍यूरो-साथ हिंदुत्‍व का पुनर्जागरण बहुत जरूरती है। डॉ सुब्रहमनियन स्‍वामी ने 'हिंदुत्‍व एवं राष्‍ट्रीय पुनरुत्‍थान' नामक एक जबरदस्‍त किताब लिखी है और आज के समय हर हिंदू को 24 [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles