तीर्थ यात्रा

अब आप सीधे अपनी गाड़ी से जा सकेंगे कैलाश मानसरोवर!

कैलाश मानसरोवर की तीर्थयात्रा करने की इच्छा रखने वाले श्रद्धालुओं और सैलानियों को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने एक बड़ा तोहफा दिया है. चीन इस यात्रा के लिए सिक्किम के नाथुला दर्रे से नया रास्ता खोलने पर सहमत हो गया है. इससे अब कार से भी कैलाश मानसरोवर यात्रा करना संभव हो गया है.

Read more...

जहां जगह-जगह बिखरे हैं रावण की मौजूदगी के निशान

संदीप देव, देवघर से लौटकर। भगवान शिव के 12 ज्‍योर्तिलिंग में से एक देवघर के वैद्यनाथ धाम में जगह-जगह लंकाधिपति रावण की मौजूदगी के निशान बिखरे हुए मिल जाते हैं। तभी तो यहां भगवान भोलेनाथ का एक नाम रावणेश्‍वर महादेव भी है। यहां रावण एक राक्षस से अधिक शिव भक्‍त के रूप में मौजूद हैं। उनके तपस्‍या स्‍थल से लेकर उनका हेलीपैड तक सबकी मौजूदगी दर्शनीय है, बस उसे देखने की दृष्टि आपको‍ विकसित करनी है। आप संदेह से इसकी शुरुआत कर सकते हैं....लेकिन संदेह करके ही मत बैठ जाइएगा, बल्कि उसे झुठलाने के लिए खोजबीन कीजिएगा...संभव है आपको भी आपका सच मिल जाए, जैसे मुझे मिला है।

भतीजे से चाची करती मनुहार: रुक जा लप्‍पू यह रावणा का हेलीपैड है...यहीं वो अपना पुष्‍पक विमान उतारता था

Read more...

तिरुपति बालाजी दोनों हाथों से देते हैं धन, बस थोड़ा उनके लिए भी रख दीजिए!

तिरुमला। मेरे पिताजी की एकाएक इच्‍छा हुई कि तिरुपति बालाजी (श्री वेंकटेश्‍वर भगवान) के दर्शन करने चलते हैं। उन्‍होंने मम्‍मी को राजी किया और मेरे छोटे भाई को टिकट बुक करने को कहा। मेरा भाई झुनझुन टिकट बुक कर ही रहा था कि मेरी मां ने उससे कहा कि तुम भी हमारे साथ चलो, यात्रा में कम से कम एक बेटा तो हमलोगों के साथ होना चाहिए। झुनझुन ने अपनी मजबूरी बताते हुए कहा कि उसे कार्यालय से छुट्टी नहीं मिलेगी, लेकिन भाईजी जा सकते हैं। चूंकि मैंने अभी-अभी नौकरी छोड़ी थी इसलिए मैं एक तरह से खाली था। मैं मम्‍मी-पिताजी के साथ तिरुपति जाने के लिए तैयार था! 

Read more...

द्वादश ज्योतिर्लंगों में से एक है देवघर

शशि रंजन वर्मा , नई दिल्‍ली। पूर्व में बिहार और अब झारंखड में स्थित बैजनाथ धाम, जिसे देवघर यानी देवों का घर कहा जाता है। वह 51 शक्तिपीठों और द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक है। वास्तव में शक्तिपीठ या ज्योतिर्लिंग उस स्थल के लिए प्रयोग किया जाता है जिसका कोई पौराणिक महत्व हो, जहां तपस्या, योग-साध्ना आदि की गई हो। ऐसे पौराणिक, घार्मिक और पवित्र स्थलों में से एक है देवघर, जहां सालों भर श्रद्धालुओं का तांता तो लगा ही रहता है, परन्तु श्रावण मास में यहां देश-विदेश से श्रद्धालु गण आने लगते है। एक माह का मेला अंतरराष्‍ट्रीय मेला में तब्दील हो जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस यहां आने वाले श्रद्धालुओं की मन्नतें अवश्य पूरी होती है।  

Read more...

कामाख्‍या मंदिर, जहां गिरी थी मां सति की योनि

गुवाहाटी। गुवाहाटी शहर में नीलाचल पर्वत की ऊंची चोटी पर स्थित है मां कामाख्‍या का मंदिर। नीलाचल को कामगिरी पर्वत भी कहते हैं। एक बार मां कामाख्‍या मंदिर का दर्शन करने के बाद यात्रियों को अहसास हो जाता है कि असम राज्‍य का इतिहास कितना समृद्ध है। मां कामाख्‍या कामा देवी कामाख्‍या जिन्‍हें मां सती भी कहते हैं, उनका मंदिर है। यह देवी शक्ति के अनेक अवतारों में से एक थीं।

Read more...

बिहार चुनाव में भाजपा के खलनायक: भाजपा क...
बिहार चुनाव में भाजपा के खलनायक: भाजपा के खिलाफ प्रोपोगंडा वार को समाप्‍त करने की जगह हवा दे रहे हैं अरुण जेटली!

‪‎प देव‬।ही लिखा था, बिहार चुनाव खत्म असहिष्णुता की नौटंकी खत्म! अब कहाँ कोई पुरस्कार लौटा रहा है? किस टीवी चैनल पर बहस चल रहा है? कौन-से अखबार के पन्ने रंगे जा [...]

महिलाओं को कभी नहीं मिल सकती है पूरी खुश...
महिलाओं को कभी नहीं मिल सकती है पूरी खुशी: इंदिरा नूयी

न्यूयॉर्क। विश्व की सबसे शक्तिशाली महिलाओं में शुमार पेप्सीको की भारतीय मूल की मुख्य कार्यकारी इंदिरा नूयी ने स्वीकार किया कि ऑफिस के काम और घर के जीवन के बीच संतुलन बिठाना मुश्किल हो गया है और महिलाओं को सब [...]

गर्भवती महिलाओं के लिए नया कोर्स, गर्भ म...
गर्भवती महिलाओं के लिए नया कोर्स, गर्भ में ही शिशुओं को दिए जाएंगे संस्‍कार!

महाभारत के पात्र अभिमन्यु ने जिस तरह गर्भ में ही चक्रव्यूह भेदने की कला सीख ली थी और पुराणों में गर्भ में ही संस्कार मिलने की बात कही गई है, उसी को आधार बनाकर भोपाल के अटल बिहारी वाजपेयी [...]

असावधानी में बनाया गया शारीरिक संबंध कई ...
असावधानी में बनाया गया शारीरिक संबंध कई तरह से आपको कर सकता है परेशान!

नई दिल्ली।ेट पर जाना आम बात है लेकिन इस दौरान उन्हें अपने पार्टनर के साथ थोड़ी सावधानी बरतने की जरूरत होती है। डेटिंग के दौरान ज्यादातर युवा शारीरिक रूप से एक-दूसरे के नजदीक आ [...]

जब नरेंद्र मोदी ने मुझे अपने गले से लगा ...
जब नरेंद्र मोदी ने मुझे अपने गले से लगा लिया!

संदीप देव। 8 मार्च को महिला दिवस के अवसर पर चाय पर चर्चा कार्यक्रम में गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्‍ली स्थित भाजपा के कार्यालय 11 अशोक रोड में आने वाले थे। वहां सुबह 9 बजे [...]

स्त्री अधिकार और आंबेडकर...
स्त्री अधिकार और आंबेडकर

सुजाता पारमिता। आंबेडकर ने कहा था, ‘मैं नहीं जानता कि इस दुनिया का क्या होगा, जब बेटियों का जन्म ही नहीं होगा। ’स्त्री सरोकारों के प्रति डॉ भीमराव आंबेडकर का सर्मपण किसी जुनून से कम नहीं था। छियासी [...]

कांग्रेस के हर चाल को शुरू होने से पहले ...
कांग्रेस के हर चाल को शुरू होने से पहले ही बाबा रामदेव कर रहे हैं ध्‍वस्‍त!

संदीप देव।देव कांग्रेस के हर चाल को शुरू होने से पहले ही ध्‍वस्‍त करने में जुटे हुए हैं। बाबा रामदेव किसी भी तरह से कांग्रेस को जीवनदान देने के मूड में नहीं हैं। पद्म पुरस्‍कार का [...]

Beefban: जिसे ये अपने भोजन का अधिकार बता...
Beefban: जिसे ये अपने भोजन का अधिकार बता रहे हैं, वह किसी प्राणी के जीवन का अधिकार भी है?

संदीप देव।ै कि भारत में दंगे की शुरुआत किस कारण से हुई थी? भारत में दंगे की शुरुआत ही गो हत्‍या के मुददे पर शुरू हुई। दिल्‍ली सल्‍तनत से लेकर देश की आजादी तक हिंदू- [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles